पड़ोस में आयी नयी भाभी की चुदने की कामवासना – भाभी XXX कहानी

पड़ोस में आयी नयी भाभी की चुदने की कामवासना – भाभी XXX कहानी

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “पड़ोस में आयी नयी भाभी की चुदने की कामवासना – भाभी XXX कहानी”। यह कहानी रोशंक की है वो आपको आगे की कहानी बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

भाभी XXX कहानी लीला भाभी के बारे में है, जो एक खूबसूरत परी है जो हमारे घर के पास रहने के लिए आई है। उसका पड़ोसी होने के नाते मैं उसकी मदद करता था. मैंने अपनी भाभी को कैसे चोदा?

मैं अपने बारे में बस इतना ही कहूंगा कि अगर कोई भी लड़की मुझे एक बार देख लेगी तो रात को अपनी चूत से मेरे बारे में जरूर बात करेगी.

चलिए, अब मैं आपको भाभी XXX कहानी बताता हूं, जिसे मैंने चोदा.

यह बात करीब एक साल पहले की है, गर्मी का मौसम था। उस समय पसीना शरीर से ज्यादा लिंग के आसपास आता था और लिंग को गीला कर देता था. (भाभी XXX कहानी)

उन्हीं गर्मियों में हमारे पुराने पड़ोस में एक नई चूत की रानी रहने आई।
मुझे क्या पता कि मैं उसकी चूत का राजा हूं.

उस खूबसूरत परी का नाम लीला भाभी था.
उसका रंग गोरा, फिगर 34-30-36 था.
भाभी के स्तन बहुत नुकीले, सामने से तने हुए थे और उनकी गांड बहुत मोटी और मटकती हुई थी।

क्या बच्चा, क्या बूढ़ा या क्या जवान… जिसे देखो वह इन्हें खाने के लिए दौड़ पड़ता है।
भाभी का घर मेरे घर से थोड़ी दूरी पर था.

उनके पति एक कंपनी में काम करते थे.
हर महीने कंपनी वाले उसकी गांड मराने के लिए इधर-उधर काम के लिए भेजते थे।
उनकी अनुपस्थिति में मैं भाभी से बातें करने लगा.

वे इलाके में नये आये थे, इसलिए उन्हें इलाके के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं थी.
उसका पड़ोसी होने के नाते मैं उसकी मदद करता था.
अगर भाभी को कोई बाहर का काम होता तो वो मुझे ही बुलातीं.

कभी भाभी मुझे सब्जी लाने के लिए कहतीं तो कभी कुछ किराने का सामान ऑर्डर करने के लिए याद करती.

उन्होंने मेरा नाम उपयोगी रखा. वह मुझसे उपयोगी जी कहकर बात करती थी.

मैंने भी उन्हें बताया कि भाभी मेरा नाम विजय है।
वो बोली- हां, लेकिन तुम मेरे उपयोगी हो. (भाभी XXX कहानी)

मैंने कहा- अच्छा नाम रखा है आपने… वो मुझे इस्तेमाल करने लगी तो उसने मुझे उपयोगी का नाम दे दिया!
वो हंस कर बोलीं- तो क्या मुझे योगी कहना चाहिए?

मैंने कहा- हां, योगी भी ठीक लगेगा. कम से कम आपका योग करने का मन तो होगा!
बोलीं- समय आने पर तुम्हें भी मेरा उपयोगी कहना अच्छा लगने लगेगा.

मुझे उनकी बात का सार तुरंत समझ में आ गया और कहा- वही उपयोगी है जिसका हर तरह से उपयोग हो।
शायद भाभी को मेरी बात समझ आ गयी थी. वो बोलीं- हर वक्त आपका इस्तेमाल नहीं किया जा सकता.

मैंने पलट कर पूछा- तो बताओ किस वक्त इसका इस्तेमाल किया जा सकता है.. मैं उसी वक्त हाजिर हो जाऊँगा।
भाभी हँसीं और अन्दर चली गईं।

इस तरह मैं भाभी को सामान देने के बहाने उनसे बातें करता था और उनकी जवानी की झलक पा लेता था.

मैं हमेशा उसके उभरे Big Boobs को निहारता था।
शायद उन्हें इस बात की जानकारी थी लेकिन उन्होंने कभी कुछ नहीं कहा.

एक दिन ऐसा हुआ कि उसका पति अपना लंड लेकर बाहर गया हुआ था.
शायद यही वह दिन था जब मैं उसकी चूत में अपना लंड डाल कर उसे ठंडा कर सकता था।

उस दिन लीला भाभी ने मुझे अपने घर खाने पर बुलाया था. (भाभी XXX कहानी)
मैं भी ख़ुशी-ख़ुशी अपने लिंग को धोकर-पोंछकर और बाल छीलकर उसके घर पहुँच गया।
रात का समय था, लगभग 8 बजे थे।

मैंने उसके घर की घंटी बजाई.
जैसे ही उसने दरवाज़ा खोला, मेरा लंड खड़ा होकर उसे सलाम करने लगा.

क्या बताऊँ… उस दिन वो कितनी खूबसूरत लग रही थी।
उसने जालीदार लाल रंग की नाइटी पहनी हुई थी.

चूँकि उसने जालीदार नाइटी पहनी हुई थी इसलिए उसकी काली ब्रा भी दिख रही थी और उसके उभरे हुए स्तन ऐसे खड़े थे मानो वे खुद को मेरे सलामी लंड के हवाले करना चाहते हों।

उसने पहले मेरी तरफ देखा, फिर नीचे मेरे लिंग की तरफ देखा जो मेरी पैंट फाड़कर बाहर आना चाहता था।
फिर वो हंस कर बोली- अन्दर भी जाओगे या यहीं सपने देखते रहोगे?

नोट: अगर आप सिंगल हैं और अपनी हवस पूरी करना चाहते हैं, तो चिंता न करें, Subhash Nagar Escorts आपका इंतजार कर रही हैं।

जब मैंने उसकी तरफ देखा तो मुझे उसकी आंखों में एक अलग तरह की खुशी दिखी.

तो मैंने लंबी सांस लेकर कहा- अभी तो सपने ही मेरा साथ देते हैं भाभी जी.
उसने भी मुझे अन्दर आने का इशारा किया और कहने लगी- क्यों, हाथ काम नहीं करते क्या?

मैं तुरंत उनकी बात समझ गया कि भाभी मुझसे हस्तमैथुन करने के लिए कह रही थीं।

मैं अन्दर आ गया और भाभी ने दरवाज़ा बंद कर दिया. (भाभी XXX कहानी)
अन्दर A.C की ठंडक से मन खुश हो गया।

मैंने हाथ हवा में फैलाए और शोले फिल्म का डायलॉग बोलते हुए बोला- यही तो मजबूरी है भाभी जी… मेरे हाथ गब्बर सिंह ने काट दिए हैं.

भाभी ने मेरी तरफ देखा और बोलीं- और वो गब्बर सिंह कौन है?
मैंने उनके स्तनों को देखते हुए कहा- वो गब्बर सिंह तो आप ही हैं भाभी जान!

मैंने जानबूझ कर उसे जान कहा.
जिस पर भाभी का तुरंत जवाब आया- अच्छा, अब मैं भी जान बन गयी हूँ?
मैंने कुछ नहीं कहा, बस उसकी तरफ देख कर मुस्कुराने लगा.

भाभी बोलीं- कभी तुम गब्बर सिंह कहते हो, तो कभी मुझे जान कहते हो. आपके इरादे मुझे स्पष्ट नहीं हैं.
मैंने कहा- अभी आपने मेरे इरादे देखे कहा है?

वो बोली- और वो इरादा कब दिखेगा?

मैंने कहा- क्या अब सब कुछ देखने का इरादा है? अरे, तुमने अपने घर मेहमान बुलाया है… अपने उपयोगी का कुछ भला नहीं करोगे?

वो उपयोगी बात सुनकर मुस्कुराई और बोली- हां हां उपयोगी जी बताओ , आपको क्या परोसा जाए.. मेरा मतलब है कि आप खाने से पहले क्या लेना पसंद करेंगे? मैंने उसके दूध को देखते हुए कहा- कुछ गर्म पीने को दो, जिससे आत्मा तृप्त हो जाए.

वो बोली- गर्मियों में मेरे पास चाय, कॉफी, कोल्ड ड्रिंक, हॉट ड्रिंक है, उसके आगे और भी गर्म ड्रिंक हैं… बोलो जी, आप क्या पीना पसंद करेंगे?

उसके मुँह से और गरम ड्रिंक सुन कर मुझे जोश आ गया और मैंने कहा- और गरम ड्रिंक. इसे पिला दो, भगवान तुम्हें बहुत खुशियाँ देगा। आपकी भी झोली भर देंगे.

भाभी ने कहा- काश भगवान ने मेरी पुकार सुन ली होती और मेरी झोली भर दी होती.
मैंने उसकी ओर देखा. तो वो झट से बोली- तुम्हारी भाभी तुम्हें और भी गर्म ड्रिंक पिलाती है.

इतना कह कर भाभी अन्दर चली गईं और पांच मिनट बाद ब्लैक डॉग की बोतल, पानी और स्नैक्स लेकर वापस आईं.
जब मैंने उसके हाथ में पकड़ी ट्रे में ये सब देखा तो खुश हो गया.

भाभी ने सारा सामान टेबल पर रख दिया और मेरे पास आकर बैठ गईं और बोलीं- ये लीजिए उपयोगी जी … एक पैग बनाओ.

मैंने दो पैग बनाए और भाभी की तरफ देखा.
उसने गिलास उठाया और चियर्स बोला और अपने होठों से लगा लिया। (भाभी XXX कहानी)

मैंने भी एक घूंट लिया और उसकी तरफ देखते हुए कहा- तुम तो बहुत जल्दी समझ जाती हो कि मेहमान को क्या चाहिए!

वो हंसते हुए बोली- अभी देखते रहो उपयोगी जी… समय आने पर आपको अंदाजा हो जाएगा कि मैंने क्या समझा है.

मैंने कहा- भाभी जान, आप तो बड़ी उस्ताद हैं!
गिलास खत्म करते हुए वो बोली- आज तुम मुझे सिर्फ डार्लिंग कह कर बुलाओ और हो सकता है आज ही तुम मेरी ले लो.

ये सुन कर मैं दंग रह गया और मेरा लंड खड़ा हो गया.

गिलास ख़त्म करते हुए मैंने पूछा- क्या कहा भाभी?
उसने गिलास को फिर से शराब से भरते हुए कहा- वही बात जो तुमने सुनी थी!

अब मैं अपने आप पर काबू नहीं रख पा रहा था.
मैंने सोचा कि ये बोल्ड हो गई है और लेने के लिए कह रही है.. तो पहले इसकी Tight Chut ही लूँगा।

मैंने तुरंत दूसरा गिलास निकाला और पागलों की तरह उसके स्तनों पर टूट पड़ा।

मुझे इतनी जल्दी थी कि मैंने उसकी नाइटी भी फाड़ दी.

इससे वो उत्तेजित होने लगी और उसने अपने दोनों हाथों से मेरी गांड पकड़ ली और हल्के से थप्पड़ मारा, जैसे तबला बजा रही हो.

मैंने अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए और उन्हें ऐसे चूसने लगा जैसे कि वे आम की फाँक हों।
कसम से दोस्तों, महिलाओं के होठों का स्वाद कमाल का होता है. एक बार चूसना शुरू करो तो छोड़ने का मन ही नहीं करता.

अब वो भी इतनी गर्म हो गई थी कि उसके शरीर पर चाय भी उबाल सकते थे.

हमारी साँसें बहुत तेज हो गई थीं, ऊपर से उसके मुँह से मादक आवाजें निकल रही थीं ‘आह… ओह… आह… आह.’ वो मेरे लंड को फौलाद बना रही थी. (भाभी XXX कहानी)

फिर वो सेक्सी आवाज में मुझ पर गुर्राने लगी- साले, डाल दे अपना लंड मादरचोद … आह, आज मैं तुझसे अपनी चूत चुदवाकर ही घर जाने दूंगी.

मैं झट से खड़ा हुआ, अपने कपड़े उतार कर फेंक दिए, नंगा हो गया, अपना हथियार निकाला और उनके सामने लहरा दिया।

मेरा बड़ा लंड देख कर भाभी की आंखें चमक उठीं.
उसने शराब की बोतल उठाई और मेरे लंड पर डाल कर सहलाने लगी.

लिंग साफ़ करने का ये तरीका बहुत बढ़िया था.
उसके बाद भाभी लंड चूसने लगीं और मैं कराहने लगा.

कुछ पल तक मेरा लिंग चूसने के बाद भाभी ने टेबल की दराज से सिगरेट की डिब्बी निकाली और उसमें से एक सिगरेट सुलगा ली और मेरे लिंग पर धुआं छोड़ते हुए उसे चूसने लगीं।

आह, आज जीवन में पहली बार मुझे सिगरेट और कोक चूसाने  का आनंद मिला।

मैंने अपने हाथ से उनके स्तनों को सहलाया तो भाभी खड़ी हो गईं और उन्होंने अपनी फटी हुई नाइटी पूरी उतार दी और ब्रा से स्तन बाहर निकाल दिए।

कुछ देर तक लंड चुसाई ऐसे ही चलती रही. फिर मैंने उसे 69 पोजीशन में आने को कहा.
वो लेट गयी और मैंने उसकी पैंटी उतार दी. मैंने अपना लंड उसके मुँह में डाल दिया और उसकी चूत पर आ गया.

उसकी चूत बहुत बड़ी और खुली हुई थी और उसकी चूत की जीभ भी बाहर निकली हुई थी.
ऐसी चूत को भोसड़ा कहते हैं.

उस वक्त मुझे लगा कि भाभी बहुत बड़ी रंडी है. उसने तरह-तरह के लंड अपनी चूत में लेकर उसे एक रंडी में बदल दिया है।

कुछ देर बाद भाभी बोलीं- अब देर मत करो राजा … जल्दी से अन्दर डालो. (भाभी XXX कहानी)

मैं सीधा हुआ और अपना लिंग उसकी फटी हुई सुरंग के मुहाने पर रखा और उसकी चूत के अंदर पेलना शुरू कर दिया।
वे तेजी से कहने लगीं ‘आह… आह… चोदो विजय, फाड़ दो इसे।’ वो कहने लगी.

लेकिन उस नई पोर्न भाभी को ज्यादा दर्द हो रहा था, शायद उसके पति ने उसे बहुत दिनों से नहीं चोदा था.

लेकिन मैं कहाँ रुकने वाला था… पहली बार मुझे चूत मिली थी और वो भी एक भाभी की।
फिर बिना कंडोम के Chut Chudai का मजा ही अलग है.

मैंने फिर से उसके होंठों पर अपने होंठ रख कर उसे शांत किया और कुरेदने लगा।
धीरे धीरे वो सेक्सी और मादक आवाजें निकालने लगी जैसे कोई पोर्न फिल्म चल रही हो.

कुल चार मिनट के बाद वो झड़ गयी और उसने अपना वीर्य छोड़ दिया और एकदम शांत हो गयी.

यह देख कर मैं इस बार और जोर जोर से धक्के मारने लगा.
वो तड़प कर बोली- आह … आज ही मार डालोगे क्या मुझे? अब ये तुम्हारा छेद है, जब भी तुम्हारा मन हो.. आ जाना और चोद लेना।

इस आनंद के कारण मैं भी 5 मिनट बाद स्खलित हो गया.

उसके बाद हम दोनों ने खाना खाया और उससे विदा लेते हुए मैंने उसे कुछ देर तक फिर से चोदा और घर आ गया.

आज भी मैं लीला भाभी को अपना लंड दिखाने जाता हूँ और बदले में उनके स्तनों का शिकार करता हूँ.
दोस्तो, आपको भाभी XXX कहानी का मजा आया होगा. कृपया मुझे मेल करें.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds