पड़ोसन आंटी को चोदा और अपने बड़े लंड से उन्हें जन्नत दिखाई

पड़ोसन आंटी को चोदा और अपने बड़े लंड से उन्हें जन्नत दिखाई

मेरा नाम अमन है आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने “पड़ोसन आंटी को चोदा और अपने बड़े लंड से उन्हें जन्नत दिखाई”

मैं दिल्ली के एरोसिटी का रहने वाला हूँ। ये घटना आज से एक साल पुरानी है. उस वक्त मैं 20 साल का था और घर पर ही रहता था. मेरी पढ़ाई ख़त्म हो चुकी थी और मैं घर पर ही रहता था.

मेरा ज्यादातर समय सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर ही बीतता था। मेरे पड़ोस में एक शादीशुदा औरत रहती थी जिसका नाम कृतिका था। उस महिला की उम्र करीब 27-28 साल थी.

वैसे वो मुझसे 7-8 साल बड़ी थीं इसलिए मैं उन्हें आंटी ही कहना चाहूंगा. वो देखने में बहुत सुन्दर थी. इस घटना से पहले मेरा ध्यान कभी उस आंटी पर नहीं गया था. जब पहली बार मेरा ध्यान किसी घटना ने खींचा तो वो पति-पत्नी के बीच का झगड़ा था।

कृतिका का पति शराब पीता था और उस दिन उसका अपने पति से जमकर झगड़ा हुआ. उस झगड़े की घटना की खबर पूरे मोहल्ले में आग की तरह फैल गई. तब पहली बार मैंने उन पर ध्यान देना शुरू किया. (पड़ोसन आंटी को चोदा)

फिर अगली शाम को मेरा दोस्त मेरे घर आया. उसने यह भी बताया कि उसका पति रोज शराब पीता है और उससे झगड़ा करता है. शादी के बाद उनके बीच झगड़ा होने लगा।

मेरे दोस्त ने बताया कि वह इतनी शराब पी लेता है कि उसे होश ही नहीं रहता. मेरा दोस्त कृतिका के बारे में बहुत कुछ जानता था। उसने मुझे बताया कि उसका पति उसके साथ सेक्स भी नहीं करता है.

जब ये बात मुझे पता चली तो मेरा ध्यान आंटी के बदन पर जाने लगा. इससे पहले मैंने उसे कभी वासना की नजर से नहीं देखा था. लेकिन जब मेरे दोस्त ने बताया कि उसकी चुदाई नहीं हो रही है

तब से मैं भी उसके साथ सेक्स करने के बारे में सोचने लगा. मैंने अपने दोस्त से कहा कि कृतिका का नम्बर हो तो पता करो। दोस्त ने कहा- मैं उसकी एक दोस्त को जानता हूं, उसका नंबर लेकर तुम्हें दे दूंगा.

अगले दिन मेरा दोस्त कृतिका का नंबर लेकर आया. मैंने उसे धन्यवाद कहा. उसके जाने के बाद मैंने उसका नंबर सेव कर लिया. मैंने पाया कि वह व्हाट्सएप पर भी सक्रिय थी। उन्होंने अपनी फोटो भी लगाई थी.

फोटो में उन्होंने सफेद सूट और लाल पायजामी पहनी हुई थी. उसकी गांड बहुत सेक्सी लग रही थी. पायजामा उसकी मोटी जाँघों पर इस तरह कसा हुआ था जैसे कि वह सिर्फ उसके लिए ही बना हो।

मैंने उसे मैसेज करने का सोचा. लेकिन मुझे थोड़ा डर भी लग रहा था कि कहीं वो किसी से शिकायत न कर दे. रात को करीब 8 बजे मैंने उसे हाय का मैसेज भेजा.

उसने मैसेज देखा लेकिन कोई जवाब नहीं दिया. मैंने एक घंटे तक इंतजार किया लेकिन उसका जवाब नहीं मिला. इसके बाद मैंने दोबारा कोशिश करने के बारे में सोचा.’ अगली बार मैंने उसे अपना नाम और पता भी भेजा।

मैंने मैसेज में लिखा कि मैं उसका पड़ोसी अमन हूं. जब उसने मेरा नाम पढ़ा तो उसने मैसेज किया. मैसेज में उसने हाय लिखा और पूछने लगी कि मुझे उसका नंबर कहां से मिला.

मैंने उससे झूठा बहाना बनाया कि उसके घर से गलती से एक पत्र हमारे घर आ गया है। उस पर आपका नाम और नंबर लिखा था. इस बात पर उन्होंने भी मेरी बात पर यकीन कर लिया. उसके बाद हम दोनों बातें करने लगे.

पहले तो सामान्य बातें हुईं और फिर मैंने उससे उसके पति के साथ संबंधों के बारे में पूछा. मैंने उस झगड़े के बारे में बात करना शुरू किया और उसे सांत्वना देने की कोशिश की. उसने मुझे धन्यवाद कहा.

उसे मुझसे बात करना अच्छा लगता था. इसलिए वो जल्दी जल्दी रिप्लाई कर रही थी. फिर मैंने उससे कहा- अगर तुम कभी हमारे घर आओ तो मुझसे मिल कर जाना. मैं आपसे कुछ महत्वपूर्ण बात करना चाहता हूं.

वो बोली- ठीक है, मैं अभी आती हूं. उसका मैसेज देख कर मेरी गांड फट गयी. मैंने कहा- नहीं-नहीं…अभी रहने दो। कल-परसों आ जाइयेगा. वो बोली- अब क्या दिक्कत है? मैंने कहा- अभी मैं कहीं बाहर हूं. अभी मैं घर पर नहीं मिलूंगा.

बड़ी मुश्किल से मैंने उसे मनाया और मना कर दिया. वो मान गयी। रात को मैंने उसकी फोटो देख कर अपना लंड हिलाया. लंड का पानी निकालने के बाद मुझे कुछ शांति मिली और फिर मैं सो गया.

सुबह उठा और फ्रेश होकर नाश्ता किया. उसके बाद मैंने कुछ देर टीवी देखा और फिर नहाने चला गया. जब कृतिका घर आई तो मैं नहा कर तैयार हो रहा था. मां सामने थी और वह सीधे मां से बात करने लगी.

कृतिका ने कहा- कल रात को अमन का फोन आया था. वह कुछ बात करना चाहता था. इसलिए मैं उनसे बात करने आई हूं. मेरी गांड फटने को हो गयी. सोचा कि ये तो मार खिलवायेगी. मां के सामने पोल-पट्टी खुलने वाली थी.

माँ ने मेरी तरफ देखा और बोलीं- अमन, तुमने कृतिका आंटी के पास फोन किया था? मैंने कहा- हां गलती से हो गया था, मैं अपने एक दोस्त को फोन कर रहा था. फिर मैंने उस नंबर पर कॉल किया तो पता चला कि वो कृतिका आंटी का नंबर है.

मेरा दोस्त और इनका नंबर बहुत मिलता जुलता है. किसी तरह मैंने बहाना बनाकर झूठ का सहारा लेकर मामले को संभालने की कोशिश की. फिर कृतिका और मेरी मां बैठ कर बातें करने लगीं. (पड़ोसन आंटी को चोदा)

कुछ देर बात करने के बाद वो हमारे घर से चली गयी. उस दिन तो वो आंटी मुझे मरवा ही डालती. अगले दिन मैं बाज़ार जा रहा था तो मैंने देखा कि कृतिका अपने घर के बाहर खड़ी है।

मैंने कहा- आंटी, आपको मेरी मां के सामने बात करने की क्या जरूरत थी? वो बोली- क्यों, मुझसे क्या गलती हुई? मैंने कहा- मुझे तुमसे अकेले में बात करनी थी, घर वालों के सामने नहीं.

वो बोली- ऐसी कौन सी बात थी जो तुम अपने घर वालों के सामने नहीं कर सके? मैंने कहा- थोड़ा साइड में चलो, फिर बताऊंगा. मैं उसे उसके घर के अंदर ले गया. मेरा लंड टाइट हो रहा था.

उसके चूचों का आकार देख कर मेरा मन कर रहा था कि अभी उसे यहीं नंगा कर दूं. जब उसने देखा कि मैं उसके मम्मों को घूर रहा हूं तो वो हल्के से मुस्कुराने लगी. शायद उसे पता चल गया था कि मैं उससे क्या कहना चाह रहा था.

वह एक ओर हटकर पूछने लगी- बताओ, क्या बात थी? मैंने कहा- मुझे आप पर बहुत दया आ रही है. उस दिन का झगड़ा मुझे बहुत बुरा लगा. वो बोलीं- हां, मुझे भी दुख है लेकिन मुझे इसकी आदत हो गई है.

वो बोली- तुम बस इसी बारे में बात करना चाहते थे? मैंने कहा- नहीं, मुझे और बातें करनी हैं. उसने कहा- तो कहो? मैंने कहा- बुरा तो नहीं मानोगी? कृतिका बोली- नहीं, कहो, क्या कहना चाहते हो?

मैंने कहा- क्या मैं आपकी कुछ मदद कर सकता हूँ? उसने पूछा- कैसी मदद? मैंने कहा- अगर आप अपने पति से खुश नहीं हैं तो क्या मैं आपकी मदद कर सकता हूँ?

वो मेरा इशारा समझ गई लेकिन न जाने अचानक गुस्से में बोली- तुम्हारा दिमाग तो अपनी जगह पर है, तुम्हें पता है तुम क्या कह रहे हो? मैंने कहा- हां आंटी, मुझे आपके लिए बहुत बुरा लग रहा है.

ये कहते हुए मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और सहानुभूति दिखाते हुए उसका हाथ अपने लोअर के करीब ले आया. उसके मुलायम हाथ को छूते ही मेरा लंड कुछ ही सेकंड में खड़ा हो गया.

जब उसका हाथ मेरे लंड पर लगा तो उसने नीचे देखा. मेरा लंड खड़ा हो गया था. मेरा खड़ा लंड देख कर उसे भी लालच आ गया और वो बोली- लेकिन अगर किसी को पता चल गया तो?

मैंने उसका हाथ अपने लंड पर दबाया और उसके होंठों को चूम लिया. वो तुरंत पीछे हट गई लेकिन कुछ सोचने के बाद मेरे पास आई और मेरे लंड पर अपना हाथ रख कर मेरे होंठों को चूमने लगी.

हम दोनों घर के बरांडे में खुले में चूमा चाटी कर रहे थे. जब मुझे इस बात का एहसास हुआ तो मैंने कहा- यहां सुरक्षित नहीं है आंटी. हमें कहीं और जाना होगा. इसके बाद मैं उसे बेडरूम में ले गया.

कमरे में घुसते ही हम दोनों पागलों की तरह एक दूसरे को चूमने लगे. मैंने दोनों हाथ उसकी गांड पर रख दिए और आगे से लंड को उसकी चूत वाले हिस्से पर सटाकर उसके होंठों को जोर-जोर से चूसने लगा। वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी.

किस करते करते मेरे हाथ उसके सूट को ऊपर उठाने लगे. मैंने सूट को ऊपर उठाया और उसकी ब्रा के ऊपर से ही उसके चूचों में अपना मुँह डाल दिया. फिर मैंने उसकी शर्ट पूरी उतार दी.

मैंने उसकी गर्दन को चूमा और उसकी सफ़ेद ब्रा के ऊपर से ही उसके बड़े बड़े मम्मों को दबाने लगा। फिर मैंने उसकी ब्रा खोल दी और उसके मम्मे नंगे हो गये. मैंने तुरंत अपने होंठ उसके निप्पल पर रख दिए और उसका दूध पीने लगा.

उसके मम्मों को चूसने के बाद मैं फिर से उसके होंठों को चूसने लगा. इस समय मेरे हाथ उसकी चुचियों को जोर जोर से मसल रहे थे. कृतिका का हाथ मेरे लोअर के ऊपर से मेरे लंड को मसल रहा था. (पड़ोसन आंटी को चोदा)

मैं भी उसकी चूत में लंड देने के लिए पागल हो गया था. उसने मेरे कपड़े उतारने शुरू कर दिए और अगले ही मिनट में मैं उसके सामने पूरा नंगा हो गया. वो मेरे लंड को घूर घूर कर देखने लगी. मैंने पूछा- कैसा लगा?

वो बोलीं- आह्ह.. आपका औज़ार तो बहुत दमदार लग रहा है, मेरे पति का लंड तो इसके सामने बहुत छोटा है. कृतिका ने मेरा 7 इंच का लंड अपने हाथ में पकड़ लिया और उसे प्यार से सहलाते हुए उसकी गर्मी महसूस करने लगी.

मैंने उसकी सलवार खोली और उसे बिस्तर पर फेंक दिया. उसने नीचे लाल रंग की पैंटी पहनी हुई थी जो उसकी गोरी गोरी जांघों पर वाकई कहर ढा रही थी. मैंने पैंटी को उसकी चूत के ऊपर से नीचे खींच दिया.

Visit Us:-

उसकी चूत बहुत टाइट लग रही थी. मैंने उसकी चूत को सूँघा और उसे चूमा। वो सिसकारियाँ लेने लगी. मैं कई मिनट तक उसकी चूत से खेलता रहा. फिर मैंने अपनी उंगली उसकी चूत में डाल दी और आराम से अंदर बाहर करने लगा.

वो बहुत गरम हो गयी. उसने मुझे नीचे लिटाया और खुद ऊपर आकर मेरे लंड को मसलने लगी. मैंने कहा- मुँह में ले लो. उसने मना कर दिया। वो बोली- मुझे ये गंदा लगता है. मैंने कहा- एक बार ट्राई तो करो. चूसने में मजा आएगा.

बहुत कहने के बाद उसने मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और मैं जन्नत की सैर पर चला गया. उसके मुँह से लंड चुसवाने में बहुत मजा आ रहा था. कुछ ही देर में मैं इतना उत्तेजित हो गया कि अब अपने आप को रोक नहीं सका.

मैंने उसे फिर से नीचे लिटाया और अपना लंड उसकी चूत पर रख दिया. आंटी की चूत बहुत टाइट थी. लंड अन्दर नहीं जा रहा था. मुझे भी बहुत परेशानी हो रही थी. फिर मैंने लंड को फिर से उसकी चूत पर कसकर सेट किया

और एक जोरदार धक्का लगा दिया. मेरे लंड का सुपारा उसकी चूत में घुस गया. लंड उसकी चूत के अंदर घुसते ही उसकी चीख निकल गयी. वो कराहते हुए बोली- उफ्फ … आराम से कर गधे, मैंने कई महीनों से सेक्स नहीं किया है.

उसके कहने पर मैं वहीं रुक गया और उसे चूमने लगा. थोड़ी देर बाद वो खुद ही अपनी कमर हिलाने लगी. मैंने फिर से हल्का सा धक्का देते हुए अपना लंड अन्दर पेल दिया और धीरे-धीरे पूरा लंड उसकी चूत में पेल दिया.

फिर मैंने धीरे-धीरे उसकी चूत को चोदना शुरू किया. दोस्तों उस आंटी की कसी हुई चूत को चोदने में मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. वो भी मेरे लंड से चुदकर मजा लेने लगी.

अब मैं तेज गति से उसकी चूत को चोदने लगा. उसकी गर्म गर्म चूत में अपना लंड देकर चोदने में बहुत मजा आया. उसकी चूत की गर्मी मुझे अपने लंड पर अलग से महसूस हो रही थी.

आंटी की चूत चोदते समय मैं भी ज्यादा देर तक नहीं टिक पाया. करीब बीस मिनट तक मैं उसकी चूत को चोदता रहा और फिर मेरे लंड ने भी अपना लावा उसकी चूत में उगल दिया.

मैंने अपना सारा माल उसकी चूत में भर दिया. तब तक वो भी दो बार झड़ चुकी थी. हम दोनों कुछ देर लेटे रहे. उसके बाद फिर से वो मेरा लंड चूसने लगी. उसने मेरे लंड को चूस कर फिर से खड़ा कर दिया.

अब मैंने उसे डॉगी स्टाइल में आने को कहा. वो मेरे सामने अपनी चूत दिखाते हुए कुतिया की तरह झुक गयी. मैंने पीछे से उसकी चूत में लंड पेल दिया और चुदाई फिर से शुरू हो गयी.

इस बार लंड आराम से अन्दर-बाहर हो रहा था। उसकी चूत बहुत चिकनी हो गयी थी. मैंने तेजी से उसकी चूत को चोदना शुरू किया और फिर अगले 20-25 मिनट तक चोदता रहा. (पड़ोसन आंटी को चोदा)

एक बार फिर मेरे लंड ने उसकी चूत में अपना माल उगल दिया और मैं फिर से उसके ऊपर ही ढेर हो गया. कृतिका की चूत की हालत ख़राब हो गयी थी. लेकिन उसे भी मेरे लंड से अपनी चूत चुदवाने बहुत मजा आया.

Dehradun Call Girls

This will close in 0 seconds