मामा की लड़की को चोदा और उसकी वर्जिन चूत को फाड़ दिया

मामा की लड़की को चोदा और उसकी वर्जिन चूत को फाड़ दिया

मैं अमन हूं आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने अपने “मामा की लड़की को चोदा और उसकी वर्जिन चूत को फाड़ दिया”

मैं दिल्ली का रहने वाला हूं. मेरे घर में मैं, मेरे माता-पिता और मेरी बहन जो मुझसे 2 साल छोटी है, रहते हैं। मेरी उम्र 20 साल है और मैं कॉलेज में पढ़ रहा हूँ. (मामा की लड़की को चोदा)

मेरे मामा की लड़की मेरी ही उम्र की है यानि उसकी उम्र भी मेरी तरह 20 साल के करीब है और वो भी कॉलेज में पढ़ती है.

लेकिन हैरानी की बात तो यह है कि इतनी सुंदर हुस्न की मालकिन होने के बावजूद भी इनका अभी तक कोई बॉयफ्रेंड नहीं है।

मैं ऐसा इसलिए कह रहा हूं क्योंकि जब मैंने अपनी बहन को चोदा था तो वो एकदम वर्जिन थी, पूरी तरह से वर्जिन… उसे बहुत दर्द हो रहा था और उसकी चूत से खून भी निकला था.

मेरे मामा की लड़की का नाम आशिका है. उनका रंग दूध जैसा गोरा है. उसके बूब्स का आकार 32 है जो उसने मुझे अपनी ब्रा उतारते समय बताया था।

और उसकी कमर का साइज़ 30 है जो किसी भी लड़के का लंड खड़ा कर दे. बात उस समय की है जब मैं अपनी माँ के साथ मामा के गाँव गया था।

मैं करीब 4 साल बाद मामा के गांव गया. इसलिए लगभग कोई भी मुझे पहचान नहीं पा रहा था. मैं पहले से ज्यादा हैंडसम और स्मार्ट हो गया था.

जिम जाने के कारण मेरा शरीर गठीला हो गया था. शायद यही कारण है कि मेरे मामा, मामी और नाना मुझे पहचान नहीं सके.

मैं वहीं कुर्सी पर बैठा था, तभी पीछे से कोई आया, मेरी आंखें बंद कर दीं और पूछने लगा – बताओ मैं कौन हूं?

तब मैं उसे पहचान नहीं पाया लेकिन उसने मुझे पहचान लिया और गले लगा लिया. वो मेरे मामा की लड़की आशिका थी.

मैंने उसे चार साल बाद देखा. वो भी एकदम खिल उठी थी. उसके चेहरे, उसके जिस्म से उसकी जवानी फूट रही थी।

दोस्तों क्या आप जानते हैं कि जब एक 20 साल की कुंवारी लड़की किसी कुंवारे लड़के को गले लगाती है तो कैसा महसूस होता है?

ठीक वैसा ही मेरे साथ भी हुआ. अचानक मेरा लंड खड़ा होने लगा. लेकिन किसी तरह मैंने खुद को संभाला और अपनी ममेरी बहन से अलग हो गई।

हम काफी दिनों बाद मिल रहे थे इसलिए देर रात तक सब बातें करने वाले थे. अब धीरे-धीरे रात होने लगी, गर्मी के दिन थे तो मैं ऊपर सोने चला गया। (मामा की लड़की को चोदा)

मैंने देखा कि मेरे जाने से पहले मेरे मामा की लड़की आशिका एक बच्चे के साथ ऊपर छत पर सो रही थी. तो मैं भी वहीं जाकर सो गया.

अभी 10 मिनट ही हुए थे कि मेरी बहन आशिका ने करवट बदल ली जिससे उसकी स्कर्ट और टॉप दोनों थोड़ा ऊपर हो गये

जिससे मुझे उस चाँदनी रात में उसकी कमर और थोड़ी सी जांघें दिखाई देने लगीं! एक जवान लड़की का अधनंगा बदन देख कर मेरे अंदर का मर्द जाग गया.

मैंने धीरे से अपनी बहन आशिका का हाथ पकड़ लिया और सहलाने लगा. शायद आशिका जाग गयी थी, उसने मुझसे अपना हाथ छुड़ाया और उठकर जाने लगी।

मैं उसके सेक्सी बदन को देख कर बर्दाश्त नहीं कर पा रहा था. उसे जाता देख मैंने उसे अपनी ओर खींच लिया और चूमना शुरू कर दिया.

वो मुझसे छूटने की नाकाम कोशिश करने लगी लेकिन मैंने उसे नहीं छोड़ा. फिर करीब पांच मिनट तक किस करने के बाद उसे भी मजा आने लगा और वो मेरा साथ देने लगी.

चाँदनी रात में वो और मैं छत पर एक दूसरे का जूस पी रहे थे। किस करते-करते मैं उसके मम्मों को दबाने लगा. उसके मुँह से धीरे-धीरे उह… आ… उह… बस करो! निकालने लगा

मैंने धीरे से उसकी चूत को छुआ जो पूरी गीली हो चुकी थी। वर्षा पूरी तरह से चुदासी हो चुकी थी। उसने पैंट के ऊपर से ही मेरा लंड पकड़ लिया और दबाने लगी.

वैसे भी आज मैं आशिका को चोदने वाला था। हमारे पास ज्यादा समय भी नहीं था इसलिए मैंने जल्दी से अपनी बहन की स्कर्ट और पैंटी एक साथ नीचे कर दी

और उसकी चूत चाटने लगा. उसकी चूत पर छोटे छोटे भूरे बाल थे, जिससे मेरी बहन की चूत बहुत सेक्सी लग रही थी.

मेरी बहन के मुँह से ‘उहह… आह… ओह… अमन… बस करो अमन… मैं बर्दाश्त नहीं कर सकती… प्लीज़ कुछ करो! मुझे अजीब लग रहा है!’ की आवाजें निकलने लगीं। (मामा की लड़की को चोदा)

मैंने अपनी पैंट नीचे की और अपना लंड उसे चूसने के लिए दे दिया. पहले तो उसने मुझे मना कर दिया लेकिन बाद में वह मेरे लंड को अच्छे से चूसने लगी.

मैं पूरे जोश में था. अब मैंने उसे वहीं जमीन पर लिटा दिया और उसकी कमर को पकड़कर उसके दोनों पैरों को चौड़ा कर दिया.

Visit Us:-

मैंने धीरे से अपना लवड़ा उसकी जवान चूत पर सेट किया और धीरे धीरे अन्दर करने लगा. मेरा लौड़ा अन्दर नहीं जा रहा था.

मैंने लंड में थूक लगाया और फिर अन्दर पेलने लगा. मैंने थोड़ा ज्यादा जोर लगाया तो मेरा 2 इंच लौड़ा मेरी चचेरी बहन की चूत में चला गया.

उसे बहुत दर्द हो रहा था इसलिए उसके मुँह से आवाज़ नहीं निकली, मैंने उसे चूमना शुरू कर दिया और एक और धक्का लगा दिया।

इस बार मेरा पूरा लवड़ा मेरी बहन की चूत में घुस चुका था. वो दर्द से मुझसे बोल रही थी- अमन, प्लीज़ मुझे छोड़ दो, मुझे जाने दो। मैं इसे बर्दाश्त नहीं कर सकती!

और भी बहुत कुछ बोल रही थी… पता नहीं क्या क्या! मेरी जवान बहन की आँखों से आँसू बहने लगे, उसकी चूत से खून निकलने लगा। लेकिन मैंने उसे नहीं छोड़ा.

थोड़ी देर बाद मेरी बहन की चूत का दर्द कम हो गया और मैं धीरे-धीरे ऊपर-नीचे होने लगी।

अब मेरी बहन आशिका को मजा आने लगा था. उसके मुँह से कामुक आवाजें निकलने लगीं. जो मुझे और भी उत्तेजित कर रही थी.

करीब दस मिनट तक दीदी की चुदाई के बाद मेरा माल निकलने वाला था तो मैंने उससे पूछा- कहां निकालूं दीदी?

तो उसने कहा- भाई, इसे अपनी बहन की चूत के अंदर ही निकालो. मैंने उफ़ उफ़ उफ़ हाँ आह ओह करते हुए अपना पूरा माल उसकी चूत में छोड़ दिया। (मामा की लड़की को चोदा)

उस रात मैंने अपनी बहन को दो बार चोदा. और तब से मुझे जब भी मौका मिलता है, मैं मामा की लड़की यानि अपनी बहन को चोदने मामा के गाँव चला जाता हूँ।

Lucknow Call Girls

This will close in 0 seconds