किराना स्टोर वाली भाभी की चुदाई – नेबर भाभी XXX कहानी भाग 4

किराना स्टोर वाली भाभी की चुदाई – नेबर भाभी XXX कहानी भाग 4

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “किराना स्टोर वाली भाभी की चुदाई – नेबर भाभी XXX कहानी भाग 4”। यह कहानी पारस की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

किराना स्टोर वाली भाभी की चुदाई स्टोरी में मैंने एक सेक्सी भाभी को पटाया और अपने घर बुलाया. पहले तो मैंने उसकी चूत की जम कर चुदाई की. फिर मैंने अपने मोटे लंड से उसकी गांड भी फाड़ दी!

दोस्तो, मैं पारस आपको अपनी सेक्स कहानी में मोहल्ले की दुकान वाली भाभी की चुदाई के बारे में बता रहा था.
अब तक कहानी के तीसरे भाग: किराना स्टोर वाली भाभी की चुदाई में आपने पढ़ा था कि मैं माया भाभी को जोर-जोर से चोद रहा था।

अब आगे किराना स्टोर वाली भाभी की चुदाई स्टोरी:

माया मेरे लंड से चुदते हुए जोर-जोर से आह्ह आह्ह की आवाजें निकालने लगी और कहने लगी- आह्ह… और जोर से चोदो मुझे… फाड़ दो मेरी चूत… डाल दो अपना यह मोटा मजबूत लंड और अन्दर तक आह्ह!

उसकी ये सब बातें सुनकर मुझे और जोश आने लगा और मैंने अपने धक्कों की स्पीड बढ़ा दी.
अब उसकी चूत मेरे लंड को मक्खन की तरह अपने अंदर लेने लगी.

मुझे भी Maya भाभी को चोदने में बहुत मजा आ रहा था.
करीब 4-5 मिनट की जोरदार चुदाई के बाद वो कराह उठी और झड़ गयी और उसकी चूत से पानी बहने लगा.

मैंने अपना लंड माया भाभी की चूत में फंसाए रखा और उनकी टांगों को पीछे धकेलते हुए उनकी चूत को और ऊपर उठा दिया और उनकी चूत पर बैठ गया. इस आसन से मेरा लंड बाहर निकल कर सख्त और मजबूत हो गया।

चूत के रस से भीगे हुए लंड पर उसकी उभरी हुई नसें अपनी अद्भुत शोभा बिखेर रही थीं.
अब मैं माया की चूत पर सवार था और अपनी गांड ऊपर उठाकर जोर-जोर से अपना लंड पेलने लगा।

इससे माया दर्द के मारे अपने हाथों से खुद की पकड़ से छुड़ाने की कोशिश करने लगी.
लेकिन मैं उसे जोर जोर से चोद रहा था. (किराना स्टोर वाली भाभी की चुदाई)

कुछ देर बाद वो भी ढीली पड़ गई और साथ देते हुए आह्ह आह्ह करने लगी.

मैंने माया को अपने पैरों को अपने हाथों से पकड़ने को कहा.
उसने अपने पैरों को अपने हाथों से पकड़ लिया.

जैसे ही उसके हाथ हरकत में आये, मैंने अपने हाथ छोड़ दिये और थोड़ा झुक कर उसके Big Boobs को सहलाने लगा।

आह क्या मजा आ रहा था… चिकनी चूत में लंड पेलने का मजा ही अलग था.
उसके बड़े-बड़े मम्मों को दबाते हुए … और उन्हें पकड़ कर खींचते हुए उसकी चुत पर धक्के लगाने का मजा ही अलग था.

यार, सच में… मुझे बहुत मज़ा आ रहा था।
मुझे चोदने के लिए क्या माल मिली… मुझे अपने लंड की किस्मत पर गर्व हो रहा था।

मैं तेजी से अपना लंड उनकी चूत में डालकर भाभी को चोदने लगा.

पूरे कमरे में बेड की चरमराहट की आवाज के साथ-साथ माया भाभी की आहा आहा… और उनकी तीसरी Chut Chudai की फच्च फच्च की मधुर आवाज गूंजने लगी.

दस मिनट तक ऐसे ही लंड को चूत में डालने के बाद भाभी को फिर से चरमसुख प्राप्त हो गया.
उसने अपने हाथ हटा दिए और पैर फैला दिए.

इस वजह से मेरा लंड बाहर आ गया था लेकिन मेरा लंड अभी भी सेक्स के लिए गुर्रा रहा था.
मैंने भाभी को डॉगी स्टाइल में बैठने को कहा. (किराना स्टोर वाली भाभी की चुदाई)

माया धीरे से कराहते हुए अपनी कोहनियों के बल बिस्तर पर झुक गई और अपने घुटने बिस्तर पर रखकर कुतिया बन गई। मैंने उसकी पीठ पर हाथ रख कर उसकी पीठ दबा दी और उसे गांड उठाने का इशारा किया. (Hindi Sex Story)

कुतिया रंडी ने अपनी गांड अच्छे से हिलाई और अपनी गांड ऊपर उठाये।
उसकी खूबसूरत गुब्बारे जैसी गांड मेरे सामने थी.

मैंने अपने हाथ के पूरे पंजे से उसकी गांड पर हल्के से थप्पड़ मारा और सहलाने लगा.
उसे भी मजा आ रहा था.

अब मैं कभी इस गांड पर मारता, तो कभी दूसरे पर!
उसे मजा आ रहा था और वह हंस रही थी और कराह रही थी.

कोई 10-15 थप्पड़ों के बाद उसकी गांड का रंग कटे हुए लाल तरबूज जैसा हो गया.

मुझे तो बस उसकी गांड चोदने का मन कर रहा था.
मुझे पता था कि अगर सीधे पूछा तो वो मना कर देगी, लेकिन मुझे ये भी पता था कि इस कुतिया की गांड कैसे मारनी है.

मैंने कुछ देर तक उसकी चूत को चाटा, जिससे उसे थोड़ा आराम महसूस होने लगा.

फिर मैंने डॉगी पोजीशन में माया भाभी के दोनों पैरों को फैलाया और खुद उनके पैरों के बीच में बैठ गया.
नीचे से अपने लंड को भाभी की चूत पर मारने लगा.

लंड के हर झटके के साथ उसके मुंह से आह्ह आह्ह की आवाज निकल जाती थी.

मैंने अपने लंड को उसकी Tight Chut पर रगड़ते हुए अचानक एक ही झटके में अंदर डाल दिया और अपने दोनों हाथों से उसकी गांड को खींचते हुए ज़ोर-ज़ोर से धक्के मारने लगा.

उसकी बड़ी और गुब्बारे जैसी गांड मेरे शरीर से छूकर थप थप की आवाज करने लगी. अचानक लंड के प्रवेश से वो भी उत्तेजित हो गयी और कराहने लगी.

फिर मैंने अपनी एक उंगली पर ढेर सारा थूक लिया और उसकी गांड के छेद पर मलने लगा.

माया भाभी- अहाहा अहाहा… आज तुम मेरी गांड छोड़ दो… गांड की चुदाई फिर कभी करना… आज छोड़ दो।
मैं- अरे डार्लंड, कुछ नहीं होगा. मैं तो बस तुम्हारी गांड सहला रहा हूँ. यदि आपको इसका आनंद नहीं मिले तो मना कर देना।

वह खामोश हो गयी।
मैंने भी उसकी गांड में उंगली डाल कर अंदाजा लगा लिया था कि वो लंड झेल पाएगी.

मैंने अपनी एक उंगली उसकी गांड में डाल दी और अन्दर-बाहर करने लगा।

उसके दोनों छेद भर जाने के कारण उसे एक अलग ही आनंद आने लगा और वो और भी उत्तेजित हो गई और अपनी गांड उठा-उठा कर मेरा साथ देने लगी। उसकी भी चुदास बढ़ने लगी. (किराना स्टोर वाली भाभी की चुदाई)

कुछ देर बाद माया भाभी बोलीं- ओह पारस.. तुम आज ही मेरी गांड चोद दो.. इसमें अपना मोटा लंड डाल कर मेरी चुदाई की चाहत पूरी कर दो।

मैंने धीरे से लंड को चूत से बाहर निकाला और कंडोम निकाला और तेल की शीशी ले आया.

अब मैं उसकी गांड पर हाथ फेरते हुए उसे चूमने लगा और उसकी गांड पर ढेर सारा तेल लगा दिया.
पहले मैंने एक उंगली अंदर डाली, फिर धीरे-धीरे दूसरी उंगली डाली और अंदर-बाहर करने लगा।

मेरी दोनों उंगलियों ने उसकी गांड का छेद थोड़ा चौड़ा कर दिया था. मैंने तेल की एक पतली धार उस छेद में डालनी शुरू कर दी, जिससे तेल उसकी गांड के अंदर जाने लगा.

अब मैंने अपने लंड पर तेल लगाया और सुपारे पर और तेल लगाया और उसकी गांड के छेद पर लंड को सेट किया.

फिर मैंने उसके घुटनों को अंदर की ओर धकेला और उसके दोनों पैरों को थोड़ा फैलाया।
इससे उसकी गांड थोड़ी नीचे आ गई और मेरे गोटे उसकी चूत को बार-बार छूने लगीं.

अब मैंने अपने लंड को अपने हाथ से पकड़ लिया और अपना अंगूठा लड़ के टोपे के पीछे रख दिया, ताकि लंड का सिर उसकी गांड में ठीक से घुस जाए और इधर-उधर न भागे।

फिर अपना एक हाथ उसकी पीठ पर रखा और एक जोरदार धक्का मारा. तेल ज्यादा होने के कारण मेरा लंड उसकी गांड में 3-4 इंच अन्दर चला गया. (किराना स्टोर वाली भाभी की चुदाई)

माया भाभी- हाय अम्मा, मेरी गांड फट गई है … बहुत दर्द हो रहा है … जल्दी से अपना लंड बाहर निकालो … मुझे आपकी गांड नहीं मारनी है … आह.

मैंने उसकी पीठ को सहलाना शुरू कर दिया और एक हाथ से उसकी कमर को कस कर पकड़ लिया ताकि जब वह आगे-पीछे होने की कोशिश कर रही हो तो मेरा लंड बाहर न आ जाये।

मैंने कुछ देर तक अपना लंड ऐसे ही अन्दर डाले रखा और उसकी पीठ को सहलाना बंद कर दिया।
फिर उसकी कमर को दोनों हाथों से पकड़कर अपने लंड को थोड़ा बाहर खींचा और पीछे से एक जोरदार धक्का मारा.

इस बार उसकी गांड फटने लगी और पूरा लंड अन्दर घुस गया.
मैंने अपने दोनों हाथों से उसकी गांड को मजबूती से पकड़ कर अपने लंड पर खींच लिया और साथ ही आगे की ओर झुक कर उसकी पीठ को चूमने लगा.

माया भाभी आंखों में आंसू लेकर गालियां देने लगीं- बहनचोद… फाड़ दी मेरी गांड… निकाल अपना लंड…  आराम से नहीं डाल पाया था. साले ने मेरी गांड फाड़ दी. आह मैंने पहले कभी अपनी गांड नहीं मरवाई है. आह… बहुत दर्द हो रहा है.

वो गाली तो दे रही थी लेकिन अपनी गांड नहीं हिला रही थी. मैंने कुछ देर तक अपना लंड अन्दर डाले रखा और हल्के-हल्के आगे-पीछे करने लगा। (किराना स्टोर वाली भाभी की चुदाई)

कुछ देर बाद माया भाभी भी शांत हो गईं और वो भी गांड मरवाने का मजा लेने लगीं.
वह धीरे-धीरे ‘आहह आहह’ करने लगी।

मैं भी उसकी पीठ से उठ गया और अपने दोनों हाथों से उसकी कमर खींचते हुए धक्के लगाने लगा.
उसकी गांड को धकापेल चोदते समय कमरे में फिर से थप-थप की आवाज गूंजने लगी.

उसकी बड़ी मटके जैसी गांड मेरे लंड को बहुत मजा दे रही थी.

जब मैं अपने लंड को सुपारे तक बाहर निकालता और अंदर धकेलता तो मेरा लंड उसके दोनों मुलायम नितंबों के बीच दबता और रगड़ता हुआ वापस उसकी गांड में घुस जाता, तब मुझे कुछ अलग सा महसूस होने लगता।

इतना मजा आया कि मेरे लंड की गर्मी और बढ़ने लगी. मैं उसके बाल खींचते हुए जोर जोर से उसकी गांड चोद रहा था.

कोई 6-7 मिनट में माया की गांड मेरे लंड से चौड़ी हो गयी और उसकी गांड का गोदाम बन गया. उसकी गांड चोदने का एक अलग ही नशा था मुझ पर. (Hindi Sex Stories)

मैंने उसके बाल छोड़ दिये और आगे झुक कर उसके हाथों को कोहनियों से पकड़ लिया और पीछे खींच कर उठा लिया।

माया अब अपने घुटनों पर थी, मैंने उसके दोनों हाथों की कोहनियों को माया की पीठ के पीछे पकड़ रखा था।
इससे उसका पेट बाहर आ गया और गांड एकदम से ऊपर उठ गयी. (किराना स्टोर वाली भाभी की चुदाई)

उसके दोनों नितम्ब आपस में चिपक गये थे जिससे उसकी गांड और भी टाइट हो गयी थी। मैंने अपने शरीर को थोड़ा और कड़ा किया और अपने लंड को थोड़ा बाहर खींच कर उसकी गांड को चोदना शुरू कर दिया।

माया की गांड मुझे पहले से ज्यादा मजा देने लगी और मैंने जोश में आकर अपनी स्पीड बढ़ा दी और पूरा लंड बाहर खींच कर अंदर डालने लगा. हर धक्के के साथ मेरे अंडकोष उसकी चूत पर थपकी देने लगे।

माया को भी इससे बहुत मजा आने लगा.
वो आहें भरने लगी और उस पर एक अलग सा नशा छा गया.

कुछ देर बाद माया भाभी लड़खड़ाने लगीं जैसे उनमें ताकत ही नहीं बची हो. लेकिन मैंने उसे कस कर पकड़ रखा था और पूरी स्पीड से उसकी Moti Gand चोद रहा था.

तेजी से गांड में लंड घुसाने से थप थप थप थप की आवाज और भी तेज हो गई थी.
साथ ही चुदाई के असर से उसकी बड़ी मुलायम गुब्बारे जैसी गांड पर एक लहर सी बनने लगी.

कुछ देर बाद मैं भी झड़ने के करीब आ गया और 4-5 जोरदार धक्कों के साथ उसकी गांड से कसकर चिपक कर चरम सीमा पर पहुँच गया। उसी पल मुझे लगा कि माल अब नहीं रुकेगा.

तो मैंने अपने लंड को और अंदर तक घुसाने की कोशिश करते हुए सारा माल भाभी की गांड में गिरा दिया.

झड़ने के बाद मैं लम्बी-लम्बी साँसें लेने लगा। मैंने माया भाभी को ढीला छोड़ दिया और वो वैसे ही बिस्तर पर गिर गईं.
मैं भी अपना लंड उसकी गांड में डाले हुए ही उसके ऊपर लेटा रहा.

फिर हम दोनों एक हाथ हटा कर आराम की हालत में बिस्तर पर लेटे रहे.

करीब 15 मिनट बाद हम दोनों उठे और उसने मुझे गले लगा लिया.
मैंने उसे सावधानी से उठाया और नंगा ही किचन में चला गया.

उसने आराम से अपने कपड़े पहने और इसी बीच मैंने चाय बना ली.

हम दोनों ने चाय पी और नाश्ता किया.
मैंने समय देखा तो 2 घंटे बीत चुके थे.

माया भाभी- अब मुझे जाना होगा, नहीं तो घर पर शक हो जाएगा.
मैं- फिर कब आओगी.. मेरे फ्लैट पर कोई नहीं आता. जब भी आपका मन हो बेझिझक आ जाना।

माया भाभी मुस्कुराते हुए- हां मेरे राजा, अब तो मुझे तुम्हारे लंड की आदत हो गयी है. अब मैं रंडी बन कर यहाँ आऊंगी और चुदवाऊंगी. अब तुम बाहर देखो कि रास्ता साफ़ है या नहीं!

मैंने बाहर देखा कि कोई है तो नहीं.
वहां कोई नहीं था इसलिए माया भाभी ने अपने पल्लू से अपना चेहरा ढक लिया और चली गईं.

वह ठीक से चल नहीं पा रहा था; वह अपने पैर फैलाकर चल रही थी.
मैं समझ गया कि आज कुतिया की अच्छी चुदाई हुई है.

दोस्तो, आशा है आपको मेरी किराना स्टोर वाली भाभी की चुदाई कहानी पसंद आयी होगी.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds