मामा की बेटी की Saheli ki chut ki seal तोड़ी और चुत सजा दी

मामा की बेटी की Saheli ki chut ki seal तोड़ी और चुत सजा दी

मेरा नाम Rohit है और मैं मेरठ का रहने वाला हूं। मैं अपने पिताजी के साथ ही उनका कारोबार संभालता हूं। मेरी उम्र 25

वर्ष की है, मुझे उनके साथ काम संभालते हुए काफी वक्त हो चुका है।

मैं और मेरे बड़े भैया ही उनके साथ आप उनका काम देखते हैं। मेरे बड़े भैया की शादी हो चुकी है लेकिन मेरी अभी तक शादी नहीं हुई है। (Saheli ki chut ki seal)

मैंने अपनी पढ़ाई के बाद से ही अपने पिताजी का कारोबार संभाल लिया था और मैं उसी के चलते हुए बहुत ही व्यस्त रहता हूं। मैं भी उनकी तरह ही बन चुका हूं और मुझे सिर्फ काम से ही मतलब रहता है, मुझे ना तो अपने दोस्तों से मिलना पसंद है और ना ही अब मैं किसी से मिलना पसंद करता हूं।

मैं अपने काम से लौटने के बाद सीधा घर चला जाता हूं और घर में कुछ देर मैं टीवी देखने के बाद सो जाया करता हूं।

यही मेरी दिनचर्या बन चुकी थी। एक दिन मेरी मां कहने लगी कि तुम्हारे मामा की लड़की का रिश्ता हो चुका है, यह सुनकर मैं बहुत ही खुश हुआ क्योंकि वह मुझसे दो वर्ष छोटी है और हम दोनों के बीच बहुत ही दोस्ताना संबंध है। हम दोनों दोस्त के तरीके से ही रहते हैं।

जब मैंने उसे फोन किया तो मैंने उसे कहा कि तुम्हारी शादी होने वाली है और मुझे पता ही नहीं चला।

वो कहने लगी कि मुझे एक लड़का पसंद आ गया था इसलिए मैंने पापा से इस बारे में बात की तो वो कहने लगे की तुम शादी ही कर लो इसलिए वह सगाई नहीं कर पाए और सीधा ही वह लोग शादी करवा रहे हैं।

वह मुझे कहने लगी कि तुम्हें मेरी शादी में जरूर आना है, मैंने कहा कि मैं तुम्हारी शादी में जरूर आऊंगा। मैं उसकी शादी में जाने की तैयारी करने लगा। मेरे साथ मेरी फैमिली थी। हम लोग अपने मामा के घर चले गए।

वह लोग भी मेरठ में ही रहते हैं इसीलिए हम सब लोग वहां पर चले गए। हमारी दुकान का काम मेरे भैया देख रहे थे क्योंकि वो हमारे साथ नहीं आए और वो कहने लगे कि मैं दुकान का काम संभाल लूंगा आप लोग वहां हो आइये।

जब मैं अपने मामा की लड़की अलिअ से मिला तो वह मुझे देख कर बहुत खुश हुई और मैंने उसे कहा कि तुम्हारी शादी की तैयारियां हो चुकी है, वह कहने लगी कि हां लगभग तैयारियां हो चुकी है लेकिन तुम बहुत ही लेट आए।

मैंने उसे कहा कि मैं काम में बिजी रहता हूं इस वजह से मैं तुम्हारे घर जल्दी ना आ सका, इसके लिए तुम मुझे माफ कर देना। वो कहने लगी कोई बात नहीं अब तो मेरी शादी है, उसके बाद मैं अपने ससुराल चली जाऊंगी।

अलिअ की बहुत सारी सहेलियां आई हुई थी और उनमें से एक सहेली मुझे अच्छी लग रही थी, उसका नाम संजना है क्योंकि उसे मैं पहले भी एक बार मिल चुका था। मुझे उससे अलिअ ने ही मिलवाया था इसलिए मैं उसे जानता था और जब उसने मुझे देखा तो वह मुझे कहने लगी कि आप तो बहुत लेट आ रहे हैं।

मैंने उसे कहा कि मैं अपने काम में बिजी था इसलिए मैं शादी में थोड़ा लेट से पहुंचा। अब वह मुझसे ही बात कर रही थी और वह मुझे अच्छे से जानती थी इसलिए मैं भी उससे बात कर रहा था।

अलिअ मेरे मामा की इकलौती लड़की है। मेरे मामा ने उसकी शादी में पूरा खर्चा किया था और बहुत ही अच्छे से सारा अरेंजमेंट किया हुआ था।

अलिअ का जो होने वाला पति था वह भी एक बहुत ही अच्छे पद पर है, वो किसी बड़ी कंपनी में अच्छी पोस्ट पर है। संजना और मैं बैठ कर बातें कर रहे थे और हम दोनों ने काफी देर तक बात की।

शादी की सारी तैयारियां हो चुकी थी उसके बाद अलिअ की शादी हो गई।

अब हम वापस अपने घर लौट आये. कुछ समय बीतने के बाद एक दिन मैंने संजना को फोन करने के बारे में सोचा मैंने उस दिन संजना को फोन किया।

जब मैंने उसे फोन किया तो मैंने उससे पूछा कि क्या तुम फ्री हो, वह कहने लगी हां मैं फ्री हूं। मैंने उससे कहा कि अगर तुम्हारे पास समय है तो तुम मेरे साथ घूमने के लिए चल सकती हो, वह कहने लगी हां ठीक है हम लोग घूमने के लिए चलते हैं।

अब वो मेरे साथ मेरी कार में आ गयी और हम दोनों घूमने निकल गये. मैं पहले उसे मूवी दिखाने ले गया, फिर हमने साथ में लंच किया। मुझे उसके साथ समय बिताना अच्छा लग रहा था और कब रात हो गई मुझे पता ही नहीं चला।

मैंने संजना को उसके घर छोड़ा और सीधा अपने घर लौट आया। जब मैं घर आया तो मैंने संजना को फोन किया और उससे काफी देर तक बात की।

उससे फोन पर बात करते-करते कब नींद आ गई, मुझे पता ही नहीं चला। जब मैंने अगले दिन उसे फोन किया तो मैंने उससे कहा कि मैं बहुत थक गया था और इसीलिए मैं तुमसे ज्यादा देर तक बात नहीं कर सका।

अब मैं भी अपने काम में व्यस्त हो गया था इसलिए मैं संजना को बिल्कुल भी समय नहीं दे पाता था और उससे मेरी सिर्फ फोन पर ही बात होती थी। अक्सर हम दोनों फोन पर बातें किया करते थे. एक दिन वह मुझसे कहने लगी कि तुम काफी समय से मुझसे नहीं मिले हो तो अगर तुम्हारे पास समय हो तो चलो हम मिल लेते हैं।

मैंने उस दिन समय निकाला और उससे मिलने का प्लान बनाया. जब मैं संजना से मिला तो वह मुझसे मिलकर बहुत खुश हुई और वह मुझे कहने लगी कि तुम न जाने कहां गायब हो गए हो। मैंने उससे कहा कि मैं काम में बहुत व्यस्त था इसलिए तुमसे नहीं मिल पाया। उसके गले लगने के बाद मुझे भी बहुत बुरा लगा.

मैं उसे अपने एक दोस्त के घर ले गया जब मैं उसे वहां ले गया तो पहले तो वह थोड़ा शरमा रही थी लेकिन वह मेरे साथ आ गई और उसके बाद मैंने संजना के होठों को चूमना शुरू कर दिया।

मैंने उसके होठों को बहुत देर तक चूमा जिससे उसका शरीर गर्म होने लगा और मैं उसकी जीन्स को नीचे करते हुए उसकी चूत को अपनी उंगली से सहलाने लगा। उसकी योनि से बहुत सारा पानी निकलने लगा। वो बहुत खुश हो रही थी. मैंने उसके सारे कपड़े उतार दिए और उसके स्तनों को मुंह में लेकर चूसने लगा।

जब मैंने उसके स्तनों को अपने मुंह में लिया तो मुझे बहुत अच्छा महसूस हुआ। जब मैंने उसके स्तनों को अपने मुंह में लिया और उन्हें चूसना शुरू किया तो मुझे बहुत अच्छा लग रहा था। मैंने अपना लंड उसके मुँह में डाल दिया. जैसे ही उसने मेरे लंड को अपने मुंह के अंदर लिया तो मुझे बहुत मजा आ रहा था।

वह मेरे लिंग को अपने मुंह के अंदर-बाहर कर रही थी मुझे बहुत अच्छा लग रहा था और उसने काफी देर तक मेरे लिंग को अपने मुंह के अंदर लिया।

अब मुझसे और बर्दाश्त नहीं हो रहा था और मैं भी अपने आप पर बिल्कुल भी काबू नहीं रख पा रहा था. मैंने उसे उसी बिस्तर पर लेटा दिया, उसके दोनों पैरों को फैलाया और उसकी योनि को अपनी जीभ से बहुत देर तक चाटा जिससे कि उसका तरल पदार्थ बहुत तेजी से बाहर निकलने लगा। . मैंने अपना लिंग उसकी योनि पर रख दिया। उसकी योनि बहुत टाइट थी इसलिए मुझे उसकी योनि में डालने में बहुत दिक्कत हुई।

मैं उसे बहुत तेजी से चोद रहा था. मैंने उसे इतनी तेजी से चोदना शुरू कर दिया कि उसका पूरा शरीर गर्म होने लगा और उसे बहुत मजा आ रहा था।

वह मेरा पूरा साथ देने लगी, वह अपने मुंह से मादक आवाजें निकालकर मुझे अपनी ओर आकर्षित करती थी।

वह भी अपने दोनों पैरों को पूरा खोल लेती थी जिससे मेरा लिंग उसकी योनि के अंदर तक जा रहा था। जब वह मेरे लिंग को अपनी योनि के अंदर तक ले रही थी तो उसे बहुत अच्छा महसूस हो रहा था।

वह बहुत खुश हो रही थी और मुझसे कहने लगी कि मुझे तुमसे अपनी चूत मरवाने की बहुत इच्छा थी लेकिन तुम इतने दिनों से मुझसे नहीं मिल रहे थे इसलिए मुझे तुम्हारे पास आना पड़ा।

मैंने उससे कहा कि मैं भी चाहता था लेकिन मुझे बिल्कुल भी समय नहीं मिल पा रहा था। अब मैं उसे ऐसे झटके दे रहा था और उन झटकों के बीच कब मेरा माल  निकल गया मुझे पता ही नहीं चला.

तभी एकदम से हो चिल्लाई और बोली अरे अरे यह क्या कर दिया मैं प्रेग्नेंट हो जाऊंगी तुम पागल हो क्या?

फिर मैंने कहा अरे क्यों टेंशन ले रही हो मैं हूं ना कुछ नहीं होगा

फिर मैं उसकी टांग उठाई और उसकी गांड के नीचे तकिया लगाए उसे उसकी चुत पूरी तरीके से खुल गई थी फिर मैंने उसे एकदम रंडियों की तरह चोदा उसकी चुत में मेरा पूरा माल भरने की वजह से पूछ पूछ की आवाज आ रही थी और उसकी आंखों से आंसू निकल रहे थे पर मेरा मन उसे पर आया हुआ था तो मैं उसे दबा कर चोदे जा रहा था जब तक मेरा मन पूरा भर नहीं गया मैंने उसे तब तक चोदा उसकी जब तक उसकी चुत से खून नहीं आ गया 

मेरे मन की हवस अभी तक काम नहीं हुई थी पर उसकी चुत से खून आने की वजह से मुझे उसे पर तरस आ गया तो मैंने उसे वहीं पर छोड़ा और फिर मैं Delhi Escorts एजेंसी से एक एस्कॉर्ट बुक कराई और उसे होटल में ले जाकर खूब चोदा मैंने उसमें तकरीबन तकरीबन 7 शार्ट लगाएं और उसकी चुत को सुझा दिया

Lucknow Call Girls

This will close in 0 seconds