कॉलेज गर्ल की पहली बुर चुदाई | College Girl Sex

कॉलेज गर्ल की पहली बुर चुदाई | College Girl Sex

वर्जिन College Girl Sex स्टोरी एक देसी लड़की की है जो सेक्स का मजा तो लेना चाहती थी लेकिन पहली बार में लंड से होने वाले दर्द से डरती थी. वो पहली बार कैसे चुदी?

सुनिए ये कहानी.

सभी दोस्तों को चित्रा का प्यार भरा नमस्कार!

wildfantasystory.com पर यह मेरी पहली कहानी है।
दोस्तो, मुझे कहानी लिखने का कोई अनुभव नहीं है लेकिन फिर भी मैंने लिखने की कोशिश की है।

वैसे मैं यहां बिल्कुल नयी हूं इसलिए यह मेरी नैतिक जिम्मेदारी बनती है कि मैं मुझे आप सभी से मिलवाऊं ताकि आप सभी मुझे जान सकें।

मेरा नाम चित्रा है और मैं 23 साल की Delhi के एक बड़े बिजनेसमैन की इकलौती लड़की हूं और मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस कर रही हूं।

मैं एकदम दूध जैसी गोरी हूँ और मेरी हाइट 5 फुट 6 इंच है. मेरा फिगर 36-26-34 है.

क्या मैं आप सबको बोर कर रही हूँ?
मैं अपनी वर्जिन College Sex Stories पर आती हूँ।

बात आज से करीब एक साल पहले की है. मैं शहर में नयी थी। इसलिए मैंने हॉस्टल की बजाय एक प्राइवेट कॉलोनी में एक कमरा किराये पर ले लिया.

उस घर में चाचा, चाची और एक बेटा रहते थे.
उन्होंने मुझे पहली मंजिल पर एक कमरा दे दिया.

मैंने आंटी के साथ एक साल बहुत मुश्किल से बिताया क्योंकि मैं आंटी से किसी भी तरह की बात नहीं कर पाता था।

खैर, 05 june 2022 को मौसी (गृहिणी) के बेटे की शादी हुई और उनकी बहू आ गयी, जिससे कुछ ही दिनों में मेरी उनकी बहू से पक्की दोस्ती हो गयी.
रस्मों में दिन जल्दी-जल्दी बीत गए और शहनाज को जल्दी-जल्दी अपने मायके जाना पड़ा।

पगफेरा के बाद जब शहनाज ससुराल आई तो हम दोनों घंटों बैठ कर बातें किया करते थे.

मैं- भाभी, आपकी सुहागरात कैसी रही?
शहनाज उदास होकर बोली- चित्रा जी, ऐसे आदमी से शादी करके तो मेरी जिंदगी बर्बाद हो गयी!

मैं- क्यों क्या हुआ? परिवार बहुत अमीर है और भाई का स्वभाव भी बहुत अच्छा है!

शहनाज- चित्रा जी, हनीमून पर एक पत्नी अपने पति से पैसों के साथ-साथ कुछ और भी चाहती है, क्योंकि हनीमून सिर्फ दो शरीरों का ही नहीं बल्कि दो आत्माओं का भी मिलन होता है, लेकिन जब पत्नी के सामने पति नपुंसक हो तो जान पत्नी का पैसा बर्बाद नहीं होता. तो क्या आबाद होगा?

चित्रा जी, मैंने आपके भाई का लंड खड़ा करने की हर तरह से कोशिश की लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ.

अब आप ही बताएं कि ऐसे में हमने हनीमून कैसे मनाया होगा?

मैं- भाभी, इसका मतलब… आप अभी तक वर्जिन हैं?
शहनाज- नहीं Ashika जी, मैं वर्जिन नहीं हूं.
मैं- शहनाज भाभी समझ नहीं आया कि आप क्या कह रही हैं?

शहनाज- Ashika जी, कॉलेज टाइम में, मैं और मेरी कुछ सहेलियाँ wildfantasystory.com पर Hindi Sex Story पढ़ती थीं और हमारा सेक्स करने का मन करता था और हमारे हॉस्टल की ज्यादातर सीनियर लड़कियाँ सेक्स पार्टियों के लिए Top Delhi Escorts Agency से कॉल गर्ल और कॉल-बॉय बुलाती थीं।

मैं- कॉल-बॉय?

शहनाज- हां… एक दिन हमारे हॉस्टल में एक कॉलबॉय आया जिसका लंड बहुत लंबा और बहुत मोटा था.

वो बिना झड़े लगातार काफी देर तक चोदता रहा। उसने मेरी चूत की सील तोड़ दी.

लेकिन फिर मैंने दूसरी एस्कॉर्ट एजेंसी उससे कॉल गर्ल और बॉय बुक करें। पहली बात तो वह बहुत महंगे थे और उनसे उनके साथ सेक्स करने में कोई मजा भी नहीं आया।

लेकिन Delhi Escort Agency के कॉल बॉय से मैंने कॉल करके अपनी Bur ki chudai ,4-5 बार करवाई और अपने आप को संतुष्ट किया।

हर बार मेरा मनचाहा कॉल बॉय और कॉल गर्ल ही आता था

और मेरी चुत की आग को ठंडा करता था कई बार मैंने इस एस्कॉर्ट एजेंसी से Female Escorts भी बुक कराई है Threesome Sex के लिए मैं मेरा बॉयफ्रेंड और कॉल गर्ल तीनों मिलकर थ्री सम वाइल्ड सेक्स करते थे

मैं- शहनाज भाभी, आप तो बहुत एडवांस हैं?

शहनाज- Ashika जी, पेट की आग तो रोटी से बुझ सकती है, लेकिन चूत के लिए लंड तो चाहिए ना?

मैं- हां ये सही है. लेकिन मैं अपनी उंगली से अपनी आग बुझाने की कोशिश करती हूं. मैंने आज तक लंड के बारे में सोचा भी नहीं!

शहनाज- मतलब तुम अभी भी Virgin College Girl हो?
मैं- हां भाभी!

शहनाज- सच में तुमने अभी तक लंड का स्वाद नहीं चखा?
मैं- नहीं भाभी.

लंड लेना चाहोगी या नहीं?
मैं- नहीं भाभी, मुझे बहुत डर लगता है अगर मेरी फट गयी तो?
शहनाज- आज नहीं तो कल फट जाएगी … क्योंकि लंड तो Tight Chut या Moti Gand फाड़ कर ही घुसता है.
मैं- हाँ भाभी, ये सच है लेकिन मुझे डर है कि पता नहीं वो लड़का कितना बड़ा होगा?

शहनाज- यार Ashika, ये तो बहुत बड़ा है और बहुत मोटा भी है. मैं मानता हूं कि शुरुआत में तुम्हें बहुत दिक्कत होगी लेकिन अगर तुम शुरुआती दर्द सहन कर लोगे तो मुझे यकीन है कि बाद में बहुत मजा आएगा.

पहले तो मैं कुछ देर शांत रहा लेकिन जब शहनाज भाभी ने बार-बार जोर देकर पूछा तो बोलीं- अरे, तुम बुक करके बुला लो, जो होगा देखा जाएगा।

थोड़ी ही देर में शहनाज की भाभी ने लड़के को बुलाया और सारी बात बताई.
उस लड़के का नाम मोहित था.

तो उस लड़के ने फोन पर कहा- मैडम, मैं दूसरे क्लाइंट को अटेंड करने जा रहा हूं. अगर आपका कॉल 2 दिन पहले आता तो मैं आपको बुक कर लेता. खैर कोई बात नहीं, मैं कल परसों आपके पास फ्री आ जाऊँगा।

मैं- भाभी ने आने को कहा है लेकिन घर में सब लोग हैं और ये सब कैसे होगा?

शहनाज- डरो मत, मेरे पास इसका भी इंतजाम है. मेरे एक मित्र Green Park में रहते हैं। हम दोनों मोहित को उसके फार्म हाउस पर बुला कर खूब चोदते थे. मैं अभी उसे फोन करूंगा. ठीक है।

मुझे पता चल गया था कि उस कॉलबॉय का नाम मोहित है.

अब शहनाज और भाभी ने बातें करना बंद कर दिया और मैं अपने कमरे में आ गयी।

मैंने आते ही सबसे पहले अपनी सलवार और चड्डी उतारी और अपनी चूत को वीट क्रीम से चिकना किया और कपड़े पहन कर सो गई।

अगले दिन सुबह करीब 10 बजे शहनाज भाभी मेरे कमरे में आईं और बताया कि मोहित कुछ ही देर में मेरे दोस्त के फार्महाउस पर पहुंचने वाला है. इसलिए तुम जल्दी से तैयार हो जाओ, हमें निकलना है.

मैंने तुरंत कपड़े पहने और गुलाबी रंग के सारे कपड़े (ब्रा, पैंटी, ब्लाउज, पेटीकोट और सूती साड़ी) पहने और शहनाज भाभी के साथ कार में निकल पड़ी।

थोड़ी ही देर में मैं और शहनाज भाभी अपनी सहेली कृतिका के घर पहुँच गए और तुरंत कृतिका को साथ लेकर उसके फार्महाउस पहुँच गए।

मैंने पहली बार इतना आधुनिक फार्महाउस देखा जिसमें हर तरह का सामान था.

उस फार्महाउस पर कृतिका का एक केयरटेकर और एक दोस्त था, जिसे कृतिका ने तुरंत छुट्टी पर भेज दिया.

20 मिनट बाद मोहित नाम का वो कॉल बॉय आया.
वह एक फ़ौजी आदमी की तरह बहुत लंबा चौड़ा था।

सबसे पहले उन्होंने कृतिका और शहनाज भाभी को गले लगाया.
और बाद में कृतिका और शहनाज भाभी ने मुझे मोहित से मिलवाया.
तो उन्होंने औपचारिक तौर पर मुझसे हाथ मिलाया.

शहनाज भाभी और कृतिका ने कहा- मोहित, Ashika भी तुम्हारी नई ग्राहक है इसलिए उससे हाथ मत मिलाओ बल्कि उसे गले लगाओ!

तो मोहित ने मुझे गले लगा लिया और मेरे दूध को अपनी छाती पर रगड़ने लगा जिससे मुझे बहुत अजीब महसूस हुआ।

खैर 10 मिनट में शहनाज भाभी और कृतिका दोनों पूरी नंगी हो गईं और उन दोनों ने मोहित को भी पूरा नंगा कर दिया.

जैसे ही मेरी नज़र मोहित के नंगे बदन पर पड़ी तो मैं उसे देखकर दंग रह गई, उसका सिकुड़ा हुआ लंड बहुत बड़ा और मोटा था।

मैं सोचने लगी कि जब यह सिकुड़ कर इतना बड़ा है तो खड़ा होने पर कितना बड़ा होगा?

तो मैं तुरंत शहनाज भाभी के पास गयी और बोला- भाभी, मुझे नहीं चाहिए क्योंकि इसका (मोहित) लंड बहुत बड़ा है. मैं मर जाऊँगी और मैं अभी मरनी नहीं चाहता।

कृतिका, मोहित और शहनाज भाभी ने समझाया- Ashika, लंड से कोई नहीं मरता. ना ही आज तक किसी की मौत हुई है. मुझे और कृतिका को देखो, हम दोनों ऐसे नहीं हो गये हैं. पहले हमारी चूत भी तुम्हारी तरह थी. लेकिन आज हमें हर तरह के लंड लेने में कोई परेशानी नहीं होती बल्कि उल्टा मजा आता है. लेकिन पहले तो इससे हर किसी को तकलीफ़ होती है.
अगर आप छोटे लंड से भी चुदाई करेंगे तो दर्द तो होगा लेकिन ज्यादा मजा नहीं आएगा क्योंकि वो आपके गर्भाशय तक नहीं पहुंच पाएगा और चुदाई का असली मजा तो लंड से लड़की की गर्भाशय को चोट पहुंचाने में ही है, इसलिए फॉलो करें मेरी सलाह और एक बार देख तो लो, बस थोड़ा सा दर्द सहना है, उसके बाद मजा ही मजा है।

शहनाज भाभी की बात से मैं डर गयी और तैयार हो गयी.

तब तक कृतिका ने मोहित का लंड अपने मुँह में ले लिया और लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी.

इधर शहनाज भाभी इस तरह लेट गईं कि कृतिका मोहित का लंड चूस रही थी और मोहित शहनाज भाभी की चूत चाटने लगा.

ये सब देख कर मेरे शरीर में भी चींटियाँ सी रेंगने लगीं.
तो मैंने भी अपनी साड़ी उतार दी और ब्लाउज और पेटीकोट पहन लिया।

तभी शहनाज मोहित भाभी से अलग हो गयी और उसने झट से मेरे पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया, तो मेरा पेटीकोट मेरी कमर से नीचे गिर गया.

तो मैं ब्लाउज और पैंटी में रह गयी.
फिर शहनाज भाभी ने मेरा ब्लाउज और ब्रा उतार दिया.
मोहित ने मेरी पैंटी उतार दी.

कुछ ही देर में मैं पूरी नंगी हो गई, फिर शहनाज भाभी पहले वाली पोजीशन में लेट गईं और मोहित से अपनी चूत चटवाने लगीं और खुद मेरी चूत चटवाने लगीं।

जैसे ही शहनाज भाभी की जीभ मेरी चूत पर लगी, मुझे मानो 1000 वॉट का करंट लग गया और मैं जन्नत की सैर करने लगी.

मैं मस्ती में इतना डूब गयी कि शहनाज अपने दोनों हाथों से भाभी का सिर पकड़ कर अपनी चूत पर दबाने लगी.

थोड़ी देर बाद कृतिका ने मुझे लात मारी और अपनी चूत चाटने को कहा लेकिन मैंने मना कर दिया.

कृतिका के बार-बार लात मारने की वजह से मैंने कृतिका की चूत को चाटने की कोशिश की क्योंकि यह मेरे लिए पहली बार था, मैंने यह सब कभी नहीं किया था।

खैर, आख़िरकार मोहित ने कृतिका और शहनाज भाभी को करीब एक घंटे तक अलग-अलग आसनों में बारी-बारी से चोदा।
कृतिका चुदी तो शहनाज भाभी ने मेरी Pink chut और दूध पी लिया और जब शहनाज भाभी चुदी तो कृतिका ने मेरी चूत और दूध पी लिया।

उन दोनों को निपटाने के बाद मोहित ने मेरे साथ काफी देर तक संतुष्टि के साथ ओरल सेक्स किया और इस दौरान उसने मेरे शरीर के हर हिस्से को चूमा और चाटा.
जिससे मैं बहुत गर्म हो गई और खुद ही मजे में बड़बड़ाने लगी- मोहित, अब और मत तड़पाओ, जल्दी से अपना लंड मेरी चूत में डाल दो और इसकी प्यास बुझा दो।

नीति सैक्स मंझी हुई खिलाड़ी थी, उसने कृतिका और शहनाज को भाभी-भाभी बुलाया और कहा- कृतिका, तुम Ashika के होठों को चूमो और शहनाज तुम Ashika के पैरों को कसकर पकड़ लो।

आज्ञाकारी बच्चों की तरह वे दोनों भी अपना-अपना मोर्चा संभालकर अपनी-अपनी जगह पर बैठ गये।

फिर मोहित ने अपनी जेब से कंडोम निकाला और पहनने लगा.
तो शहनाज भाभी ने मोहित को कंडोम पहनने से रोका और कहा- मोहित, तुम इसे बिना कंडोम के ही चोदो। और अपना बीज भी अन्दर छोड़ देना ताकि Ashika खूब मजा ले सके क्योंकि वो अभी मासिक धर्म से निवृत हुई है.

फिर क्या था… मोहित मेरी दोनों टांगों के बीच आ गया और अपने लंड का गुलाबी सुपारा मेरी छोटी सी चूत पर रगड़ने लगा।

उसने ऐसा करीब 2 मिनट तक ही किया होगा कि अचानक उसने एक जोरदार धक्का दे दिया, जिससे उसका लंड मेरी चूत में घुस गया और मुझे बहुत दर्द होने लगा.
ऐसा लगा मानो कोई तेज़ हथियार मेरी चूत में घुस गया हो।

लेकिन मेरी आवाज कृतिका के होठों में ही फंस कर रह गई और मेरी टांगें दर्द से कांपने लगीं.

इधर मोहित ने मुझ पर कोई दया न दिखाते हुए मुझे धीरे-धीरे धकेलना शुरू कर दिया।
और शहनाज भाभी मेरी टांगें छोड़कर मेरे दूध चूसने और दबाने लगीं, जिससे मेरा दर्द धीरे-धीरे कम होने लगा और मैं भी नीचे से अपनी कमर उठाने लगी.

तो मोहित ने फिर से अपना लंड मेरी चूत से बाहर निकाला और फिर से दोगुनी ताकत से ज़ोर का धक्का मारा।

लेकिन इस बार मेरे होंठ खुले होने के कारण एक जोरदार चीख निकली और तुरंत बेहोश हो गयी.
मेरा पूरा शरीर पसीने से भीग गया था.

तो कृतिका तुरंत पानी लेकर आई और मेरे चेहरे पर पानी डालकर मुझे होश में लाने लगी.
लेकिन होश में आने के बाद भी मैंने देखा कि मोहित ने अपना लंड मेरी चूत से बाहर नहीं निकाला बल्कि धीरे-धीरे धक्के लगाता रहा.

और कुछ देर धक्के लगाने के बाद पूरी ताकत से तीसरा धक्का मारा, जिससे उनका पूरा का पूरा लंड मेरी tignt chut में घुस गया क्योंकि उनके दोनों पोते (लंड के नीचे लटकी हुई गेंदें) मेरी गांड के छेद पर मारने लगे.

पूरा लंड डालने के बाद वो 2 से 3 मिनट तक रुका, फिर उसने पहले धीरे धीरे और बाद में तेजी से अपने धक्कों कि स्पीड बढ़ाई और शताब्दी ट्रेन की तरह तेजी से चोदने लगा।

शहनाज भाभी ने सही कहा था कि बाद में मजा आएगा.
कसम से उसकी स्पीड से मुझे बहुत मजा आ रहा था.

उसने एक-एक करके कई आसन बदले और हर आसन में मुझे चरमोत्कर्ष दिलाया।

उस दौरान मुझे बहुत मजा आ रहा था.’
और आख़िरकार उसने अपना लावा मेरी बच्चेदानी में गिरा दिया.

दोस्तो, उस दौरान जो अहसास मुझे हुआ, उसे मैं शब्दों में बयान नहीं कर सकता।
जिन लड़कियों के गर्भाशय में लड़के का बीज गिर चुका होता है वो इस अहसास को अच्छे से महसूस कर सकती हैं।

मोहित मेरी चूत में भींचने के बाद मेरे ऊपर गिर गया और हम दोनों एक दूसरे से चिपक कर बिस्तर पर लेट गये।

कुछ देर बाद मुझे अपने नीचे कुछ गीला सा महसूस हुआ.
इसलिए मैंने मोहित को अपने से अलग कर दिया.

मैंने देखा कि बिस्तर पर मेरी परछाई के आकार का पूरा बिस्तर पसीने से गीला था और मेरे चूतड़ों के नीचे मेरी चूत के वीर्य और खून तथा मोहित के वीर्य का मिश्रण था और मेरी चूत का छेद काफी हद तक खुल गया था।

तो दोस्तो, आप सबको मेरी सच्ची College Girl sex kahani कहानी कैसी लगी?
दोस्तो, मैंने आपको पहले भी बताया था कि मैं कोई लेखक नहीं हूं। मैंने वही लिखा है जो मेरे साथ हुआ.

मुझे आशा है कि आप शायद मेरी गलतियों को अनुभवहीनता समझकर माफ कर देंगे।

कृपया मेरी इस वर्जिन College Girl Sex Story पर अपने सुझाव मुझे मेरी मेल आईडी पर दें ताकि मैं अपनी आगे की कहानियों में सुधार कर सकूं।

Lucknow Call Girls

This will close in 0 seconds