दोनों चाची को अपनी रंडी बनाया: सेक्सी चाची XXX स्टोरी भाग 1

दोनों चाची को अपनी रंडी बनाया: सेक्सी चाची XXX स्टोरी भाग 1

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “दोनों चाची को अपनी रंडी बनाया: सेक्सी चाची XXX स्टोरी भाग 1”। यह कहानी अंकित की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

दोस्तो, मैं अंकित, आप सभी लड़कियों और भाभियों को तहे दिल से सलाम करता हूँ।

मेरी उम्र 21 साल है. मेरा परिवार बड़ा है। मेरे परिवार में मेरे पापा, मम्मी, बड़े चाचा, बड़ी चाची, छोटे चाचा, छोटी चाची और उनके बच्चे सभी एक साथ रहते हैं।

हमारा घर तीन मंजिला है. सबसे नीचे माँ और पिताजी का कमरा है। बीच में दोनों चाचा का कमरा है. मेरा कमरा और अतिथि कक्ष सबसे ऊपर हैं। परिवार में सभी लोग खुले विचारों वाले हैं।

हमारा कंस्ट्रक्शन का काम है. पापा और चाचा दोनों एक साथ काम करते हैं। मैं पढ़ाई करता हूं और अपने पिता के लिए ऑफिस का कुछ काम भी करता हूं। मेरे घर पर नौकर भी काम करते हैं.

इसीलिए माँ और चाची सुबह के काम निपटाकर हमेशा तैयार रहती हैं। उनके कपड़े भी बहुत मॉडर्न वाले होते हैं. ब्लाउज भी बड़े गले, बैकलेस और स्लीवलेस होते हैं। वह तमाम पार्टियों और क्लबों में भी जाती रहती हैं।

पापा और चाचा को ऑफिस से ज्यादा समय नहीं मिल पाता, इसलिए माँ और चाची अपने काम या शॉपिंग के लिए अपनी कार से बाजार जाती हैं। (सेक्सी चाची XXX)

मेरी चाची की उम्र करीब 32-33 साल होगी. मेरे और चाचा के सभी दोस्त दोनों चाची के दीवाने हैं… और क्यों न हों… दोनों ही इतनी सेक्सी हैं कि जवान तो छोड़िए, बूढ़ों का भी लंड खड़ा हो जाए। उन दोनों के बड़े-बड़े स्तन, Moti Gand, लम्बा कद और गोरा रंग.. मोहल्ले में कितने लोग उन्हें देखकर झड़ जाते होंगे।

मुझे भी सेक्स का बहुत शौक था, लेकिन मैं अपने परिवार की वजह से कुछ नहीं कर पाता था. मैं आते जाते उसके स्तनों और गांड को देखता रहता था.

खैर, एक दिन मैं और मेरा एक दोस्त अपने कॉलेज से घर आ रहे थे। मेरे दोस्त ने मुझसे कहा- चलो आज कॉफी पीने चलते हैं. मेरे पास भी कोई काम नहीं था तो मैंने हां कह दिया.

हम दोनों एक कैफे में पहुंचे, वहां मैंने देखा कि मेरी फैमिली की कार पार्किंग में खड़ी थी. खैर.. ये देखने के बाद मैं कैफे में गया.

कुछ देर बाद मैंने देखा कि मेरी बड़ी चाची एक लड़के के साथ हाथ में हाथ डाले बाहर आ रही थीं, उन्होंने काले रंग का स्लीवलेस ब्लाउज और गुलाबी रंग की साड़ी पहनी हुई थी। उसके बड़े बड़े स्तन साफ़ दिख रहे थे.

लड़का उससे बहुत चिपक गया था. बाहर जाते समय चाची ने मुझे देख लिया और डर गईं और तेज कदमों से वहां से चली गईं. मैं भी जल्दी से उठा और कैफे से निकल कर घर पहुंच गया.

अब तक चाची की कार घर पहुंच चुकी थी. मैं चाची के कमरे में गया तो देखा चाची नहा रही थीं. मैं उनके बाथरूम के किसी छेद से उन्हें देखने की सोच रहा था, तभी मेरी छोटी चाची ने मुझे पीछे से देखा और बोलीं- तुम यहां क्या कर रहे हो? तुम्हारी माँ तुम्हें बुला रही है.

तभी बड़ी चाची बाथरूम से बाहर आईं, मैंने उन्हें देखा, वो मेरी तरफ देख रही थीं।

इस वक्त उन्होंने एक झीना सा गाउन पहना हुआ था. उस गाउन का गला काफी बड़ा था. उसमें से चाची के दोनों स्तन साफ़ दिख रहे थे। मेरे मन में पहले से ही चाची के बारे में सेक्सी विचार थे। मेरी नज़र चाची के Big Boobs पर टिकी थी, चाची ये सब देख रही थी।

खैर, मैंने खुद को संभाला और कमरे से बाहर जाने लगा.. तभी बड़ी चाची बोलीं- क्या तुम रोज उस कैफे में जाते हो या आज सिर्फ मुझे देखने आये थे?

मैं उसकी बात सुनकर चौंक गया और कमरे से बाहर आ गया. जब मैं बाहर आ रहा था तो दोनों चाचियां जोर जोर से ठहाके लगाकर हंसने लगीं. मैं नीचे भागा. (सेक्सी चाची XXX)

रात को सबने एक साथ खाना खाया और खाना खाते समय मैंने सुना कि पापा दोनों चाचा से कहीं जाने के बारे में बात कर रहे थे। मैंने पूछ ही लिया- कौन जा रहा है? पापा ने कहा- तुम्हारे दोनों चाचा काम के सिलसिले में चार दिन के लिए मुंबई जा रहे हैं.

मैं बहुत देर से देख रहा था कि चाची इस बात पर हल्के-हल्के मुस्कुरा रही थीं।

पापा ने दोनों चाचाओं से बात ख़त्म की और खाना खाने के बाद सभी अपने-अपने कमरे में चले गये। मैं भी अपने कमरे की ओर बढ़ गया. रात के नौ बजे थे। मैं चाचा के कमरे के पास से गुजर रहा था, तभी बड़े चाचा ने आवाज दी- अंकित, हमारे साथ एयरपोर्ट छोड़ने चलो. मैंने कहा- ठीक है चाचा.

उनकी फ्लाइट का समय 11:30 बजे था. कुछ देर बाद चाचा ने मुझे बुलाया. जब मैं चाचा के कमरे में पहुँचा तो देखा कि वह अपना सामान बैग में पैक कर रहे थे और चाची पास में खड़ी थीं। चाची मुझे देखते ही मुस्कुराने लगीं.

चाचा ने मेरी तरफ देखा और कहा- चलो.
चाची अभी भी पीछे से मुस्कुरा रही थीं। मेरा ध्यान फिर से उसके स्तनों पर अटक गया।
तभी चाचा ने ज़ोर से कहा- चल अंकित.. देर हो रही है।

मैंने खुद पर काबू पाया और घर से बाहर कार की तरफ चलने लगा. जब हम तीनों कार से एयरपोर्ट पहुंचे तो 11 बज चुके थे. दोनों चाचाओं ने मुझसे कहा- बहुत देर हो गई हैं.. तुम घर जाओ, हम चले जाएंगे।

मैंने अपना सामान उतारा और चाचा को अलविदा कहा और चला गया। पूरे रास्ते चाची का चेहरा मेरे सामने घूम रहा था। मैं घर में दाखिल हुआ और अपने कमरे में जाने लगा. पिताजी और माँ सो रहे थे. मैं ऊपर गया तो देखा कि मेरी बड़ी चाची जाग रही थीं.

मैं अपने कमरे में जाने लगा तो चाची ने आवाज दी- अंकित.
मैं उनके दरवाजे पर पहुंचा और पूछा- क्या हुआ?

चाची ने मुझे अंदर बुलाया. मैंने देखा कि चाची अब सिर्फ एक जालीदार नाइटी पहने हुए थीं. मेरा ध्यान फिर से उसके स्तनों पर गया. नाइटी में से उसके स्तनों के निपल साफ़ दिखाई दे रहे थे। इतने में चाची बोलीं- तुमने मुझे कैफे में देखा था ना?

मैंने पूछा- हां, वो लड़का कौन था?
वो शांत होकर बोली- वो मेरा बॉयफ्रेंड था.
मैंने कहा- चाचा को पता है?
चाची बोलीं- नहीं.. लेकिन तुम भी प्लीज़ मत बताना.

मैंने उनसे पूछा- क्यों.. चाचा में क्या कमी है?
चाची अचानक परेशान होने लगीं.
मैंने निडर होकर पूछा- क्या हुआ?
तो वो बोलीं- तुम्हारे चाचा को तो काम से फुर्सत ही नहीं है. इतनी जवान और खूबसूरत बीवी घर पर है, लेकिन उसे देखते ही नहीं.

उनकी जवानी देख कर मुझे उनसे ईर्ष्या होने लगी.
चाची मुझसे पूछने लगीं- क्या तुम्हें नहीं पता कि एक जवान पत्नी को क्या चाहिए?
मैंने पूछा- क्या चाहिए? (सेक्सी चाची XXX)

तो वो बोली- अंकित इतना भोला मत बनो, मुझे सब पता है। क्या आपकी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है?
मैंने कहा- हां, है तो.

चाची ने पूछा- लेटने वाली या कार के पीछे बैठने वाली?
इतना कह कर चाची मुस्कुराने लगीं और बोलीं- प्लीज, अगर तुमने कैफे के बारे में किसी को नहीं बताओगे तो मैं तुम्हें एक गिफ्ट दूंगी.
मैंने कहा- ठीक है.. नहीं कहूँगा.

बात करते समय मेरी नज़र बार-बार चाची के स्तनों पर जा रही थी। चाची ये सब बड़े ध्यान से देख रही थी. चाची ने कहा- अपनी आँखें बंद करो और तुम्हें एक गिफ्ट मिलेगा।

मैंने अपनी आँखें बंद कर लीं. कोई आधे मिनट बाद मैंने कहा- और कितनी देर लगेगी?
तभी किसी के होंठ मेरे होंठों से छू गये. मैं मन ही मन खुश हो रहा था कि अब चाची भी तैयार है.

जैसे ही मैंने आंखें खोलीं तो छोटी चाची मेरे होंठों को चूम रही थीं. मैंने आश्चर्य से देखा तो दोनों मुस्कुराने लगीं.
इतने में बड़ी चाची बोलीं- आज हम दोनों तुम्हें लेटना सिखायेंगे.

ये कह कर वो दोनों मेरे गालों को चूमने लगीं. किस करते समय मेरा लंड पैंट के अंदर हरकत कर रहा था और अब कंट्रोल से बाहर हो रहा था.

मेरे दोनों हाथ चाची के शरीर पर चल रहे थे. चाची के हाथ मेरी छाती और मेरी पैंट के उभरे हुए हिस्से पर चल रहे थे।
फिर अचानक मैंने कहा- दरवाजे लगा दो। (सेक्सी चाची XXX)

इतने में बड़ी चाची ने मुझे धक्का देकर बिस्तर पर गिरा दिया और छोटी चाची उठकर दरवाजा बंद करने चली गईं. अब मैं पूरी तरह से तैयार था. वो दोनों बेड के पास आकर खड़े हो गये और एक दूसरे के कपड़े उतारने लगे.

कभी-कभी तो वो एक-दूसरे के होठों को चूम भी रहे थे। कुछ देर बाद उन दोनों के शरीर पर सिर्फ पैंटी ही बची थी. दोनों एक दूसरे के स्तनों को सहला रही थीं. यह पहली बार था जब मैंने इतने बड़े स्तन एक साथ देखे थे।

तभी बड़ी चाची ने मुझे गाली देते हुए कहा- मादरचोद मुझे ही नंगी करेगा..  खुद ऐसे ही पड़ा रहेगा क्या?

मैं बिस्तर से खड़ा हुआ और उन दोनों को अपनी बांहों में ले लिया. अब हम तीनों एक दूसरे को चूम रहे थे. वो दोनों मुझे लगभग नोच रहे थे. फिर बड़ी चाची ने मेरी टी-शर्ट उतार दी और छोटी चाची का एक हाथ पजामे के ऊपर से मेरे लंड को छू रहा था।

फिर दोनों ने एक-एक हाथ से मेरा पायजामा नीचे सरका दिया। मैंने भी देर नहीं की और अपने पैरों की मदद से पायजामा पूरा उतार दिया। अब हम तीनों के शरीर पर केवल पैंटी और अंडरवियर ही बचे थे. (सेक्सी चाची XXX)

उन दोनों की नजर मेरे अंडरवियर पर पड़ी तो बोले- तुम्हारी चाबी बाहर आने को मचल रही है.
मैंने भी एक चाची के मम्मों को सहलाते हुए कहा- हां साली रंडियो, अब मुझे ज्यादा मत सताओ.
फिर दोनों ने एक दूसरे से कुछ फुसफुसाया और हंसने लगे. (सेक्सी चाची XXX)

मैंने अपना लंड हिलाते हुए पूछा- क्या हुआ?
छोटी चाची बोलीं- आज हम दोनों तुम्हारे लंड का पूरा मजा लेंगी.

उधर बड़ी चाची कंप्यूटर की ओर बढ़ीं और उसे चालू कर दिया. उसने एक पेन ड्राइव डाली और एक पोर्न लगा दी. उस फ़िल्म में दो औरतें एक आदमी का लंड अपने हाथ में पकड़ कर आगे-पीछे कर रही थीं।

बड़ी चाची हमारे पास आईं और बोलीं- आज फिल्म में जो भी होगा, हम वही करेंगे.
इतना कह कर चाची मेरे लंड को सहलाने लगीं. उसकी बात सुनकर हम तीनों मुस्कुरा दिए.

अब दोनों एक दूसरे के हाथों से एक दूसरे के स्तनों को मसलने लगे और दूसरे हाथ से अंडरवियर के ऊपर से लंड को सहला रहे थे. मैं अपने आप पर काबू नहीं रख सका तो मैंने अपना अंडरवियर भी उतार दिया.

दोनों ने बड़ी बड़ी आँखों से लंड को देखा और बोलीं- हे भगवान, यह क्या घोड़े का है?
मेरे लंड को अपने हाथ में ले लिया और उसे आगे-पीछे करने लगीं। मेरा गोरा लंड खड़ा होकर चमक रहा था.

छोटी चाची बोलीं- तुमने तो अपनी गर्लफ्रेंड की Tight Chut फाड़ी दी होगी?
दोनों हंसने लगे.

मैंने कहा- हाँ चाची, आप सच कह रही हैं… जब मैंने उसकी पहली बार Chut Chudai की थी तो वो चल भी नहीं पा रही थी।

फिर मैं नीचे झुका और उनके दोनों बड़े स्तनों को अपने मुँह में लेने लगा। बड़ी चाची के स्तन छोटी चाची के स्तन से थोड़े बड़े थे। इतने बड़े स्तन मैंने पहली बार देखे थे. जब मैंने स्तनों को मुँह में लेना शुरू किया तो दोनों की कामुक सिसकारियाँ फूट पड़ीं. (सेक्सी चाची XXX)

वो दोनों ‘आअहह.. आअहह.. ऊहह..’ करने लगे. उन दोनों के हाथ मेरे लंड पर थे और वे बड़बड़ा रहे थे कि कितना अच्छा लंड है उसका।

इतना कहकर वो दोनों घुटनों के बल बैठ गईं और मेरे 8 इंच लंबे और तीन इंच मोटे फुल साइज लंड को बड़े ध्यान से देखने लगीं. (सेक्सी चाची XXX)

इसी बीच छोटी चाची मेरे लंड के सिरे को अपनी जीभ से चाटने लगीं. मेरे पूरे शरीर में करंट दौड़ गया. ये सब मेरे साथ पहली बार हो रहा था.

मैंने पूछा- रंडी.. ये सब तूने कहाँ से सीखा?
छोटी चाची बोलीं- तेरी बड़ी चाची ने मुझे सब कुछ सिखा दिया है.

फिर बड़ी चाची हंस पड़ी और छोटी चाची के दोनों स्तनों को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी.

अब हम तीनों एक दूसरे को गर्म कर रहे थे और कामुक सिसकारियां भी ले रहे थे. बड़ी चाची ने छोटी चाची के हाथ से मेरा लंड ले लिया और बोलीं- कुतिया अकेले ही खाओगी क्या?

कहानी अभी बाकी है मेरे दोस्त अगला भाग पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करे। आपको यह सेक्सी चाची XXX कहानी कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएं!

कहानी का अगला भाग: सेक्सी चाची XXX स्टोरी

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds