प्यारी भाभी का देवर दीवाना – देवर भाभी XXX कहानी भाग – 2

प्यारी भाभी का देवर दीवाना – देवर भाभी XXX कहानी भाग – 2

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “प्यारी भाभी का देवर दीवाना – देवर भाभी XXX कहानी भाग – 2 ”। यह कहानी नीलेश की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

देवर भाभी XXX कहानी में मुझे अपनी भाभी से प्यार हो गया, लेकिन इस प्यार में वासना भी थी. मैं अपनी भाभी के बारे में सोच कर मुठ मारता था. आखिरकार मुझे अपनी भाभी के साथ सेक्स करने का मौका मिल ही गया.

कहानी के पहले भाग: देवर भाभी XXX कहानी में आपने पढ़ा कि मेरे भाई की शादी हो गयी, भाभी को बच्चा हुआ, भाई नहीं आ सका, मैंने भाभी की सेवा की।

अब आगे की देवर भाभी XXX कहानी:

लेकिन जब तक भैया थे, मुझे भाभी के पास जाने का ज्यादा मौका नहीं मिलता था.

अब मेरा भतीजा 5 महीने का हो गया था.
भैया नोएडा गए थे और शीतल अपने घर.

अब भाभी की सेवा करने के लिए सिर्फ मैं ही था.

एक दिन सुबह-सुबह मैं नहाकर छत पर टहल रहा था।
मैंने सिर्फ तौलिया लपेटा हुआ था.

तभी भाभी छत पर आ गईं.
वो मुझे देख कर मुस्कुरायी और मेरे पास आकर खड़ी हो गयी.

मैं: भाभी आपने भैया के आते ही मुझे नजरअंदाज कर दिया. सही कहते हैं अपने तो अपने होते हैं, बाकी सब सपने होते है।

इस पर भाभी ने मुझे हल्का सा थप्पड़ मारा और बोलीं- तुम तो बहुत बकने लगे हो, तुमने अपनी भाभी को कब याद किया ?

मैं- मैं दिन रात बस तुम्हें ही ढूंढ रहा हूँ! अस्पताल में वो दिन…तुम्हारे साथ बिताए दिनों को याद करके मेरी रातें कट गईं!

भाभी : ठीक है, आपको इतना क्या याद आने लगा?
मैं- एक बात है तो बता दूं… अब ऐसा मौका शायद ही कभी मिलेगा जब तुम मेरे सीने पर सिर रख कर सोओगी.

भाभी बोली- बस इतनी सी बात है… ठीक है, आज माँ के सोने के बाद मेरे पास आना! मैंने तुरंत भाभी का हाथ पकड़ा और चूमा और नीचे की ओर भागा. (देवर भाभी XXX कहानी)

दोस्तो, अब अपने लंड और चूत को पानी छोड़ने के लिए तैयार करो!

दिन अधीरता में बीत गया.
रात हो गयी थी, सबने खाना खा लिया, माँ सोने चली गयी।

भाभी ने भाई को फोन करते समय सिर दर्द का बहाना बनाया और जल्दी सोने का बहाना बना लिया.
फिर उसने मुझे व्हाट्सएप पर मैसेज किया- आ जाओ..!

मैंने भी पूरी तैयारी कर ली थी, अपने बाल और बगल साफ़ कर लिए थे और बॉडी स्प्रे लगा लिया था।

मेरी भाभी को डेयरी मिल्क पसंद है, इसलिए मैंने उनके लिए एक डेयरी मिल्क चॉकलेट खरीदा।

भाभी के कमरे में जाने से पहले मैंने अपना अंडरवियर उतार दिया और सिर्फ शॉर्ट्स पहन लिया.

अब मैं भाभी के कमरे में हूं.

भाभी नीले नाइट बल्ब की रोशनी में लाल नाइटी पहने हुए बिस्तर पर बैठी हैं।
कमरे में एक अजीब सी मादक गंध फैली हुई है.

मैंने लाइट जला दी, भाभी उठकर मेरे बिल्कुल करीब आ गईं और बिना कुछ बोले लाइट बंद कर दीं।
फिर वो मेरा हाथ पकड़ कर बिस्तर के पास आई और धीरे से बोली- नीलेश, ऊपर चढ़ जाओ.

मैं- किस पर?
भाभी : तुम्हे कहाँ चढ़ना है?
मैं: आप मुझे कहां चढ़ा सकते हैं?

भाभी: तो फिर आ जाओ और बिस्तर पर चढ़ जाओ!
इतना कह कर Maahi भाभी ज़ोर से हंस पड़ीं.

मैं चुपचाप बिस्तर पर चढ़ कर बैठ गया.

भाभी ने बच्चे को बिस्तर से उठाया और पालने में सुला दिया और मेरे पास आकर बैठ गई- अब बताओ, तुम्हें क्या याद आ रही थी? मैं- मेरी प्यारी भाभी.. जो मेरे सीने पर सिर रख कर सोती थी। (देवर भाभी XXX कहानी)

भाभी चुपचाप मेरी छाती पर सिर रख कर लेट गईं.

अब तक मेरी हालत ख़राब होने लगी थी.
एक तो भाभी की ये अदाएं… ऊपर से वो मादक खुशबू… फिर ये नीली रोशनी!

मैं कुछ नहीं कह रहा था.
भाभी भी चुप थी.

इधर मेरा लंड ठीक उसके चेहरे के सामने खड़ा था और शॉर्ट्स से बाहर आने को बेताब था.

मैंने अपनी जेब से डेयरी मिल्क निकाला और भाभी से कहा- भाभी, ये आपके लिए है.. आपको पसंद है ना?
भाभी: वाह नीलेश, तुम कितने प्यारे हो!

ये कह कर वो चॉकलेट खाने के लिए उठने लगी.
तभी उसका हाथ मेरे लंड पर आ गया!

भाभी : एक तो तुमने मुझे दे दिया, दूसरा किसके लिए छिपा रखा है?
मैं- भाभी, वो चॉकलेट नहीं है!
भाभी : मुझे दिखाओ यह क्या है?

ये कहते हुए उसने फिर से अपना हाथ मेरे लंड पर रख दिया.
मेरा दिमाग अचानक सुन्न हो गया.

उसने अचानक अपना हाथ हटा लिया और बोली- तुम तो एकदम बड़े हो गये हो. यह आपका ‘वो’ है. लेकिन ऐसा क्यों हुआ, शैतान? मुझे शर्मिंदगी महसूस हुई। (देवर भाभी XXX कहानी)

भाभी फिर से छाती पर सिर रखकर लेट गयी और चॉकलेट खाने लगी.
मैं उसकी पीठ और कमर को सहलाने लगा.

कुछ देर बाद भाभी बोली- बाबू, अब मुझे नींद आ रही है!
मैंने कहा- ठीक है तो क्या मैं जाऊं?

वो बोली- नहीं, यहीं सो जाओ!
और उसने मुझे कस कर गले लगा लिया, उसके Big Boobs मेरी जाँघों से चिपक गये।

मैं भी नीचे सरक कर भाभी के सामने लेट गया.
उसने अपना एक हाथ मेरी छाती पर रखा और एक प्यारी सी मुस्कान दी और अपनी आँखें बंद कर लीं।

इतना सब होने के बाद भी कोई हिजड़ा ही होगा जो इससे आगे कुछ न करे.
मैं अपनी भाभी के साथ ऐसे ही प्यार करना चाहता था.

मेरी आँखों में नींद नहीं थी.. तो मैं भाभी के सोने का इंतज़ार करने लगा।

कुछ देर बाद भाभी सो गईं.

अब मैं अपने काम में व्यस्त हो गया.
मैंने भाभी को अपनी बांहों में ले लिया.

उसके होंठ मेरे होंठों के बहुत करीब थे, उसकी साँसें मेरे होंठों पर महसूस हो रही थीं। भाभी के स्तन मेरी छाती से छू रहे थे और मेरे हाथ उनकी पीठ और कमर पर चलने लगे।

कुछ देर बाद मेरी हिम्मत बढ़ने लगी, मैंने भाभी को हल्के से धक्का दिया और वो सीधी लेट गईं। अब मैंने धीरे से उसकी नाइटी के बटन खोले और उसके स्तनों को सहलाने लगा। (देवर भाभी XXX कहानी)

ऐसा लग रहा था मानो मैं स्वर्ग में हूँ, मुझे बिल्कुल भी डर नहीं लग रहा था।

फिर मैंने अपना शॉर्ट्स नीचे खींच लिया और अपना लंड बाहर निकाल लिया.
मैंने भाभी का हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रख दिया और दबाने लगा.
मेरे मुँह से कराहें निकलने लगीं.

अब मैं भाभी की नाइटी को ऊपर उठाने लगा और अपना लंड उनकी जांघ पर रख कर रगड़ने लगा.

तभी मुझे एक झटका लगा.
ये क्या… भाभी ने पैंटी ही नहीं पहनी है… उनकी चिकनी Tight Chut मेरे सामने खुली पड़ी है.

मैंने धीरे से अपना हाथ उसकी चूत पर रखा और उसे धीरे से फैलाया और बीच में एक उंगली से रगड़ने लगा।

भाभी की चूत गीली हो चुकी थी.
मतलब भाभी जाग रही थी.

मेरी हिम्मत सातवें आसमान पर पहुँच गयी.

यह सोच कर कि भाभी जाग रही है, उत्तेजना में मैंने धीरे से एक उंगली भाभी की गीली चूत में डाल दी।
उसके मुँह से हल्की सी आह आह की आवाज निकली और वो अचानक मेरी तरफ घूम गया.

उसकी आँखें अभी भी बंद थीं.
मेरे होंठ ठीक माही भाभी के होंठों के सामने थे.

मैंने हिम्मत जुटाई और दूसरे हाथ से भाभी का स्तन पकड़ कर दबा दिया।
उसकी आँखें अभी भी बंद थीं।

मैं चाहता था कि भाभी पहल करें.
तो मैंने एक बार फिर से पूरी उंगली चूत के अन्दर डाल दी और फिर उंगली बाहर निकाल कर उससे चिपक कर लेट गया.

इधर भाभी भी पूरी गर्म हो चुकी थी.
लेकिन वो पहल करने में झिझक रही थी!

लेकिन 5 मिनट के बाद उसने अपनी एक टांग उठाकर मेरे ऊपर रख दी और अपना हाथ बढ़ाकर मेरा लंड पकड़ लिया.

जैसे ही उसने मेरा लंड पकड़ा, उसके होंठ अचानक कांपने लगे.
मैंने बिना समय बर्बाद किये उसके होठों को चूम लिया।

मेरी इस हरकत से भाभी पागल हो गईं और उन्होंने मुझे कस कर अपनी बांहों में पकड़ लिया और मेरे होंठों को चूसने लगीं.

मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मैं सातवें आसमान पर हूँ- भाभी, आप क्या कर रही हैं?
भाभी: अपने पति से प्यार!
मैं- भाभी…आई लव यू!
भाभी: भाभी नहीं!

मैं- माही आई लव यू!
भाभी- मैं भी तुमसे प्यार करती हूँ नीलेश!

सच्चे प्यार भरे सेक्स के एहसास ने हम दोनों की साँसें तेज़ कर दीं। भाभी ने अपनी जीभ मेरे मुँह में डाल दी, मैं उनकी जीभ चूस रहा था।

मैं माही भाभी के स्तन सहला रहा था और भाभी मेरा लंड सहला रही थी। कुछ देर बाद माही उठी, कमरे की लाइट जलाई, खिड़की बंद की और अपने सारे कपड़े उतार दिये। (देवर भाभी XXX कहानी)

मेरी आधी पत्नी माही मेरे सामने पूरी नंगी थी.
उसके बड़े बड़े मम्मे और तरबूज जैसी Moti Gand देख कर मेरा लंड पागल हो गया.

तभी भाभी आईं, मुझे भूखी बिल्ली की तरह पूरा नंगा कर दिया और मेरे लंड की चमड़ी नीचे खींच कर लंड के टोपे को चूसने लगीं।

भाभी पूरी तरह से मेरे लंड को अपने मुँह में लेने की कोशिश कर रही थीं.
आज पहली बार कोई औरत मेरा लंड चूस रही थी.

लगभग 10 मिनट तक चूसने के बाद मेरे लंड ने भाभी के मुँह में वीर्य छोड़ दिया, उसमें से कुछ माही पी गयी और कुछ अपनी जीभ और होंठों से मेरे लंड पर मल दिया।

वीर्य निकलने के बाद मेरा लंड ढीला पड़ने लगा.
लेकिन भाभी फिर भी मेरा लंड चूसती रही.

करीब 15 मिनट तक लगातार चूसने के बाद मेरा लंड फिर से तैयार हो गया.

फिर मैं अपनी प्यारी भाभी के ऊपर चढ़ गया और उसे चूमने चाटने लगा.
मैंने भाभी के स्तनों को मसल कर लाल कर दिया और जगह जगह काटने के निशान छोड़ दिये।

फिर भाभी ने मेरा सिर पकड़ लिया और अपनी चूत पर नीचे की ओर धकेलने लगीं.
मैं समझ गया कि मुझे क्या करना है.

मैंने माही की कमर के नीचे दो तकिये रख दिए और उसकी दोनों टाँगें फैला दीं और भाभी की चूत को सूंघने लगा।

मैंने अपनी जीभ से प्यूबिक एरिया को चाटा और चूमा और धीरे से दो उंगलियों से चूत को खोला और फिर अपनी जीभ को चूत के अंदर डाल दिया। (देवर भाभी XXX कहानी)

ऐसा लग रहा था मानो भाभी को कुछ हो गया हो… उन्होंने अपने दोनों पैरों से मुझे पकड़ लिया और अपने हाथों से मेरा सिर अपनी चूत में दबा लिया।
भाभी जोर जोर से कराहने लगी. उसके मुँह से निकलने वाली ये आवाजें मुझे और भी पागल बना रही थीं.

मैंने भाभी की चूत में एक उंगली डाल दी.
और भाभी के मुँह से आवाज आई- आ आह हह नीलेश, इस खजाने का सारा माल चूस लो मेरी जान!

मैं भी उसके दोनों मम्मों को दबाने लगा और वो जोर-जोर से कराहने लगी.

फिर मैंने अपनी एक उंगली भाभी के मुँह में डाल दी, जिसे वो लंड की तरह चूसने लगीं.

लेकिन मेरे मन में शैतान था.
भाभी को ये बात कैसे समझ आई होगी?
मैंने भाभी के मुँह से वो गीली उंगली निकाली और सीधे भाभी की गांड के छेद में दबा दी.

उफ़्फ़ क्या कसी हुई गांड है भाभी की!
उंगली अन्दर जाते ही भाभी ने अपनी कमर उठा दी, जिससे उनकी चूत मेरे मुँह में फिसल गयी.
और भाभी के मुँह से उफ़्फ़ आ ह्ह्ह ह्म्फ़ जैसी आवाज़ आने लगी.

5 मिनट तक गांड में उंगली से चोदने और चुत चाटने के बाद भाभी ने अपनी चुत का नमकीन रस मेरे मुँह में छोड़ दिया, जिसे मैंने पूरे मन से पी लिया.

फिर मैं उसके बगल में आकर लेट गया और उसकी चूत को सहलाने लगा और उसके स्तनों से खेलने लगा।

भाभी: नीलेश, बताओ आज भाभी का स्वाद तुम्हें कैसा लगा?
मैं- भाभी, ये महसूस करने की चीज है, बताने की नहीं!

