किराना स्टोर वाली भाभी की चुदाई – नेबर भाभी XXX कहानी भाग 3

किराना स्टोर वाली भाभी की चुदाई – नेबर भाभी XXX कहानी भाग 3

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “किराना स्टोर वाली भाभी की चुदाई – नेबर भाभी XXX कहानी भाग 3”। यह कहानी पारस की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

इस स्टोर वाली भाभी की चुदाई कहानी में मैंने पड़ोस की सेक्सी भाभी को पटाया और अपने कमरे में बुलाया और नंगी कर दिया. वो भी चूत चुदाई के लिए बेचैन हो रही थी.

मैं पारस माया भाभी की सेक्स कहानी के पहले भाग: नेबर भाभी XXX कहानी में अब तक आपने पढ़ा था कि मैंने माया भाभी की ब्रा उतार दी थी और वो मेरे सामने सिर्फ पैंटी में थी.

अब आगे की स्टोर वाली भाभी की चुदाई कहानी:

मैंने माया भाभी की पैंटी भी उतार कर एक तरफ रख दी. अब वो पूरी नंगी खड़ी थी.
उसकी खूबसूरत, साफ़, गुलाबी, फूली हुई चूत गीली हो रही थी।

इधर उसने भी मेरा लंड बाहर निकाल लिया था और अपने हाथ से लंड के टोपे को अपनी चूत में रगड़ने लगी थी.

मैं खड़े-खड़े उसके Big Boobs को सहला रहा था और उनमें से एक को मुँह में लेकर चूस रहा था।
मैं कभी दायां बूब्स खींचता तो कभी बायां।

साथ ही बूब्स को अपनी हथेली में लेकर दबा भी रहा था.
नीचे लंड पर चूत के गीलेपन के कारण एक अलग ही अहसास हो रहा था.

माया भाभी भी जोश में आ गईं और अपनी गांड हिलाते हुए धक्के लगाने लगीं. उसने अपने हाथ में मेरा लंड पकड़ रखा था और उसे अपनी चूत में डालने की कोशिश करने लगी. (स्टोर वाली भाभी की चुदाई)

लेकिन लंड का सिर बड़ा होने और खड़े होकर सेक्स करने की स्थिति के कारण यह संभव नहीं था, जिसके कारण लंड चूत के अंदर नहीं जा पा रहा था।

फिर मैंने उसे दरवाजे से टिक कर बैठने को कहा.

मैं: बस इस लंड को अपने मुँह में निगल लो.
माया भाभी- ये तो बहुत बड़ा लंड है, मैं इसे अन्दर नहीं ले पाऊँगी!

मैं- साली कुतिया… ज्यादा नखरे मत दिखा बहन को लोड़ी, जल्दी से मुँह में ले लौड़ा… सबका भी तो मुँह में लेती थी. कोई बड़ी बात नहीं है… तुम तो लंड चूसने में एक्सपर्ट हो. मुझे पता है इसे आराम से ले लेगी.

उसने मेरी बात सुनी और बिना कुछ कहे बस अपना मुँह खोला और मेरा 3-4 इंच मोटा लंड भारी लंड के टोपे सहित अपने मुँह में ले लिया और उसे चूसने लगी।

वो बहुत अच्छे से मेरा लंड चूस रही थी… आह बहुत मजा आ रहा था. पहले तो भाभी को थोड़ी दिक्कत हुई, फिर वो एक रंडी की तरह लंड लेने लगी.

लेकिन फिर भी वो आधा लंड ही ले पा रही थी और मैं इतनी अच्छी लंड चुसाई से पागल हो रहा था.
मेरा लंड भी टाइट हो गया था और फटने को हो गया था.

फिर मैंने अपने दोनों हाथों से उसका सिर पकड़ा और दरवाजे से चिपका दिया.
मैंने अपने पैर उसकी कमर के दोनों ओर रखे और उसके मुँह के करीब आ गया।

माया भाभी दरवाजे के पास बैठी थीं और मैं उनका सिर पकड़कर उन्हें धक्का देने लगा.
अब पोज सही था तो मैंने उसके मुँह को चोदना शुरू कर दिया.

इससे उसके मुँह से ‘गोक गोक…’ की आवाज आने लगी और उसके मुँह से ढेर सारा थूक निकलने लगा.

थोड़ी ही देर में उसका मुँह खुलने लगा और ढेर सारा थूक निकला जिससे मेरे लंड को काफ़ी चिकना कर दिया।
उसकी लार मेरे लंड पर चिपक गई और मेरे घुटनों तक बह गई। (स्टोर वाली भाभी की चुदाई)

वो अपने दोनों हाथों से मेरी गोटियों से खेलने लगी.

उसकी इस हरकत से मैं बहुत उत्तेजित हो गया और उसके मुँह को ही चूत समझ कर उसमें एक जोरदार धक्का दे दिया. जिससे मेरा पूरा लंड उसके मुँह में चला गया.

लंड का आधा हिस्सा उसके मुँह में था और आधा हिस्सा सुपारे के साथ उसके गले से नीचे चला गया था।

वो अपने दोनों हाथों से मेरी जांघों को दबाने लगी और पूरी ताकत से मेरे लंड को बाहर निकालने की कोशिश करने लगी.
मैंने उसके सिर को कस कर पकड़ लिया और अपना लंड अन्दर फँसाये रखा।

मैं अपने लंड को और अन्दर धकेलने लगा जैसे कि मेराअंडकोष भी उसके मुँह में घुस जायेंगा। माया की आंखों से आंसू आने लगे और शायद वह ठीक से सांस भी नहीं ले पा रही थी.

इसी वजह से वो अपने हाथों से मेरे पैर पर मारने लगी और छूटने की कोशिश करने लगी.

मैंने कुछ देर ऐसे ही रखा और बहुत आराम से लंड को पूरा बाहर निकाल लिया, जिससे माया की आंखों से ढेर सारा थूक और आंसू निकल कर उसके चेहरे से होते हुए उसके बूब्स पर टपकने लगे. (स्टोर वाली भाभी की चुदाई)

माया भाभी- भोसड़ीके, बहन के लौड़े… मार डालोगे क्या?
मुझे हँसी आने लगी।

भाभी के मुँह से गाली सुनना बहुत अच्छा लग रहा था.
अब भाभी ने एक गहरी सांस ली और अपनी कुछ लार पोंछ ली और कुछ निगल गयी.

मैं: अरे भाभी, इसे डीप-थ्रोट ब्लोजॉब कहते हैं। तुम्हें मजा आया या नहीं?
माया भाभी- हां मजा आया. पूरा लंड गले तक उतर गया था. गजब की गर्मी लग रही थी… ऐसा लग रहा था मानो लंड अभी पेट में चला जायेगा।

मैं- चलो एक बार और करते हैं!
वह मान गयी।

मैंने एक बार फिर माया के सिर को कस कर पकड़ लिया और अपना पूरा लंड उसके गले में उतार दिया.
साथ ही मैंने उसके सिर को जोर से खींचा और उसके गले की गहराई तक ले जाने लगा.

माया भी बड़ी रांड थी, उसे एक ही बार में सब समझ आ गया कि लंड को गले तक कैसे लेना है. उसने अपनी जीभ निकाली और लंड को मुँह के अन्दर गले तक ले लिया. (Hindi Sex Story)

उसकी जीभ बाहर निकल कर मेरे आंड को छूने लगी और वो अपनी जीभ को थोड़ा-थोड़ा घुमाते हुए मेरे आंड को सहलाने लगी।

भाई उस एहसास के आगे सब बेकार था.
मादरचोद, मुझे तो ऐसा लग रहा था मानो मैं उसके गले में अपना लंड फंसा कर घंटों ऐसे ही खड़ा रहूँ और उसके मुँह की गर्मी से अपने लंड को सुख देता रहूँ। (स्टोर वाली भाभी की चुदाई)

अब वो कुछ देर तक लंड को मजा देती… और जब उससे बर्दाश्त नहीं होता तो वो अपने हाथों से मेरी टांगों पर मारती और लंड को बाहर निकालने का इशारा करती.

मैं आसानी से अपना लंड बाहर निकाल लेता और उसके मुँह से ढेर सारा थूक टपक कर उसके बूब्स पर इकट्ठा होने लगता।

फिर 4-5 बार ऐसा करने से उसके बूब्स और पेट गीले हो गये।
ऐसा लग रहा था मानो वह अपनी ही लार से नहा गयी हो.

मैं- मैं झड़ने वाला हूं. माया भाभी ने लंड बाहर निकालने का इशारा किया और लंड बाहर आते ही बोलीं कि मैं तुम्हारे गर्म माल का स्वाद चखना चाहती हूं.

इतना कहते ही भाभी ने एक हाथ से मेरा लंड पकड़ लिया और आधा मुँह में लेकर जोर-जोर से चूसने लगीं।

मैं उसके सिर को हल्के से पकड़ कर धीरे धीरे धक्के लगा रहा था और अपनी आंखें बंद करके उसके लंड चुसाई का मजा ले रही थी. उस समय मैं बिल्कुल निश्चिंत था कि मेरा लंड कभी भी झड़ सकता है, कोई चिंता नहीं थी।

उसी समय लंड ने 3-4 तेज धारें मारीं और हचक कर माया के मुँह में झड़ गया.
माया ने ख़ुशी से सारा माल निगल लिया और लंड चूस कर मुँह साफ करके उठ गई.

मैंने उसे उठाया और बिस्तर पर लेटा दिया और उसके बूब्स और पेट पर लगे थूक से उसके बूब्स, चूत और जांघों को सहलाया और उन्हें पूरी तरह से चिकना कर दिया। वो भी इतनी अदा से थूक मलवा रही थी मानो किसी से अपनी मालिश करवा रही हो.

फिर मैं उसके ऊपर आ गया और उसके होंठों पर अपने होंठ रख कर उसे चूमने लगा और एक हाथ से उसके एक बूब्स को मसल रहा था। वो भी एक हाथ से मेरे लंड को सहलाने लगी.

उसकी गर्दन को चूमते हुए, उसके बूब्स को चाटते हुए, उसके पेट को चूमते हुए मैं अपना मुँह उसकी Tight Chut के पास ले गया।

उसकी साफ़ झांट वाली चूत स्वादिष्ट मलाई की तरह लग रही थी। गीला और गुलाबी… और चूत के होंठों से साफ़ लग रहा था कि इस छेद ने कई मर्दों के लंड को अन्दर घुसने का सुख दिया होगा. (स्टोर वाली भाभी की चुदाई)

मैंने भी देर नहीं की. उसकी रसीली चूत को चाटने लगा.

वो कराहने लगी- आह्ह आह्ह, चूसो आह्ह.
वह अपने दोनों हाथों से बेडशीट खींच रही थी.

मैंने भी अपनी जीभ निकाली और उसकी चूत को ऊपर से नीचे तक ऐसे चाटने लगा जैसे कोई रोलर से दीवार पर पेंटिंग कर रहा हो।

4-5 मिनट तक उसकी चूत चाटने के बाद मैंने उसकी चूत को अपने दोनों हाथों से ऊपर उठाया और खींचा और अपनी जीभ से चाटते हुए उसकी चूत के क्लिटोरिस को रगड़ने लगा।

माया की ‘आहह आहह आहह… मर गई… आहह.’ कराहें थोड़ी तेज़ निकलने लगीं.
अब उसने चादर छोड़कर मेरा सिर पकड़ लिया.

मैंने अपने हाथ की एक उंगली उसकी चूत में डाल दी.
मेरी एक उंगली बड़ी आसानी से उसकी भोसड़े जैसी चूत में चली गयी.

मैंने तुरंत दूसरी उंगली डाल दी और उंगली को आगे-पीछे करने लगा।
साथ ही क्लिटोरिस को अपनी जीभ से जोर जोर से चूसने लगा.

Maya तड़प कर कहने लगी- और जोर से चाट मेरी चूत को… आह्ह हरामी, पूरा मुँह घुसेड़ और जोर से चाट इसे… आहाहा आहाहा आआह… कितना मस्त चाट रहा है साले!

मैंने अपना दूसरा हाथ उसके पैर के पीछे से निकाला और उसके बूब्स को मसलना शुरू कर दिया और उसकी चूत में डाली दो उंगलियों को थोड़ा मोड़कर उसके जी-स्पॉट को छू लिया। (स्टोर वाली भाभी की चुदाई)

अब मैं अपना हाथ चूत में ऊपर-नीचे करने लगा।
इससे वो और उत्तेजित हो गयी और उसने अपने दोनों पैरों से मेरा सिर पकड़ लिया.

उसकी कामुक आवाजें ‘आआह आआह..’ जोर-जोर से निकलने लगीं.

कुछ मिनट तक ऐसा करने के बाद वो पागल हो गयी और बिन पानी की मछली की तरह तड़पते हुए उसने अपनी चूत से ढेर सारा पानी छोड़ दिया. (Hindi Sex Stories)

जब उसकी चूत से पानी निकल रहा था तब भी मैंने अपनी दोनों उंगलियाँ उसकी चूत में रखीं और हाथ चलाता रहा। झड़ने के बाद भी वह छटपटाती रही और चरमोत्कर्ष के शिखर पर पहुँच गई।

माया झड़ने के बाद थक चुकी थी.
उसने मुझे गले लगा लिया और बोली- ऐसा सुख मुझे आज तक किसी ने नहीं दिया.

मैं: ये तो अभी शुरू हुआ है मेरी जान. ये फोरप्ले था. चुदाई कहाँ हुई? चुदाई तो अभी होगी, लंड खड़ा करो और फिर देखो मैं चूत का क्या हाल बनाता हूँ.

ये कहते हुए मैंने उसे अपने लंड की तरफ इशारा किया.
वो मुस्कुराते हुए मेरे लंड की तरफ आई और चूसने लगी.

बस दो मिनट की चुसाई के बाद मेरा लंड खड़ा हो गया और मैंने माया को बिस्तर पर पीठ के बल लिटा दिया.
उसकी Moti Gand के नीचे दो तकिये लगाए और अपने हाथों से चॉकलेट फ्लेवर का कंडोम पहना.

मैं अपना लंड लहराते हुए उसके ऊपर आ गया. उसने अपने दोनों पैरों को घुटनों से पकड़ कर मोड़ा और अपने दोनों पैरों को फैला कर उसकी दोनों जांघों को अपनी कमर के पास सेट कर लिया. (स्टोर वाली भाभी की चुदाई)

इससे उसकी चूत खुल कर चौड़ी हो गयी.
अब मेरे लंड का उसकी चूत में जाना आसान हो गया.

उसकी गांड के नीचे दो तकिए रखे होने के कारण उसकी चूत ऊपर की ओर चिपकी हुई थी जिससे मैं अपने लंड को उसकी चूत में गहराई तक पेल सकता था।

मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रखा और रगड़ने लगा.

माया भाभी मादक सिसकारियां ले रही थीं- आह चोदो मुझे … मैं अब बर्दाश्त नहीं कर सकती … जल्दी से इस लंड को पूरा अन्दर डाल दो और मेरी चुत की आग बुझा दो … पारस, जल्दी से मुझे चोदो, बहन के लौड़े.

मैंने उसे कस कर पकड़ लिया और माया की चूत पर बिना छुए अपना लंड रख दिया. फिर मैंने लंड का सुपारा उसकी चूत के मुँह पर रखा और एक हल्का सा धक्का दिया।

इससे लंड का सुपारा उसकी चूत में थोड़ा अन्दर जाकर रुक गया.
मैंने अपने पैरों को कस लिया और अपने पूरे शरीर के वजन के साथ जोर से धक्का दिया।

देसी भाभी की चूत बहुत गीली थी और कंडोम पर लगी चिकनाई की वजह से मेरा लम्बा और मोटा लंड उनकी चूत में पूरा घुस गया.

माया भाभी- आह मैं मर गई …  अपना लंड निकाल … आह मादरचोद ने मेरी चूत फाड़ दी … आह धीरे धीरे डालना था तुझे … मैं कहां भाग रही हूं? (स्टोर वाली भाभी की चुदाई)

मैं- साली कुतिया… तू तो लंड का मजा लेती है. अब तेरा दर्द दूर हो जायेगा कुतिया. बस अपनी चूत ढीली छोड़ रंडी.

मैंने धीरे से अपना आधा लंड बाहर निकाला और धीरे धीरे धक्के लगाने लगा.
कुछ धक्कों के बाद भाभी का दर्द कम हो गया और वो अपनी गांड उठा कर तेजी से Chut Chudai के लिए कराहने लगीं.

यह देख कर मैंने उसके शरीर को कस कर पकड़ लिया और उसे उठाते हुए अपना लंड सुपारे तक बाहर निकाल लिया.
अगले ही पल पूरा लंड वापस चूत में था…वो फिर कराह उठी।

अब मैं उसी तरह तेज और तेज झटके देने लगा.
इस तरह की चुदाई से बेड भी हिलने लगा.

आपको मेरी स्टोर वाली भाभी की चुदाई कहानी कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएं और कहानी का अगला भाग पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करे।

कहानी का अगला भाग: किराना स्टोर वाली भाभी की चुदाई

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds