कॉलेज की खाली क्लास में सर ने मुझे जमकर चोदा

कॉलेज की खाली क्लास में सर ने मुझे जमकर चोदा

दोस्तों आज में जो कहानी सुनाने जा रही हु उसका नाम हे “कॉलेज की खाली क्लास में सर ने मुझे जमकर चोदा” मुझे यकीन की आपको ये कहानी पसंद आएगी|

दोस्तों मैं आशिका उदयपुर में रहती हूँ। मेरी उम्र 19 साल है।

मै एक जवान खूबसूरत कमसिन कली हूँ। मेरे शरीर का फिगर 36,32,38 है।

मैं बहुत खूबसूरत दिखने वाली मॉडर्न लड़की हूं। मैं बहुत हॉट दिखती हूँ

मेरे निप्पल बहुत आकर्षक हैं। मेरे निप्पल संतरे जैसे हैं।

मैं जादातर जींस टॉप में रहती हूँ। मेरे बूब्स के निपल मेरे टॉप के बाहर से भी सबको दिख जाते है.

मेरी गांड भी निकली हुई है। जब मैं चलती हूँ तो वो मटकती रहती हैं।

कई प्रेमी मेरी चिकनी चूत को चोदने के लिए मेरे पीछे पड़े रहते हैं।

मेरी चूत सेब के दो स्लाइस की तरह है।

उसमें जो जूस भरा है, उसे पीने के लिए सभी लड़के लालायित रहते हैं।

मुझे सेक्स करना बहुत पसंद है। मुझे बड़ा और मोटा लंड पसंद है।

मै कई बार चुदवा चुकी हूँ। लेकिन मेरे अंदर सेक्स की तड़प कभी खत्म नहीं होती।

मैं हर समय चुदाई करने के लिए उत्सुक रहती हूँ। मुझे देखकर कोई भी चोदने के बारे में सोच सकता है।

दोस्तों मेरा घर गांव में था। मेरे मामा उदयपुर शहर में रहते थे।

मेरे पापा ने मुझे मामा के घर भेज दिया था ताकि मेरी पढ़ाई पूरी हो सके।

घर के पास के गर्ल्स कॉलेज में मेरा नाम लिखा लिखा दिया गया। 2 सज्जन शिक्षक थे।

दोनों बारी-बारी से पढ़ाते थे। दोस्तों यह एक सरकारी कॉलेज था।

इसलिए यहां पढ़ाई सिर्फ नाम की हुआ करती थी।

राकेश सर बहुत लोकप्रिय थे। उसके बारे में अफवाह थी

कि वह बहुत चोदू किस्म का आदमी है और कई लड़कियों को चोद चुका है।

लेकिन मुझे विश्वास नहीं हो रहा था। हमारे पूरे कस्बे में यही इकलौता गर्ल्स कॉलेज था

इसलिए हमारे कॉलेज में 300 लड़कियां पढ़ती थीं। कॉलेज बहुत बड़ा था।

वहां एक बड़ा सा मैदान भी था और जहां बाउंड्री थी वहां लड़कियों के लिए पानी का सरकारी नल था

और शौचालय था. कॉलेज में लाइन से 20-25 कमरे थे

लेकिन क्लास 10-12 कमरों में ही चलती थी। धीरे-धीरे राकेश सर मुझे ताड़ने लगे।

वह अक्सर मुझे घूरता रहता था।  वो मेरी जवानी का मजा लूटना चाहते थे।

राकेश सर मुझे चोदना चाहते थे। धीरे-धीरे उसने मुझसे दोस्ती की।

मैं उसकी बहुत इज्जत करती थी जब सभी लड़कियां उसे चोदू चोदू कहती थीं।

मैं उन्हें अच्छा इंसान मानती थी। एक दिन मैं बाथरूम गयी थी।

वहां से आते समय सुनसान कमरे में किसी की आवाज सुनाई दी।

मैंने देखा तो दंग रह गया। राकेश सर पूनम को बाँहों में पकड़ कर उसके सलवार सूट में से उसके निप्पल चूस रहे थे।

फिर राकेश सर ने उसे बिठाया और अपना लंड मेरे साथ पढ़ने वाली पूनम के मुँह में डाल दिया

और चूसने लगी. यह सब देखकर मैं डर गई।

फिर राकेश सर ने क्लास के दौरान दिन में ही उस खाली कमरे में पूनम की बजा दी.

यह सब देखकर मैं डर गयी और दौडकर अपनी क्लास में चली आई।

अब मैं जान गयी थी कि राकेश सर के बारे में अफवाह 100% सच है। मैं सर से दूर रहने की कोशिश करने लगी

लेकिन एक दिन वे बहाने से मुझे सरकारी नल की ओर ले गए। वहां कई खाली कमरे थे।

सर ने मुझे पकड़ लिया और मुझे किस करने लगे। मैंने मना कर दिया। ” नहीं सर!! यह गलत है!!” मैंने कहा

“आशिका!! मैं तुमसे सच में प्यार करता हूँ और तुमसे शादी भी करूँगा।

आओ, मेरी बाहों में आओ” राकेश सर ने कहा।”झूठे हो तुम। कल मैंने तुम्हें पूनम की रसीली चूत चाटते देखा था।

सर तुम सिर्फ चूत के पुजारी हो। तुम प्यार व्यार को नहीं समझते हो” मैंने कहा

“आशिका !! आज से मैं सभी लड़कियों के साथ घूमना बंद कर दूंगा। माँ की कसम।

तुम मेरे सच्चा प्यार हो। मैं तुमसे शादी करूँगा आओ …

मेरी बाहों में आओ” दोस्तों, इस तरह सर ने तरह-तरह के बात की और मुझे पकड़ लिया।

मैं मान गई। फिर वह मुझे उस खाली क्लासरूम में ले गया।

उसने दरवाजा अंदर से बंद कर दिया और मुझे पकड़ कर चूमने लगा।

मैं भी चूसने लगी। सर मेरे रसीले होठों को मजे से पी रहे थे।

मुझे भी मज़ा आ रहा था। उसके बाद, उन्होंने खड़े होकर मुझे गले से लगा लिया।

मुझे भी अच्छा लग रहा था। हम दोनों काफी देर तक साथ चिपके रहे।

उसके बाद राकेश सर मेरे मम्मो को अपने हाथ से दबाने लगे।

मैंने कालेज का आसमानी रंग सूट और सफेद सलवार पहन रखी थी।

मैंने सफेद दुपट्टा पहन रखा था। सर ने मेरा दुपट्टा हटा दिया और मेरे स्तनों को दबाने लगे।

दोस्तों, मेरे चूचियां 36″ के थे और बहुत रसीले थे। सर मेरे उभरे हुए स्तनों के पीछे पूरी तरह से पागल थे।

काफी देर तक वो मेरे सूट के उपर से मेरे मम्मे मसलते रहे मैं

“ओह्ह मा… ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह… ….”

कामुक आवाजें निकाल रही थी। धीरे-धीरे सर मेरे स्तनों को जोर से मसल रहे थे।

मुझे मज़ा आ रहा था फिर उसने ऊपर से मेरे सूट के अंदर अपना हाथ डाला।

मैंने शर्ट पहन रखी थी। राकेश सर का हाथ शर्ट के अंदर घुस गया

और उसने मेरे दाहिने निप्पल को पकड़ लिया और उसे बाहर खींच लिया।

दोस्त मेरी सफेद दूधिया चूची को देखकर चौंक गए और तेजी से दबाने लगे।

वह पूरी तरह से पागल हो गया था। फिर वह नीचे झुक गया

और अपने मुंह में मेरे दाहिने निप्पल को चूसने लगा।

मैं “ओह मा … ओह मा … यू यू यू यू” …… आआआआआआआआआआआआआआआआ…

की कामुक और सेक्सी आवाजे निकाल रही थी.

मैंने राकेश सर की बात पर यकीन कर लिया था कि ये सिर्फ मुझे ही प्यार करते हैं.

वो झुक कर मेरे रसीले निप्पल को चूस रहे थे. मैं खड़ी थी सर हाथ से दबा भी रहे थे.

फिर वो काफी देर तक चूसते रहे फिर उसने अपने हाथों से मेरे काले निप्पलों को सहलाना शुरू कर दिया।

मैं सिसकने लगी और कराहने लगी। कुछ देर बाद सर ने सूट के ऊपर से मेरे बाएं निप्पल को बाहर निकाला।

उसे भी जी भरकर दबाया और मुंह में लेकर चूसा। फिर उन्होंने मुझे एक बेंच पर बिठा दिया।

उसने अपनी पैंट खोली और अपना लंड निकाल कर मेरे मुंह में डाल दिया

“नहीं सर! मैं लंड नहीं चूसूंगी!! गंदा लगता है” मैंने कहा

“अरे आशिका! तुम एक बार चूसो ना। तुम्हें अच्छा लगेगा”

राकेश सर ने कहा और जबरदस्ती अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया।

धीरे-धीरे बेमन से मैं चूसने लगी। फिर हाथ से फेटने लगी। उसके बाद हम दोनों वहां से चले आये।

फिर राकेश सर ने मेरी क्लास की दूसरी लड़कियों को इम्प्रेस करना बंद कर दिया।

लाइन मुझे ही देते थे। धीरे-धीरे वह मुझे और ज्यादा पसंद करने लगे।

हम दोनों अक्सर सरकारी नल के बगल वाले कमरे में मिलने लगे।

जब भी सर मिलते मेरे सूट के उपर से मेरे मम्मे निकाल कर पीते और मुझसे लंड चुसाते।

अब उनका मुझे चोदने का मन कर रहा था। शाम को सर ने मुझे काल किआ।”आशिका केसी हो???” सर हंसकर बोले

“अच्छी हूँ। बस आपके बारे में ही सोच रही थी” “कल मुझे तुम्हारी चूत मारनी है !!” सर सेक्सी आवाज में बोलो

“धत्त !! शर्म नहीं आती???” मैंने कहा “तुम मेरी होने वाली पत्नी हो। अपनी बीबी से कैसी शर्म? सर बोले

“तो कल चूत देगी??? पक्का है??? सर बोले “ठीक है कल मैं तुम्हें अपनी रसीली चूत दूंगी” मैंने कहा

अगले दिन मैं कॉलेज गयी। आज बहुत कम लड़कियां आईं। सुबह बारिश हुई थी

इसलिए आज बहुत कम बच्चे आए थे। इंटरवल 11 बजे हुआ। राकेश सर ने अपनी आँखों से मेरी ओर इशारा किया।

वे पहले ही सरकारी नल की तरफ चले गये। कुछ देर बाद मैं भी चला गया।

आज इक्का-दुक्का बच्चे ही स्कूल आए थे तो डर की कोई बात नहीं थी।

सर आज मुझे आसानी से चोद सकते थे। अंदर पहुंचते ही सर ने कमरे का दरवाजा अंदर से बंद कर लिया

और मुझे गले से लगा लिया। कुछ देर वो मेरे होठों को चूसते रहे। फिर धीरे-धीरे उन्होंने मेरी ड्रेस उतार दी।

उसने अपनी पैंट शर्ट उतार दी। फिर उसने मुझे एक लंबी बेंच पर लिटा दिया

और मेरे उपर लेट गये। सर ने मेरे रसीले निप्पलों को अपने हाथ में पकड़ कर कुछ देर दबाया

फिर उन्हें अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगे. दोस्तों, मेरे बूब्स 36″ के थे और काफी बड़े थे.

सर मुंह में लेकर जल्दी जल्दी मुंह चला रहे थे और चूस रहे थे. आज मैं स्कूल में ही अपने सर से चुदाने जा रही थी

और बहुत मज़ा आया। मैं बस “आआआह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्. कामुक और सेक्सी आवाजें निकाल रही थी।

मुझे मज़ा आ रहा था आज सर मेरे हसीन दूध पी रहे थे आधे घंटे तक उसने मेरे दोनों निप्पलों को चूसा।

उसने मेरी टांगें खोल दीं और मेरी चूत पर आ गये। दोस्तों, मैंने आज सुबह ही अपनी चूत शेव कर ली थी।

मेरी चिकनी पाव ब्रेड की तरह फूली हुई चूत को देखकर राकेश सर बेकाबू हो गए

और आधे घंटे तक मेरी चिकनी चमेली की चूत को चाटते रहे. मैं तो तडप रही थी। खूब एन्जॉय कर रही थी।

सर की लंबी जीभ कुत्ते की जीभ की तरह मेरे रसीले बुर को चाट रही थी।

फिर सर ने अपना मोटा 6” का लंड मेरे छेद में डाल दिया और मुझे जोर जोर से चोदने लगे।

मैं “……मम्मी…मम्मी…..सी सी सी सी..हा हा हा…..ओउउ….ओ. । राकेश सर फटाफट मेरी चूत में लंड सप्लाई कर रहे थे.

धकाधक मुझे चोद रहे थे। मैंने उसके कंधों को कस कर पकड़ रखा था।

सर की कमर नाच नाच कर मेरी चूत चोद रही थी। वो मुझे कसके पेल रहे थे।

मैंने अपनी दोनों टाँगे बतख की तरह उपर हवा में उठा दी थी।

सर ने मुझे 35 मिनट चोदा फिर मेरी चूत में ही झड गये। अब वो मुझे रोज उस सुनसान कमरे में ले जाकर चोदते है।

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Dehradun Call Girls

This will close in 0 seconds