ये कहते हुए मैं भाभी के होंठों पर टूट पड़ा.
फिर मैंने जी भर कर भाभी के स्तन पिये, उनमें से दूध निकल रहा था जिसका स्वाद थोड़ा नमकीन और थोड़ा मीठा था।
मैंने इसे बहुत पसंद किया।

मैं: भाभी, आप वादा करो कि जब तक आपके स्तनों से दूध निकलता रहेगा, तब तक आप मुझे हर दिन इसी तरह स्तनपान कराओगी। भाभी भी बिना किसी नखरे के मेरी बात मान गईं. (देवर भाभी XXX कहानी)

अब हम 69 पोज़ में आ गये.
मैंने अपना मुँह उसकी गुलाबी चूत पर रख दिया और अपनी जीभ से चाटने लगा।
और वो भी मेरा पूरा लंड अपने मुँह में लेने लगी.

भाभी फिर से उत्तेजित हो गईं और बोलीं- मेरी जान, अब मुझसे नहीं रुका जाता. अब अपना लंड मेरी चूत में डालो. कब तक मुझे सताने का इरादा है?

मैं अपना लंड चूत के पास लाया, लंड पर थूक लगाया और लंड को चूत पर रख कर रगड़ने लगा.
भाभी उफ़ उफ़ करने लगीं.

फिर मैंने जोर से धक्का मारा और पूरा लंड उसकी चूत में घुस गया.
भाभी जोर-जोर से कराहने लगी ‘उम्म्म ओह मर गई… ओह्ह बस हो गया… बब्बस’।

मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और भाभी की Chut Chudai करने लगा.
स्पीड लगातार बढ़ती जा रही थी और उसकी कराहें तेज़ होती जा रही थीं।

मैंने उसकी चूत को काफी देर तक चोदा.
फिर मैंने उसे घोड़ी बनाया और उसकी चूत में अपना लंड सैट किया और एक जोरदार धक्का लगा दिया.
पूरा लंड उसकी चूत में घुस गया.

आधे घंटे तक लगातार जोरदार चुदाई के बाद भाभी की चूत ने अपना माल छोड़ दिया.

अब भाभी को फिर से सीधा लिटाकर मैंने उनकी एक टांग अपने कंधे पर रखी और अपना लंड उनकी चूत में डाल दिया.
दो-तीन मिनट के जोरदार धक्को के बाद मेरे लंड ने भी दम तोड़ दिया.

मैंने झट से अपना लंड चूत से निकाला और सारा वीर्य भाभी के पेट पर छोड़ दिया.
भाभी ने अपनी चूत और मेरे लंड को अच्छे से साफ किया और फिर हम एक दूसरे से चिपक कर सो गये.

मैं सोया हुआ पड़ा था.
मुझे ऐसा लगा जैसे कोई मेरे लंड को सहला रहा हो.

जब मैंने आँख खोली तो मेरी आधी पत्नी माही का हाथ मेरे लंड पर था. वो मेरे लंड को हल्के हल्के से मसल रही थी.
जिससे मेरी नींद खुल गई. (देवर भाभी XXX कहानी)

मैंने भाभी से समय पूछा तो बोलीं- अभी 5:15 बजे हैं.
अब मेरा लंड खड़ा हो गया था.

मैंने माही को अपनी ओर खींच लिया और उसके होंठों को अपने होंठों में दबा लिया और चूसने लगा.
मेरी आधी पत्नी माही भी मेरा साथ देने लगी. (देवर भाभी XXX कहानी)

हम दोनों पांच मिनट तक एक दूसरे को चूसते रहे.

फिर भाभी नीचे गईं और मेरा लंड मुँह में लेकर चूसने लगीं.

मेरी आधी बीवी भी मेरे लंड को चूस चूस कर गीला कर रही थी.

कुछ ही पलों में मेरा छह इंच का लंड सख्त रॉड बन चुका था.
बस उसके बाद मैंने भाभी को अपने लंड से चोदा.

अब ये हम दोनों का रोज का काम है.
अब हम दोनों भाई की अनुपस्थिति में पति-पत्नी की तरह रहने लगे।

आप सभी को मेरी सच्ची देवर भाभी XXX कहानी कैसी लगी नीचे कमेंट्स या मेल में लिखकर बताएं।

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Lucknow Call Girls

This will close in 0 seconds