दोस्त की बहन को चोदा और उसकी चुदाई की हवस को शांत किया

दोस्त की बहन को चोदा और उसकी चुदाई की हवस को शांत किया

दोस्तों मेरा नाम अमन है आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने “दोस्त की बहन को चोदा और उसकी चुदाई की हवस को शांत किया”

आज बहुत दिनों के बाद मैं अपने दोस्त के घर जा रहा था. उसकी बहन मुझे बिल्कुल अपने भाई की तरह मानती है। परिवार इतना अच्छा है कि उनके माता-पिता भी मेरी प्रशंसा करते हैं। (दोस्त की बहन को चोदा)

दीदी की शादी को 7 साल हो गए हैं और उनके दो बच्चे हैं। लेकिन दीदी इतनी खूबसूरत और स्लिम हैं कि उन्हें देखकर कोई कह ही नहीं सकता कि वो शादीशुदा हैं.

मेरे दोस्त का भले ही अपनी बहन से झगड़ा हो गया हो, लेकिन उसकी बहन की नजरों में अगर कोई सबसे अच्छा भाई था तो वह सिर्फ मैं ही था।

इससे पहले भी मैं कई बार दोस्त के घर जा चुका हूं. दीदी ने मुझे पहले ही दीदी की पसंद-नापसंद, दीदी के बॉयफ्रेंड और उनके पति के बारे में बता दिया है.

चाहे कुछ भी हो जाए, चाहे बात उसके पति की ही क्यों न हो.. जब तक दीदी मुझे नहीं बताती, उसे चैन नहीं आता।

मुझे दीदी से मिले लगभग तीन महीने हो गए थे, इसलिए आज दीदी ने जिद करके मुझे घर बुलाया. छोटा भाई मुझे लेने आया.

मैं उनके साथ बाइक पर बैठकर घर पहुंचा ही था कि बहन के दोनों बच्चे मामा मामा कहते हुए दौड़कर मेरे पास आ गए। मैंने उन्हें कुछ चॉकलेट दीं तो वे खुश हो गये और खेलने में व्यस्त हो गये।

अंदर पहुँच कर मैंने दीदी को नमस्ते किया और अपना बैग अपने दोस्त के कमरे में रख कर दीदी के पास जाकर बैठ गया.

मेरा दोस्त क्रिकेट खेलता है इसलिए वह अपनी टीम के साथ कहीं दूर क्रिकेट खेलने चला गया। जब मैंने उनसे फोन पर बात की तो उन्होंने मुझसे कहा कि वह नहीं आ पाएंगे.

मम्मी और पापा जी रोज़ की तरह ऑफिस गये थे, जो शाम को करीब 7 बजे तक आने वाले थे। घर में सिर्फ बहन, बच्चे और छोटा भाई था।

छोटा भाई मेरे लिए पानी लेकर आया तो मैंने रसगुल्ले का डिब्बा दीदी को दे दिया. दीदी ने एक प्लेट में कुछ रसगुल्ले निकाल कर मेरे सामने रख दिये और खाने की जिद करने लगी.

मैंने एक रसगुल्ला उठाया और आधा दीदी को खिलाया और बाकी आधा अपने मुँह में डाल लिया. जब मैंने रसगुल्ला दीदी के मुँह में डाला तो दीदी के सूट पर रसगुल्ले की चाशनी गिर गयी.

हम दोनों हंसने लगे. बहन अपना सूट बदलने के लिए अंदर चली गयी. इसलिए मैंने बचे हुए रसगुल्ले अपने भतीजों को खिला दिए. (दोस्त की बहन को चोदा)

शाम को मम्मी-पापा आये. सबसे मिलने के बाद हमने खाना खाया और मैं सोने के लिए अपने दोस्त के कमरे में चला गया।

कुछ देर बाद दीदी फिर वही रसगुल्ले ले आई और बोली- खाना खाने के बाद मिठाई खाकर ही सोना. अब चलो, अपना मुँह खोलो, मैं तुम्हें अपने हाथ से खिलाऊँगी।

ठंड बहुत थी तो मैंने दीदी से कहा- पहले आप अपने पैर कम्बल के अन्दर कर लो, नहीं तो आपको ठंड लग जायेगी. दीदी कम्बल के अन्दर पैर करके मेरे बगल में बैठ गईं.

दीदी ने मुझे रसगुल्ला खिलाने के लिए हाथ बढ़ाया तो मैंने कहा- देखो दीदी, आज सुबह ही आपके ऊपर चाशनी गिर गई थी. कहीं ऐसा न हो कि इस बार मेरे ऊपर गिर जाये।

“तो क्या हो जायेगा?” दीदी ने हंसते हुए कहा. “लेकिन दीदी, बिस्तर ख़राब हो जाएगा और सुबह कोई देख लेगा तो सोचेगा कि मैंने ये क्या लगा दिया? सब गलत ही समझेंगे।”

“तो एक काम करो, तुम लेट जाओ, मैं ऊपर से तुम्हारे मुँह में डाल दूँगी, कोई नुक्सान नहीं होगा।” दीदी ने कहा.

दीदी के कहने पर मैं लेट गया. रसगुल्ला खाने के बाद मैंने दीदी से कहा कि इसे ऐसे ही खिलाओ, तो दीदी लेट गईं. दीदी के पैर काफी ठंडे थे तो उन्होंने मुझे ठंडा लगाने के लिए अपना पैर मेरे पैर से सटा दिया।

मेरा पैर गरम था तो जैसे मुझे झन्न से एक झटका लगा और रसगुल्ला दीदी के स्वेटर पर गिर गया. मैंने सॉरी कहा तो दीदी हंसते हुए बोलीं- कोई बात नहीं यार, गलती तो मेरी ही है.

फिर दीदी ने अपना स्वेटर उतार दिया और मेरे बगल में लेट गयी. हम दोनों लेट कर बातें करने लगे. मैंने दीदी से कहा- दीदी, आपके पैर बहुत ठंडे हैं. तो मेरे पैरों से सटा लीजिये, धीरे धीरे गर्म हो जाएंगे।

दीदी ने पहले तो मेरी तरफ देखा, फिर न जाने क्या सोचकर अपने पैर मेरे पैरों से सटा दिये. कुछ देर बाद दीदी अपने पैर मेरे पैरों पर रगड़ने लगीं.

तो मैंने भी अपने पैर की उंगलियों से उसके पैर की उंगलियों को छेड़ना शुरू कर दिया. हम दोनों का सिर कम्बल के बाहर था और कमरे की लाइट जल रही थी। हम दोनों के पैर एक दूसरे के साथ मस्ती कर रहे थे.

मैंने उनके पैर को अपने पैर से फंसाया तो दीदी को दर्द होने लगा. दीदी मुझसे छूटने के लिए मुझे धक्का देने लगीं. जब मैंने नहीं छोड़ा तो दीदी का पैर ऐंठने की वजह से वो मेरे ऊपर आ गयीं. (दोस्त की बहन को चोदा)

और छुड़ाने के लिए मुझे मुक्के से मारने लगी. मैंने भी दीदी के दोनों हाथों को कस कर पकड़ लिया. अब बेचारी बहन थक कर मेरे ऊपर गिर गयी.

मेरे ऊपर ऐसे लेटने से कुछ ही सेकंड में मेरा लंड खड़ा होने लगा तो मैंने दीदी का हाथ छोड़ दिया और उनकी टांगें भी ढीली कर दीं.

मैंने अपने घुटने ऊपर उठाये ताकि दीदी को खड़ा लंड महसूस न हो. लेकिन दीदी ने इन सात सालों में न जाने कितनी बार अपने पति से चुदाई करवाई होगी, उन्हें तुरंत पता चल गया कि मेरा लंड खड़ा हो गया है.

दीदी मेरे ऊपर से उतर कर मेरे बगल में लेट गयी. अब हम दोनों चुप थे. हम दोनों के चेहरे बहुत करीब थे. लण्ड खड़ा होने से मुझे बहुत शर्म लग रही थी इसलिए मैंने अपना सर कम्बल के अन्दर डाल लिया.

कुछ देर बाद दीदी ने भी अपना सिर कम्बल के अन्दर कर लिया और बोलीं- क्या हुआ? तुमने अपना सिर अंदर क्यों डाल लिया? “कुछ नहीं दीदी, बस ऐसे ही!” मैंने कहा।

कुछ देर मेरी आंखों में देखने के बाद दीदी ने मुझे गले लगा लिया. मुझे समझ नहीं आया कि क्या करूँ. जब दीदी अपना गाल मेरे गाल से छूने लगी तो मैंने आशिका दीदी के गाल पर एक चुम्बन दे दिया।

जैसे ही मैंने चूमा, दीदी ने मुझे कस कर पकड़ लिया और मेरे पूरे चेहरे पर बेतहाशा चूमने लगीं. दीदी के होंठ एकदम गुलाबी थे जैसे ही हमारे होंठ एक दूसरे से मिले तो ऐसा लगा जैसे तूफ़ान आ गया हो।

मैंने दीदी को अपने ऊपर खींच लिया, लंड पहले से ही खड़ा था, मैंने अपने दोनों पैर दीदी की कमर में लपेट लिए और अपना लंड दीदी की चूत पर रगड़ने लगा।

दीदी पूरी तरह से नशे में थी. मैं दीदी को किस करते हुए उनकी चुचियों को दोनों हाथों में कस कर दबाने लगा. दीदी अपनी चूत को मेरे लंड पर रगड़ने लगीं.

हम दोनों एक दूसरे को ऐसे चूस रहे थे जैसे जन्मों-जन्मों के प्यासे हों। थोड़ी देर बाद हम दोनों की सांसें फूलने लगीं तो दीदी ने रुकने को कहा और मेरे ऊपर से उतर कर लेट गईं.

हम दोनों ने कम्बल से अपना चेहरा बाहर निकाला और एक-दूसरे की ओर देखा। मुझे बहुत शर्म आ रही थी लेकिन दीदी की आँखों में एक अजीब सी कशिश दिख रही थी जो मुझे प्यार करने का खुला निमंत्रण दे रही थी।

शर्म के मारे मेरी हिम्मत नहीं हुई कि मैं दीदी से कुछ कह सकूं. दीदी ने उठकर लाइट बंद कर दी और बगल में लेट गयी. दीदी ने धीरे से मेरा हाथ पकड़ कर अपने गालों पर रख दिया और सहलाते हुए मुझे नीचे ले जाने लगीं.

गले लगते समय जब मैंने दीदी की चुचियों को छुआ तो मेरे शरीर में एक अजीब सी सिहरन होने लगी. दीदी ने अपने शरीर से फिसलते हुए मेरे हाथ को अपनी चूत से थोड़ा ऊपर ले जाकर रोक दिया. (दोस्त की बहन को चोदा)

आप यहाँ सस्ते दामों पर कॉल गर्ल्स बुक कर सकते है Visit Us:-

मेरा हाथ वहीं छोड़ कर दीदी ने मुझे कस कर गले लगा लिया और फिर से मेरे होंठों को चूमने लगीं. मैंने अपना हाथ सीधा दीदी की पैंटी में डाल दिया.

और उसकी चूत में उंगली करने लगा. दीदी की चूत मेरा लंड लेने के लिए पूरी गीली हो चुकी थी. किस करते-करते दीदी मेरी टी-शर्ट को ऊपर उठाने लगीं तो मैंने एक ही झटके में अपनी टी-शर्ट उतार दी

और दीदी की शर्ट उतारने के लिए दीदी को बैठने को बोला. दीदी ने अपनी शर्ट खुद ही उतार दी. ठंड होने के कारण हम दोनों तुरंत कंबल में घुस गये. हम दोनों ऊपर से नंगे थे.

शायद दीदी रात को ब्रा पहनकर नहीं सोती थीं. जैसे ही मैंने दीदी को दोबारा गले लगाया, दीदी की चुचियां मेरी छाती से दबने लगीं.

मैंने दोनों हाथों से दीदी की चुचियों को खूब दबाया और चुचियों को मुँह में भर कर खूब चूसा. दीदी मेरा सिर पकड़ कर अपनी चुचियों पर कस कर दबाने लगीं.

चुचियों को चूसते हुए जब मैं नीचे आया तो बहन के पेट को चूमते हुए सलवार के नाड़े तक पहुंच गया. मैंने दीदी का नाड़ा खोलने की कोशिश की लेकिन नहीं खुल सका

तो दीदी ने खुद ही अपने हाथ से नाड़ा खोल दिया और मुझे अपने ऊपर खींच लिया और मेरे होंठों को अपने होंठों में भर कर चूसने लगीं.

चूसते चूसते दीदी ने अपना पैर मेरे लोअर में फंसा लिया और उसे उतार दिया. इस बार जब हमारे शरीर मिले तो कपड़े न होने के कारण दो शरीर एक जान जैसे लग रहे थे।

दीदी ने मेरा अंडरवियर उतार दिया, तो मैंने भी दीदी की पैंटी उतार दी और दीदी की चूत में उंगली करने लगा.

दीदी ने उत्तेजित होकर मेरा लंड पकड़ लिया और कस कर दबा दिया. मैं दीदी को बेतहाशा चूमने लगा तो दीदी मुझे अपनी ओर खींचने लगीं.

मैं दीदी के होंठों को चूसते हुए और उनकी दोनों चुचियों को दबाते हुए दीदी के ऊपर आ गया, तो दीदी के मुँह से एक सिसकारी निकल गई.

दीदी ने मेरा लंड पकड़ कर अपनी चुत के ऊपर सेट किया और दूसरे हाथ से मेरी कमर पकड़ कर अपनी चुत की तरफ दबाने लगीं.

मैंने दीदी के कंधों को पकड़ कर जोर से धक्का मारा तो मेरा लंड दीदी की चूत में घुस गया. मैं दीदी के होंठों और चुचियों को चूसने लगा और दीदी की चूत को चोदने लगा.

दीदी ने अपनी दोनों टाँगें मेरी कमर के गिर्द लपेट लीं और अपनी टाँगों से मुझे अपनी चूत में खींचने लगीं। हमारे शरीर में भूचाल आ गया था, मैं दीदी की चूत में धक्के मारे जा रहा था. (दोस्त की बहन को चोदा)

काफी देर तक चोदने के बाद मैंने अपना वीर्य बहन की चूत में गिरा दिया. दीदी ने मुझे खूब चूमा और हम दोनों एक दूसरे से चिपक कर सो गये.

Dehradun Call Girls

This will close in 0 seconds