भाभी की गांड का आशिक मेरा लंड – सेक्सी भाभी XXX स्टोरी भाग 2

भाभी की गांड का आशिक मेरा लंड – सेक्सी भाभी XXX स्टोरी भाग 2

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “भाभी की गांड का आशिक मेरा लंड – सेक्सी भाभी XXX स्टोरी भाग 2”। यह कहानी राजू की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

सेक्सी भाभी XXX स्टोरी में मैंने अपनी पड़ोस की सेक्सी भाभी को पटाकर मजा लिया! इसके चलते एक बार मेरी पिटाई भी हुई थी.

कहानी के पहले भाग: सेक्सी भाभी XXX स्टोरी में पढ़ा कि मैं अपने पड़ोस की एक भाभी को चोदना चाहता था। मैंने भाभी को भी सैट कर लिया था और चुदाई की बात भी तय हो गयी थी.

अब आगे सेक्सी भाभी XXX स्टोरी: अगले दिन भाभी ने मुझसे रात को 10:00 बजे आने को कहा. मैं बड़ी बेसब्री से रात होने का इंतज़ार करने लगा.

रात के 10:00 बजे मैं भाभी के घर की दीवार पर चढ़ गया और चुपके से ऊपर भाभी के कमरे की तरफ पहुंच गया.

मैंने सावधानी से दरवाज़ा खोला.
मैंने देखा प्राची भाभी बिस्तर पर लेटी हुई थीं.

जैसे ही हमारी नजरें मिलीं, भाभी तुरंत बोलीं- 1 मिनट बाद आना!

मैं 1 मिनट बाद अंदर गया तो देखा कि भाभी घूँघट करी हुए थी और बिस्तर पर बैठी थी।
मैंने दरवाज़ा बंद कर दिया.

मैं कांपते पैरों से भाभी के बिस्तर के पास गया.
मैंने देखा कि भाभी ने काले रंग का पटियाला सलवार सूट पहना हुआ था.

भाभी ने अपनी कलाइयों को काली चूड़ियों से भर रखा था।
उसने पैरों में पायल पहन रखी थी. (सेक्सी भाभी XXX स्टोरी)

मैं भाभी के पास बैठ गया और उनके घूँघट के अन्दर झाँकने लगा। भाभी ने एक बार मेरी तरफ देखा, मुस्कुरायी और अपनी गर्दन नीचे कर ली.

तब मैं भाभी के बिल्कुल करीब बैठा हुआ था.

भाभी बोली- देवर जी, मैं अपनी मुँह दिखाई लेना चाहती हूँ.
मेरे पास भाभी को देने के लिए कुछ नहीं था तो मैंने कहा- मेरे पास देने के लिए कुछ नहीं है!

भाभी मुस्कुरा कर बोलीं- हां, मुझे तुमसे कुछ नहीं चाहिए, बस तुम्हारा प्यार चाहिए.

ये कहते हुए मैंने भाभी को अपनी बांहों में ले लिया.

मेरा एक हाथ भाभी के नितम्बों के पास था।
मेरी उंगलियाँ भाभी के मस्त और Moti Gand को छू रही थीं।

मैंने भाभी को अपनी बांहों में ले लिया.
भाभी के बड़े-बड़े स्तन मेरी छाती से छू रहे थे।

मैंने एक हाथ भाभी के नितम्बों पर रखा।
भाभी सी सी करने लगी.

मैं भाभी के बड़े-बड़े नितंबों को सहलाने की बजाय उन्हें फुटबॉल की तरह दबा रहा था।

भाभी मदहोश हो रही थी- उफ्फ देवर जी… मुझे ऐसे मत छेड़ो… मैं उफ्फ!
वह मेरी बांहों में छटपटा रही थी.

इस जद्दोजहद में मेरा मोटा तना हुआ लंड भाभी के हाथ को छू रहा था.
या यूं कहूं कि भाभी जानबूझ कर मेरे लंड से खेल रही थीं.

भाभी बोली- उफ्फ, मोटा है देवर जी… मेरी चूत फट जाएगी इससे.

मैंने भाभी का हाथ पकड़ कर अपने खड़े लंड पर रख दिया.
भाभी ने झट से मेरे लंड को डंडे की तरह पकड़ लिया और आंखें बंद करके उसे सहलाने लगीं.

मैं जल्द से जल्द भाभी की सलवार खोलना चाहता था.
मैं तो कब से भाभी के मोटे और कसे हुए नितंबों का दीवाना था!

मैंने अपनी एक उंगली भाभी के लटकते हुए नाड़े में फंसा दी और एक ही झटके में भाभी की काली सलवार का नाड़ा खोल दिया.

