घर में अकेली दीदी की चुदाई करके पलंग तोडा

घर में अकेली दीदी की चुदाई करके पलंग तोडा

एक हॉट लड़की की वासना उससे क्या-क्या करवा सकती है, इसका अनुभव इस कहानी को पढ़कर करें।

एक शादीशुदा लड़की ने एक लड़के को अपना शरीर दे दिया जिस पर उसे विश्वास था।

Wildfantasy के सभी प्यारे दोस्तों को मोहित का प्यार भरा नमस्कार.

Sexy Didi ki Chudai की कहानी में पढ़े किस तरह से असंतुष्ट भाभी ने अपने मुंह बोले भाई का लंड चूसा  और चरम सुख दिया।

मुँहबोली दीदी ने मोहित का लंड चूस के अपनी प्यास को ठंडा किया। 

मैं आप सभी का अपनी नई कहानी में स्वागत करता हूँ।

दोस्तो, मैं आपके मनोरंजन के लिए एक और कहानी लेकर आया हूँ, शायद आपको ये हॉट लड़की की वासना की कहानी पसंद आये।
यह मेरी बहन के साथ ओरल सेक्स की कहानी है!

उसका नाम शहनाज है.

तीन साल पहले हमारे घर से थोड़ी ही दूरी पर एक परिवार रहने आया, उनका अपना घर है।
उसका घर हमारे आने-जाने के रास्ते में है.

उनके घर में चाचा, चाची, उनका बेटा राहुल और उसकी पत्नी शहनाज रहते हैं।

मेरे पिता और चाचा अच्छे दोस्त बन गये.
मैं भी आते-जाते समय उससे बात करता रहता था. इस तरह उनके परिवार से हमारे बहुत अच्छे पारिवारिक रिश्ते थे.

शहनाज और राहुल की शादी को तीन साल हो गए थे।
राहुल सरकारी नौकरी में था, हर साल उसका तबादला होता रहता था। इसलिए वह महीने में दो या तीन दिन घर आकर परिवार के साथ बिता सकते थे।

शहनाज बहुत ही सुंदर और सेक्सी लड़की थी.
उसकी फिगर 32-28-34 की है. देखने वाले का लंड खडा करने वाली फिगर है.
उसका कद 5’4′ इंच है.

शहनाज भाभी हमेशा हंसमुख रहती है. वह मुझे भाई मानती थी और मैं उसे दीदी कहता हूँ.
वह लगभग मेरी उम्र की ही है.

उसकी और मेरी खूब जमती थी, हम हमेशा एक दूसरे से हँसी मजाक के साथ बात करते थे. हम दोनों हमारी सभी बातें एक दूसरे से शेअर करते थे.
वह मेरे साथ हमेशा खुश रहती थी.

हम दोनों एक दूसरे से इतना घुलमिल चुके थे कि एक दूसरे को गले लगाना, एक दूसरे के शरीर पर कहीं भी स्पर्श करना हमारे लिए आम बात बन चुकी थी.
लेकिन मेरे मन में कभी अलग सा ख्याल नहीं आया था.

आँटी और अंकल भी मेरे साथ घुलमिल गये थे.
अगर एक दिन भी मैं उनके घर नहीं गया तो वे मुझे फोन करते थे कि क्या हुआ? आज आया नहीं?
इस तरह हमारे संबंध जुड़ गये थे.
वे मुझे अपने लड़के जैसे ही समझते थे.

अंकल हमेशा कहते थे कि तुम घर में होते हो तो हमारे राहुल कमी पूरी हो जाती है.

उसे काम की वजह से फुरसत नहीं मिलती. लेकिन तुम थोड़ी देर आकर हमारे साथ बात करते हो तो घर में रौनक आ जाती है.
और तेरी दीदी भी बहुत खुश रहती है.

इसलिए मैं समय निकालकर उनके घर आता जाता रहता था.
और मेरे माँ, पिताजी ने भी मुझसे कहा है कि उनके घर समय निकालकर जाते रहना. तो उन्हें अपने बेटे की कमी महसूस नहीं होगी.

यह Sexy Didi ki Chudai की कहानी एक साल पहले की है.

जब मैंने नोटिस किया कि शहनाज दीदी का बर्ताव अलग ही लग रहा था. जैसे वह मेरे बदन को ज्यादा ही छूने की और दबाने की कोशिश कर रही थी.
कभी मौका मिलते ही मेरी जांघें सहलाती, कभी आगे से बाहों में लेकर चूत को मेरे लंड पर रगड़ती थी.
कभी पीछे से मुझे ऐसे चिपकती थी कि उसकी चूचियाँ मेरे पीठ पर रगड़ती थी.

अब मुझे उसकी नजर वासना से भरी लग रही थी.

एक दिन जब मैं घर गया तो वह खाना बना रही थी.
उसने गाउन पहना था और आगे ऐप्रन लगा हुआ था.

मुझे देखते ही दीदी बोली- मोहित, अच्छा हो गया. तुम सही समय पर आए हो. मेरे ऐप्रन की गाँठ खुल गयी है, वो जरा ठीक करो ना!

मैं उसके पीछे खड़ा होकर एप्रन की गांठ बांधने लगा.
तो शहनाज़ दीदी ने मेरे लंड को अपनी Moti Gand से रगड़ा और बोलीं- इसे ठीक से बांधो. कहीं गिर मत जाना.

वो इस तरह छेड़ कर शायद मुझे उकसा रही थी.
लेकिन मैंने उसकी हरकतों पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया.. मुझे लगता था कि ये अनजाने में हुआ होगा।

ऐसे ही दिन बीतते गए.
अब मुझे भी उसकी निकटता अच्छी लगने लगी.
आख़िर मैं एक आदमी हूं.

एक दिन मैं रोज की तरह ऑफिस से घर आया.
पापा के आने के बाद हमने खाना खाया.

हम बात कर ही रहे थे कि मम्मी के पास मौसी का फोन आया कि मामा की तबीयत खराब हो गई है, उन्हें अस्पताल ले जाना है, मोहित को भेज दो।

तभी पापा बोले- गाड़ी ले जाओ और मोहित को ठीक से हॉस्पिटल ले जाओ। अगर कुछ हो तो मुझे कॉल करें.

मैं कार निकाल कर उनके घर गया तो आंटी और शहनाज़ दीदी घबराई हुई थीं.
मैंने कहा- चिंता मत करो, अंकल को कुछ नहीं होगा.

फिर मैंने और शहनाज़ दीदी ने अंकल को पीछे की सीट पर बैठने में मदद की, आंटी उनके साथ बैठ गईं।

दीदी घर में ताला लगाकर आगे की सीट पर बैठ गईं और हम हॉस्पिटल चले गए।

आधे घंटे के अंदर हम हॉस्पिटल पहुंच गये.

मेरे दोस्त के पापा का हॉस्पिटल था तो उन्होंने अंकल को अंदर ले जाते ही इलाज शुरू कर दिया.

डॉक्टर ने पूरा चेकअप किया और कहा- चिंता की कोई बात नहीं, उनका बी.पी बढ़ा हुआ है, जल्द ही ठीक हो जायेंगे।

लेकिन उन्हें दो दिन तक यहीं रखना होगा. और हां, यहां सिर्फ एक को ही रुकना है, ज्यादा लोग नहीं रुक सकते. भले ही कोई न रह सके, हमारी बहनें सब संभाल लेंगी, चिंता की कोई बात नहीं।

लेकिन चाची ने कहा- मैं यहीं उनके पास रहूंगी, तुम दोनों घर जा सकते हो.
इस बीच रात के 11 बज गये.
तो मैं और शहनाज़ दीदी वहां से चले गये.

रास्ते में हम दोनों एक दूसरे से बातें कर रहे थे.
दीदी बोलीं- शाबाश मोहित, तुम समय पर आ गये. पापा को अब चिंता करने की जरूरत नहीं है. और आपकी पहचान के कारण जांच और इलाज तेजी से शुरू हो गया.

तो मैंने कहा- दीदी, ये तो मेरा फर्ज है और मैं कोई पराया हूँ?
दीदी बोलीं- वो तो ठीक है. तुम बहुत अच्छे और सहानुभूतिशील हो मोहित। आप मुझे बहुत पसंद। मुझे आपकी निकटता बहुत पसंद है.

मैंने कहा- मतलब दीदी?
तो उसने कहा- कैसे बताऊं मोहित, जब से तुम्हें देखा है

मैं तुमसे प्यार करने लगी हूं, तुम इतने खूबसूरत हो कि तुम्हें देखते ही मेरा मन मचल उठता है

जब तुम मेरे आसपास होते हो तो मुझे एक अलग ही खुशी मिलती है। मेरा पूरा शरीर रोमांचित हो जाता है. जिस क्षण मैं तुम्हें देखती हूं

मैं सोचती हूं कि काश तुम मेरे पति होते।

शहनाज़ दीदी की बात सुनकर मैं हैरान हो गया- आप क्या कह रही हैं दीदी? अब आपकी शादी हो चुकी है और आपका पति भी बहुत अच्छा है.
मेरी बात पर दीदी बोलीं- तुम नहीं समझोगे मोहित, मैं शादी करके भी खुश नहीं हूं 

मुझे यहां सभी सुख मिल रहे हैं लेकिन मेरी शारीरिक भूख कौन मिटाएगा? यह दिन प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है. मुझे रात को नींद नहीं आती!

मेरी बात पर दीदी बोली- तुम नहीं समझोगे मोहित, मैं शादी होकर भी खुश नहीं हूँ. मुझे सभी सुख यहाँ मिल रहा है लेकिन मेरी शारीरिक भूख कौन मिटायेगा? यह दिन पर दिन बढ़ती ही जा रही है. रात को सो नहीं पाती हूँ मैं!
मेरे अंदर की Antarvasna की आग को मैं कैसे ठंडा कर सकती हूँ. उसे तो तुम्हारे जैसा मर्द चाहिए ठंडा करने के लिए मोहित.

इतने में मैं उसके घर आ गया, मैंने गाड़ी साइड में लगा दी.

जब हम दोनों अन्दर गये तो दीदी ने मुझे पानी दिया.
हमें बहुत प्यास लगी थी.

पानी पीकर जब मैं जाने लगा तो शहनाज़ दीदी बोलीं- मोहित, क्या तुम मुझे अकेला छोड़ रहे हो? मुझे अकेले रहने से डर लगता है. आज रात यहीं मेरे साथ सो जाओ!

मैं दीदी को मना नहीं कर सका और अब मुझे भी वो अच्छी लगने लगी थीं.
तो मैंने कहा- ठीक है भाभी, मैं आज रात आपके पास रुकूंगा!

मेरी बात सुनकर दीदी खुश हो गईं और मुझसे लिपट गईं और अपने गुलाबी होंठों से मेरे होंठों को चूम लिया.

मैंने भी उसे अपनी बांहों में कस कर चूमना शुरू कर दिया और फिर उससे कहा- अब छोड़ो भी दीदी … मुझे नहाना है, बहुत थकान लग रही है.
तो वो बोली- हाँ मोहित, मैं भी नहा कर आती हूँ।
और हम दोनों अलग-अलग बाथरूम में नहाने चले गये.

पाँच मिनट के भीतर, मैं नहाया, तौलिया डाला, शयनकक्ष में पहुँचा, अपने बाल सुखाये और उनमें कंघी करने के लिए शीशे के सामने खड़ा हो गया।
तभी शहनाज़ दीदी नहा कर अपने Big Boobs पर सिर्फ तौलिया लपेट कर अन्दर आ गईं.
मैं उसे शीशे में देख रहा था.

उसकी गोरी और गोल जांघें पूरी तरह से उजागर हो गई थीं.
उसकी आधी गोल-मटोल चुचियाँ देख कर मेरे तन बदन में आग लग गयी।

वो सीधी आकर मुझसे पीछे से लिपट गयी और मेरी गर्दन और पीठ पर लगातार चूमने लगी.

उसकी छेड़खानी से मेरे लंड में तनाव आने लगा था और मैं भी उसके नाजुक स्पर्श से उत्तेजित होने लगा था.
अब मैं सीधा हो गया और उसे अपनी बांहों में कस लिया.

इसी बीच हम दोनों के तौलिये खुल कर गिर गये और हम दोनों नंगे हो गये.

अब शहनाज़ की चुचियाँ मेरी छाती पर दबी हुई थीं. नीचे मेरा लंड उसकी Pink Chut पर दस्तक दे रहा था.
मेरे नंगे बदन के पहले स्पर्श से ही वो बहुत उत्तेजित हो गयी और आहें भरने लगी.

हम दोनों एक दूसरे को किस करने में भी लगे हुए थे.
नीचे मेरे लंड की दस्तक से शहनाज़ की चूत गीली हो गयी थी.

अब मैं अपने दोनों हाथों से उसकी उभरी हुई गोरी गांड को सहलाने लगा तो शहनाज़ मादक सिसकारियाँ लेने लगी।
अब उसकी भी वासना जाग चुकी थी तो वो एक हाथ से मेरी गांड को सहलाने लगी और दूसरे हाथ से लंड को पकड़ कर उसका निरीक्षण करने लगी.

और फिर वो तुरंत बैठ गयी.
शहनाज़ घुटनों के बल बैठ कर मेरे लंड को दोनों हाथों से सहलाते हुए बड़ी उत्सुकता से बोली- हे भगवान!

इतना बड़ा लंड… हाय रे! इतना लंबा और इतना मोटा? क्या यह उचित भी है? आज पहली बार देख रहा हूँ. आज मेरी चूत की खैर नहीं.

जैसे-जैसे वो मुझे सहलाने लगी, मेरा लंड मोटा और लम्बा होता जा रहा था।
उसने दोनों हाथों से उसे दबाया और बोली- मोहित लोहे की तरह सख्त हो गया है.

तुम बहुत भाग्यशाली हो कि तुम्हें इतना मोटा और लम्बा लिंग मिला है. और मैं भी खुशनसीब हूँ कि आज ये मेरी चूत में घुसकर सारी ख़ुशी दे सकता है, मेरी सालों की वासना की आग बुझा सकता है!

इतना कह कर वो अपने गुलाबी होंठों से मेरे लंड के गुलाबी, फूले हुए, नोकदार, स्ट्रॉबेरी जैसे सुपारे को चूमने लगी.

जैसे ही उसके होंठों का स्पर्श मेरे सुपारे पर हुआ, मेरे पूरे शरीर में बिजली दौड़ने लगी और मेरा लंड उत्तेजना में उछलने लगा.

अब शहनाज़ मेरे लंड का सुपारा अपने मुँह में लेकर चूसने लगी.

उसने मेरे गुलाबी सुपारे को चूस-चूस कर पूरा लाल कर दिया था।
मेरा लंड मोटा होने के कारण मुश्किल से मेरा आधा लंड ही उसके मुँह में जा रहा था.

अब उसे सांस लेने में भी दिक्कत हो रही थी तो उसने लंड मुँह से बाहर निकाला और गहरी सांसें लेने लगी.

मैंने उसे खड़ा किया और उसकी चुचियों को सहलाते हुए बारी-बारी से चूसने लगा.

शहनाज़ ने दोनों हाथों से मेरा सिर दबाया और अपनी चुचियाँ चुसवाने लगी और स्स स्स्स… हा हा हाय… आ आ आ हूँ हूँ… जैसी मादक सिसकारियाँ लेने लगी।

अब शहनाज़ कामुक हो गयी और एक हाथ से मेरे लंड को सहलाने लगी.
मैं एक हाथ से उसकी गांड को सहलाते हुए अपनी उंगलियों को गांड की दरार में फिराने लगा.

तो वो कसमसाने लगी, साथ ही मेरा सिर अपनी चुचियों पर दबाने लगी.

अब मैंने उसकी चिकनी और गीली चूत पर हाथ रखा तो वो सिहर उठी और मादक सिसकारियां लेने लगी.
मैं अपनी उंगलियों से उसकी चूत को सहलाने लगा.

तो  बोली- बस करो मोहित, अब बर्दाश्त नहीं होता! जल्दी से अपना मोटा लंड मेरी चूत में डालो और इसकी आग बुझाओ!

उसकी बात सुनकर मेरा लंड Bur Chudai करने के लिए फड़फड़ाने लगा। 

फिर शाहनाज़ दीदी मेरा लंड चूसने लगी। और कुछ देर लंड चूसने के बाद मेरा माल शाहनाज़ दीदी के मुंह और Mote Boobs पर जा गिरा।
शहनाज दीदी की आंखें बंद हो गई और बोली मोहित-मोहित भाई एक बार औऱ।

मेरी बुर फाड़, दो मेरी बुर चोद दे भाई प्लीज।
तेरे भैया महीने में 2 दिन ही आते हैं और ठीक से बुर की चुदाई भी नहीं कर पाते है। तेरा बड़ा लंड देखकर मेरी चुत ने पानी छोड़ रही है
इस चुत की प्यास अपने मोटे लंड से बजा दे भाई, अपनी दीदी को चोदते दीदी की Bur ki Chudai करते दीदी की Gand Chudai करते।

तो मैंने अपने दोनों हाथों से शहनाज़ को उठाया और बिस्तर पर लेटा दिया और मैं उसके ऊपर आ गया।
मैंने उसकी कमर के नीचे एक तकिया लगा दिया ताकि उसकी चूत खुल कर ऊपर आ सके.

प्रिय पाठको, अब तक आपने  Sexy Didi ki Chudai कहानी का मजा लिया होगा.

Lucknow Call Girls

This will close in 0 seconds