मुझे ब्लैकमेल करके आंटी ने चूत मरवाई | हॉट आंटी सेक्स स्टोरी

मुझे ब्लैकमेल करके आंटी ने चूत मरवाई | हॉट आंटी सेक्स स्टोरी

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, मैं आपको एक लड़के की सेक्स लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “मुझे ब्लैकमेल करके आंटी ने चूत मरवाई | हॉट आंटी सेक्स स्टोरी”। यह कहानी रोहित की है, वह आपको अपनी कहानी बताएंगे, मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

देसी हॉट आंटी सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मेरी पड़ोसन आंटी ने मुझे मकान मालकिन को चोदते देख लिया और एक दिन मुझे रोक लिया और ब्लैकमेल करने लगीं।

नमस्कार दोस्तों, मैं आपका दोस्त रोहित Lonavala का रहने वाला हु, मैं अपने जीवन की सच्ची घटना आपके सामने लेकर आया हूं, आशिका अक्सर रात को मेरे कमरे में आती है और फिर हम दोनों रात भर सेक्स करते हैं। हम दोनों की चुदाई लगातार हो रही थी।

एक दिन जब मैं कंपनी से अपने कमरे में आ रहा था तो मेरे पड़ोस में रहने वाली एक आंटी मुझे देखकर मुस्कुराने लगीं। उनकी उम्र करीब 42-44 साल थी। मुझे देख आंटी बोलीं- रोहित क्या बात है, आजकल तो बहुत बिजी हो। मैंने कहा- हां आंटी, उस कंपनी में और भी काम है।

वह हंसने लगी और बोली- हां, आप डबल शिफ्ट में काम करते हैं। मैंने कहा- नहीं आंटी, मैं डबल शिफ्ट नहीं करता। वह हंसने लगी और बोली- अरे, मुझे सब पता है। इन दिनों आप डबल शिफ्ट कर रहे हैं और बहुत मेहनत कर रहे हैं, मुझे सब पता है।

यह कहकर उसने एक आँख बंद कर ली। उसकी बातों और दबती निगाहों से मुझे कुछ समझ आने लगा था और मेरे चेहरे का रंग उड़ने लगा था। मैंने कहा- क्या कह रही हो आंटी? वह हंसते हुए बोली- बेटा, मैं सब जानती हूं। मैंने उम्र ऐसे ही नहीं बिताई है। तुम्हारे बारे में मुझसे कुछ भी छिपा नहीं है।

मैंने कहा- तुम सब… मतलब जानते हो? उसने वही कहा, जो सच है। मैंने कहा- सच क्या है? वह बोली- आशिका जी की। मेरे चेहरे का रंग उड़ गया। फिर भी मैंने कहा- आशिका जी का क्या? उसने कहा- मैं सब जानती हूँ कि रात को आशिका तुम्हारे कमरे में आती है और फिर क्या होता है।

अब मेरे चेहरे का रंग उतर गया है। मैंने दबे स्वर में कहा- ऐसा कुछ नहीं है आंटी। वह कभी-कभी मुझसे बात करने आती है। आंटी बोलीं- हां, मैंने भी देखा कि वह कितनी खुलकर बात करती है। मैं समझ गया कि आंटी ने हम दोनों की चुदाई देख ली है।

मुझे चुप देखकर वह आगे बोली- पता है अगर मैं सबको बता दूं या अम्मा जी को पता चल जाए तो क्या होगा? मैंने कहा नहीं आंटी प्लीज। आप ऐसा नहीं करेंगे। उसने कहा- अच्छा अगर मैं नहीं बताऊंगी तो मुझे क्या फायदा होगा? मैंने कहा- तुम जो कहोगे, मैं करूंगा। लेकिन कृपया किसी को मत बताना।

वह हंसने लगी और बोली- सोचिए? मैंने कहा- हां सोचा, जो कहोगे वही करूंगा। उसने कहा- ठीक है, अब तुम विश्राम कर लो। मैं अपने कमरे में आया और लेट गया। मुझे डर था कि अगर आंटी ने कहीं किसी को बता दिया तो क्या होगा। मैंने सोचा ये बात Ashika को भी बता दूं, फिर सोचा कि बात बड़ी हो तो बवाल न हो।

रात साढ़े नौ बजे आंटी ने दरवाजा खटखटाया। मैंने दरवाजा खोला तो आंटी बोलीं- रोहित मेरे कमरे में आ जाओ, तुम्हें काम है। मैं चुपचाप उनके कमरे में चला गया। वह कमरे में अकेली थी। उसने मुझे बिस्तर पर बिठाया और कहा- तुमने क्या सोचा? मैंने कहा- वही… तुम जो कहोगे मैं वही करूंगा, बस किसी से कहना मत।

उसने कहा- आपके पास एक रास्ता है। मैंने कहा- क्या रास्ता है? उसने कहा- अगर तुम मुझे खुश करोगे तो मैं वादा करती हूं कि मैं किसी से कुछ नहीं कहूंगी। मैं चुपचाप बैठा था। वह बोलने लगी- ज्यादा मत सोचो,  मेरे पास उसकी बात मानने के अलावा कोई रास्ता नहीं था।

मैंने कहा- ठीक है लेकिन अंकल आ गए तो? बोलीं- अंकल 2 दिन के लिए बाहर गए हैं। आंटी ने उठकर दरवाजा बंद किया और अपनी साड़ी उतार दी। अब वो पेटीकोट ब्लाउज में मेरे सामने थी। आंटी की उम्र 44 के आसपास रही होगी, लेकिन वह कांटों सी नजर आती थीं।

उसके बड़े-बड़े स्तन केवल 36 इंच के होंगे, उसकी गांड बाहर की ओर निकली हुई और एकदम गोल थी। आंटी का रंग गोरा था। ब्लैक ब्लाउज और ब्लैक पेटीकोट में वो कयामत लग रही थीं। आंटी ने मेरा हाथ अपने निप्पलों पर रखा और बोलीं- रोहित, अब शुरू होता है।

मैं भी आंटी को देखते ही गर्म होने लगा और ऊपर से उनके बूब्स को मसलने लगा। मैंने ब्लाउज उतार दिया और बूब्स को दबाने लगा। आंटी की कामुक सिसकियां निकलने लगीं। मैंने आंटी को बिस्तर पर लिटा दिया और पेटीकोट उतार दिया। 
आंटी की चूत में एक बाल भी नहीं था और ऊपर का हिस्सा थोड़ा काला दिख रहा था।

मैंने जैसे ही आंटी की चूत में हाथ डाला वो काँप उठी और आह आह आह आह आह करने लगी। मैं समझ गया कि उसकी चुदाई कई दिनों से नहीं हुई है। मैंने धीरे से चूत का चीरा खोला और दाने पर अपनी उंगली फिराने लगा। आंटी ‘ओऊ ऊई आह आह…’ कहकर पांव पटकने लगीं और फुदकने लगीं।

मैंने चूत में उंगली डाल दी। वह तुरंत रोने लगी और कहने लगी ‘उई मां मर गई…’। मैं आंटी के एक निप्पल को दबाने लगा और धीरे-धीरे अपनी उंगली चूत के अंदर-बाहर करने लगा। आंटी की चूत गीली थी और वो जोर-जोर से कराहने लगीं। फिर मैंने दो उंगलियां चूत में डालीं और अंदर-बाहर करने लगा।

वह तेज आवाज में ‘आह ऊई…’ कहते हुए नीचे गिर पड़ीं। अब मैंने अपने कपड़े उतारे और नंगा हो गया। आंटी मेरे लंड को हाथ में लेकर सहलाने लगीं। धीरे धीरे मेरा लंड 7 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा हो गया। यह देख आंटी बोलीं- ओह माय गॉड। मैंने कहा- क्या हुआ?

वो बोली- तुम्हारा लंड बहुत बड़ा है। मैंने कहा- बड़ा होगा तो मजा भी ज्यादा देगा। मैं आंटी के दोनों निप्पलों को मसल कर चूसने लगा। मैंने निप्पल को चूस कर लाल कर दिया और निप्पल बहुत टाइट हो गया। मैंने आंटी को लंड चूसने को कहा। वो बोली- नहीं, मैं लंड नहीं चूसूंगी।

मैंने कहा- ठीक है। मैं अपनी उंगली आंटी की चूत के अंदर-बाहर करने लगा और वो फिर से ‘आह आह उई…’ चिल्लाने लगीं। वो बोलने लगी- अब अपना लंड डालो, उंगली से नहीं। मैं चुपचाप दो उँगलियाँ अन्दर-बाहर करने लगा। वो ऊँगली चुदने से भी मना कर रही थी और अपनी गांड को उठाने में भी मज़ा ले रही थी।

वह चिल्ला रही थी ‘उई ऊई लंड पेल ना अह्ह्ह…’। मैं अपनी उंगली से आंटी की चूत चोदने में लगा हुआ था। मैंने कहा- पहले मेरा लंड चूसो, फिर मैं तुम्हें चोदूंगा। अब आंटी फंस गई थी। वो कुछ नहीं बोली तो मैंने अपना लंड उसके मुँह में डाल दिया और झटके मारने लगा। धीरे धीरे आंटी अब लंड चूसने लगी। मैंने झटका देना बंद कर दिया।

अब आंटी ‘चुप चुप…’ कहकर लंड चूसने लगीं। वो मेरे लंड को प्यार से ऐसे चूस रही थी जैसे उसने लंड चूसने का डिप्लोमा कर लिया हो। कुछ देर बाद मैंने आंटी को बेड पर सीधा लिटा दिया और ऊपर आकर लंड को चूत में रगड़ने लगा। आह भरते हुए कहने लगी-अब मुझे चोदो प्लीज चोदो।

मैंने लंड को चूत में सेट किया और धक्का दे दिया। मेरा आधा लंड अंदर चला गया। आंटी चिल्लाने लगीं ‘उई मर गई, बचा लो, आह मर गई…’। मैंने अपने होंठ उसके होठों पर रख दिए और चूसने लगा। धीरे-धीरे वो भी चूसने लगी। मैंने एक और झटका दिया और पूरा लंड अंदर चला गया।

आंटी सिसकने लगी थीं और उनके बंद होठों से घुघु घुघु की आवाज आ रही थी। आंटी ने बहुत दिनों से सेक्स नहीं किया था। उसकी चूत एकदम नई लड़की की तरह चिपकी हुई थी। मेरा लंड अंदर बाहर जगह बनाने लगा। अब धीरे-धीरे जैसे ही चूत खुलने लगी, लंड तेजी से अंदर-बाहर होने लगा।

थोड़ी ही देर में आंटी का दर्द भी धीरे-धीरे खत्म हो गया था और वह उन्हें पीछे की ओर ले जाने लगीं। मैंने उसके होठों को मुक्त किया और वह आह आह कराहने लगी। आंटी कहने लगीं- आह रोहित मजा आ रहा है… मुझे और जल्दी चोदो… मेरी चूत बहुत देर से लंड के लिए तड़प रही थी… और मेरे पास इतना मस्त लंड था। आज मुझे जोर से चोदो आह आह आह और मुझे तेजी से चोदो।

मैं आंटी के निप्पलों को दबाते हुए झटके मारने लगा और अंदर बाहर चुदाई करने लगा। आंटी की चूत को चोदते हुए मुझे ऐसा लगा जैसे मैं किसी 18 साल की लड़की को चोद रहा हूँ। मैंने अपने लंड की स्पीड बढ़ा दी और तेजी से चोदने लगा। आंटी की चूत ने फिर से पानी छोड़ा और फच फच फच की आवाज आने लगी।

अब मैंने आंटी को घोड़ी बना दिया और उनकी कमर पकड़कर लंड को चूत में घुसा दिया, मैं पूरा लंड अंदर करने के बाद चोदने लगा। आंटी धीरे-धीरे अपनी गांड को आगे-पीछे करने लगीं। अब मैं जोर से झटके मारने लगा और थपथपाने की आवाज आने लगी। मैं आंटी के बड़े-बड़े टाइट बूब्स को मसलते हुए झटके मारने लगा और फुल स्पीड से चोदने लगा।

आंटी- ऊई ऊई आह आह छोड़ और चोद मेरी चूत को फाड़ दो… कब से मेरी चूत को लंड की भूख थी। मैं भी आंटी के निप्पलों को मसलने लगा और तेजी से अंदर बाहर झटके मारने लगा। मैंने आंटी को वापस बिस्तर पर लिटा दिया और उनकी गांड के नीचे तकिया रख दिया।

फिर लंड को चूत में घुसा कर चोदने लगा, दोनों स्तन चूसने लगा और झटके मारने लगा। मेरा लंड अब आंटी की चूत के अंदर तक जा रहा था और आंटी ऊई ऊई आह आह आह आह कहते हुए अपने हाथों को मेरी पीठ पर रगड़ने लगीं। मैं भी अपनी पूरी स्पीड से चोदने लगा और मेरा लंड पिस्टन की तरह अंदर बाहर घूमने लगा था।

मैं जोश में आ गया और आंटी के थनों को काटने लगा, तो वो चिल्लाने लगी ऊई ऊई ऊई। मैं उन्हें कसाई की तरह बेरहमी से चोदने लगा। तेजी से चोदते हुए आंटी की आंखों से आंसू बहने लगे और मैं उनके होठों को चूमने लगा। आंटी का बदन अकड़ गया और उनकी चूत से फिर से पानी निकलने लगा।

फुच फुच फुच कर गीला लंड अंदर बाहर भागने लगा। मैं आंटी के निप्पलों को मसल कर चूसने लगा। झटके मारते हुए मेरे लंड से वीर्य का फुहार छूट गई। आंटी की चूत भर गई और मैं उनके ऊपर गिर पड़ा। दोस्तों, इस तरह मैंने देसी हॉट आंटी सेक्स का फायदा उठाया। अब मुझे उसकी तरफ से कुछ भी उजागर होने की चिंता थी।

अगली सेक्स स्टोरी में मैं आपको बताऊंगा कि आगे क्या हुआ। आप मुझे मेल करें आपको यह देसी हॉट आंटी सेक्स स्टोरी कैसी लगी? अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Lucknow Call Girls

This will close in 0 seconds