भाभी की गांड का आशिक मेरा लंड – सेक्सी भाभी XXX स्टोरी भाग 1

भाभी की गांड का आशिक मेरा लंड – सेक्सी भाभी XXX स्टोरी भाग 1

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “भाभी की गांड का आशिक मेरा लंड – सेक्सी भाभी XXX स्टोरी भाग 1”। यह कहानी राजू की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

मैंने उसकी सलवार का नाड़ा खोलकर भाभी की नंगी गांड देखी. जब भाभी गांड मटका कर चलती थीं तो मेरा मन करता था कि उन्हें सड़क पर नंगी कर दूं.

दोस्त, मैं राजू सोनीपत से हूं।
यह कहानी प्राची भाभी की है जो मेरे गाँव में मेरे घर के पास ही रहती है।

प्राची भाभी की उम्र 27 साल थी. उनकी शादी को 4 साल हो गए थे.
भाभी दिखने में बहुत गोरी थीं.

प्राची भाभी की खूबसूरती के चर्चे गली-गली में थे।
भाभी के फिगर की बात करें तो भाभी की कमर सुराही जितनी पतली थी, कमर के ऊपर गोरी पीठ और सामने खरबूजे की तरह दो मोटे तने हुए Big Boobs थे।

सबसे खास बात थी भाभी की मस्त मोटी और सुडौल गांड.
भाभी के नितंबों का साइज़ 38 था.

गली के सारे लड़के या यूं कहें कि सभी भाभी के नाम की मुठ मारते थे।

गाँव में जब भाभी पानी लेने जाती थी तो लड़के उनके पीछे पीछे चले जाते थे और उनके खूबसूरत पिछवाड़े को देखते थे।
मैं भी उनमें से एक था; भाभी की नंगी गांड देख कर पागल हो गया था.

लेकिन भाभी किसी को घास तक नहीं डालती थीं.

मैंने सोच लिया था कि मैं सिर्फ और सिर्फ प्राची भाभी की ही Chut Chudai करूँगा।
मैं तब 22 साल का था.

प्राची भाभी की जवानी ने मुझे दीवाना बना दिया था.

दिन हो या रात… मेरी आँखों के सामने सिर्फ प्राची भाभी की मस्त गांड और उनके तने हुए मम्मे ही दिखते थे।

प्राची भाभी बहुत गोरी चिट्टी थीं.
भाभी गाँव की बाकी बहुओं से ज़्यादा फैशनेबल थीं।

मुझे ऐसा लगता था कि प्राची भाभी जानबूझ कर भारी पटियाला सलवार पहनती है ताकि उनकी शानदार गांड और भी खूबसूरत दिखे और सभी लड़के आहें भरते हुए कहें- हाय! भाभी प्लीज एक बार दे दो ना.

मैंने तय कर लिया था कि मैं Prachi भाभी के ऊपर एक बार जरूर चढ़ूंगा.

मैं भाभी के पीछे भागा. दिन हो या रात, भाभी जहाँ भी जातीं, पानी लेने के लिए या खेतों में, मैं उनके बड़े नितंबों की हरकत देखकर उनके पीछे-पीछे चला जाता था।

भाभी के पीछे लगातार चलने से मेरा लंड हर वक्त खड़ा रहता था. अब भाभी को भी मुझ पर शक होने लगा था.

एक दिन जब भाभी अपनी नन्द Dolly के साथ पानी लेने आ रही थी तो डॉली मेरी तरफ देखकर मुस्कुराई और बोली- भाभी, देखो आपका आशिक!

भाभी का हाथ उसके मुँह पर था और वो अपना घूँघट आगे करके मुस्कुराने लगी। उसकी मुस्कान देख कर मैं पागल हो गया.

मैं हर शाम अपनी छत पर चढ़ जाता और अपनी भाभी को अपने आँगन में काम करते हुए देखता। एक दिन भाभी शाम को उपले लेने गई थी। मैं भाभी का पीछा करने लगा. (सेक्सी भाभी XXX)

भाभी अपनी चौड़ी गांड हिलाते हुए सड़क से गुजर रही थीं. मैंने भाभी की आंखों में देखा और आंख मार दी.

भाभी ने मुझे गुस्से से देखा और अपने घर चली गयी. अगले दिन मैं शहर जाने के लिए बस स्टैंड पर खड़ा था, तभी भाभी के देवर और जेठ ने मुझे पीटा.

“साले, तू तो घनघोर आशिक हो गया है!” यह कह कर वे मुझे पीटने लगे.

मैं 10 दिनों तक चल नहीं सका.

1 महीने बाद जब मैं ठीक हुआ तो मैं फिर से भाभी के पीछे गया.

प्राची भाभी ने एक-दो बार नजरें मिलाईं और भाभी की ओर से न गुस्सा, न प्यार… कुछ नजर न आया।
मैं अपनी भाभी के प्यार में पागल हो गया था.

एक दिन भाभी खेत में गयी हुई थी.
मैं भाभी को देख रहा था.

पहली बार भाभी ने मेरी तरफ देखा और मुस्कुरा कर बोलीं- मार खाने के बाद भी मैं नहीं सुधरा. कैसे सुधरेगा?
मैंने झट से कहा- भाभी, अगर आपका प्यार मुझे मिला तो मैं मर भी सकता हूँ!
भाभी जोर-जोर से हंसने लगीं और बोलीं- तुम पागल हो!

5 महीने बाद हमारे परिवार में एक शादी थी जिसके कारण प्राची भाभी और हमारे परिवार के बीच फिर से बातचीत शुरू हो गई।

रात को संगीत कार्यक्रम के लिए प्राची भाभी अपनी नन्द डॉली और सास के साथ हमारे घर आईं।
भाभी ने गानों पर खूब डांस किया.

मैं उसकी आंखों में देख रहा था और उसे बार-बार इशारे कर रहा था.
भाभी मुझे देख कर जानबूझ कर अपने बड़े बड़े नितम्ब हिला कर नाच रही थी।

मैंने झट से भाभी को आंख मार दी, मेरे आंख मारते ही भाभी मुस्कुराने लगीं.

कुछ देर बाद भाभी वहां आईं जहां मैं खड़ा था और मेरी तरफ पीठ करके खड़ी हो गईं.

मेरे और भाभी के बीच बस आधा फुट का फासला था. सभी महिलाएँ डांस देखने में मग्न थीं। पता नहीं क्या हुआ, मैंने हिम्मत करके अपना हाथ भाभी की गांड पर रख दिया। (सेक्सी भाभी XXX)

भाभी अचानक चौंक गईं और गुस्से वाला चेहरा बनाकर मुझसे हाथ झटक दिया।
लेकिन वह वहां से नहीं हिली.

मैंने फिर से अपनी हथेली भाभी जी की उभरी हुई मांसल गांड पर रख दी.
इस बार भाभी ने कुछ नहीं किया.

मैं धीरे-धीरे अपने हाथों से भाभी की गांड का नाप ले रहा था.

भाभी की गरम, कसी हुई गांड रगड़ने से मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया था.
वह सामने देखकर मुस्कुरा रही थी.

मेरा हाथ अँधेरे में था इसलिए कोई मुझे देख नहीं सकता था।

मैंने अपना हाथ पीछे ले जाकर अचानक भाभी की Tight Chut को अपनी मुट्ठी में भींच लिया।
भाभी ने कुछ नहीं कहा, बस सामने देखा और मुस्कुराने लगीं जैसे उन्हें कुछ पता ही न हो.

मैं भाभी की चूत को साफ़ महसूस कर सकता था।

मैंने धीरे से सलवार के अंदर हाथ डालने की कोशिश की तो भाभी थोड़ा आगे की ओर सरक गईं.
कुछ देर बाद भाभी फिर पीछे आ गईं.

इस बार मैंने सीधे उसकी शर्ट उतार दी और उसके नितम्ब पकड़ लिये।
इस समय भाभी के नितंब बहुत गर्म और कसे हुए थे, मानो मैं उनकी नंगी गांड को सहला रहा हूँ।
मेरा लंड एकदम फुंफकार रहा था.

मैं धीरे से आगे बढ़ा और भाभी से कहा- आई लव यू प्राची भाभी!
भाभी बस मुस्कुराती रहीं.

मैंने भाभी को प्रभावित करने के लिए अपनी आखिरी चाल चली।
मैं देखना चाहता हूँ कि भाभी मेरी बात से सहमत हैं या नहीं!

मैंने भाभी के कान में कहा- भाभी, एक बार डांस तो करो प्लीज़!

मेरे इतना कहते ही भाभी तुरंत महिलाओं के बीच चली गईं और डांस करने लगीं.
वो मेरी तरफ देख कर मुस्कुरा रही थी और अपनी गांड हिला कर डांस कर रही थी.

भाभी की हरकतों ने मुझे पागल कर दिया. कुछ देर डांस करने के बाद भाभी फिर से मेरे पास आईं.
तो मैंने फिर से भाभी की गांड पर हाथ रख दिया. (सेक्सी भाभी XXX)

मैंने भाभी के कान में कहा- भाभी, एक बार मुझे अपनी गोरी गांड दिखाओ!

भाभी ने आँखें घुमाईं और बोलीं- देवर जी, सपने देखना बंद करो!

इतना कह कर भाभी डॉली और अपनी सास के साथ अपने घर चली गयी.

अगले दिन एक और संगीत कार्यक्रम होने वाला था।
इस बार ये प्रोग्राम हमारी छत पर था.

मैं अपनी प्यारी प्राची भाभी का बेसब्री से इंतजार कर रहा था.

कुछ देर बाद डॉली और भाभी छत पर आ गईं.
आज भाभी क़यामत लग रही थी.

भाभी ने हरे रंग का पटियाला सूट पहना हुआ था.
पैरों में पायल, हाथों में चूड़ियां, गले में मंगलसूत्र और ढेर सारे सोने के आभूषण।

भाभी को देखते ही मेरा मुँह खुला का खुला रह गया.

भाभी ने मेरी तरफ देखा और मुस्कुराते हुए बोलीं- क्या हुआ? क्या आपने कोई भूत देख लिया?!
मैंने कहा- नहीं भाभी, भूत नहीं … मैंने हूर की परी देखी. (सेक्सी भाभी XXX)

थोड़ी देर में भाभी की बारी आई डांस करने की!

भाभी आज क़यामत ढाने वाली थी.
उसने अपने साथ लाए बैग से अपनी नाभि पर घुंघरू का छल्ला बांध लिया।

भाभी ने मुझसे कहा- राजू गाना बजाओ.
मैंने तुरंत गाना लगा दिया.

और गाना शुरू होते ही भाभी डांस करने लगीं.
आज भाभी अपनी पतली कमर से जान देने वाली थी.

भाभी के बड़े बड़े नितम्ब कहर ढा रहे थे।
उसके बालों की लटें उसकी गांड पर नागिन की तरह इधर उधर घूम रही थीं.

कुछ देर डांस करने के बाद मैंने भाभी को इशारा किया और छत पर अपने कमरे में बुला लिया.
भाभी पानी पीने के बहाने नीचे आईं.

मैं रसोई में गया।
भाभी पानी पीने लगी.

फिर मैंने उसे पीछे से पकड़ लिया.
भाभी बोली- क्या कर रहे हो राजू, छोड़ो मुझे!

मैंने कहा- भाभी, मैं आपसे प्यार करता हूँ!
“ठीक है देवर जी, अब मुझे छोड़ो. कोई आ जायेगा!” भाभी के चेहरे पर मुस्कान थी.

मैं प्राची भाभी से चिपका हुआ था. भाभी की उठी हुई गांड मेरे लंड से सटी हुई थी.
मेरा लंड भाभी के नितंबों से टकरा रहा था. (सेक्सी भाभी XXX)

2 मिनट तक ऐसे ही रहने के बाद भाभी ने मुझसे कहा- मुझे पानी पीने दो!
मैंने भाभी को पकड़ते हुए फ्रिज की तरफ धकेल दिया.
फ्रिज का दरवाज़ा खोला और भाभी को पानी की बोतल दी।

भाभी मेरी बांहों में मेरा सहारा लेकर पानी पीने लगीं.

मैंने बोतल को वापस फ्रिज में रख दिया।

पता नहीं मुझे क्या हुआ, मैंने फ्रिज से अंगूर का एक गुच्छा निकाला और भाभी के होंठों पर रख दिया।
भाभी ने मेरी आंखों में देखा और मुस्कुरा दीं.

मैंने उसे खाने का इशारा किया.
भाभी ने अपने गुलाबी होठों से एक अंगूर तोड़ लिया।

फिर मैंने कुछ अंगूर अपने होठों में ले लिये.
इस तरह 10 मिनट तक हम एक-एक करके एक-दूसरे की बांहों में अंगूर खाते रहे, कभी भाभी तो कभी मैं।

अचानक मुझे किसी के आने की आहट सुनाई दी तो मैं तुरंत भाभी से दूर चला गया।
भाभी तुरंत ऊपर की ओर भागी।

अगले 2 दिनों तक शादी के कारण कुछ नहीं हुआ. शादी के बाद सभी रिश्तेदार अपने-अपने घर चले गए। मैं चाहता था कि शादी में एक बार फिर से भाभी को पकड़ लूं, लेकिन भाभी ने मुझे कोई मौका नहीं दिया.

अगले दिन दोपहर को जब मैं घर पर अकेला था. मैंने देखा कि किसी ने दरवाजे की घंटी बजाई. हे भगवान…मेरी प्यारी प्राची भाभी दरवाजे पर खड़ी थी। (सेक्सी भाभी XXX)

मैंने दरवाज़ा खोलने की बजाय अन्दर से ही कहा- आओ!
भाभी ने दरवाजे की कुण्डी लगायी और अन्दर आ गयी।

जैसे ही वो अन्दर आई, मैंने उसे पकड़ लिया.
भाभी मुस्कुराईं और बोलीं- क्या तुम्हें कोई और काम नहीं है?

मैंने कहा- भाभी, मैं आपसे प्यार करता हूँ.
भाभी हंसने लगीं और बोलीं- मुझे पता है तुम मुझसे कितना प्यार करते हो. अगर मुझसे प्यार करता है तो मुझे छोड़ दे!

मैं झट से भाभी को छोड़ कर दूर खड़ा हो गया.

भाभी बोलीं- क्या तुम सच में मुझसे प्यार करते हो?
मैंने कहा- हाँ भाभी, मैं आपसे प्यार करता हूँ! मैं तुम्हारे बिना नहीं रह सकता.

भाभी मुस्कुराईं और मेरी तरफ पीठ करके खड़ी हो गईं।

उन्होंने चेन वाली शर्ट पहनी हुई थी.
भाभी की नंगी पीठ देख कर मेरा मन कर रहा था कि उन्हें पकड़ लूं.
लेकिन भाभी ने कहा था कि मुझसे दूर होकर बात करो.

भाभी : सच सच बताओ तुम क्या चाहते हो? झूठ मत बोलो!
मैंने कहा- भाभी. मैं तुम्हें चाहता हूँ।

भाभी बोली- प्यारे देवर जी, आओ अपनी प्यारी भाभी के पास!
मैं तुरंत अपनी भाभी के पास गया.

भाभी ने भी अपनी दोनों बाहें मेरे गले में डाल दीं और बोलीं- राजू, मुझे पता है तुम क्या चाहते हो. लेकिन मैं तुमसे प्यार नहीं कर सकती. लेकिन आप जो कुछ भी चाहते हैं, उसके लिए आपको ‘ना’ नहीं कह सकती। (सेक्सी भाभी XXX)

मैंने अपने दोनों होंठ भाभी की गर्दन पर रख दिये।
भाभी की साँसें गर्म हो गई थीं. उसके दोनों बड़े बूब्स ऊपर नीचे हिल रहे थे.

मैंने उन्हें अपने दोनों हाथों से पकड़ लिया और दबाने लगा.
भाभी तेजी से सांसें ले रही थीं- राजू मुझे छोड़ दो … आह, नहीं तो मैं मर जाऊंगी.

मैंने भाभी की पूरी गर्दन को अपनी जीभ से चाट-चाट कर लाल कर दिया।
भाभी बोलीं- अभी कोई आ जाएगा, तुम फिर आ जाना. अगर आप कहें तो मैं आपको अपने कमरे में बुला लुंगी. मैं रात को ऊपर सोती हूँ. तुम्हारा भाई रात को ड्यूटी पर जाता है; तब आ जाना।

लेकिन मैं कहाँ मानने वाला था; मैंने कहा- नहीं भाभी, प्लीज़ अभी मत जाओ.
भाभी ने कहा- राजू प्लीज़ मुझे जाने दो। अगर तुम कहो तो मैं तुम्हें बुला लुंगी.

मैंने कहा- ठीक है. अतः मैं आपके दो अनमोल रत्न देखना चाहता हूँ।
भाभी अचानक मुस्कुरा दीं- क्या? मेरे पास कौन से रत्न हैं? 

मैंने कहा- भाभी, मैं आपके पिछवाड़े पर मरता हूँ. बस एक बार दिखाओ.
भाभी बोलीं- तुम बहुत बदमाश हो देवर जी. लेकिन ठीक है, उससे आगे और कुछ नहीं करोगे वादा करो।

मैंने कहा- नहीं भाभी, प्लीज़ दिखाओ.
भाभी बोलीं- ठीक है, दिखा दूंगी, लेकिन मुझे परेशान मत करो. आप दूसरे आदमी हैं जिसे मैं अपने दो अनमोल रत्न दिखा रही हूँ। इस Moti Gand पर सिर्फ तुम्हारे भाई का हक़ है. मैंने कहा- भाभी, क्या मेरा हक़ नहीं है?

भाभी 5 कदम आगे बढ़कर सामने रखी टेबल पर घोड़ी बन गईं और मेरी तरफ देखकर बोलीं- हक है तभी मैं घोड़ी बन गयी.

जैसे ही भाभी ने एक हाथ से अपनी सलवार का नाड़ा खोलने की कोशिश की.
मैंने भाभी को टोकते हुए कहा- भाभी, प्लीज मुझे भी ये नाड़ा खोलने का मौका दो!

भाभी अचानक मुस्कुरा दीं और बोलीं- हां, मैंने तुम्हें अपना हक दे दिया है! लेकिन नाड़ा खोलकर वहीं जाकर खड़े हो जाना. आज मैं तुम्हें दूर से दर्शन कराऊंगी. (सेक्सी भाभी XXX)

मैं धड़कते दिल से भाभी के पास गया और कांपते हाथों से उसका नाड़ा खोल दिया। नाड़ा खुलते ही घोड़ी बनी भाभी के नितंबों से सलवार सरक गई. मैं चार कदम पीछे हट गया और भाभी की गांड देखने लगा. (सेक्सी भाभी XXX)

भाभी ने नीचे पैंटी नहीं पहनी थी.
उसके मोटे सुडौल नितम्ब मेरे सामने थे।

उसने अपनी चूत को पूरी तरह से वैक्स कर लिया था।
ट्यूब लाइट की रोशनी में भाभी के नितंब चमक रहे थे।

मेरा मन कर रहा था कि भाभी के पास जाकर उनके दोनों नितंबों को चूम लूं.
मेरा लंड पजामे में तंबू बन गया था. (सेक्सी भाभी XXX)

मैंने कहा- भाभी, मैं पास आऊं?
भाभी बोलीं- धैर्य रखो राजू … सब्र का फल मीठा होता है. अब जाने दो. जैसे ही मेरे पास समय होगा कल मैं तुम्हें फोन करूंगी।

ये कहते हुए भाभी ने नीचे से अपनी सलवार उठाई और उसका नाड़ा बांधने लगीं.

मैं जल्दी से भाभी के पास गया और उनकी सलवार पकड़ ली.
मैंने भाभी से कहा- लाओ मैं बांध देता हूँ.

फिर मैंने अपना लंड भाभी की गांड से सटाया और बड़े प्यार से बांध दिया.

भाभी से कहा- भाभी, मैं चाहता हूं कि आप पूरी तरह सजें और मुझे अपना प्यार दें.
उसने पूछा- बताओ देवर जी के लिए क्या पहनूं?

मैंने कहा- भाभी, मैं आपको काले सूट में देखना चाहता हूं.
भाभी बोलीं- ठीक है. मैं तुम्हें कॉल करूंगी। लेकिन ये सब किसी को पता नहीं चलना चाहिए.

कहानी अगले भाग में ख़त्म होगी. आपको यह सेक्सी भाभी XXX कहानी कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएं!

कहानी का अगला भाग: सेक्सी भाभी XXX स्टोरी

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds