बारिश के मौसम में जीजू के साथ मस्ती: साली जीजू XXX कहानी भाग 1

बारिश के मौसम में जीजू के साथ मस्ती: साली जीजू XXX कहानी भाग 1

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “बारिश के मौसम में जीजू के साथ मस्ती: साली जीजू XXX कहानी भाग 1”। मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

यह साली जीजू XXX कहानी जीजू साली के बारे में है। मेरा नाम Ishani है, मेरी उम्र 22 साल है।

मेरी बहन रौशनी मुझसे दो साल बड़ी है और उसकी शादी हुए भी दो साल हो गये हैं. हमारा घर छोटा है इसलिए इन दो सालों में मैंने कई बार जीजू और दीदी को छुप-छुप कर सेक्स करते देखा है.

जैसे ही उनकी वासना भरी आवाज मेरे कानों में पड़ती, मेरा दिल दुखने लगता. मुझे भी लगता है कि हाय राम… कोई आकर मेरे साथ भी सेक्स करे… मेरे शरीर से सारा रस निकाल दे।

ऐसा नहीं है कि मैंने Chut Chudai का आनंद नहीं लिया है. मुझे मेरे दोस्तों ने आठ-दस बार चोदा है.
लेकिन इस जालिम चूत और इस दिल का क्या करें… मानती ही नहीं.

मेरे बूब्स भी ठीक-ठाक हैं, टाइट बनियान जैसे टॉप पर किसी को भी घायल कर सकते हैं। कॉलेज में हर कोई मेरी सफ़ेद टाइट पैंट का दीवाना है…

और घर पर तो मानो जीजू की नजर ही नहीं हटती. मैं उसकी लालची आँखों को अच्छी तरह पहचानती हूँ। वो जब तब मुझ पर ट्राई करते रहते थे. (साली जीजू XXX)

मुझे भी घर में एक ही आदमी दिखता था, इसलिए मैं कई बार उसके साथ दोगली शरारतें कर लेती थी, जिससे वो और भी उत्तेजित हो जाता था.

जब हम घूमने जाते थे तो कभी-कभी उसके हाथ अनजाने में… नहीं… क्यों अनजाने में… जान-बूझकर मेरी गांड पर मारते तो कभी मेरे चुचो को अपनी कोहनियों से दबा देते। उनका ये अंदाज मुझे बहुत मजा देता था.

कल ही जीजू ने बड़ी हिम्मत करके मेरे नितम्बों को इत्मीनान से सहलाया और फिर अपना हाथ भी नहीं हटा रहे थे। मैंने भी उसे उसकी गांड सहलाने का पूरा मौका दिया. जीजू को लगा कि शायद लाइन क्लियर है.

लेकिन मैंने जानबूझ कर उसे नजरअंदाज कर दिया. लेकिन इससे मुझे जीजू के दिल की चाहत का भी पता चल गया. मैं मन ही मन बहुत व्यथित थी. घर आकर भी मैं जीजू के सपनों में ही खोई रही.

सुबह से ही मौसम बहुत सुहावना हो रहा था, ऐसा लग रहा था मानो बारिश हो रही हो. जीजू बाज़ार जाने वाले थे, उन्होंने मोटरसाइकिल निकाली और मैंने भी ज़िद की कि मैं भी उनके साथ जाऊँगी।

दीदी ने भी जाने के लिए कह दिया.

मैं तुरंत अंदर गई और बनियान जैसा टॉप और सफेद टाइट पैंट पहन ली। मैंने अन्दर ब्रा नहीं पहनी थी.
मैं उछल कर मोटरसाइकिल के पीछे बैठ गयी.

जैसे ही हम आगे बढ़े, बूंदाबांदी शुरू हो गई। मौसम मुझे मजा दिला रहा था. ठंडी हवा के झोंके मेरे शरीर में गुदगुदी करने लगे। मेरे Big Boobs और भी कड़े हो गये। मेरे निपल्स सख्त होने लगे. मैं अपनी स्थिति स्पष्ट नहीं कर सकती.

ऐसे में मैंने प्यार से अपने कठोर बूब्स जीजू की पीठ पर रख दिये और धीरे-धीरे उन्हें ऊपर-नीचे करने लगी। मुझे जीजू के शरीर में एक सिहरन उभरती हुई साफ नजर आ रही थी. (साली जीजू XXX)

रास्ते में कई बार मैंने जीजू की पीठ पर अपने बूब्स दबा कर मजा लिया और उन्हें उत्तेजित किया।

कुछ ही देर में एक सब्जी मंडी आ गई. हमने सब्जियों और फलों को बैग में पैक किया और उन्हें सामने हैंडल पर लटका दिया। तभी बारिश होने लगी. जीजू और मैं भागकर मोटरसाइकिल पर बैठे और चल दिये।

हम दोनों लगभग भीग चुके थे… जीजू एक बंद दुकान के सामने रुक गये और हम दुकान के आड़े में खड़े हो गये। मेरी बनियान में से मेरे बूब्स और निपल्स साफ दिख रहे थे, जीजू की नजरें वहां से हट ही नहीं रही थीं.

उनकी नजरों से मुझे लगा कि आज वे खा ही जायेंगे… बस उन्हें खोलने की जरूरत है। मेरी सफ़ेद पैंट में से मेरे नितंब और सामने की दरार दिख रही थी।

ये जानकर मैं बाहर आ गयी और बारिश में भीगने लगी. मैंने इधर उधर देखा, वहां कोई नहीं था.

‘अरे तुम तो पूरी भीग जाओगी…इधर आओ…!’ जीजू ने हाथ बढ़ाया तो मैंने जीजू का हाथ खींच लिया और उन्हें भी बारिश में खड़ा कर दिया.

‘जीजू, भीगने का मजा लो, अब नहीं भीगोगे तो कब भीगोगे?’ मैंने नशीली आवाज में उससे कहा.
अब जीजू भी भीगने लगे थे. मुझे देख कर उसका लंड भी खड़ा होने लगा जो उसकी गीली पैंट में से साफ दिख रहा था.

लोहा गर्म था… मैंने मौका चूकना उचित नहीं समझा- जीजू, रास्ते में तुमने मेरे साथ क्या किया… मैं बेकाबू हो गई थी!’
मैं अपने गीले बूब्सों को और अधिक उजागर करके उसे लुभाने लगी।

‘इशानी, तुम्हारे ये सख्त, ठंडे बूब्स मेरी पीठ पर गुदगुदी कर रहे थे, बहुत सख्त हैं तुम्हारी!’ जीजू ने अपना कार्ड भी डाल दिया.

अब मेरी बारी थी- नहीं जीजू, ये सख्त नहीं हैं, मुलायम हैं… चाहे आप इन्हें छू ही लो!
मुझे उन्हें अपने ऊपर लेने के लिए आमंत्रित करना पड़ा। मैंने अपना बनियान जैसा टॉप ऊपर खींचते हुए कहा.

बारिश की बूँदें मेरे बूब्सों पर गिर कर आग पैदा कर रही थीं। जीजू ने मेरे पास आकर मेरे बूब्सों को छुआ और फिर धीरे से दबाया। मैं मन ही मन खुशी से गयी. (साली जीजू XXX)

पूरा शरीर पानी से भीगा हुआ था. भारी बारिश के कारण सड़क का दूसरा किनारा भी दिखाई नहीं दे रहा था।

जीजू ने मुझे दुकान के एक सुरक्षित कोने में खींच लिया, गले लगा लिया और मेरे नितंबों की मालिश करने लगे। उनका उत्साह देखते ही बनता था. कभी मेरे बूब्सों मसल रहे थे तो कभी मेरे नितंबों को..

मैं भी अब अपने आप पर काबू नहीं रख पा रही थी- जीजू मुझे भी कुछ करने दो…
मैंने झिझकते हुए कहा.

उसने प्रश्नवाचक दृष्टि से मेरी ओर देखा…

इतना ही काफी था. जगह मिलते ही मेरा हाथ उसकी पैंट पर उभरे हुए लंड से टकराया. मैंने एक झटके में उसकी पैंट की ज़िप खोल दी और अपना हाथ अन्दर डाल दिया. उसका भारी लंड उसके अंडरवियर के ऊपर से मेरे हाथ में था।

जीजू का लंड दबाते ही उनके मुँह से एक प्यारी सी कराह निकल गयी. पक्षी मेरे वश में था। हम दोनों एक दूसरे को जोर जोर से नोच रहे थे.

जीजू ने अपना हाथ मेरी पैंट के अंदर डाल दिया और मेरी Tight Chut को दबा दिया. तभी उसकी एक उंगली चूत के अन्दर सरक गयी. मेरी चूत को सहलाते हुए उंगली मेरी चूत में घूमने लगी। मैं सिसकने लगी और साथ ही झड़ने भी लगी.

मैंने जीजू के लंड को खूब खींच कर मुठ भी मारी, तभी जीजू के लंड ने अपना रस छोड़ दिया. मेरा हाथ वीर्य से चिकना हो गया. मैंने उसके लंड को दबाते हुए पूरा भींच लिया और फिर अपना हाथ बाहर निकाल लिया. (साली जीजू XXX)

जीजू ने मुझे गले लगा लिया और मेरे होठों को छू लिया. कुछ देर किस किया और फिर हंसते हुए जीजू को पिंजरे में कैद कर दिया और बोली- जीजू, अब आम रास्ते पर क्या करोगे…चलो घर चलते हैं…’मैंने सड़क पर ये सब करना उचित नहीं समझा।

‘इशानी, मेरातो झड़ गया… अब…?’

‘बारिश में सब धुल जाएगा… अब खुश रहो… क्या इरादा है?’

‘इतनी भारी बारिश में…हमें ऐसा मौका कहां मिलेगा…चलो और करते हैं!’ जीजू संतुष्ट नहीं थे.
‘घर पर ही मौके हैं… अब चलें…’ मैंने जिद की।

जीजू ने अपनी बाइक स्टार्ट की और हम अपने गीले बदन की आग को शांत करने की कोशिश करने लगे.

जैसे ही हम घर पहुंचे तो बहन को हमारी हालत का एहसास हुआ और उसे शक हो गया.

उन्होंने मुझसे नहीं बल्कि जीजू से कहा- जल्दी से अपने कपड़े बदलो… अपनी जवान साली से चिपकना बंद करो!
दीदी ने कटाक्ष किया. (साली जीजू XXX)

जैसे ही जीजू ने यह सुना तो वह डर गए और अपनी सफाई भी देने लगे। शायद उसका बहन से भी कुछ झगड़ा हुआ था.
मैं सतर्क हो गयी. मैं जब भी जीजू को कहीं देखती तो बस आंख मार कर उन्हें सावधान रहने को कहती.

एक दिन ऐसा हुआ कि मैं कॉलेज से जल्दी आ गयी। बहन बाजार गयी थी. मैंने तुरंत जीजू को मोबाइल पर कॉल किया. अगले ही पल जीजू मेरे कमरे में थे.

मैंने बिना कुछ सोचे जीजू को गले लगा लिया. मैंने जीजू की लुंगी खींच दी. जीजू ने अन्दर कुछ नहीं पहना था. उसका खड़ा लंड बाहर आ गया.

हाय गोरी, गोरी, चिकनी, सुन्दर, लाल चमकीला सुपारा देख कर मन प्रसन्न हो गया।

मैंने भी अपनी पैंट उतार दी.. और नीचे से नंगी हो गयी। मैंने जीजू को धक्का देकर बिस्तर पर गिरा दिया और अपनी चूत का द्वार उनके मुँह पर रख दिया। उसकी जीभ मेरी चिकनी चूत पर फिरने लगी. उसकी जीभ से मेरी चुत हरकत करने लगी.

‘जीजू, आज मौका मिला है… मेरी चूत चाट कर साफ कर दो… बहुत तरस रही है!’ वह मेरी उत्तेजना से भरी आवाज को समझ गया. मैं अपनी चूत उसके मुँह पर दबाने लगी. जीजू का हाथ मेरे टॉप में घुस गया.

मैंने भी अपना टॉप उतार दिया और पूरी नंगी हो गयी. अब मैंने अपनी चूत को नीचे सरकाया और लंड पर झटका मारा.

जीजू का धैर्य टूटने लगा था. मैंने उसका लंड पकड़ लिया और तीर का निशाना लगा लिया. बस धनुष को छोड़ना था… और तीर चूत के अंदर था… (साली जीजू XXX)

‘मेरे जीजू… चलो शुरू करें…’ हम दोनों ने आनंद में अपनी आँखें बंद कर लीं और मैंने उसके लंड पर हल्का दबाव डाला… लंड अंदर चला गया।

दोनों सिसकने लगे. ‘इशानी, जरा धीरे-धीरे, झिल्ली फट जायेगी तो दर्द होगा!’ उन्होंने आशंका व्यक्त की.

