हॉट भाभी की अन्तर्वासना की कहानी

हॉट भाभी की अन्तर्वासना की कहानी

हॉट स्कूल टीचर सेक्स स्टोरी एक ऐसी महिला की है जो अपने पति से दूर रहती है। एक दिन जब उसे एक पड़ोसी लड़के का साथ मिला तो वह अपने जुनून को दबा नहीं पाई।

अंतर्वसन के सभी पाठकों को मेरी हार्दिक बधाई।

वैसे अपनी व्यस्तता के कारण मुझे इतना समय नहीं मिलता कि मैं अपनी व्यथा और कहानी किसी को बता सकूं।
लेकिन लॉकडाउन के कारण घर में बोर होने के कारण मैं धीरे-धीरे मोबाइल में नेट चलाने लगा।

इसी कड़ी में वह भाभी की अन्तर्वासना अंतरवासन की वाचक कब बनी, पता ही नहीं चला।
धीरे-धीरे मुझे इसकी कहानियाँ पसंद आने लगीं और मैं इसका नियमित पाठक बन गया।

कुछ कहानियां किसी की अपनी होती हैं तो कुछ और की। कुछ सच हैं और कुछ झूठे।

फिर भी अधिकांश कहानियाँ रोचक और मनोरंजक हैं।
कुछ अपनी मर्जी के किस्से हैं तो कुछ मजबूरी के किस्से।

वैसे तो हर किसी की जिंदगी में कुछ न कुछ ऊंच-नीच जरूर होता है।
कुछ लोग बताते हैं, कुछ छुपाते हैं।

मेरा जीवन भी उतार-चढ़ाव से भरा रहा है।
ऐसे में मैं आपको अपने जीवन की वास्तविक घटना से परिचित कराना चाहती हूं।
यह एक स्कूल टीचर की सेक्स स्टोरी है।

वैसे मैं एक मध्यमवर्गीय परिवार से ताल्लुक रखती हूं।
मेरे पिता किसान हैं और गांव में रहते हैं।

मैं मानस नगर के एक छोटे से गाँव की 35 वर्षीय विवाहित महिला हूँ।

मेरा नाम Sana Khan है। मेरा रंग गोरा है और फिगर 34-32-34 है।
मैं दिखने में बहुत आकर्षक और सेक्सी हूं।
मेरी भूरी आँखें, उभरे हुए बड़े स्तन और पूरा शरीर किसी को भी आकर्षित करने के लिए काफी हैं।
लेकिन काम में व्यस्त होने के कारण कुछ सोचने या करने का समय नहीं मिल पाता है।

मैं पेशे से शिक्षिका हूं, पति बाहर काम करता है। मैं भी दो बच्चों की मां हूं।
मेरी माँ भी घर में है।
इन सभी जिम्मेदारियों को निभाते हुए समय कब बीत जाता है पता ही नहीं चलता।

लेकिन एकांत में मन में अजीब सी बेचैनी होती है।
रात को बच्चों के सो जाने के बाद ऐसा लगता है जैसे कोई सांप बिस्तर पर लुढ़क रहा हो।
यहां कहानी पढ़कर शरीर के कुछ हिस्सों में जो बेचैनी महसूस हुई, उसे शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता।

धीरे-धीरे मेरा मन बेचैन होने लगा।
शरीर की इच्छा बढ़ने लगी, मन बहुत उदास और बेचैन हो गया।

उत्तेजना के कारण शरीर के निचले हिस्से में कुल बुलाहट होती है, सांस फूलने लगती है, शरीर में दर्द दूर होने लगता है।
ऐसा लगता है जैसे कोई आकर मेरे शरीर को रगड़ रहा हो।

लेकिन ऊपर वाले ने कहां सबकी किस्मत एक जैसी लिखी है।
वैसे तो इस जमाने में शरीर के बहुत से भूखे होते हैं, सिर्फ एक इशारे से ही तैयार हो सकते हैं।

लेकिन डर समाज और सम्मान का है।
किस पर विश्वास करें?

अचानक एक दिन ऐसी घटना घटी जिसने मेरी जिंदगी बदल दी।

एक दिन रात के नौ बजे अचानक मेरी तबीयत बिगड़ गई।
मुझे उल्टी, चक्कर आना और शरीर में ऐंठन होने लगी। ऐसा लगा कि मैं खड़ी भी नहीं हो सकती।

मैंने घर पर दवाई लेने और आराम करने के बारे में सोचा लेकिन बेचैनी और चक्कर ने मुझे परेशान कर दिया था।

मां की जिद के कारण मुझे डॉक्टर के पास जाना पड़ा।

चूंकि मेरे घर में और कोई नहीं था, इसलिए मुझे मोहल्ले के एक लड़के विवेक की मदद लेनी पड़ी।

गांव से शहर 10 किमी और ऊबड़-खाबड़ कच्ची सड़क होने के कारण मैं अपनी बाइक पर इतनी देर तक अकेले नहीं बैठ सकता था।
तो विवेक ने मुझे अपनी मोटरसाइकिल पर बिठाया और एक लड़के विवेक   ने मुझे पीछे से पकड़ लिया और हम शहर के लिए निकल पड़े।

उबड़-खाबड़ रास्तों में हिचकिचाते हुए बाइक आगे बढ़ने लगी।

आधे घंटे में मैं सरकारी क्लिनिक में थी।
वहां की महिला डॉक्टर ने मुझे ग्लूकोज की बोतल दी और दवा देकर आराम करने को कहा।

घर पर कोई नहीं था और बच्चे अकेले थे, मैंने डॉक्टर को घर जाने के लिए कहा।
रात 1:30 बजे घर जाने की जिद देखकर डॉक्टर ने हामी भर दी।

मैं फिर से विवेक के साथ मोटरसाइकिल पर बैठ गयी।
विवेक फिर मुझे पीछे से पकड़ कर बैठ गया। हम घर के लिए निकल पड़े। रास्ते में मुझे लगा कि विवेक   मेरी कमर के पास मेरे शरीर के पिछले हिस्से पर चुभ रहा है। मुझे एहसास हुआ कि यह उसका लिंग था जो मेरे स्पर्श के कारण खड़ा हो गया था।
धीरे-धीरे विवेक  का लंड बहुत सख्त हो गया और मेरे चूतड़ चुभने लगे।

मैंने पुकारा- विवेक  !
यह सुनकर वह डर गया और शरीर को सिकोड़ने लगा।

पहले से ही कुछ आराम के कारण मेरा दिमाग कुछ ठीक था।

वैसे विवेक मेरा पढ़ाया हुआ लड़का था। अभी कुछ साल पहले ही उसने मेरे स्कूल से 8वीं पास की थी और पड़ोस के स्कूल में गया था। 19 साल की उम्र में वह 12वीं का छात्र था।

मेरे पास उसके खिलाफ कुछ भी नहीं था।
लेकिन समय की जरूरत और उम्र के दोष के कारण वह क्या सोच रहा है।

उबड़-खाबड़ सड़क के कारण उसका लिंग बार-बार मेरे चूतड़ की दरारों में घिस रहा था।
मुझे पकड़े हुए उसके हाथ मेरे निप्पलों पर रगड़ रहे थे।

इस सब की वजह से मेरे दिल में भी कामुकता बढ़ने लगी। मेरी सांसें तेज होने लगीं।
मैं जानबूझ कर पीछे खिसकी और उसके उभरे हुए लंड को अपने चूतड़ों से दबाने लगा; वह हंसते हुए उसके निप्पल को छूने लगा।

लेकिन मैंने इस बात का भी ख्याल रखा कि विवेक को इसके बारे में पता न चले।

तब तक मैं घर आ गया हूं।
रात के 2 बजे होंगे।

विवेक मुझे छोड़कर घर जाने लगे।
लेकिन मैंने विवेक को उसके घर पर रोकने का एक उपाय सोचा।
मैंने उसे अपनी बीमारी का हवाला देकर रोका।

माँ पीछे के कमरे में जाग रही थी और मेरे दो बच्चे मेरे आने का इंतज़ार कर रहे थे जबकि बच्चे सो रहे थे।
मैंने माँ को बच्चों के साथ सोने के लिए कहा और विवेक को बाहरी कोठरी में भेज दिया।
मैं खुद बीच वाले कमरे में सोने चली गयी।

मैं कहाँ बिस्तर पर सो रहा था, मेरे ख्यालों में विवेक का लंड घूम रहा था।

आधे घंटे के बाद मुझे एहसास हुआ कि मेरी माँ सो रही है।

मैं विवेक के कमरे में गयी।
तो मेरे आने की आवाज सुनते ही वह उठकर मेरी तबीयत पूछ बैठा।
मैं उसके बिस्तर पर बैठ गयी और रास्ता पूछा।
विवेक डर गया और मेरे पैर पकड़ लिए।

मैंने उसके सिर पर हाथ रखा और कहा - डरने की कोई बात नहीं है। इस उम्र में ऐसा होता है।
मैंने उससे कहा- मुझसे एक बात पूछो... सही बताओ?
तो उसने हाँ में सिर हिलाया।

मैंने पूछा- क्या तुमने कभी सेक्स किया है?
उन्होंने सिर हिलाया।

मैंने पूछा- तो मोटरसाइकिल पर बैठकर तुम्हारा लंड मेरी पीठ को क्यों छू रहा था? देखो कितना बड़ा है!
यह कहकर मैंने उसके पजामे में हाथ डाल दिया।

जैसे ही उसने मेरे हाथ का स्पर्श किया, उसका लंड खड़ा हो गया।
यह करीब 6 इंच लंबा और 2 इंच मोटा होगा।

मैंने उससे पूछा कि क्या उसने कभी किसी लड़की के साथ इसका इस्तेमाल किया है।
तो उसने कहा नहीं लेकिन वह ब्लू फिल्म देखकर हंसता है।

दूसरी ओर उसका खड़ा लंड देखकर मेरी चूत काँपने लगी।

मुझे उसके चेहरे पर अलग-अलग भाव भी महसूस हुए।
मैं उसके मुँह से बहुत तेज़ी से निकलने वाली गर्म साँस को महसूस कर सकता था।

मेरा दिल उसके लिए वासना से भर गया। मेरे शरीर में आग लग गई थी।

मैंने सोचा शायद यही सही समय है, मैंने उसका लंड अपने पजामे से निकाला और दुलार करता रहा.
अपना चेहरा पास लाकर पिल्ला को ले जाते हुए कहा- आज मैं तुम्हें एक ब्लू फिल्म प्रैक्टिकल बनाऊंगा।

झट से वह तैयार हो गया।
मैं उसके होठों को चूमने लगा, वो भी धीरे-धीरे साथ देने लगा।

हम दोनों कस कर एक दूसरे को किस करते रहे।

उसने मेरे निप्पलों पर हाथ रखा और सहलाने लगा।
मुझे भी मजा आने लगा।

मैंने झट से उसका पजामा उतार दिया और उसे नंगा कर दिया।
उसने मेरा ब्लाउज और साड़ी भी खोलकर मुझे छाया और ब्रा में डाल दिया।
मैंने खुद अपनी परछाई खोली ताकि वह मेरी काया को देख सके।
मेरी गोरी और गोरी जाँघों को देखकर वह पागलों की तरह उससे लिपट गया और उन्हें चूम कर चाटने लगा।

मैंने उसका सिर पकड़ा और अपनी चूत के पास रख दिया।
वह उसके ऊपर मेरी पैटी के साथ खेलने लगा।

मैं उसके बगल में बिस्तर पर लेट गया और उसने धीरे से मेरी ब्रा और पैंटी खोली और मुझे नंगा कर दिया।
उसने मेरे बड़े दूधिया सफेद निपल्स को सहलाना, चूसना और खेलना शुरू कर दिया।

महीनों बाद मुझे लगा जैसे जन्नत का सुख मिल गया हो।

एक तरफ तो अपनी आधी उम्र के पढ़े-लिखे लड़के के साथ ऐसा करने का अपराध बोध भी था।
लेकिन वासना लोगों को अंधा कर देती है।

मैंने उसका लंड पकड़ा और अपनी चूत पर रखकर सहलाने लगी

इसके पहले स्पर्श से ही मेरी चूत गीली हो गई थी।
अब वह जी रहा था कि उसका लंड जल्दी से मेरी चूत के अंदर घुस जाए और उसमें आने वाले तूफान को शांत कर दे।

उसने मेरी भावनाओं को समझा।
उसने अपना लंड मेरी चूत पर रखकर धीरे से धक्का दिया।

चूत गीली होने के कारण उसका आधा से अधिक लंड अंदर चला गया।

कई महीनों के बाद लंड मिलने के कारण उसका लंड मेरी चूत में टाइट हो रहा था।

उसने एक और धक्का दिया, जिससे उसका पूरा लंड मेरी चूत में समा गया।
मीठे दर्द के साथ-साथ बहुत सुख भी मिल रहा था।

नए जमाने और अनुभव की कमी के कारण वे पीठ थपथपाते रहे और जोर-जोर से धक्का देते रहे।
जब उसका बड़ा लंड मेरी चूत की दीवारों से टकराता हुआ अंदर गया तो ऐसा लगा मानो उसे स्वर्ग का सुख मिल गया हो।

लेकिन वह जल्द ही मेरी गर्म योनि में गिर गया, शायद पहली बार सेक्स करने के उत्साह के कारण।
लेकिन मैं फिर भी संतुष्ट नहीं हुईं।
मैंने उसके बालों को सहलाया, उसके होठों को चाटा।

उसका लंड फिर खड़ा हो गया।
वह फिर मेरे पास आया और जोर-जोर से चोदने लगा।

इस बार उसने मुझे आधे घंटे तक चोदा। इतने लंबे समय में मैंने दो बार बारिश की।

अब इच्छा की पूर्ति के बाद, मैं उठी और दूर हो गयी और मेरा मन अपराध बोध से भर गया।
बाथरूम में जाकर मैंने वीर्य से भरी अपनी चूत को साफ किया।

महीनों बाद जोरदार सेक्स के कारण मेरी चूत का ऊपरी हिस्सा छिल गया।

मैं अपने कमरे में आया और बिस्तर पर लेट गयी।
लेकिन मेरा मन एक अजीब अपराधबोध से भर गया। मुझे लगा कि मैंने एक साथ कई अपराध किए हैं।
जैसे अपने पति को धोखा दिया...अपनी छात्रा के साथ यौन संबंध बनाए...अपने से बहुत छोटे लड़के के साथ यौन संबंध बनाए।

तुम क्या सोचते हो?
क्या मैं दोषी हूँ? पर अपने विचार बताएं
मेल पर और टिप्पणियों में गर्म स्कूल शिक्षक सेक्स कहानी[email protected]

Lucknow Call Girls

This will close in 0 seconds