कोचिंग की लड़की के साथ सेक्स किया और उसकी सील तोड़ी

कोचिंग की लड़की के साथ सेक्स किया और उसकी सील तोड़ी

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, मैं एक लड़के की सेक्स कहानी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “कोचिंग की लड़की के साथ सेक्स किया और उसकी सील तोड़ी”।”। यह कहानी नितिन की है, वह आपको अपनी कहानी बताएंगे, मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

मैं नितिन अजमेर से आप सभी पाठकों का स्वागत करता हूँ। मेरी उम्र 20 साल है, मेरा लिंग 6 इंच लंबा और 2.5 इंच मोटा है।

मैंने कोचिंग करने के लिए Ajmer में एक सेंटर ज्वाइन किया। यह मेरा यहाँ पहला दिन था और मुझे नहीं पता था कि कहाँ बैठूँ। मैं पहली लाइन में गया और तब तक बैठा रहा जब तक कक्षा में कोई नहीं आया था। तो मैं अपना मोबाइल चेक कर रहा था, इसी बीच इस कहानी की नायिका क्लास में आ गई।

लगभग 5 फीट 5 इंच, गोरा रंग, पतला फिगर 30-26-32! वो- अरे हैलो मिस्टर, क्या आप नहीं जानते कि ये लड़कियों की सीट हैं। तुम वापस जाकर बैठो। मैं- ठीक है कोई बात नहीं, तुम यहां बैठो। मैं वहां से उठा और वापस जाकर बैठ गया।

क्लास शुरू होने से पहले सर ने नए दाखिले वालों को खड़ा कर दिया। सर ने लास्ट में मेरा इंट्रो दिया कि ये लड़का अजमेर के बहुत नामी स्कूल का है और पढ़ने में भी बहुत अच्छा है। मुझे डांटने वाली लड़की भी पीछे मुड़कर देख रही थी। मैंने भी उसे देख कर एक स्माइल पास कर दी, उसने भी स्माइल दे दी।

बाद में मुझे उसका नाम पता चला, उसका नाम आशिका था। वह काम की देवी रति की तरह दिखती है! कुछ दिनों तक तो सब कुछ सामान्य ही चलता रहा, बेसिक में जो चलता था सब चलता रहा। जब कोचिंग क्लासेज की छुट्टी होती है तो वाहनों की काफी भीड़ होती है।

मैं पैदल ही कोचिंग जाता था। उस दिन भी मैं पैदल ही था तो मैंने देखा कि एक लड़का जो कहीं बाहर का था उसने सड़क पार करते हुए आशिका को टक्कर मार दी। जब मैंने यह सब देखा तो मैं उसके पास दौड़ा। उसे वहां से उठाया, गाड़ी ठीक कराई और उसके कपड़ों से धूल साफ की।

मैं-आशिका क्या तुम ठीक हो? ज्यादा चोट तो नहीं लगी? आशिका- हां मैं ठीक हूं, कुछ नहीं हुआ। मैंने उसके हाथ पर चोट देखी, उसके हाथ से खून निकल रहा था। जब मैंने उसे बताया, तो वह बहुत परेशान हो गई और रोने लगी। मैंने उसे मनाया, मेरे पास पानी की बोतल थी, उसे पानी पिलाया।

मैं- अगर तुम कहोगी तो मैं तुम्हें घर तक छोड़ दूंगा। आपकी स्थिति ठीक नहीं है और आप ड्राइव करने में सक्षम नहीं होंगे। उन्होंने कहा हाँ। हम उनके घर पहुंचे। आशिका- आज तुम्हें मेरी वजह से बहुत परेशानी हुई होगी। मैं- अरे! नहीं, ऐसा कुछ नहीं है, मेरा घर बस 2 गली आगे है।

आशिका- तुम मेरे घर के बहुत पास रहती हो। तुम्हें यहाँ कभी नहीं देखा? उसे छोड़ो, मेरे साथ अंदर आओ। उसकी मां ने गेट खोला। उनकी मां भी उन्हीं की तरह काफी गोरी थीं। मैं- हेलो आंटी। आंटी- हेलो बेटा, तुम कौन हो, मैंने तुम्हें पहचाना नहीं?

मैं आंटी आशिका के साथ कोचिंग में पढ़ता हूं। आज किसी ने ठोकर मारी थी तो सोचा घर तक छोड़ दूं। आंटी- आशिका बेटा क्या हुआ, ज्यादा चोट तो नहीं लगी? आशिका- नहीं मम्मी, बस थोड़ा सा हाथ पर और कुछ नहीं। इसी बीच डेटॉल लगाकर आशिका आ गई।

आंटी- कहाँ रहते हो बेटा? मैं- आंटी, मेरा घर बस 2 गली आगे है। आंटी- अच्छा किया बेटा जो तुम इसे यहां तक ले आए। नहीं तो आजकल इतनी मदद कौन करता है? बेटा जब भी कोचिंग जाओ तो यहां से निकल जाना। दोनों साथ चले जाना।
मैं- हां आंटी, ठीक है।

मैं वहां पानी पीकर अभी-अभी लौटा हूं। आशिका गेट पर मुझसे मिलने आई थी। फिर मैंने उनसे उनका नंबर लिया कि कल जब आऊंगा तो सबसे पहले आपको फोन करूंगा, तैयार रहना! आशिका- ठीक है। उसके बाद अगले दिन जब मैं उसे लेने गया तो वो पीले सूट में कमाल लग रही थी, क्या बताऊं.

बस उसी दिन से हम दोनों की कहासुनी शुरू हो गई। कोचिंग आते वक्त हम आपस में काफी देर तक बात करते थे। पता नहीं कब प्यार हो गया पता ही नहीं चला। ऐसा करते-करते एक दिन बात सेक्स की ओर चली गई। आशिका- तुम भी बहुत अच्छा बोलती हो। सच कहूं तो तुमने कितनी लड़कियों के साथ सेक्स किया है?

उस समय तक तो मैं बिल्कुल कुंवारी था, मेरे लिंग का टांका भी नहीं टूटा था, मैंने सोचा कि आज उसने ये सब क्यों पूछा, मैं शुरू से ही बहुत शर्मीली हूं। मैं- मैंने आज तक किसी के साथ सेक्स नहीं किया। आशिका- झूठ मत बोलो। मैं- आपकी शपथ! आशिका- ठीक है चलो मान लिया बस.

मैं आज आपको कुछ बताना चाहता हूं। आशिका- हां बोलो ना? मैं- आशिका, आई लव यू। आशिका- अच्छा बताओ तुम मुझे कब से प्यार करते हो? मैं- जिस दिन से तुमने मुझे क्लास में पलट कर देखा। आशिका – बहुत देर हो चुकी है। मेरा मतलब है?

आशिका – तुमने मुझे यह बताने में बहुत समय लगा दिया! मैं तुम्हें उस दिन से पसंद करता हूं जिस दिन से तुमने मेरी मदद की। मैं- तुमने मुझे कभी बताया भी नहीं। फिर अगले दिन हम बगीचे में मिले। दिन के वक्त वहां कोई नहीं था तो मैंने मौका देखकर उसके गाल पर किस कर लिया।

उसने भी पलट कर जवाब दिया और वो भी मुझे पागलों की तरह होठों पर किस करने लगी। मैं भी मौका देखकर उसके स्तनों को दबाने लगा। वो पैंट के ऊपर से मेरे खड़े लंड को सहलाने लगी। इसके बाद उन्होंने मुझे रोका- प्लीज, यहां नहीं… कोई देख लेगा।

मैंने उसकी बात मान ली। उसके बाद तो चूमना और चाटना रोज का काम हो गया। अब मुझे इसके साथ आगे बढ़ना था तो मैंने उससे कहा- मैं तुम्हारे साथ अपना पहला सेक्स करना चाहता हूं। कुछ करो! उसने कहा- ठीक है, कुछ दिन रुको, फिर देखते हैं।

ये सब बातें करते-करते मुझे नींद आ गई। 2 दिन बाद रात में आशिका का मैसेज आया कि मेरी दादी की तबीयत खराब है, इसलिए मां पापा के साथ जा रही हैं और मैंने कोचिंग का बहाना बना लिया है. अब हमारे पास सेक्स करने के लिए पूरा दिन है और यह मेरा पहला सेक्स भी है, मैं भी इसका लुत्फ उठाना चाहता हूं।

कल तुम कोचिंग के बजाय मेरे घर आना। पूरी रात मैं बस पहले सेक्स के बारे में सोचता रहा… इसलिए मैं बहुत देर से सोया. अगले दिन सुबह जल्दी तैयार होकर सुबह 10 बजे आशिका के घर पहुंच गया। उसने जल्दी से मुझे अंदर बुलाया और गेट बंद कर दिया।

हम दोनों वहीं गेट पर खड़े हो गए और किस करने लगे। जंगली होने के नाते, मैंने तुरंत उसकी गुलाबी सेक्सी नाइटी फाड़ दी। उसने मुझे रोका और सोफे पर बैठने को कहा और पानी पिलाया और कहा- जब मैं बुलाऊं तो बेडरूम में आ जाना।
मैं वहीं बैठा उसका इंतजार कर रहा था।

15 मिनट बाद उन्होंने कॉल किया। मैंने देखा कि वह लाल साड़ी में दुल्हन की तरह सजी-धजी खड़ी थी। उसके हाथ में दूध का गिलास था। Ashika – मैंने इसमें वियाग्रा की गोली डाल दी है ताकि सेक्स अधिक समय तक चले। उसने दूध से भरा गिलास मेरी ओर बढ़ाया।

मैंने उसके हाथ से गिलास लिया और उसे आधा पीने को दिया और आधा मैंने पी लिया। इसके बाद मैंने उसे बेड पर बिठा दिया। कमरे को हनीमून की तरह सजाया गया था। मैंने मांग सिंदूर से भर दिया और उसे बिस्तर पर लिटा दिया। मैं भी उसके पास लेट गया और उसे चूमने लगा।

मैंने उसके पहने हुए गहने उतारने शुरू कर दिए। मैंने उसका पल्लू हिलाया तो उसकी दूध की घाटी दिखाई देने लगी, वहीं मैंने उसे चाटा। और धीरे-धीरे नीचे की ओर जाने लगा और अपनी जीभ उसकी नाभि में डालकर चूसने लगा। आशिका- उम्म आह आज उम्म ऐसा मत करो… प्लीज मैं ऐसे ही मर जाऊंगी।

मैं- मेरी जान को किस करने से कोई नहीं मरता। एक लड़की की नाभि चाटने की बड़ी इच्छा हुई… आज मेरी इच्छा पूरी हो रही थी। मैंने ऊपर आकर उसका ब्लाउज उतार दिया। रेड ब्रा में उसकी चूची मुझे बहुत एक्साइटेड कर रही थीं। मैंने उसकी ब्रा उतार दी और उसके बूब्स पीने लगा.

उसके बाद मैं नीचे आया और उसकी साड़ी को पूरी तरह उतार दिया। अब वह सिर्फ पेटीकोट में थी और दोनों हाथों से अपने स्तनों को छिपाने की कोशिश कर रही थी। अब जब मैंने उसका पेटीकोट उतारना शुरू किया तो उसे शर्म आ रही थी। तो मैं रुक गया और मैं उसके ऊपर लेट कर उसे चूमने लगा और अपने हाथों को नीचे ले जाकर उसकी साड़ी खोल दी।

उठ कर अपना पेटीकोट उतार दिया, अब वो सिर्फ लाल पैंटी में थी. अब मैं उसकी नाभि में किस करने लगा और धीरे धीरे पैंटी पर किस करने लगा. उसकी पेंटी बहुत गीली थी। अब मैंने अपना हाथ आगे बढ़ाया और उसकी पैंटी भी खोल दी. अब वह पूरी तरह नंगी थी; उसकी गोरी चूत मेरे सामने थी। ऐसा लग रहा था जैसे बाल आज ही साफ किए गए हों।

आशिका- यह धोखा है। तुमने मेरे सारे कपड़े उतार दिए हैं और तुम खुद कपड़े पहन रहे हो? मैंने कहा- तुम मेरे कपड़े उतार दो, हिसाब चुकता हो जाएगा। वो उठी और मेरे कपड़े उतारने लगी। आखिरी में जब मैंने अपना अंडरवियर उतारा तो वो मेरे 6 इंच लंबे और 2.5 इंच मोटे लंड को देखकर हैरान रह गई.

आशिका- इतना बड़ा है, मेरी चूत में कैसे जाएगा? मैं- बड़े आराम से कर लूंगा, टेंशन मत लो। यह कहकर मैंने उसे पीठ के बल लिटा दिया, फिर उसे चूमने लगा और एक हाथ से उसकी चूत में उंगली करने लगा। मैंने जबरदस्ती उसकी एक उंगली उसकी चूत में डाल दी.

वह अचानक से चिल्लाई- आआआह… धीरे करो… दर्द हो रहा है! और उस एक हाथ से धीरे से उसकी गांड में उंगली डाल दी। तो आशिका ने फुसफुसाते हुए कहा- उम्म्ह…आह…ही…याह…प्लीज गांड मत मारो। वहां दर्द ज्यादा होता है। हरकत बढ़ने लगा, मैं अब उसकी चूत की तरफ आया और उसकी चूत को चाटने लगा.

क्या बताऊँ दोस्तों… मेरी गर्लफ्रेंड की कुंवारी चूत से मीठा रस निकलने लगा. उसकी चूत बहुत प्यारी थी। मैंने वापस ऊपर आकर उसके होठों को चूसा और उससे चूत का रस भी टेस्ट करवाया। मैं- आशिका, क्या तुम भी लंड चूसना चाहोगी? आशिका- नहीं, मुझे घिन आ रहा है।

मैं- आशिका कोई बात नहीं। हर लड़की की अपनी इच्छा होती है, इसका सम्मान किया जाना चाहिए। इतना कहकर मैं अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ने लगा और आशिका ने मेरे लंड को अपने हाथ से पकड़ कर अपनी चूत पर रख दिया. मैंने उसकी चूत को धक्का दिया लेकिन लंड फिसल गया।

आशिका- अरे क्या कर रहे हो? दर्द होता है, है ना? कृप्या धीरें करो। एक बार फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ा और उसके लाल होठों को भींच लिया. उसने हाथ का इशारा लंड की चूत पर रखा और इशारा किया. मैंने जोर से धक्का दिया और सुपारा अंदर रख दिया, उसने एक घुटन भरी चीख निकाली।

अच्छा ही हुआ कि उसके होंठ मेरे होंठों से लिपट गए। उसने चादर पकड़ ली। असली काम अभी बाकी था, जब मैंने जोर से धक्का दिया तो पूरा लंड उसकी चूत में एक दम से चला गया. मेरे लंड की सिलाई टूट गई और उसकी सील टूट गई. हम दोनों को तेज दर्द हो रहा था, इस वजह से होंठ रह गए थे, हम दोनों की चीख निकल गई.

मैंने नीचे देखा तो उसकी चूत से कुछ गर्म निकल रहा था. मैंने नीचे देखा तो वह उसका खून था। उसका दर्द देखकर मैंने धक्का देना बंद कर दिया। मैं ऊपर आकर उसके लाल होठों को चूसने लगा और जोर जोर से उसके स्तनों को चूसने लगा.
फिर मैंने अब धक्का देना शुरू कर दिया।

आशिका- अरे मम्मी, बहुत दर्द हो रहा है प्लीज इसे निकालो। उसकी आंखों से आंसू निकल रहे थे और वह दर्द से कराह रही थी। फिर मैं कुछ देर रुका। वह मेरी पहली भावना भी थी। उसकी चूत भट्टी की तरह तप रही थी। बहुत ही मखमली एहसास हो रहा था और मेरा लंड उसकी चूत में कस कर अटक गया था.

अभी तक वह अपना लावा उसकी चूत में छोड़ देगा। इसके बाद वह नीचे से धीरे-धीरे धक्का देने लगा। यह हमारा पहला सेक्स था जो 25 मिनट तक चला। इसमें वो 3 बार गिरी और मैंने वियाग्रा खाई थी तो मुझे गिरने में 25 मिनट लगे। आशिका- आह हम्म… ऐसे ही करते रहो। हाँ बस ऐसे ही धीरे-धीरे… आह उम्म मजा आ गया।

उसकी चूत से काफी पानी निकलने लगा था जिससे अब लंड आसानी से अंदर बाहर हो रहा था. इसके बाद वह गिर पड़ीं। अब मैंने भी दबाव बढ़ा दिया। 15-20 धक्कों के बाद मेरा भी स्खलन होने वाला था तो मैंने आशिका से पूछा- स्खलन कहां करूं? आशिका-इसे अंदर रखो। परसों मेरी अवधि समाप्त हो गई है, मैं भी इसे महसूस करना चाहता हूं।

और आखिरी तेज़ 5 धक्के मारते हुए मैं उसकी चूत में गिर गया। मैं अपना पूरा लंड उसके गर्भाशय तक पहुँचा चुका था, फिर वो एकदम से उछल पड़ी. फिर मैंने उसे किस करना शुरू कर दिया। आशिका- आई लव यू नितिन, मुझे इतना अच्छा महसूस कराने के लिए। मैं- आई लव यू टू आशिका।

इसी बीच हरकत होने लगी लेकिन उसकी चूत में बहुत दर्द हो रहा था तो मैंने उसे सहारा दिया और उसे खड़ा कर दिया. चादर भी पूरी तरह लाल थी। चादर पर इतना खून देखकर वह घबरा गई लेकिन वह जानती थी कि पहली बार में ही खून निकलता है। आशिका के चेहरे पर मुस्कान थी – मैं इसे अपने निशानी के रूप में चादर संभाल कर रखूंगी।

इसके बाद उसे उठाकर बाथरूम में ले गया और वहां जाकर उसकी चूत से खून साफ किया. उसने मेरे लंड को पकड़ कर धो दिया. इसके बाद हम दोनों वापस बेड पर जाकर लेट गए। मुझे पता ही नहीं चला कि मैं कब सो गया। शाम को जब उठा तो आशिका बिस्तर पर भी नहीं थी।

मैंने बाहर जाकर देखा कि वो किचन में चाय बना रही थी और बहुत खूबसूरत लग रही थी. वापस जाकर मैंने उसे पकड़ लिया और लंड को उसके पिछले छेद पर रगड़ने लगा. आशिका- गांड में बहुत दर्द होता है, मैंने सुना है। इसे किसी और दिन मेरे साथ करो! मेरे आगे बहुत दर्द है।

मैंने उसे वहीं किस करना शुरू कर दिया। इसके बाद चाय पीने के बाद उन्होंने मुझे जाने के लिए कहा. क्योंकि देर हो रही थी और उसके माता-पिता भी आने वाले थे। अब जब भी मौका मिलता है हम सेक्स करते हैं।

आपको मेरी यह कोचिंग की लड़की के साथ सेक्स स्टोरी कैसी लगी, कृपया मुझे मेल करें। अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Lucknow Call Girls

This will close in 0 seconds