बारिश के मौसम में जीजू के साथ मस्ती: साली जीजू XXX कहानी भाग 2

बारिश के मौसम में जीजू के साथ मस्ती: साली जीजू XXX कहानी भाग 2

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “बारिश के मौसम में जीजू के साथ मस्ती: साली जीजू XXX कहानी भाग 2”। मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

कहानी का पिछले भाग: साली जीजू XXX कहानी में अपने पढ़ा की कैसे मेरे जीजू ने मुझे चोदा अब आगे की कहानी।

रात को जीजू की बातों के बारे में सोचती रही. फिर मैं उठी और तेल लेकर अपनी गांड के आसपास लगाने लगी. गांड के छेद पर उंगली रख कर दबाने लगी.

मुझे गुदगुदी सी होने लगी. फिर अपनी एक उंगली गांड के छेद में डाल दी और अन्दर भी तेल लगाने लगी. लेकिन ऐसा करने से मुझे बहुत उत्तेजना हुई. चूत में पानी भी आया तो अलग ही मजा था.

मैंने मन में सोचा कि अगर ऐसे ही इतना मजा है तो जब लंड अन्दर जायेगा तो कितना मजा आयेगा.

सुबह उठने के बाद भी मैंने अपनी गांड पर फिर से तेल लगाया. गांड के छेद को दबाया और मजा लिया. फिर मैंने एक उंगली गांड में डाली, तेल लगाया और दो उंगलियों से गांड में डाला और छेद को बड़ा करने के लिए घुमाया भी.

इन दिनों जीजू मेरे लिए एक डिल्डो लेकर आये थे. इसके साथ ही मैंने अब गांड के छेद को चौड़ा करने की कोशिश की.

काफी समय हो गया जब मुझे गांड मराने का मौका मिला, लेकिन इतने दिनों में मैंने खुद को गांड मराने के लायक बना लिया था. एक डिल्डो आसानी से मेरी गांड में जा सकता था. धीरे-धीरे मैं डिल्डो के साथ अच्छी प्रैक्टिस करने लगी।’

आख़िरकार एक दिन हमें मौका मिल ही गया। एक दिन सुबह-सुबह जीजू ने मुझे बताया कि रौशनी की सहेली आई है और वह उससे मिलने जा रही है।

मतलब मुझे रौशनी दीदी से पहले निकलना था. मैंने अपना स्कूटर उठाया और अपने दोस्त के यहाँ चली गयी। कुछ देर बाद जीजू का मिसकॉल आया. मैं जल्दी से घर पहुंच गयी. (साली जीजू XXX कहानी)

‘आज हमें बहुत टाइम मिलेगा, रौशनी लंच के बाद आएगी!’ जीजू ने खुश होते हुए कहा.

‘जीजू, आज मेरी गांड चोद कर मुझे खुश कर दो… देखो मेरी गांड कितनी चमकदार और सेक्सी हो गई है।’ मैंने अपनी पैंट उतार दी और अपनी Moti Gand दिखा दी.

जीजू ने भी अपने कपड़े उतार दिये और तैयार हो गये. मैंने भी अपना टॉप उतार दिया. जीजू ने मुझे प्यार से बिस्तर पर बिठाया और अपनी बांहों में कस कर पकड़ लिया. उसके होंठ मेरे होंठों को चूमने लगे.

इतने दिनों के बाद मुझे किसी मर्द का स्पर्श मिला, तो मैं आनंद में खो गयी. मेरे Big Boobs सख्त हो गये थे, निपल्स सख्त हो गये थे। उसके हाथ मेरे शरीर के उभारों को दबाने और मसलने लगे। मेरी चूत पानी से गीली हो गयी.

जीजू ने मुझे बिस्तर पर सबसे आसान आसन यानी मेरे नितंबों को ऊपर उठाकर झुकने का आसन करवाया.. यानी कुतिया बनवाया।

मेरे नितंबों के दोनों होंठ खिल गये… अन्दर बंद गुलाब का फूल जीजू को दिखने लगा।

जीजू ने अपनी एक उंगली से गुलाब को सहलाया और धीरे-धीरे दबाव भी डाला। मुझे मर्दों के हाथों से गुदगुदी महसूस होती थी. जीजू ने पास पड़ा तेल उठाया और गुलाब जैसी गांड पर लगाया… और फिर से दबाव बनाकर उंगली अन्दर डाल दी.

छेद के आसपास मुझे बहुत मज़ा आया। यह एक पुरुष का स्पर्श था… सुखद और उत्तेजना से भरा हुआ। एक बार मेरी गांड टाइट हो गयी तो मैंने उसे ढीला छोड़ दिया. (साली जीजू XXX कहानी)

जीजू की उंगली आगे बढ़ गयी. अब जीजू ने मेरी गांड के छेद को बड़ा करने के लिए अपनी उंगली घुमाई और गांड बहुत आसानी से खुल गई… जीजू अपने घुटनों के बल बैठ गए और मेरे नितंबों के गालों को अलग करके अपने लंड का निशाना बनाया और गुलाब पर रख दिया।

छेद पहले से ही खुला था. सुपारा आसानी से अन्दर चला गया.

Ishani, तुमने अपनी गाण्ड बहुत सुंदर बना ली है… लेकिन अब मैं तुम्हें धीरे-धीरे चोदूंगा… जीजू का लंड ज़ोर से अंदर घुसने लगा।

टाइट छेद का असर था… जीजू को मजा आने लगा. मुझे भी अभ्यास के कारण उसके तने हुए लंड का आनन्द आ रहा था।

अब जीजू ने धीरे से अपनी दो उंगलियां मेरी Tight Chut में डाल दीं. मैं आह भर कर उठ बैठी. उसने अपने हाथों से मेरी चुत की कली को सहलाना शुरू कर दिया। अब जीजू अपने लंड को मेरी गांड में नाप-तौल कर अन्दर-बाहर करने लगे.

‘क्या आज मुझे मार डालोगे… इतना मजा तो मुझे चुदने में भी नहीं आया था… हे राम…!’

‘यही तो प्रैक्टिस का मजा है…बहुत मजा आएगा।’

किसी मर्द से गांड मरवाने का मजा डिल्डो से कहीं ज्यादा अच्छा होता है… ये मुझे आज पता चला. मेरी कसी हुई गांड जीजू को बहुत आनंद दे रही थी. उसका लंड सख्त हो गया था और आराम से मेरी गांड चोद रहा था. कोई दर्द नहीं, कोई ख़तरा नहीं, बस मज़ा। (साली जीजू XXX कहानी)

कुछ देर तक तो जीजू ने मेरी गांड चोद कर मजा लिया, फिर उन्होंने अपना लंड बाहर निकाला और कुछ कहा जो मुझे अजीब लगा.

‘इशानी, मैंने आज तक तेरी बहन की गांड नहीं चोदी, वो मुझे चोदने भी नहीं देती।’

‘हाय जीजू, सच में बहुत मजा आ रहा है… मेरी बहन को अपनी गांड मरवाने के लिए मजबूर करो न…’

जीजू हँसे और फिर बोले- इशानी, अब उस डिल्डो से मेरी गांड चोदो… मुझे भी मजा लेने दो…
मेरी आँखें आश्चर्य से फैल गईं- जीजू, क्या आप ठीक हैं… आप एक आदमी हैं…?

‘अरे मैं तो इंसान हूं… मुझे भी मजा लेने का हक है…!’ उनकी आवाज़ कठोरता से भरी थी.
‘मैंने बोला चलो घोड़ी बन जाओ … वाह, तूने तो दिल की बात कर दी मेरे जीजू… मेरे मन में भी तुझे डिल्डो से चोदने का ख्याल आया… चल हाय जीजू… तुझे चोदने में बहुत मजा आएगा…’

जीजू बिस्तर पर डॉगी बन गए और अपनी गांड ऊपर उठा दी. इतनी सुंदर और गोल गांड, एक भी बाल नहीं, चिकनी और नितंबों की दरारों के बीच चमकता हुआ काला फूल…

मैंने तेल लगाया और अपनी उंगली उसके छेद के चारों ओर लगायी और घूमाती रही। फिर और तेल लिया और अपनी उंगली उस फूल पर रगड़ने लगी, वो आहें भरने लगा. (साली जीजू XXX कहानी)

‘जीजू, आप भी इसका मजा लीजिए…’
‘हाँ बहुत… सभी पुरुष इसका आनंद लेते हैं…’

मेरी उंगली जीजू की गांड के छेद में घुस गयी. उसका छेद ढीला था, ऐसा लग रहा था जैसे वो डिल्डो से उसकी गांड चोदता हो. मैंने डिल्डो को तेल में भिगोया और उसकी गांड के काले फूल पर रख कर दबा दिया. वह आसानी से अंदर घुस गया.

उन्होंने इसका खूब लुत्फ उठाया.

मैंने डिल्डो पूरा उसकी गांड में घुसा दिया. नीचे उसका लंड उत्तेजना से फूल गया। जैसे ही डिल्डो गांड में गया, उसका लंड अकड़ने लगा.

उसके लंड की यह हालत देख कर मैंने उसे अपने दूसरे हाथ से पकड़ लिया. दरअसल लंड की उत्तेजना असाधारण थी. लंड मोटा हो गया था और सूज गया था…

मैं धीरे-धीरे अपने हाथ से उसके लंड को आगे-पीछे करने लगी।

‘इशानी… और जोर से करो यार… मुझे बहुत मजा आ रहा है… जोर से रगड़ो यार…’ वह लगभग चीख पड़ा। ‘यह आनंद लंड का था या गांड का… जो भी था, मेरे हाथ तेजी से डिल्डो पर चल रहे थे और अब वे लंड पर भी जोर आजमाइश कर रहे थे…’

‘ओह माय गॉड… कुतिया इशानी… … हे भगवान… मैं झड़ने वाला हूँ जोर से मुठ मारो… मादरचोद को मरोड़ो…… मैं तो गया…!’

उसका लंड बुरी तरह से अकड़ रहा था. जैसे ही मैंने उसके लंड को घुमाया और पूरी ताकत से खींचा तो ढेर सारा वीर्य निकल गया.

मैंने इसे पूरा पीने की पूरी कोशिश की लेकिन दुर्भाग्य से वीर्य का बहाव लंबा और बहुत तेज़ था। फिर भी जो कुछ मेरे मुँह में आया वह बहुत था। उसका मोटा लंड फूलता और सिकुड़ता जा रहा था और पेशाब की तरह वीर्य की धार छोड़ रहा था।

जब यह पूरी तरह ख़त्म हो गया तो उसे मेरी याद आई, मैं अभी तक ऑर्गॅज़्म तक नहीं पहुंची थी।

उसने मुझे फिर से कुतिया की तरह झुकाया और मेरी गुलाब जैसी गांड को अपनी जीभ से चाटने लगा. मैं फिर से वेट महसूस करने लगी. (साली जीजू XXX कहानी)

वो मेरी गांड के छेद को खोलता था और अपनी जीभ अन्दर भी डाल देता था. उसके हाथ की दो उंगलियाँ मेरी चुत को सहला रही थीं और फिर मेरी चूत की गहराई में चली गईं।

चुत की रगड़ और गांड की मीठी गुदगुदी ने मुझे जल्दी ही चरम सीमा पर ला दिया। जैसे ही मेरी चूत पर जोर से दबाव पड़ा तो मेरी भी वही हालत हो गई जो जीजू की हुई थी. मेरा रस निकल गया और ढेर सारा रस निकला. मेरी चूत से मानो पानी टपकने लगा.

जीजू लेट गये और उनका मुँह मेरी चूत से चिपक गया. मुझे ऐसा लगा जैसे चूसने से मेरी चूत में वैक्यूम पैदा हो गया हो. मैं झड़ रही थी और जीजू सारा रस चूस कर पी रहे थे। मुझे एक अजीब सी संतुष्टि महसूस हो रही थी. सेक्स का ये पहलू मेरे लिए बिल्कुल नया था.

‘जीजू, तुम्हारा इतना सारा माल कैसे निकला…?’
‘महिला हो या पुरुष, पीछे से डॉगी स्टाइल में करने से लंड सख्त हो जाएगा और फिर वीर्य भी बहुत निकलेगा, वैसे ही आपका भी वीर्य बहुत निकला है ना… ‘ (साली जीजू XXX कहानी)

‘जीजू, मुझे बहुत प्यारा सुख मिला… प्लीज़ दीदी को भी बताओ… उसे भी वैसा ही आनन्द दो!’
‘हे भगवान… तेरी बहन… भाग… तू कॉलेज जा… नहीं तो तेरी बहन को कौन समझाएगा कि मैंने तुझे नहीं चोदा…’ जीजू को अचानक रौशनी का ख्याल आया।

मैं मुस्कुराई- तो तुमने मुझे चोदा ही नहीं… बता देना… बोल देना मैंने तो बस गाण्ड की जम कर चुदाई की… अब शक मत करो! और मैं हंसते हुए तैयार होने लगी।

कुछ ही देर में मैं घर के बाहर थी. अपना स्कूटर उठाया और कॉलेज के लिए निकल पड़ी।

आपको मेरी ये साली जीजू XXX कहानी कैसी लगी मुझे कमेंट  करके जरूर बताइये।

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Lucknow Call Girls

This will close in 0 seconds