कमसिन जवान चाची को पटाकर चाची की चूत चुदाई का मजा लिया भाग 2

कमसिन जवान चाची को पटाकर चाची की चूत चुदाई का मजा लिया भाग 2

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “कमसिन जवान चाची को पटाकर चाची की चूत चुदाई का मजा लिया भाग 2”। यह कहानी रमन की है, वह आपको अपनी कहानी बताएंगे, मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

अपनी छोटी चाची के साथ अपने पहले सेक्स में मैंने चाची की चूत चुदाई का मजा लिया. एक दिन चाची को नंगी नहाते हुए देखकर मेरे मन में उनके लिए वासना जाग उठी.

कहानी का पहला भाग: कमसिन जवान चाची को पटाकर चूत चुदाई का मजा लिया
इसमें आपने पढ़ा कि कैसे मैं अपनी छोटी चाची को चोदने की कोशिश कर रहा था, मैंने उन्हें अपनी बांहों में ले लिया।

अब आगे चाची की चूत चुदाई का मजा:

मैंने तुरंत चाची को बिस्तर पर पटक दिया. चाची उठने की कोशिश करने लगीं लेकिन मैंने चाची को उठने नहीं दिया.

अब मैंने तुरंत अपने कपड़े उतार दिए और चाची के ऊपर चढ़ गया और उनके गुलाबी होंठों को चूसने लगा.

आह! चाची के होंठ बहुत खूबसूरत थे… आह!

मैं भूखे कुत्ते की तरह तेजी से चाची के होंठों को चूस रहा था.
चाची अभी भी नाटक करने की कोशिश कर रही थीं. मैं चाची के होंठों को जी भर कर चूस रहा था.

अब मैंने चाची की गोरी चिकनी गर्दन पर धावा बोल दिया और उन्हें जोरों से चूमने लगा.
चाची की गर्दन पर किस करने का अलग ही मजा था.

फिर चाची ने नाटक करना बंद कर दिया और मुझे कसकर गले लगा लिया.
अब मैं चाची की गर्दन पर अच्छे से किस करने लगा.

फिर थोड़ी ही देर में मैंने चाची की गर्दन पर कई चुम्बन दे दिये.
अब मैंने तुरंत चाची का ब्लाउज उतार दिया और ब्रा एक तरफ रख दी.

मैं चाची की नंगी चुचियों को कसने लगा.
चाची अब अपने होंठों को होंठों पर दबा कर कराहने लगीं- ऊह आह आह ऊऊह!

मैं झमाझम चाची के मम्मे दबा रहा था.
आह! Big Boobs दबाने का मजा ही कुछ अलग है.
मैं चाची की चुचियों पर बुरी तरह टूट पड़ा था.

चाची को बहुत दर्द होने लगा- ऊह आह ओह आई ईई ऊह आह आह ओह रमन धीरे दबाओ!
मैं- चाची, आज कुछ मत बोलो, बस मुझे दबाने दो।

चाची के बड़े-बड़े मम्मे बड़ी मुश्किल से मेरे हाथों में आ रहे थे।
मुझे चूचे दबाने में असीम आनंद मिल रहा था.

चाची- आह आह आहा आईईई ओह आह उन्ह ओह दर्द हो रहा है यार!
मैं- ओह चाची… बहुत मजा आ रहा है. आह, आप कितने अद्भुत हैं!
चाची कसमसा रही थी.

कुछ ही देर में मैंने चाची के चूचों को मसल-मसल कर लाल कर दिया.
अब मैंने चाची के मम्मों को मुँह में दबाया और चूसने लगा.

आह! आज जिन्दगी में पहली बार मैंने स्तन चूसे।
स्तनों का स्वाद अद्भुत है…बहुत अद्भुत!
अब मैं भूखे कुत्ते की तरह चाची के मम्मों को चूसने लगा.

चाची अब मेरी हो चुकी थी, मैं चाची के स्तन अच्छे से चूस रहा था।
बीच-बीच में मैं चाची के मम्मों को काट भी रहा था. मुझे बहुत ज्यादा मजा आ रहा था.

मैं- ओह चाची … आह मजा आ गया.

कुछ ही देर में चाची की दोनों चुचियां गीली हो गयी थीं.
मैं बुरी तरह से चाची के मम्मों को दबाना चाहता था, आज मैं अपनी सालों की कमी पूरी करना चाहता था।
मैंने काफी देर तक चाची की चुचियों का मजा लिया.

अब मैं चाची के मखमली पेट को चूमने लगा.
आह! क्या मस्त पेट था चाची का… बिल्कुल मक्खन जैसा। मैं पागल होने लगा था. मैं पागलों की तरह चाची के पेट को चूम रहा था.

अब मेरा लंड चाची की चूत में घुसने के लिए तड़प रहा था.
मैं चाची का पेटीकोट खोलने लगा तो चाची ने उसका नाड़ा पकड़ लिया.

चाची- नहीं रमन, आगे कुछ मत करना!
में : चाची, अब मुझसे रुका नहीं जाता.

फिर मैंने चाची को झटका देकर उनका नाड़ा खोल दिया और चाची का पेटीकोट उतार फेंक दिया.
अब चाची ने अपनी आंखें बंद कर लीं.

चाची का पेटीकोट हवा में उड़ गया था.
मैंने तुरंत चाची की पैंटी उतार कर फेंक दी.

चाची की नंगी Tight Chut देख कर मैं पागल हो गया.
आज जिन्दगी में पहली बार मैंने कोई चूत देखी।

चाची की चूत पर हल्के हल्के बाल उगे हुए थे; चूत की दोनों फांकें साफ दिख रही थीं.

मैंने बिना समय बर्बाद किए अपना अंडरवियर उतार दिया, अपने लंड को नंगा कर दिया और तुरंत चाची की टांगें मोड़ दीं.

अब मैंने अपना लंड चाची की चूत के छेद पर रखा और जोर से धक्का दिया.
एक ही झटके में मेरा मोटा मजबूत लंड चाची की चूत के होंठों को भेदता हुआ सीधा उनकी चूत के अंदर चला गया.

मेरे लंड के एक ही झटके में चाची चिल्ला उठीं- आह ईई ईई ईई ईह आआई ईई!

फिर मैंने चाची की चूत पर दोबारा हमला कर दिया और चाची बुरी तरह चिल्लाने लगीं- आईईईई आईईईई मर गई. आह आह ओह… रमन ऐसा मत करो यार… मैं मर जाऊंगी.
लेकिन मैंने चाची की एक न सुनी और जोर जोर से अपना लंड चाची की चूत में डालने लगा.

चाची बुरी तरह चिल्ला रही थीं- ईई ईई ईई ईई ओह आह… आहईई ईईई मत करो आह आआ आह!
मेरे लंड का हर शॉट चाची की चूत पर जोरदार प्रहार कर रहा था.

चाची को चोदने में मुझे बहुत मजा आ रहा था.
आज जिंदगी में पहली बार मेरा लंड चूत का स्वाद चख रहा था.
आज मुझे अच्छी तरह पता चल रहा था कि चूत चोदने का मजा क्या होता है.

मेरा लंड चाची की चूत को फाड़ रहा था.
मैं चाची की चूत में कस कस कर अपना लंड पेल रहा था.

चाची- ईई ईई ईई ईई… ऊह आह आह ओह आह आह!
मैं: ओह चाची, बहुत मजा आ रहा है. आह आह आह आज मैं तुम्हें बुरी तरह चोदूंगा. मेरा लंड कई सालों से प्यासा है.

चाची- उन्ह आह आह… आईईई आह ओह… धीरे चोदो यार… मेरी जान निकल रही है.
में : चाची बस आज कुछ मत बोलो, बस मुझे चोदने दो।

मेरा लंड पूरी रफ़्तार से चाची की चूत में अंदर-बाहर हो रहा था।
चाची पसीने से भीग गयी थीं.

मैं अपनी गांड हिला कर चाची की चूत में अपना लंड डाल रहा था.
चाची- आह आह आह… आह आह आईईई आह ओह!

मैं- ओह चाची आज तो मजा आ गया… आह!

मेरा लंड चाची की चूत के टाइट छेद को चौड़ा कर रहा था. मेरे लंड के हर शॉट के साथ चाची की चुचियां बुरी तरह हिल रही थीं.

कुछ देर की घमासान लड़ाई के बाद चाची बहक गईं और चाची की चूत से गर्म वीर्य बहने लगा.
मेरा लंड चाची की चूत के रस से भीग गया.
ये देख कर मुझे बहुत ख़ुशी हुई.

अब मेरे लंड के हर शॉट के साथ कमरे में पच-पच की आवाज गूंजने लगी.
चाची अब थक चुकी थीं.
मैं फुल स्पीड से चाची को पेल रहा था.

आज मुझे स्वर्ग मिल गया था.
चाची को चोदना मेरे लिए बड़े सौभाग्य की बात थी.

चाची- ऊह आह आह ओह आह ओह ओह ओह रमन!
मैं- ओह मेरी चाची, तुम तो कमाल हो… आह!

मैं चाची को सहलाने जा रहा था.
आज मैं अपने लंड की प्यास अच्छे से बुझाना चाहता था.

चाची अच्छे से चुद रही थीं.
तभी चाची को फिर से उत्तेजना हुई.

अब मैंने कुछ देर और चाची की चूत में अपना लंड डाला, फिर मैंने चाची की चूत पर अपना मुँह रख दिया.

चाची की चूत से अभी भी रस बह रहा था.
अब मैं चाची की चूत का रस पीने लगा.

आह! क्या मस्त नमकीन रस था! आह… मजा आ गया दोस्तों.
चाची की Chut Chudai में मुझे बहुत मजा आ रहा था.

चाची को नशा होने लगा था, वो बुरी तरह से कराह रही थी- उनहह उनहह अह्ह्ह ओह्ह्ह उनाह्ह ओह्ह ओह्ह अह्ह्ह!
चूत चटवाने से चाची बुरी तरह काँप रही थीं, बार-बार अपनी गांड इधर-उधर कर रही थीं।

मैं चाची की टांगों को पकड़ कर उनकी चूत को अच्छे से चाट रहा था.
चाची की चूत का रस चाटने में मुझे बहुत मजा आ रहा था.
आज जिंदगी में पहली बार मुझे इतना मजा आ रहा था.

चाची- ओह आह… आह ओह ओह ओह!
मैंने काफी देर तक चाची की चूत चाटी.

अब मैंने चाची की चूत में अपनी उंगलियां डाल दीं और तेजी से उनकी चूत को सहलाने लगा.
मेरी उंगलियों के वार से चाची बुरी तरह से हिल गईं, वो छटपटाने लगीं- आईईईईईईई ओह आह आह आह!

मैं: ओह चाची, बहुत मजा आ रहा है! ओह! ओह!
चाची: ओह रमन, धीरे धीरे करो! अहा अहा … इससे बहुत दर्द होता है ।
मैं: चाची आज मैं नहीं रुकूंगा. (चाची की चूत चुदाई)

मैं तेजी से चाची की चूत को सहला रहा था.
चाची बहुत बुरी तरह कराह रही थी. वह बार-बार बिस्तर की चादर को अपनी मुट्ठियों में कस रही थी।
उनकी हालत बहुत खराब हो रही थी.

मैं- ओह चाची बहुत मजा आ रहा है… आह आह!
चाची- ओह अहाहाहा… आईईईई… मैं मर जाऊंगी.

तभी चाची की चूत से गर्म लावा का झरना बहने लगा.
चाची को बहुत पसीना आ रहा था.
मैं अभी भी चाची की चूत में अपनी उंगलियाँ डाल रहा था।

फिर मैंने चाची की चूत का सारा रस पी लिया.

अब मैंने फिर से चाची के पैरों को मोड़ा और अपना लंड चाची की चूत में रख दिया.
मैंने फिर से एक जोरदार धक्का लगाया और अपना लंड चाची की चूत में पेल दिया.

आज मेरा लंड चाची की चूत की चटनी बनाना चाहता था.

फिर काफी देर की चुदाई के बाद मेरे लंड से वीर्य निकलने वाला था.

मैंने चाची को पकड़ लिया और उनकी चूत को अपने लंड के माल से भर दिया.
मुझे बहुत पसीना आ रहा था. (चाची की चूत चुदाई)

फिर कुछ देर बाद मैंने फिर से चाची के होंठों को चूसना शुरू कर दिया.
कमरे में फिर से पुच पुच आउच पुच पुच पुच की आवाजें गूंजने लगीं.
मैं चाची के होंठों को पूरे जोश से चूस रहा था.

फिर कुछ देर तक चाची के होंठो को चूसने के बाद में चाची के बूब्स पर टूट पड़ा, अब में चाची के बूब्स को चूसने लगा.
अब चाची चुपचाप अपने मम्मे चुसवा रही थी.

मुझे चाची के स्तन चूसने में बहुत मजा आ रहा था- ओह चाची, आपके स्तन बहुत अच्छे हैं।
चाची- अच्छा!
मैं: हाँ चाची!

चाची के मम्मे चूसने में मुझे अलग ही आनंद मिल रहा था.

अब मैं वापस चाची की चूत पर आ गया और चाची की टांगें फिर से फैला दीं। अब मैं फिर से चाची की मस्त चूत को चाटने लगा.

धीरे धीरे मेरा लंड फिर से खड़ा होने लगा.
चाची की चूत की खुशबू से मैं पागल हो रहा था.
मैं जोर जोर से चाची की चूत चाट रहा था. (चाची की चूत चुदाई)

चाची- ऊह आह ओह आह आह ऊह ओह रमन अब ऐसा मत करो यार!
लेकिन आज मैं कहाँ रुकने वाला था… मैं तो चाची की चूत का दीवाना हो गया था।
चाची- ऊह आह आह ओह आह!

अब मैंने चाची को पलटा दिया और उनके ऊपर चढ़ गया.
मैं चाची की पतली पीठ को चूमने लगा. मुझे चाची की चिकनी पीठ चूमने में बहुत मजा आ रहा था.

थोड़ी ही देर में मैंने चाची की पीठ को चूम कर गीला कर दिया.

अब मैं सीधे चाची की Moti Gand पर आ गया और उनकी सेक्सी गांड को चूमने लगा.

चाची के चूतड़ बहुत मज़ेदार थे, मैं चाची के चूतड़ खा रहा था। चाची गांड को इधर उधर हिलाने की कोशिश कर रही थी लेकिन मैंने चाची की गांड को अच्छे से दबाये रखा. (चाची की चूत चुदाई)

फिर मैंने चाची की गांड को बहुत देर तक चूमा.

अब मैंने चाची की गांड के छेद में अपनी उंगली डाली तो बड़ी मुश्किल से मेरी उंगली चाची की गांड में घुस सकी. तभी चाची ने तुरंत मेरी उंगली गांड से बाहर निकाल दी- रमन, इसमें कुछ मत करो.

मैं: चाची, मुझे उंगली करने दो। चाची- नहीं, बिल्कुल नहीं.
वो मुझे कुछ गुस्से में लग रही थी. मैंने सोचा कि ये तो बस शुरुआत है, चाची जो दे रही है वही काफी है. मैं उनकी गांड फिर कभी चोदूंगा.

सस्ते रेट में सेक्सी एस्कॉर्ट्स बुक करें

फिर मैंने चाची को घुमाया और उनकी टांगें फिर से मोड़ दीं.
अब मैंने फिर से चाची की चूत में लंड पेल कर चाची को चोदना शुरू कर दिया.
चाची- ऊह आह… आह आईईईई आईईईई ऊह!

तभी मेन गेट बजा और मेरी डर से गांड फट गयी. (चाची की चूत चुदाई)
मेरा गरम लंड तुरंत ठंडा हो गया.

चाची ने झट से मुझे धक्का दिया और दूर हटा दिया.

अब हम दोनों ने जल्दी से कपड़े पहने और सीधे हो गए।
मुझे नहीं पता क्या हुआ.
मेरे लंड की प्यास अभी भी नहीं बुझी थी.

चाची दरवाज़ा खोलने गईं.
देखा तो बच्चे बाहर खड़े थे।

मैंने अपना लंड पजामे में डाला और चुपचाप बैठ गया.

अब मैं बच्चों के घर से बाहर जाने का इंतज़ार करने लगा. कुछ देर बाद बच्चे खेलने के लिए घर से बाहर चले गए। (चाची की चूत चुदाई)

अब मैंने तुरंत मेन गेट बंद कर दिया और चाची को बिस्तर पर खींचने लगा.
चाची चोदने में बहुत ज्यादा नखरे करने लगीं लेकिन मैं नहीं माना.
मैंने तुरंत चाची को बिस्तर पर पटक दिया और जल्दी से चाची की पैंटी खोल दी.

अब मैंने तुरंत अपना पायजामा और अंडरवियर खोला और चाची की चूत में लंड डाल दिया.

चाची- आह आह आह आह आह आह आह आह आह आह आह आह आह आह आह आह आह आह आह आह आह आह
मैं: हाँ चाची,
चाची- आह आह आईईईई ओह ऊह आईईई. रमन, अब इसे बाहर निकालो.

मैं चाची को चोदने में बहुत रिस्क ले रहा था. (चाची की चूत चुदाई)
इसलिए मैंने मौके की नजाकत को समझते हुए लंड का माल चाची की चूत में भर दिया.

चाची की चूत चुदाई का मजा लेने के बाद अब मेरे लंड की प्यास बुझ गई थी.

फिर चाची ने पैंटी पहन ली और मैंने अपने कपड़े पहन लिये.
आज पहली बार मेरे लंड ने चूत का स्वाद चखा था.
मैं चाची को चोद कर बहुत खुश था.

चाची- तू तो बड़ा चालू निकला, मैं तुझे समझा रही थी और तूने ही पेल दिया.
मैं- चाची, मुझे आपसे अच्छा माल नहीं मिलता इसलिए मैंने आपको चोद दिया.
चाची- ठीक है! तुमने बहुत पेला… मेरी हालत खराब कर दी.

मैं- चाची, अब मैं आपको रोज ऐसे ही चोदता रहूँगा! (चाची की चूत चुदाई)
चाची- नहीं यार, आज बहुत हो गया. आगे नहीं… मैं बार-बार गलती नहीं करुँगी।
मैं- चाची आपने कोई गलती नहीं की है. चाची- नहीं रमन, जो हुआ वो बहुत हो गया.

मैं चाची को आगे भी चोदने के लिए मना रहा था लेकिन चाची नहीं मान रही थीं.
फिर मैं चाची को समझा कर घर आ गया.

आपको मेरी चाची की चूत चुदाई स्टोरी कैसी लगी, मुझे मेल करके जरूर बताएं.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Lucknow Call Girls

This will close in 0 seconds