‘जीजू, ऐसा मत कहो… मैं कई बार चुद चुकी हूँ … मैं तो बस तुम्हारा लंड लेना चाहती थी!’ मैंने रुंधे स्वर में कहा.

‘क्या?… क्या कहा… फिर कोई बात नहीं…’ वह अब निश्चिंत था।

‘आओ… मुझे मजे से चोदो यार… अपना लौड़ा पूरी ताकत से घुसाओ ताकि मैं अच्छी तरह से चुदाई कर सकूँ!’

‘इशानी, मैं तुम्हें मन ही मन चाहने लगा था…’ उसने आह भरते हुए कहा। ‘नहीं जीजू… मेरी बहन बहुत प्यारी है… उसका ख्याल रखना… और प्यार करना… मैं तो ऐसी ही हूँ…!’

हमारी चुदाई तेज़ हो गयी. मैं ऊपर से अपनी चूत उसके लंड पर पटक रही थी और खूब मजा ले रही थी.
‘इशानी, नीचे आओ, मैं तुम्हें थोड़ा जोर से चोदना चाहता हूँ, घूम जाओ!’ अब जीजू को झड़ने का मन हो रहा था.

अब वो मुझे नीचे उतार कर ऊपर आ गया था. उसके पहले ही धक्के ने मुझे उत्तेजित कर दिया।

अब दूसरा और भी तेज़ था… मैं हिल गयी थी… लेकिन मैं खुशी से नाचने लगी। मुझे इतनी ज़ोर से चोदा कि मेरा पूरा शरीर जीजू का गुलाम बन गया। (साली जीजू XXX)

‘और जोर से चोदो मुझे मेरे राजा… फाड़ दो चूत को अंदर से भी…’ मैं वासना के नशे से पसीने पसीने हो रही थी।

जीजू का पसीना भी मेरे बदन पर टपक रहा था. जीजू मेरे बूब्सों के दुश्मन बन गये थे. वो पूरे दिल और अदा से उनको निचोड़ कर मुझे जन्नत की तरफ ले जा रहा था. जोर जोर से लंड पेल रहा था. मेरी चूत उछल उछल कर उसके लंड को चूस रही थी.

अचानक मुझे लगा कि अब मुझे कोई नहीं रोक सकता. चूत में लहरें उठने लगीं. मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मैं अपनी सीमा तोड़ कर स्खलित होने वाली हूँ।

‘जज्ज जज्ज जीजू.. आह्ह्ह्ह… मैं हाय… जीजू… मेरा ख्याल रखना… मेरा रस निकलने वाला है… मुझे जोर से चोदो।

‘मैं भी इशानी… आह्ह वीर्य निकलने वाला है!’ और जीजू ने मेरी चूत में अपना एक पूरा शॉट मारा और जोर से अपना लंड चूत में घुसा दिया.

मेरी चूत चुत गयी … और झड़ने लगी. दबे हुए लंड ने भी जड़ के पास गहराई तक वीर्य छोड़ दिया और दोनों स्खलन का आनंद लेने लगे। चुदाई बहुत बढ़िया थी, मैं पूरी तरह संतुष्ट थी।

हम दोनों ने सफाई की और अपने कपड़े पहने।

जीजू ने तुरंत बोला- इशानी, तुम्हारी Moti Gand तो बहुत बढ़िया है यार… अगली बार तुम्हारी गांड का नंबर लेंगे!
‘छी…अभी नहीं…’ (साली जीजू XXX)

‘आज से अपनी गांड पर तेल लगाओ और उसमें दो उंगलियां घुमाओ, देखना तीन दिन में यह शानदार चुदाई के लिए तैयार हो जाएगी।’ मैं हंसने लगी।

बहन अभी तक नहीं आई थी. मैंने अपना स्कूटर उठाया और बाजार चली गयी, ताकि दीदी को शक न हो.

आपको मेरी साली जीजू XXX कहानी कैसी लगी?

कहानी अभी बाकी है मेरे दोस्त अगला भाग पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करे।

कहानी का अगला भाग: साली जीजू XXX कहानी

Lucknow Call Girls

This will close in 0 seconds