बचपन के दोस्त की कॉलेज फ्रेंड की पूरी रात चुदाई करी

बचपन के दोस्त की कॉलेज फ्रेंड की पूरी रात चुदाई करी

आज की हिंदी सेक्स कहानी है “बचपन के दोस्त की कॉलेज फ्रेंड की पूरी रात चुदाई करी” इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

हेलो दोस्तों, मेरा नाम मोहित है। आज मैं Wildfantasy पर अपनी एक नई कहानी बताने जा रहा हूँ। सेक्स कहानियाँ पढ़ने वालों को ये जरूर पसंद आएगी।

मैं बनासवाड़ी (बैंगलोर) का रहने वाला हूँ, मेरी उम्र 23 साल है। मेरा लंड 7 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है। मेरी गर्लफ्रेंड का नाम आशिका है। वह एक खुले विचारों वाली लड़की है। उसका साइज 32-28-34 है।

दोस्तों, उसे चोदने का जो मजा मुझे कभी किसी और के साथ नहीं मिला। उसकी मटकती गांड किसी का भी लंड खड़ा कर सकती है। उसका रंग दूधिया गोरा है, वह अपने बाल खुले रखती है, जो मुझे बहुत पसंद है।

मैंने B.A. कर लिया है, अब मैं अपना काम खुद करता हूँ।

ये कहानी 7-8 महीने पहले की है। एक दिन मेरे दोस्त का फोन आया, मैं उस वक्त घर पर ही था।

उसने मुझसे कहा कि आज रात वो अपनी गर्लफ्रेंड के साथ कहीं बाहर एक कमरे में रुकेगा। उसने मुझे साथ आने के लिए कहा क्योंकि उसके साथ एक और लड़की थी।

मैंने उससे हां कहा। कुछ देर बाद वो आया तो मैं भी उसके साथ कार में बैठ गया। जब मैंने उस दूसरी लड़की को देखा तो मुझे पता चला कि वह आशिका थी और मेरे ही कॉलेज में पढ़ती थी।

मैंने आशिका से हाथ मिलाया और पूनम (दोस्त की गर्लफ्रेंड) को भी नमस्ते कहा। हम  निकले। रास्ते में मेरी आशिका से बात हुई। जब तक हम सब कमरे में पहुँचे, अंधेरा हो चुका था। उसने अपने साथ लाए कपड़े बदले।

इसके बाद हम सब एक साथ बैठकर बातें कर रहे थे। साथ ही ड्रिंक्स पार्टी करने की बात भी शुरू हो गई।

आशिका ने मुझसे शराब मांगी।

दोस्तो, अगर कोई खूबसूरत लड़की शराब मांगे तो आप कैसे मना कर सकते हैं?

मैने हां कह दिया।

हम चारों शराब पीते थे, लेकिन हमें कभी-कभी ही पीना पसंद था। हम सभी ने ब्लैक डॉग पीने का फैसला किया।

हम चारों कार में बैठे और बाहर जाकर शराब का स्वाद चखा। खाना भी पैक करवाया। इसके अलावा काफी सामान भी उठा ले गए।

इसके बाद हम वापस कमरे में आ गये।

कमरे में पहुँचते ही हमने शराब पीना शुरू कर दिया। सबने पहले पैग जम कर बनाया, फिर धीरे-धीरे हम चारों ने पूरी बोतल खाली कर दी।

आशिका काफी नशे में थी। मैं भी नशे में था। हमने दाऊ का खाना चख लिया था इसलिए हमने हल्का खाना ही खाया।

मेरा दोस्त पूनम को लेकर दूसरे कमरे में चला गया। अब इस कमरे में मैं और आशिका ही बचे थे।

मैं सिगरेट पीने लगा। शराब का नशा और फिर हाथ में सिगरेट के बाद सामने किसी वेश्या को देखकर मूड बनने लगता है।

यही हुआ, आशिका को देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया था, पर मैं उसकी इजाजत के बिना कुछ नहीं कर सकता था। बस उसके चूचों को कामुक नजरों से देखे जा रहा था।

आशिका भी मेरे फूले हुए लंड को देख रही थी। उसने मुझसे सिगरेट मांगी। मैंने डिब्बा उसकी ओर बढ़ा दिया।

उसने सिगरेट जलाई और मेरे लंड की ओर धुआं उड़ाने लगी। जब मैंने उसे ऐसा करते देखा तो वो मुस्कुरा दी।

फिर उसने कहा- यार, मेरे सिर में दर्द हो रहा है।

उस समय काफी देर हो चुकी थी।

मैंने आशिका से कहा- तुम लेट जाओ, मैं तुम्हारा सिर दबा देता हूँ।

आशिका ने सिगरेट बुझा दी और अपना सिर मेरी गोद में रख दिया जो सीधे मेरे लंड को छू गया। उसने भी मेरे खड़े लंड को महसूस कर लिया।

मैं उसका सिर दबाने लगा। साथ ही उसका सिर अपने लंड पर बहुत ज्यादा दबाने लगा।

थोड़ी देर बाद उसने करवट बदली और अब उसका मुँह मेरे लंड के पास था। शायद नशे के कारण उसे होश नहीं था। उसकी आंखें बंद थी।

मैंने उसे अपनी तरफ लिटा लिया, फिर मैं भी उसके साथ सो गया। मैंने हिम्मत करके उसके स्तन पर हाथ रखा तो वो सो रही थी।

आशिका की तरफ से कोई विरोध नहीं हुआ। तो मैंने धीरे-धीरे उसके चूचों को दबाना शुरू कर दिया। मुझे उसके स्तन दबाने में बहुत मजा आ रहा था।

फिर मैंने अपना दूसरा हाथ उसकी छाती पर रखा और वो थोड़ा सा कराह उठी।

अब उसका शरीर गर्म होने लगा था। मैंने उसकी टी-शर्ट ऊपर उठाई तो वो थोड़ा हिल गई, जिससे मैंने उसकी टी-शर्ट ऊपर उठा दी।

उसके व्यवहार से मुझे लगा कि वो अभी तक सोई नहीं है। इससे मुझे हिम्मत मिली और मुझे लगा कि आज तो चूत बज कर रहेगी।

अब मैं एक हाथ से आशिका के मम्मे दबा रहा था और दूसरा हाथ धीरे-धीरे उसकी पैंटी के ऊपर पहुँच गया था।

उसकी पैंटी गीली थी, जिससे मुझे यकीन हो गया कि वो अभी सोई नहीं है और चुदाई करवाना चाहती है।

मैंने बेधड़क अपना हाथ आशिका की पैंटी के अन्दर डाल दिया और उसकी चूत को छेड़ने लगा।

वह इसे सहन नहीं कर सकी और कराहते हुए उठ बैठी। वो अचानक मेरे ऊपर आ गई और मेरे होंठों को चूमने लगी।

मुझे हरी झंडी मिल गयी थी। मैं उसे जोर जोर से चूमने लगा। हम दोनों खुल कर किस करने लगे। किस करते करते मैंने उसके सारे कपड़े उतार दिए और उसने मेरे।

सस्ती और सेक्सी लड़कियां चुदाई के लिए बुक करे :

तभी उसका हाथ सीधे मेरे लंड पर आ गया, जो अब अपने विकराल रूप में पहुँच चुका था। उसने मेरा लंड अपने हाथ में ले लिया और उसे आगे-पीछे करने लगी।

दोस्तों मैंने पहले कभी सेक्स नहीं किया था। अब तक मैं अपने लंड का हस्तमैथुन अपने हाथ से ही करता था। आज मुझे एक लड़की के हाथ से अपना लंड हिलाने में बहुत मजा आ रहा था।

आशिका मेरी गर्दन को चूम रही थी। फिर मैंने उसे लेटा दिया और उसके ऊपर आ गया और उसे चूमने लगा।

मैं उसके बालों को सहलाते हुए उसके कानों को चूमने लगा, जिससे वो सिहर उठी और अपनी चूत को लंड पर दबाने लगी।

मैं उसे चूमते हुए नीचे आया और आशिका की चूत चाटने लगा। जैसे ही मैंने अपनी जीभ उसकी चूत पर रखी तो वो बिना पानी की मछली की तरह उछलने लगी। वो मेरे सर को अपनी चूत में दबा रही थी।

फिर मैं 69 में घूम गया और अपना लंड उसके मुँह के सामने रख दिया। लेकिन उसने लंड को मुँह में लेने से मना कर दिया। मेरे थोड़े से दबाव के बाद आशिका ने लंड चूसना शुरू कर दिया।

कुछ पल बाद वो लंड को लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी और हाथ से आगे-पीछे करने लगी। उसकी चूत पानी छोड़ रही थी।

फिर उसने अपनी चुप्पी तोड़ी और बोली- अब मैं अपने आप पर कंट्रोल नहीं कर सकती, जल्दी से अन्दर डालो। मैं इसे अब और सहन नहीं कर सकती।

मैंने भी सोच लिया कि लोहा गरम है … चोद ही दूंगा कुतिया को।

उसने अपनी टांगें खोल दीं और मेरे लंड के नीचे लेट गयी। उसने अपनी टांगें किसी रंडी की तरह उठा कर हवा में फैला दीं।

मैं उसकी टांगों के बीच आ गया और अब मेरा लंड उसकी चूत से टकरा रहा था। मैंने लंड हाथ में लिया और चूत पर रगड़ने लगा।

आशिका से अब बर्दाश्त नहीं हो रहा था तो उसने लंड हाथ में लिया और अपनी चूत पर रख लिया। मैंने भी हल्का सा धक्का दे दिया। मेरे लंड का अगला भाग अन्दर घुस गया।

सुपारा घुसते ही आशिका को दर्द हुआ। वो थोड़ा ऊपर की ओर बढ़ी और मैंने अगला धक्का लगा दिया।

मेरा आधे से ज्यादा लंड चूत में चला गया था। हालाँकि आशिका पहले ही चुद चुकी थी। उसकी सील पहले से ही टूटी हुई थी। फिर भी उसे दर्द हो रहा था।

अब वो मुझे गाली देने लगी और बोली- आह साले … आराम से कर … अभी पूरी रात बाकी है … मादरचोद तूने तो जान ही निकाल दी।

वो दर्द के मारे ‘आहह… उआहह।।’ करने लगी।

मैं अपने लंड को आगे-पीछे करने लगा।। साथ ही मैं उसके चूचे भी दबा रहा था। इससे उसे राहत मिली और उसने गांड उठा कर मेरा साथ दिया।

अब मैंने भी स्पीड थोड़ी बढ़ा दी। कुछ ही देर में उसकी चूत ने ढेर सारा पानी छोड़ दिया था, जिससे लंड आसानी से अन्दर-बाहर हो रहा था।

पहली चुदाई 3-4 मिनट तक चली, फिर मैंने अपना सारा वीर्य उसकी चूत में डाल दिया। हम दोनों मस्ती में खोये रहे।

कुछ मिनट बाद वो मेरे लंड को सहलाने लगी और मुझे दूसरी पारी खेलने के लिए तैयार करने लगी।

दो मिनट बाद मेरा लंड फिर से तैयार हो गया। अब मैं नीचे लेटा हुआ था और आशिका मेरे ऊपर थी।

उसने लंड को हाथ में पकड़ कर अपनी चूत उसमें फंसा ली और लंड के ऊपर बैठ गयी। कुछ ही देर में उसने पूरा लंड अपनी चूत में ले लिया और उछलने लगी।

पूरा कमरा थप थप की आवाज से गूंज रहा था। उसकी चूत से पानी निकल रहा था।

फिर कुछ देर बाद मैंने उसे घोड़ी बना दिया और मैं उसके पीछे आ गया। मैंने अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया और फिर से चोदने लगा।

अब वो मजे से बोल रही थी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… और जोर से करो… और तेज करो… और तेज करो… मुझे तेजी से चोदो… फाड़ दो मेरी चूत… आह… इसका छेद बना दो… मुझे और तेजी से चोदो…होने ही वाला है… माँ का लौड़ा जोर से चोदता है।

मैं उसे लगातार चोद रहा था। तभी उसकी चूत ने गर्म पानी छोड़ दिया और वो निढाल होकर गिर गयी। लेकिन मेरा काम अभी पूरा नहीं हुआ था। मैंने उससे अपनी पोजीशन बदलने को कहा।

फिर मैंने उसे दीवार के पास खड़ा किया और झुकाकर उसकी चूत को पीछे की तरफ ले गया। फिर मैंने तुरंत अपना लंड उसकी फूली हुई चूत में डाल दिया।

वो एक बार कराह उठी, फिर उसने लंड लिया और मजा लेने लगी। मैं जोर जोर से लंड को अन्दर बाहर कर रहा था।

उसकी गांड भी मेरे लंड की ताल पर थिरक रही थी। जोरदार चुदाई शुरू हो गई। मैं आंखें बंद करके चुत चुदाई का मजा ले रहा था।

उसकी चूत से निकले पानी की वजह से मेरा लंड तुरंत उसकी चूत से बाहर आ गया और उसकी गांड में घुस गया।

अचानक लंड घुसते ही उसकी चीख निकल गयी। इससे उन्हें काफी दर्द भी हुआ।

लेकिन लंड उसकी गांड में घुसता ही जा रहा था, इसका एक कारण यह था कि उसकी चूत से टपकता रस उसकी गांड को चिकना बनाये हुए था।

इसलिए जब लंड उसकी गांड से टकराता था तो चिकनाई के कारण लंड उसकी गांड में घुसता चला जाता था।

इस समय मेरा लंड उसकी गांड में काफी अंदर तक घुस चुका था और वो दर्द से कराह रही थी।

मैंने उसके चूचों को दबाना शुरू कर दिया और आगे की ओर मुंह करके उसके होंठों को अपने होंठों में ले लिया।

मैं उसके निपल्स को अपनी उंगलियों से सहला रहा था। चुम्बन और निपल्स को भींचने से उसे राहत महसूस हुई और वो अपनी गांड के दर्द को भूलने लगी।

उसका दर्द कम होता गया।

मैंने फिर से अपना लंड उसकी गांड से निकाला और उसकी चूत में डाल दिया। उसे मजा आने लगा।। तो मैंने उसे फिर से जोर-जोर से चोदना शुरू कर दिया।

करीब 15 मिनट की चुदाई में वो एक बार चरमसुख प्राप्त कर चुकी थी। इस बार मैंने अपना लंड बाहर निकाला और हाथ से हिलाते हुए सारा वीर्य उसकी पीठ पर गिरा दिया।

वह बहुत खुश थी। उसने मुझे एक बहुत लंबा चुम्बन दिया। मुझे बहुत मज़ा आया।

आशिका बोली- वाह … तुमने तो खुश कर दिया… पहले कहां थे?

मैं हंस पड़ा और हम दोनों एक बार फिर से चुदाई के अगले दौर की तैयारी करने लगे।

मैंने सिगरेट जलाई और उसकी तरफ धुंआ छोड़ा और उसे गांड से लेने को कहा। उसने मेरे हाथ से सिगरेट ले ली और मेरे लंड पर धुआं छोड़ते हुए सिर हिलाया।

हम दोनों ने एक बार और सेक्स किया। इस बार मैंने शुरुआत उसकी गांड से की। फिर चूत भी चोदी। करीब आधे घंटे की चुदाई के बाद हम दोनों नंगे ही एक साथ सो गये।

सुबह चार बजे उठे। जागते ही हम दोनों ने एक बार फिर से सेक्स किया और फिर अपने कपड़े पहन लिए।

इसके बाद हम दोनों फिर सो गये। जब मैं उठा तो सुबह के 7 बज रहे थे। मेरे दोस्त ने हम दोनों को उठाया था।

हम सबने ढाबे पर जाकर चाय पी और दोनों को वापस छोड़ आये।

इसके बाद आशिका और मैंने कई बार सेक्स किया।

तो दोस्तो, आपको मेरी यह चुदाई की कहानी कैसी लगी, जरूर बताएं।

अगर आपको यह फ्रेंड की पूरी रात चुदाई करी कहानी पसंद आई तो हमें कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं।

यदि आप ऐसी और चुदाई की सेक्सी कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “Wildfantasy.in” पर पढ़ सकते हैं।

Dehradun Call Girls

This will close in 0 seconds