सलवार अपने आप भाभी की चिकनी और फैली हुई गांड से नीचे सरक गई. अब भाभी के सुडौल नितम्बों पर केवल एक छोटी सी काली पैंटी बची थी। (सेक्सी भाभी XXX स्टोरी)

मैं पागलों की तरह भाभी के मोटे या यूं कहूँ कि काली टाइट पैंटी में पुष्ट गांड को घूर रहा था। जब मैंने कांपते हाथों से भाभी की चिकनी गांड को छुआ तो मेरा हाथ अपने आप फिसल गया और नीचे पैंटी पर जा लगा.

मेरी हालत देख कर भाभी ने मेरे लंड पर अपनी पकड़ मजबूत कर ली और उसे जोर-जोर से सहलाने लगीं। मैंने भाभी को ब्लाउज उतारने का इशारा किया तो वो मुस्कुरा दीं और अपना सूट खुद ही उतार दिया.

अब भाभी सिर्फ काली डिजाइनर ब्रा और पैंटी में थीं.
मैं भाभी को देख कर पागल हो गया.

भाभी का मंगलसूत्र भाभी के 36 साइज के गोरे, तने हुए Big Boobs में फंसा हुआ था। आज मेरे कहने पर उसने लाल की बजाय कोहनियों तक काली चूड़ियाँ पहनी थीं।

भाभी की पतली कमर पर तगड़ी थी जो उनके थोड़ा भी हिलने पर आवाज कर रही थी।
नीचे भाभी ने पैरों में पायल पहनी हुई थी.

अप्सरा भी भाभी के सौंदर्य और यौवन को देखकर उनके सामने फीकी पड़ जाएँ। उनके चेहरे पर बाल बिखरे हुए थे, जिनमें से भाभी का लाल और गोरा चमकता चेहरा चमक रहा था.

भाभी मेरी तरफ मुस्कुरा कर बोलीं- प्यारे देवर जी, अगर तुम मुझे देखकर संतुष्ट हो गए तो अपनी प्यारी भाभी के पास आ आओ!

मैंने अपने कपड़े उतार दिए और सिर्फ अंडरवियर में अपने तने हुए तम्बू के साथ, भाभी के पास उनके डबल बेड पर गया और उन्हें अपनी बाहों में ले लिया।

मैंने उसके चांदनी से जगमगाते चेहरे को देखते हुए उसके गुलाबी होंठों पर अपने होंठ रख दिए.
भाभी मेरे निचले होंठ को अपने होंठों में दबा कर चूस रही थी।

मेरा एक हाथ भाभी की चिकनी कमर को पकड़े हुए था और दूसरा हाथ भाभी की पैंटी के ऊपर से उसकी गोल मांसल गांड पर फिरा रहा था. भाभी मजे से अपनी गांड हिला रही थी.

कभी मैं तो कभी भाभी एक दूसरे की जीभ चूस रहे थे.

मैंने एक हाथ भाभी की पैंटी में डाल दिया.
जैसे ही मेरा हाथ पैंटी के अन्दर गया तो मैंने पाया कि भाभी की चूत से मानो काम रस की नदियाँ बह रही हों।
मेरा पूरा हाथ भाभी के काम रस से भीग गया था.

भाभी का चेहरा और आंखें वासना से गुलाबी हो गई थीं.

मैं अपना हाथ उसकी कमर के पीछे ले गया और उसकी काली ब्रा का हुक खोल दिया।

भाभी की ब्रा खुलते ही दो सफ़ेद कबूतर आज़ाद हो गये। उसके दोनों स्तन बिल्कुल तने हुए थे.
मोटे सफ़ेद स्तनों पर दो भूरे रंग के उभरे हुए निपल्स थे। (सेक्सी भाभी XXX स्टोरी)

मैंने बिना समय बर्बाद किये पागलों की तरह भाभी के स्तनों को चूसना शुरू कर दिया। मैं एक एक करके स्तनों को चूस रहा था।

भाभी पागल हो गयी थी.
Prachi भाभी ने मेरे अंडरवियर में हाथ डालकर मेरे लंड को पकड़ लिया और मुठ मारने लगीं।

भाभी के लंड की मुठ मारने और मेरे स्तनों को चूसने के कारण कमरे में भाभी की चूड़ियों, पायलों और कमर में बांधी तागड़ी की आवाज संगीत का काम कर रही थी.

झनझनाहट की आवाज से कमरे का माहौल और भी मादक हो गया था. भाभी ने तुरंत मुझे नीचे पटक दिया और भूखी शेरनी की तरह मेरे लंड को अंडरवियर से आज़ाद करके उस पर झपट पड़ीं.

कभी वह अपने गोरे, गरम गाल मेरे लंड पर रगड़ती तो कभी उसे अपने स्तनों के बीचदबा कर हिलाती।

दो मिनट बाद भाभी ने अपना गुलाबी हाथ मेरे सात इंच के लंड के सुपारे पर रख दिया.
नतीजा यह हुआ कि मेरा लंड उत्तेजना के मारे प्रीकम उगलने लगा।

भाभी तुरंत प्रीकम को अपनी जीभ से चाट कर साफ करने लगीं.
उसकी इस हरकत से मैं अपनी कमर हिलाने लगा.

भाभी ने अपना मुँह फैलाकर मेरे मोटे लंड का स्वागत किया।
वह जितना हो सके मेरे लंड को अपने मुँह में लेने की कोशिश कर रही थी।

कभी टोपा तो कभी अंडकोष को मुँह में लेकर चूसने से मेरा लंड अब वीर्य उगलने वाला था।
मैंने भी भाभी को इशारा किया कि मैं झड़ने वाला हूँ.

भाभी बोली- मैं अपने प्यारे देवर का वीर्य टेस्ट करूंगी. आह झड़ जाओ देवर जी… निकाल दो वीर्य!

“उफ़्फ़ भाभी आह… सीईईई”
मेरे लंड से पिचकारी सीधे भाभी के गले में चली गयी.

भाभी ने एक भी बूंद बाहर नहीं आने दी; भाभी ने सारा का सारा वीर्य निगल लिया और अपने गले के नीचे उतार लिया.

उसकी ठुड्डी पर वीर्य की दो बूँदें लगी हुई थीं जिससे उसका चेहरा और भी मादक लग रहा था। अब मेरी बारी थी; मैं बिस्तर से नीचे उतरा और भाभी को घोड़ी बना दिया।

मैं भाभी के नितम्बों के पीछे आ गया।
भाभी के मोटे नितम्ब दोनों स्तन काफ़ी बड़े थे।

कमर पर बंधी चांदी की तगड़ी भाभी की कमर और नितंबों को और भी कामुक बना रही थी. इन बड़े नितंबों की सबसे बड़ी खासियत थी उनका गोरापन… और उनके ऊपर एक बड़ा सा कलात्मक तिल. (सेक्सी भाभी XXX स्टोरी)

भाभी की काली पैंटी उनकी गांड की दरार में फंसी होने के कारण पूरी तरह से काम रस से भीग चुकी थी.

मैं सांड की तरह अपना मुंह भाभी की गांड के पास ले गया और भाभी के नितंबों की गहरी नाली में अपनी नाक रगड़ने लगा.
एक मादक गंध से मैं मदहोश हो गया.

मैंने एक ही झटके में भाभी की पैंटी को भाभी के नितंबों से अलग कर दिया.

जैसे ही पैंटी उनके बड़े नितंबों से अलग हुई, भाभी की Tight Chut देखकर ही मेरा लंड पागल हो गया। भाभी की चूत के दोनों होंठ बहुत मोटे और गुलाबी रंग के थे।

चूत के बीच में एक डेढ़ इंच लंबा चीरा था जो गहरे गुलाबी रंग का था जिस पर भाभी के चूत रस की बूंदें चमक रही थीं।

मैं अब और इंतजार नहीं कर सकता था. मैं अपना चेहरा भाभी की चिकनी ब्रेड जैसी चूत के पास ले गया और कुत्ते की तरह अपनी जीभ से उसकी चूत को छेड़ने लगा।

मेरी इस हरकत से भाभी सिर से पाँव तक कांप उठीं.

मैं उसके मोटे सफ़ेद मांसल नितम्बों को अपनी जीभ से चाटने लगा।
पूरे नितम्बों को चाट चाट कर लाल कर दिया।

मैं घोड़ी बनी भाभी की गांड के बीच अपनी जीभ घुमा रहा था.
भाभी की चूत के मोटे होंठों को नोंच कर उन्हें उत्तेजित कर रहा था।

वो धीरे धीरे अपनी कमर और गांड हिला रही थी.

अब मैंने अपनी पूरी जीभ भाभी की चूत में डाल दी थी।
भाभी अपनी गांड को मेरे मुँह पर और जोर से धकेल रही थी.

मैं उसकी चूत के अंगूरों को अपने होंठों के बीच दबा कर चूस रहा था।

भाभी जोर-जोर से अपनी गांड मेरे मुँह पर मार रही थी और बड़बड़ा रही थी- आह्ह देवर जी… उफ़्फ़ गई… आह उफ़! देवर जी आह्ह…सी उफ्फ्फ! ये कहते हुए भाभी ने ढेर सारा पानी मेरे मुँह पर छोड़ दिया.

मैंने अभी तक भाभी की रसीली चूत को नहीं छोड़ा था। मैं पागल हो गया था।
मैं प्राची भाभी को एक पल के लिए भी छोड़ना नहीं चाहता था.

पांच मिनट तक चूत चाटने के बाद भाभी फिर से बड़बड़ाने लगीं- अब डाल दो मूसल लंड को … आह्ह डाल दो प्यारे देवर जी! अपनी रंडी भाभी को अभी चोदो! लव यू देवर जी… अपने मोटे लंड से मेरी चूत को चौड़ा कर दो!

मैंने झट से भाभी की कमर पकड़ ली.
लंड का सुपारा भाभी की गोरी और चिकनी चूत पर सेट किया गया और एक ही झटके में आधे से ज्यादा लंड भाभी की चूत में घुसा दिया गया. (सेक्सी भाभी XXX स्टोरी)

भाभी इस तरह मेरे लंड का दर्द झेलने के लिए तैयार नहीं थीं- आउच देवर जी… आह हाआ धीरे धीरे देवर जी!

मुझे किसी बात की परवाह नहीं थी, लेकिन भाभी की कराहती आवाज ने मेरा हौसला बढ़ा दिया और मैं उन्हें बेरहमी से पेलने लगा.

भाभी भी अपनी गांड उठा उठा कर मेरे लंड पर मारने लगीं. वो अपनी कमर हिला कर मेरे धक्कों का जवाब देने लगी.
भाभी की पहनी हुई चूड़ियों और पायल ने कमरे में एक तरह का संगीत पैदा कर दिया था। (सेक्सी भाभी XXX स्टोरी)

मैं अपनी घोड़ी का सवार बन गया था.

जब भाभी के बड़े मोटे नितंब मेरी जांघों से टकराते थे तो पूरे कमरे में थप थप की आवाजें आने लगती थीं. पांच मिनट तक घोड़ी बनाकर Chut Chudai करने के बाद भाभी बोलीं- देवर जी, अब मुझे सवारी करने दो.

मैं समझ गया कि भाभी का मतलब क्या है और वह तुरंत मेरे ऊपर आ गई और मेरे लंड पर कूदने लगी।
भाभी ने पूरा लंड अपनी चिकनी चूत में ले लिया था.

“आह देवर जी… मैं आपसे प्यार करती हूँ!” उफ़…सी!” भाभी पागलों की तरह मेरे लंड पर कूद रही थी और चुदवा रही थी।
मेरे दोनों हाथ भाभी की गोरी गांड को पकड़े हुए थे.

मैं नीचे से भाभी को चोद रहा था और भाभी ऊपर से अपनी बड़ी गांड मटका रही थी.
भाभी के बड़े बड़े स्तन हवा में झूल रहे थे। (सेक्सी भाभी XXX स्टोरी)

चार मिनट की चुदाई के बाद भाभी झड़ गईं और मेरे ऊपर गिर गईं.

मैं अभी नहीं झडा था.
मैंने भाभी को मिशनरी पोजीशन में लिया और चूत रस से भीगा हुआ अपना लंड भाभी की चूत में डाल दिया।

मैं अपनी कमर को तेजी के साथ भाभी की चूत में अन्दर-बाहर कर रहा था। मैंने भाभी के हिलते हुए स्तनों को जितना हो सके अपने मुँह में भर लिया।

मैं भाभी को चोदने के साथ-साथ उनके खूबसूरत स्तनों का रस भी चूस रहा था।

भाभी अपनी गांड उछाल-उछाल कर मेरा लंड अंदर ले रही थी- राजजा, आ, आ, आ… चोद मेरे भोंसड़े को… मेरे सैयां… आ… आ… मैं उफ्फ… चोद दे देवर जी… अपना बना ले इसे! आह देवर जी, अपने मोटे लंड से मेरी चूत फाड़ दो!

उनके इतना कहते ही मैं और भाभी दोनों एक साथ झड़ने लगे.

मैं निढाल हो गया और उसके खूबसूरत स्तनों पर अपना सिर रख कर उसकी छाती से चिपक गया।
भाभी ने मुझे अपनी बांहों में ले लिया. (सेक्सी भाभी XXX स्टोरी)

पूरी रात हमने जम कर चुदाई की. इसके बाद जब भी मौका मिलता, भाभी और मैं एक-दूसरे से मिलते और सेक्स का मजा लेते।

तो दोस्तो, आपको मेरी सेक्सी भाभी XXX स्टोरी कैसी लगी? कमेंट करके जरूर बताएं।

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds