किराना स्टोर वाली भाभी की चुदाई – नेबर भाभी XXX कहानी भाग 2

किराना स्टोर वाली भाभी की चुदाई – नेबर भाभी XXX कहानी भाग 2

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “किराना स्टोर वाली भाभी की चुदाई – नेबर भाभी XXX कहानी भाग 2”। यह कहानी पारस की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

नेबर भाभी XXX कहानी में मैंने अपने पड़ोस में एक दुकान वाली भाभी को पटाया और उसे सेक्स के लिए राजी किया. वह मेरे कमरे में आयी.

दोस्तो, मैं पारस आपको अपने मोहल्ले की किराना दुकान वाली माया भाभी की चुदाई की कहानी बता रहा था।
कहानी के पहले भाग: नेबर भाभी XXX कहानी में अब तक आपने पढ़ा था कि मैं दुकान वाली भाभी को पटाने की कोशिश कर रहा था और उनसे मजाक कर रहा था.

अब आगे हॉट नेबर भाभी XXX कहानी:

इतने में उसका पति योगेश आया और सारा सामान एक बैग में पैक करके मुझे दे दिया.
मैं वहां से वापस चला गया.

अब मेरे मन में माया भाभी का ख्याल आने लगा कि कैसे उनको चोदने का इंतजाम करूं.

उन दिनों मेरे काम का समय बदल गया और अब मुझे दोपहर से लेकर देर रात 1 बजे तक काम करना पड़ता था।
इसलिए मैं खाना वगैरह खाकर फ्लैट पर आ जाताऔर वहीं सो जाता.

दरअसल, मैं सुबह घर से नाश्ता करके फ्लैट पर आता था, लेकिन जैसेही टाइमिंग चेंज हुयी तो मैंने फ्लैट पर ही अपनी चाय बनाना शुरू कर दिया। (नेबर भाभी XXX कहानी)

सुबह माया का पति योगेश दूध पहुंचा देता था और घर से हिसाब ले लेता था.

फिर एक दिन माया भाभी योगेश की जगह दूध देने आ गईं.
मैंने पूछा- आज आप?

उन्होंने कहा कि योगेश का कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया है और वह अपने घर में ही क्वारंटाइन हो गए हैं। अब मैं 15-20 दिन तक दूध देने आऊंगी.

यह सुन कर मैं खुश हो गया और मन में सोचा कि ये तो रंडी को चोदने का इंतजाम हो गया. जैसे ही मेरे मन में ख्याली पुलाव बन रहा था, माया भाभी को भी अहसास हो गया कि मैं क्या सोच रहा हूँ.

वह मुस्कुराते हुए बिल्डिंग की ऊपरी मंजिल पर एक बूढ़ी आंटी को दूध देने चली गई।

दस मिनट बाद वह बिल्डिंग से बाहर चली गयी. फिर अगले दिन घंटी बजी और मैं खाली शॉर्ट्स पहनकर अपना लंड खुजाता हुआ आया और मैंने दरवाज़ा खोला.

मुझे शॉर्ट्स में देख कर वो थोड़ा शरमा गयी.

मैं- दूध देने आयी हो!

अपने लंड को सेट करने के बाद मैंने अपना हाथ लंड से हटा लिया जिससे मेरे शॉर्ट्स पर लंड का आकार बन गया और साफ़ दिखने लगा.

माया भाभी मेरे लंड को देख कर अपने मुँह पर हाथ रख कर बोलीं- हे भगवान!
मैं- क्या हुआ?

Maya ने शरमा कर अपनी नजरें लंड पर से हटा लीं और बोली- अरे कुछ नहीं.
यह कहते हुए उसने अपने होंठ दाँतों से दबा लिये।

मैं समझ गया कि अब वो सेक्स के लिए राजी हो गयी है. तभी ऊपर वाली आंटी ने माया को बुलाया और वो दूध देने ऊपर चली गयी.

मैंने भी एक योजना बनाई और दूध में नींबू डालकर उसे जल्दी से गर्म कर दिया, जिससे दूध फट गया. फिर जैसे ही माया भाभी जाने लगीं तो मैंने उन्हें रोक लिया. (नेबर भाभी XXX कहानी)

मैं उसके Big Boobs को देख कर कहने लगा- तुम्हारा दूध फट गया?
उन्होंने साड़ी पहनी हुई थी और ब्लाउज में सामने की तरफ हुक लगे हुए थे.

जब मैंने उसे बताया तो उसे लगा कि उसका ब्लाउज फट गया है।

उसने अपना पल्लू एक तरफ सरकाया और अपना ब्लाउज चेक करने लगी.
वो अपने हाथों से इधर उधर अपने स्तनों को देखने लगी.

तब मैंने हंसते हुए कहा- अंदर दूध गर्म करने के लिए रखा था, वो फट गया है.

इस पर माया भी हंस पड़ी.
उसे पता ही नहीं चला कि उसके ब्लाउज के दो हुक खुल गये थे और इस वजह से उसके स्तन और भी साफ़ दिखने लगे थे.

माया भाभी- कैसे, मैंने तो चेक करके फ्रेश पैक दिया था!
मैं- अगर ऐसी बात है तो अन्दर किचन में आकर देख लो.

माया भाभी ने जल्दबाजी में अपना पल्लू वगैरह ठीक नहीं किया और ऐसे ही अन्दर आ गईं.

मैं उसके स्तनों को ऐसे घूरने लगा जैसे अभी पकड़ कर मसल डालूँगा।

माया भाभी किचन में गईं और गैस चूल्हे पर रखा फटा हुआ दूध देखा- अरे, ये कैसे हुआ? कोई बात नहीं, मैं तुम्हें दूसरा पैकेट दे दूंगी। मैं- तुम खुद ही गर्म कर लो, नहीं तो कहेगी कि मैंने जानबूझ कर दूध के साथ कुछ किया है. (Hindi Sex Story)

माया भाभी मुस्कुराते हुए बोलीं- अच्छा, दूसरा बर्तन कहां है?
मैं: वो नीचे वाली दराज में है.

माया बर्तन उठाने के लिए नीचे झुकी और उसके स्तन मेरे सामने पूरी तरह दिखने लगे.
मेरी वासना को उमड़ता देख कर माया भी मुझे अपने स्तन खुल कर दिखाने लगी.

फिर उसने बर्तन में दूध भरकर चूल्हे की ओर रुख किया और बर्तन को दूध से गर्म करने लगी।
मैं उसके पीछे खड़ा था.

वो कुछ नहीं बोली और मैं अपना खड़ा लंड लेकर उसके करीब आ गया और मैंने अपना सख्त लंड उसकी Moti Gand पर छुआ दिया. (नेबर भाभी XXX कहानी)

माया भाभी फिर भी कुछ नहीं बोलीं, इससे मेरी हिम्मत और बढ़ गयी. मैंने अपना लंड सीधा उसकी उभरी हुई बड़ी गांड के बीच की दरार में रख दिया और खुद को उसकी गांड पर टच करके खड़ा हो गया.

माया भाभी थोड़ा झिझकी लेकिन कुछ नहीं किया.
वो तो बस लंड का मजा लेने लगी.

अब मैंने उसकी कमर पर हाथ रख कर उसे अपनी ओर खींच लिया और अपने लंड को जोर-जोर से रगड़ने लगा।

वो मेरा हाथ पकड़ कर कहने लगी- पारस, ये क्या कर रहे हो?
मैं: बस गर्म कर रहा हूँ.

माया भाभी- चूल्हे पर दूध गर्म हो रहा है ना.
में : अब इतना मत बनो, में तुम्हारी Tight Chut को गरम करने की बात कर रहा हूँ.

माया भाभी- ये सब गलत है यार, कोई देख लेगा … और अगर मेरे पति को पता चल गया … तो ये सब मेरे लिए अच्छा नहीं है. वैसे भी बहुत कुछ हो चुका है.

मैं- कुछ नहीं होगा भाभी.. फ्लैट अंदर से बंद है, कोई नहीं आएगा.. और आपके पति कोविड के कारण घर पर ही क्वारैंटाइन हैं। वो तो पता करने आने वाला नहीं है… और जब किसी को कुछ पता ही नहीं होगा तो उसे बताएगा कौन?

यह कहते हुए मैंने अपने दोनों हाथों से उसके दोनों बड़े-बड़े स्तन दबा दिये।
आह, क्या अद्भुत और मुलायम स्तन थे.

जैसे ही मैंने अपने हाथों से दूध मसला, भाभी की मादक कराहें निकलने लगीं.
वो खुद ही अपनी गांड मेरे लंड पर रगड़ने लगी और कराहते हुए बोली- अभी नहीं पारस. अभी बहुत काम है. मैं बाद में आऊंगी।

ये कहते हुए भाभी ने खुद को मेरे हाथों से छुड़ाया और दरवाजे की तरफ चली गईं.

फिर उसने अपना पल्लू ठीक किया और मेरी तरफ प्यार से देखती हुई बाहर चली गयी.
अब मैं उसके आने का इंतजार करने लगा.

मुझे दोपहर के भोजन के लिए घर जाना था।
जब मैं घर जा रहा था तो रास्ते में मुझे दुकान दिखी.
इन दिनों उनकी दुकान बंद थी.

मुझे थोड़ा दुख हुआ कि सुबह ही उस कुतिया को चोद देता तो अच्छा होता.
भारी मन से मैं आगे बढ़ गया. (नेबर भाभी XXX कहानी)

कुछ देर बाद वह खाना खाकर फ्लैट पर आ गया और काम करने लगा.

शाम को घंटी बजी और मैंने दरवाज़ा खोला तो माया भाभी पल्लू से अपना मुँह ढके खड़ी थीं।
मैंने तुरंत उसे अंदर खींच लिया और अपना सिर बाहर निकाला और चारों ओर देखा कि कोई देख तो नहीं रहा है।

फिर दरवाजा बंद करके तुरंत माया भाभी को अपनी बाहों में पकड़ लिया और उनके होठों को चूमने लगा.

उसने खुद को मुझसे छुड़ाया और बोली- इतनी भी क्या जल्दी है, मैं तो 3 घंटे के लिए यहीं हूँ. आराम से करो।
मैंने उसे ऊपर से नीचे तक देखा, साली कुतिया… क्या माल लग रही थी साड़ी में।

फिर मैं उसके करीब गया और उसके मुलायम रसीले होंठों को चूसते हुए उसे चूमने लगा.
उसने साड़ी का पल्लू हटा दिया और उसकी कमर पर हाथ रखा और धीरे-धीरे कमर सहलाने लगा।

साथ ही धीरे-धीरे उसके कपड़े उतारने लगा और अपने दोनों हाथों से उसके बड़े-बड़े स्तनों को मसलने लगा।
वो भी मजे से मेरा साथ देने लगी.

कमरे में घुसते ही मैंने बिना समय बर्बाद किये अपनी टी-शर्ट उतार दी और सिर्फ शॉर्ट्स में आ गया.
फिर उसने अपनी साड़ी, ब्लाउज, पेटीकोट आदि उतार दिया और उसे ब्रा और पैंटी में आ गयी.

भाभी, क्या गजब की औरत थी वो… दूध जैसी गोरी चिकनी भाभी… उनका 36-30-38 का फिगर और उनकी बड़ी, उठी हुई, लचीली Moti Gand मेरे सामने थी।

मेरा तो मन कर रहा था कि उसे चूम लूँ और चूमते हुए उसके दोनों स्तनों को अपने हाथों से दबा दूँ।
उसके गोरे और मुलायम बड़े स्तन मुझे मदहोश करने लगे. (Hindi Sex Stories)

मैं सोचने लगा कि बस आगे बढ़ कर उसे अपने दोनों हाथों से पकड़ लूं और ब्रा के ऊपर से ही उसके एक मम्मे को मुंह में रख लूं और चूसने लगूं. माया भाभी खुद भी एक रांड थी और चुदाई में बहुत सहयोग करती थी.

मैं बहुत खुश था कि आज तो लॉटरी लग गयी.

माया भाभी- इतना क्या सोच रहे हो?
मैं- आज तुम्हें कैसे चोदूँ… यही तो सोच रहा था!

माया भाभी फुसफुसाते हुए बोलीं- चोदना है तो बस मुझे चोद लो … मैं कब से तुम्हारे जवान लंड के लिए तरस रही हूं. आज तुम मुझे जैसे चाहो वैसे चोदो… और मेरी जलती हुई चूत को ठंडा कर दो। (नेबर भाभी XXX कहानी)

मैंने बिना समय बर्बाद किये उसे उल्टा कर दिया और दरवाजे पर हाथ रख कर खड़ा कर दिया.
उसकी बड़ी गांड को सहलाते हुए उसने अपने लंड को उसकी जाँघों के बीच सेट किया और उसकी चूत पर रगड़ने लगा.

भाभी की कमर को सहलाते हुए अपने दोनों हाथों को ऊपर की ओर लाया और उनके बड़े-बड़े स्तनों को जोर-जोर से मसलने लगा।

वो आह्ह आह्ह आह्ह करने लगी और अपनी आंखें बंद करने लगी. साथ ही भाभी अपनी मखमली गांड बाहर निकाल कर लंड पर रगड़ने और तड़पने लगीं.

पीछे से मैं भाभी की गर्दन और कंधों को चूमने लगा. उसने अपनी लम्बी जीभ निकाली और उसकी गर्दन को चाटने लगा।
मैं अपने मुँह से निकल रही लार से उसकी गर्दन को चिकना कर रहा था।

साथ ही हल्के हल्के धक्के लगाते हुए अपना लंड उसकी पूरी गांड पर सटाकर रगड़ने लगा.
उसकी मुलायम गुब्बारे जैसी गांड क्या कमाल की थी.

मैं एक हाथ से उसके बाएँ स्तन को दबा रहा था और दूसरे हाथ से उसकी लचीली गांड को दबाने लगा। हम दोनों न केवल मानसिक रूप से पागल थे बल्कि हम शारीरिक रूप से भी कामुक थे।

फिर मैंने पीछे से उसकी ब्रा का हुक खोला और उसकी ब्रा उतार दी.
अब मैंने उसे अपनी तरफ घुमाया और उसकी तरफ मुंह किया.
वह दरवाजे के सहारे पीछे झुक रही थी।

मैं उसके गोरे स्तनों को जोर जोर से दबाने लगा जिससे वह उत्तेजित हो गई और जोर जोर से कामुक सिसकारियां निकालने लगी. वो अपनी चूत को और जोर जोर से मेरे लंड पर रगड़ने लगी. (नेबर भाभी XXX कहानी)

मैंने अपना मुँह जितना हो सके उतना खोला और उसके एक मुलायम स्तन को अपने मुँह में ले लिया और उसे चूसना शुरू कर दिया। इस तरह मैं उसके दोनों स्तनों को एक-एक करके अपने मुँह में भरने लगा और चूसने लगा।

दूध चूसते-चूसते मैं अपने मुँह में लिए हुए एक स्तन को जड़ से दबाने लगा, जिससे उसका ज़्यादा दूध मेरे मुँह में जाने लगा और दूसरे हाथ से उसके दूसरे स्तन को भी दबाने का आनन्द लेने लगा।

इधर वो और अधिक छटपटाने लगी और जोर-जोर से आह्ह आह्ह आह्ह की आवाजें निकालने लगी।

मैंने उसके स्तनों से भरे मुँह को अपनी जीभ से चाटना शुरू कर दिया और उसके स्तनों के निपल्स को अपनी जीभ से रगड़ कर मानो उन्हें मथ रहा था। साथ ही मैंने अपनी जीभ निकाली और स्तनों के चारों ओर गोल-गोल घुमाने लगा।

ऐसा लग रहा था जैसे मैं अपना मुँह बड़ा कर सकता हूँ ताकि पूरा मम्मा अपने मुँह में समा सकूँ।

इधर माया भाभी ने अपने एक हाथ से मेरा सिर पकड़ लिया और अपने एक मम्मे पर दबाने लगीं.
साथ ही भाभी ने अपने दूसरे हाथ से मेरा लंड पकड़ लिया और सहलाने लगीं.

माया भाभी- कितना तगड़ा लंड है … इसे कितनी चूतों का पानी पिलाया है इसे बड़ा करने के लिए?
मैं- इस लंड ने कई चूतों का रस पिया है… और कई छेदों की आग भी बुझाई है. लेकिन मुझे अभी तक तुम्हारे जैसी सेक्सी कोई नहीं मिली!

माया भाभी- आह्ह आह्ह… आज मैं इस लंड से पूरे मजे से Chut Chudai करवाऊंगी और इस लंड की रंडी बनूंगी.
में : हाँ साली रंडी, आज यह लंड तेरी चूत और गांड में छेद करके ही शांत होगा.

दोस्तो, आपको नेबर भाभी XXX कहानी कैसी लग रही है, कृपया कमेंट करके जरूर बताएं।
आगे भाभी की चुदाई का रस तुम्हें और भी ज्यादा मजा देगा.

कहानी का अगला भाग: स्टोर वाली भाभी की चुदाई

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds