सील पैक बहन की ताबड़तोड़ चुदाई – वर्जिन सिस्टर चुदाई कहानी

सील पैक बहन की ताबड़तोड़ चुदाई – वर्जिन सिस्टर चुदाई कहानी

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “सील पैक बहन की ताबड़तोड़ चुदाई – वर्जिन सिस्टर चुदाई कहानी ”। यह कहानी देव की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

वर्जिन सिस्टर चुदाई कहानी मेरी बहन की चुदाई के बारे में है. वो बहुत सेक्सी लड़की है, मैं उसे वासना की नजर से देखता था. उसने भी मेरी नज़र पहचान ली. कैसे आगे बढ़ी बात?

दोस्तो, मेरा नाम देव है मैंने सोचा कि क्यों न मैं भी आपको एक सेक्स कहानी के माध्यम से बताऊं कि कुछ समय पहले मेरे साथ क्या हुआ था.

वह यह कि लॉकडाउन खत्म होने के बाद भी बीमारी का डर बना हुआ था।

पहले मैं आपको अपने बारे में बता दूं.
मैं मध्य प्रदेश के एक गांव का रहने वाला हूं. मेरा लिंग 7 इंच लम्बा है.

मेरे घर में 5 सदस्य हैं. माँ, पापा और हम तीन भाई-बहन।
मैं सबसे बड़ा था, फिर मेरी बहन प्रीति, फिर मेरा छोटा भाई।

मेरी बहन Preeti बहुत सेक्सी है. उसके कसे हुए और तने हुए स्तन और मोटे नितंब हैं। उसका फिगर 34-30-36 है.

मैं हमेशा ही उसे वासना भरी नजरों से देखता रहता था.
शायद वो भी मेरा नजरिया समझ गयी थी लेकिन हमारे बीच भाई-बहन का रिश्ता होने के कारण कोई बात नहीं बन पाई.

यह वर्जिन सिस्टर चुदाई कहानी इसी बहन के बारे में है.

हमारा नोएडा में एक घर है और मेरे ताऊ जी का भी।
मैं वहीं रहकर पढ़ाई कर रहा हूं.’

जनवरी में नोएडा में सभी कॉलेज और स्कूल बंद थे, इसलिए मुझे घर आना पड़ा।
ताऊ जी और उनका परिवार भी मेरे साथ गाँव लौट आये।

फिर फरवरी में मेरा कॉलेज खुल गया तो मुझे वापस नोएडा आना पड़ा।

मैंने ताऊ जी से कहा- मेरा कॉलेज खुल गया है.. आप लोग कब निकलेंगे?
उन्होंने कहा- मैं अब नहीं जाऊंगा. तुम्हें जाना है तो जाओ.

फिर मैंने मम्मी से कहा- ताऊ जी नहीं जा रहे हैं. मैं अकेले जा रहा हूँ।
माँ ने कहा- अगर तुम्हें खाना बनाना भी नहीं आता तो तुम वहाँ अकेले कैसे रहोगे और बाहर का खाना खाना ठीक नहीं है।

तभी मेरी बहन प्रीति बोली- मैं भाई के साथ जाऊंगी. मैं वहीं से अपनी क्लास ज्वाइन कर लूंगी. यहां भी ऑनलाइन लेती हूं, वहां से भी ले लूंगी। फिर माँ बोली- ठीक है. (वर्जिन सिस्टर चुदाई कहानी)

जैसे ही मैंने प्रीति के साथ जाने की बात सुनी तो मेरी आँखें चमक उठीं कि अब मुझे नोएडा में प्रीति की जवानी का स्वाद चखने का मौका मिलेगा।

जब मैंने उसकी तरफ देखा तो वो मेरी तरफ देखकर धीरे से मुस्कुरा दी. मैं यह समझने की कोशिश करता रहा कि उसकी मुस्कुराहट का क्या मतलब हो सकता है।

फिर हम दोनों अपने घर नोएडा चले गये.

हम घर पहुंचे.
वहां पहुंचते ही सबसे पहले हमने घर फोन किया कि हम पहुंच गये हैं.

इसके बाद हमने चाय बनाई, पी और आराम करने लगे.
शाम को प्रीति ने खाना बनाया और हम दोनों खाना खाकर सो गये.

घर में सिर्फ हम दोनों अकेले थे और मेरा प्रीति की Chut Chudai करने का बहुत मन कर रहा था.
मैंने अपना हाथ प्रीति के बड़े नितंबों पर रख दिया और उसकी गर्म गांड को महसूस करने लगा.

मेरी आंखें बंद हो गईं और मैं उसे चोदने की कल्पना करने लगा.
इसी सोच-विचार में मुझे कब नींद आ गई, पता ही नहीं चला।

मैं सुबह जल्दी उठ गया और कॉलेज के लिए तैयार होने लगा.

प्रीति ने भी उठकर नाश्ता तैयार किया.

मुझे देर ना हो इसलिए मैंने जल्दी से नाश्ता किया और कॉलेज के लिए निकल गया.
दोपहर को जब मैं घर वापस आया तो प्रीति अपनी ऑनलाइन क्लास अटेंड कर रही थी.

मैंने उसे देखा और उसे परेशान किए बिना चुपचाप रसोई में आ गया।
उधर उसने प्लेट में खाना लेकर खाया और टीवी देखने लगा.

तब तक प्रीति की क्लास भी ख़त्म हो चुकी थी.
तो वो भी मेरे पास आकर बैठ गयी और फोन चलाने लगी.

तभी मेरे दिमाग में एक आइडिया आया और मैंने इंस्टाग्राम पर एक फेक अकाउंट बनाया और प्रीति की आईडी को फॉलो किया। उसने ध्यान ही नहीं दिया. (वर्जिन सिस्टर चुदाई कहानी)

अब मैंने उसका फोन मांगा.
उसने मुझे फ़ोन थमा दिया.

उसी वक्त मैंने अपने फोन से उसकी आईडी पर लंड और चूत की फोटो और पोर्न सेलेक्ट की और सेंड बटन दबा दिया.

फिर मैंने उसका फोन लिया और जानबूझ कर वो पोर्न वीडियो चला दी जिसमें लड़की चुदाई करवाते समय जोर जोर से चिल्ला रही थी. ‘उन्ह आह्ह चोदो मुझे आह्ह.’ की आवाज आने लगी.

आवाज सुनते ही प्रीति मेरी तरफ देखने लगी.

मैंने प्रीति की तरफ देखा और कहा- ये कौन है, जो तुम्हें ये सब भेज रहा है?
वह घबराकर बोली- मुझे नहीं पता भाई, मैं सच में नहीं जानती!

मैंने कहा- ठीक है, ब्लॉक कर दो और दोबारा आए तो मुझे बताना.
मैंने उसकी गैलरी में वह क्लिप डाउनलोड की और उसे फोन दे दिया।

तभी प्रीति को उसकी सहेली का फोन आया और वो दूसरे कमरे में बैठ कर उससे बात करने लगी.
जब उसने कॉल काट दी तो मैं कमरे में गया और देखा कि वो वही पोर्न क्लिप देखने लगी थी जो मैंने उसके फोन में सेव की थी.

मैं वहीं खड़ा होकर देखने लगा.
कुछ पल के लिए मैंने उससे पूछा, तुम क्या कर रही हो?
वो मुझे सामने देख कर अचानक घबरा गयी और खड़ी हो गयी.

वो बोली- भाई, वो रह गई थी इसलिए ऐसे देखने लगी, लेकिन घर पर किसी को मत बताना.
मैं उसके पास गया और उसे गले लगा लिया और उसकी Moti Gand को दबाने लगा।

वो बोली- भाई ये आप क्या कर रहे हैं… हम दोनों भाई-बहन हैं!
मैंने कहा- सबसे पहले तो हम दोनों एक लड़का और एक लड़की हैं. आपने कभी सेक्स किया हे?

उसने मना कर दिया।
मैंने उससे कहा- तो चलो आज सेक्स करते हैं. आपको भी इसका भरपूर मजा आएगा.

मैं उसे चूमने लगा.
पहले तो वो कुछ नहीं कर रही थी, फिर वो भी मेरा साथ देने लगी.

सबसे पहले मैंने उसका कुर्ता उतार दिया और उसकी ब्रा भी उतार दी. उसके नंगे Big Boobs देख कर मैं पागल हो गया. मैं वासना से उसकी तरफ देखने लगा. (वर्जिन सिस्टर चुदाई कहानी)

उसने भी मेरी आँखों में देखा और मेरी तरफ देखने लगी.

उसके स्तन मुझे चिढ़ा रहे थे.
मैं किसी छोटे बच्चे की तरह उसके स्तनों को दबाने और चूसने लगा।
वो बारी बारी से अपने दोनों स्तन मुझसे चुसवाने लगी.

मैंने उसके एक चूचे को अपने होंठों में दबाया और खींच कर छोड़ दिया.
फिर उसने नशीली आँखों से मेरी आँखों में देखा और आह भरी.

मैंने कहा- मजा आ रहा है?
वो मेरा सिर अपने मम्मों पर दबाते हुए कहने लगी- बहुत मजा आ रहा है भाई … और जोर से चूसो. तुम्हारा ये प्यार पाने के लिए मैं कब से तरस रही थी!

मैंने कहा- सच में?
वो मेरे मुँह में अपना बूब देते हुए बोली- हां सच में कल रात भी तुमने मेरी गांड दबा कर मजा लिया था ना … तभी मैं तुमसे चुदवाना चाहती थी.

अब हम दोनों पूरी बेधड़क होकर एक दूसरे के शरीर से खेलने लगे.
जवान भाई बहन का रिश्ता वासना की आग में जलने लगा.

अगले कुछ ही पलों में मैं उसे चोदने के लिए पूरी तरह से उत्तेजित हो गया.
अब मैंने अपना लंड बाहर निकाला और उसे चूसने को कहा.

पहले तो उसने मेरी तरफ देखा, फिर मुस्कुराई और मेरा लंड चूसने लगी. उसे मेरा लंड चूसने में मजा आने लगा और वो किसी प्रोफेशनल रंडी की तरह मेरा लंड चूस रही थी. (वर्जिन सिस्टर चुदाई कहानी)

उसे इस तरह लंड चूसते देख कर मुझे लगा कि मेरी बहन तो बहुत मस्त माल लगती है.
लेकिन मैंने कुछ नहीं कहा. उस वक्त मुझे सेक्स के अलावा कुछ भी नहीं सूझ रहा था.

फिर उसने लंड को लॉलीपॉप की तरह चूसा और बोली- भाई, अगर मैं सेक्स के बाद प्रेग्नेंट हो गयी तो?
मैंने कहा- चिंता मत करो. मैं अभी वो सारी व्यवस्था कर दूंगा.

मैंने तुरंत फ़ोन पर ऑनलाइन कंडोम ऑर्डर किया।
फोन पर दस मिनट में डिलीवरी दिख रही थी।

इस बीच मैंने उसकी चूत चाटी और उसे दो बार झड़ने पर मजबूर किया।

दस मिनट बाद दरवाज़े की घंटी बजी और मेरा फ़ोन भी बजा।
मैं समझ गया कि कंडोम आ गये हैं. मैंने अपने कपड़े पहने और बाहर जाकर कंडोम ले आया.

वापस आते ही मैंने अपने कपड़े उतार दिए और उसे फिर से अपना लंड चुसवाया.
वो किसी रंडी की तरह आवाज में बोली- अब लंड चूसते ही रहोगे या मेरी चूत में भी पेलोगे?

मैंने कंडोम का पैकेट खोला, एक पहना और उसे लिटा दिया।
वो उसके ऊपर चढ़ गया और धीरे-धीरे अपना लंड उसकी चूत में डालने लगा.

उसकी चूत सीलबंद थी और Tight Chut होने के कारण मेरा लंड फिसल रहा था.
मुझे ये देख कर बहुत ख़ुशी हुई कि मेरी बहन एक सील पैक थी.

फिर मैंने थोड़ा जोर से धक्का लगाया और लंड का सुपारा उसकी चूत में चला गया.
वह दर्द से चिल्लाने लगी.

मैंने उसके मुँह पर हाथ रखा और कहा- एक बार दर्द होगा.. सहन कर लेना।

उसकी आंखों में आंसू थे.
वो कराहते हुए बोली- प्लीज़ भैया, बाहर निकालो.. मुझे बहुत दर्द हो रहा है.

मैंने उसकी बात को अनसुना कर दिया और उसके ऊपर ही लेटा रहा. उसे चूमता रहा, उसके स्तनों को सहलाता रहा।
कुछ देर बाद वो शांत हो गई और अपनी गांड हिलाने लगी.

फिर मैंने नीचे हाथ डाला तो देखा कि उसकी चूत में खून लगा हुआ था. अब मैंने तय कर लिया था कि चूत तो फट ही गई है, देर करने से कोई फायदा नहीं होगा। (वर्जिन सिस्टर चुदाई कहानी)

मैंने उसे बिना बताए ही एक तेज झटका दे दिया.
इस बार वो और जोर से रोने लगी और मुझे अपने से दूर करने लगी.

मैं उठा नहीं और अपना लंड चूत में फंसा कर धीरे-धीरे हिलता रहा.
कुछ देर बाद लंड ने चूत में जगह बना ली थी. उसने भी फुसफुसाना बंद कर दिया था.

मैं उसे धीरे धीरे चोदने लगा.

कुछ पल बाद उसे भी मजा आने लगा.
मैंने लंबे-लंबे शॉट मारने शुरू कर दिए और उसने भी अपनी दोनों टांगें हवा में उठा लीं.
वो भी चुदाई का मजा लेने लगी.

कुछ मिनट की चुदाई के बाद चुत ढीली हो गई और साथ ही मेरा लंड भी मेरी बहन की चुत में ढीला पड़ गया.
कंडोम में वीर्य जमा हो गया था.

कुँवारी बहन की चुदाई के बाद वो मुस्कुरा रही थी.
मैंने उसे चूमा.

कुछ देर बाद फिर से चुदाई शुरू हो गई.
इस तरह हमने दो बार सेक्स किया और बिस्तर पर नंगे ही एक दूसरे से चिपक कर लेट गये.

हमने कपड़े भी नहीं पहने थे.

वह रात को उठकर बिना कपड़ों के खाना बनाने लगी तो उससे चला भी नहीं जा रहा था। मैंने उससे कहा- रहने दो, चलो आज बाहर से खाना मंगवाते हैं. (वर्जिन सिस्टर चुदाई कहानी)

फिर हमने खाना ऑर्डर किया और खाना खाने के बाद हॉल में बैठ कर टीवी देखने लगे.
वो मेरी गोद में लेटी हुई मेरे लंड को सहला रही थी और मैं उसकी चूत में उंगली कर रहा था.

फिर हम सो गये, फिर हमने एक बार फिर से सेक्स का मजा लिया.

अगली रात मैंने उसकी गांड भी मारी.
वो मैं आपको अगली सेक्स कहानी में बताऊंगा.

आपको हमारी वर्जिन सिस्टर चुदाई कहानी कैसी लगी? मुझे ईमेल करके बताएं.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Lucknow Call Girls

This will close in 0 seconds