फुटबॉल कोच ने किया मेरी गांड का उद्घाटन: टीचर के साथ गे सेक्स

फुटबॉल कोच ने किया मेरी गांड का उद्घाटन: टीचर के साथ गे सेक्स

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं गे सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “फुटबॉलकोच ने किया मेरी गांड का उद्घाटन: टीचर के साथ गे सेक्स”। मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

मैं तरुण, कानपुर शहर का रहने वाला हूं और आज मैं अपनी टीचर के साथ गे सेक्स कहानी लिख रहा हूं.

उस समय मैं दिखने में बहुत क्यूट था और रंग भी बहुत गोरा था. मेरी ऊंचाई और वजन आदि अच्छा था. मैं एक ऐसा लड़का था जिस पर अगर कोई लौंडा नज़र डाल दे तो उसका लंड तड़प कर रह जाता है.

मैं अपने स्कूल की फुटबॉल टीम का खिलाड़ी था, इसलिए स्कूल के बाद हमेशा पूरी टीम के साथ अभ्यास करता था।

हमारी टीम के कोच कपिल सर थे.. उनकी उम्र 25 या 26 साल रही होगी। वह दिखने में थोड़ा काला था.. लेकिन उसका शरीर मर्दाना था.. और चेहरे पर चमक थी। अगर साफ़ भाषा में कहूँ तो वो एकदम हॉट और सेक्सी था.

प्रैक्टिस के दौरान वह हमेशा मुझे छेड़ते रहते थे, जैसे मुझे चूमना, चींटी काटना, गोद में बिठाना आदि।
लेकिन मैं सोचता था कि उसने ये सब ऐसे ही किया है. (टीचर के साथ गे सेक्स)

उस समय मैं ‘गे’ या आदमी-से-आदमी सेक्स के बारे में कुछ नहीं जानता था।

एक शाम मैच प्रैक्टिस ख़त्म होने के बाद हम सब जाने लगे. मैं अपनी साइकिल के पास पहुंचा ही था कि पीछे से आवाज आई- तरुण, सुनो!

मैंने पीछे मुड़कर देखा तो वो कपिल सर थे.
उसने कहा- मेरा बैग अन्दर ही छूट गया है.. जाकर ले आओ।

तब तक मेरे बाकी सभी दोस्त जा चुके थे. जब मैं अपना बैग लेने के लिए स्पोर्ट्स रूम में गया तो मैंने देखा कि बैग के पास कंडोम के पैकेट और कुछ ‘गे’ मैगज़ीन आदि रखे हुए थे।

तभी अचानक मुझे अपनी गांड पर कुछ महसूस हुआ. ये सर थे.. जिनका तना हुआ लंड बाहर से मेरी गांड को छू रहा था और मुझे चुभ रहा था। अचानक मेरा लंड भी खड़ा हो गया.

हम दोनों पसीने से भीग गये थे. सर ने मेरी तरफ देखा और मुझे चूमने लगे. मैं कुछ बोलता, उससे पहले ही सर ने मेरे होंठों को जोर-जोर से चूसना शुरू कर दिया, मुझे भी मजा आने लगा।

सर समझ गए कि मुझे भी मजा आने लगा है.. तो उन्होंने अपनी टी-शर्ट उतार दी। उसका मर्दाना बदन और चौड़ी छाती देख कर पता नहीं मुझे क्या हुआ. मैं पूरी तरह से उसके सीने से चिपक गया.. और उसे हर जगह चूमने लगा।

सर मुस्कुराये और मेरी टी-शर्ट भी उतार दी.

उसके पसीने की खुशबू मुझे बहुत अच्छी लग रही थी. उसने मुझे कसकर गले लगा लिया और लगातार मुझे चूम रहा था. तभी मुझे उसकी एक उंगली मेरी गांड के गड्ढे पर महसूस हुई. (टीचर के साथ गे सेक्स)

वो अपनी उंगली अन्दर डालने की कोशिश कर रहा था.. मुझे बहुत दर्द हो रहा था.. लेकिन मज़ा भी आ रहा था।

फिर उसने मेरा हाथ अपने शॉर्ट्स में डाल दिया, मैं उसके लंड को जोर-जोर से मसलने लगा। फिर वो खड़ा हुआ और अपना लंड बाहर निकाला. उसका लम्बा और मोटा काला सख्त लंड देख कर मैं डर गया.

उसने मेरा सिर पकड़ कर अपने लंड की ओर झुका दिया.. इससे पहले कि मैं कुछ कह पाता, उसका लंड मेरे मुँह में था। मुझे भी मजा आ रहा था. मैं उसे दबाने और चूसने लगा. पसीने से लथपथ लंड मुझे बहुत स्वादिष्ट लग रहा था.

वो ‘आह.. आह.. स्स्स्स..’ जैसी आवाजें निकाल रहा था, उसकी उंगली मेरी गांड को चोद रही थी। मुझे दर्द तो हो रहा था.. लेकिन मैं उसके गर्म लंड का मज़ा भी लेना चाहता था।

कुछ देर बाद उसने मुझे फिर से खड़ा किया और नीचे झुक कर मेरी गांड चाटने लगा. जैसे ही उसकी जीभ मेरी गांड पर लगी, मेरा पूरा शरीर हिल गया, मुझे बहुत मजा आ रहा था.

फिर उसने मेरे कान में कहा- मजा आ रहा है?
मेरे मुँह से आवाज़ निकली ‘हाँ.. आआहह..’

फिर उसने मुझे टेबल पर लेटा दिया और अपना लंड मेरी गांड के छेद पर रखा और जोर से धक्का मारा. लेकिन वर्जिन होने के कारण मेरी गांड बहुत टाइट थी इसलिए उसका लंड अन्दर नहीं गया, फिसल कर बाहर आ गया, लेकिन मैं दर्द के मारे रोने लगा.

फिर सर मेरे होंठों को चूसने लगे.

कुछ देर बाद सर ने फिर कोशिश की, अपना लंड मेरी गांड पर रखा और धक्का दिया.. इस बार लंड आधा घुस गया.. मेरे मुँह से ज़ोर की चीख निकल गई.. लेकिन सर ने मेरा मुँह ज़ोर से दबा दिया और चुप रहे।

फिर एक धक्का मारा और पूरा लंड मेरी गांड के अंदर था, मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मेरी हालत ख़राब हो गयी हो.

थोड़ी देर तक हम हिले नहीं.. फिर धीरे-धीरे सर ने धक्के लगाने शुरू कर दिए। दर्द तो हो रहा था.. लेकिन एक अजीब सा मजा भी आ रहा था। सर के हर धक्के के साथ मेरी गांड से निकलता हुआ खून टेबल पर हर जगह दिख रहा था.

सर ने मुझे लगातार कई मिनट तक जम कर चोदा, फिर मुझे अपनी गांड में एक अजीब सी गर्म धार महसूस हुई, सर मेरी गांड में ही स्खलित हो गये थे। साहब जोर-जोर से हाँफ रहे थे और थक गये थे। (टीचर के साथ गे सेक्स)

सर ने अपना लंड निकाला और मेरे मुँह में डाल दिया.. मुझे उल्टी होने लगी.. लेकिन फिर पूरा लंड चूस लिया। कुछ देर तक सब कुछ शांत रहा. अब हम दोनों बैठे हुए थे.

मैं अपनी गांड से खून साफ कर रहा था.. तभी सर का लंड फिर से खड़ा होने लगा.. और उन्होंने मुझे प्यार से देखा।

वो बेरहम क्रूर चुदाई फिर से शुरू हो गई. ऐसा उस दिन 3 बार हुआ और मैं बेहोश होने लगा.

रात के 8 बजे थे.. मेरी जम कर चुदाई हुई। अब मैं ठीक से चल भी नहीं पा रहा था. मेरी गांड का छेद बुरी तरह सूज गया था और मुझे चलने में दिक्कत हो रही थी. लेकिन फिर भी मैं घर पहुंच गया.

इसके बाद हम दोनों ने कई बार सेक्स किया.. और सर ने मुझे कुतिया बना कर भी चोदा। इस तरह मैं ‘गे’ बन गया.

आपको मेरी ये टीचर के साथ गे सेक्स कहानी कैसी लगी कमेंट करके बताये।

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप wildfantasystory की “Hindi Gay Sex Stories” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Lucknow Call Girls

This will close in 0 seconds