सगी बहन की करी जमकर चुदाई – XXX बहन की चुदाई कहानी भाग 3

सगी बहन की करी जमकर चुदाई – XXX बहन की चुदाई कहानी भाग 3

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “सगी बहन की करी जमकर चुदाई – XXX बहन की चुदाई कहानी भाग 3”। यह कहानी राजीव की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

XXX बहन की चुदाई कहानी में मेरी सक्रिय बहन ने मेरी वासना भरी निगाहों को पहचान लिया और मुझे सेक्स के लिए और अधिक उकसाया. मैंने भी मौका जाने नहीं दिया.

दोस्तो, मैं राजीव एक बार फिर से अपनी सगी बहन की देसी सेक्स कहानी में आपका स्वागत करता हूं.
कहानी के दूसरे भाग: XXX बहन की चुदाई में अब तक आपने पढ़ा था कि मेरी सगी बड़ी बहन माया मेरे लंड की सवारी कर रही थी.

अब आगे XXX बहन की चुदाई कहानी:

बिल्कुल बिखरे हुए बालों वाली Maya दीदी मेरे लम्बे लंड पर अद्भुत रूप से उछल रही थीं।
मुझे भी नीचे से झटका लग रहा था.

दीदी की कराहें मेरा जोश बढ़ा रही थीं.
वो अपने हाथों से अपने बूब्स की मालिश कर रही थी.
मुझे और दीदी दोनों को बहुत मजा आ रहा था.

एक परी जैसी खूबसूरत लड़की मेरे लंड पर उछल उछल कर मुझसे अपनी चूत का बैंड बजवा रही थी.
मैंने अपने हाथों का इस्तेमाल किया और उनके दोनों नितंबों पर ज़ोर-ज़ोर से थप्पड़ मारने लगा।

मेरे हर थप्पड़ पर दीदी जोर जोर से धक्के लगाते हुए ‘आह आह…’ करती रहीं.
दस मिनट तक एक ही पोजीशन में चोदने के बाद दीदी की चूत ने पानी छोड़ दिया.

वो हाँफते हुए बोली- अब रुको और चूत को चाट कर साफ़ कर लो… तुम्हें भी समय मिल जाएगा, जिससे तुम भी जल्दी नहीं झड़ोगे. मैं समझ गया कि ये बहुत प्यासी रंडी है.

मैंने भी यही किया; उसकी Tight Chut से लंड निकाल कर उसकी टांगों के बीच आ गया और उसकी चूत को चाट कर साफ करने लगा.

कुछ देर तक दीदी की चूत को चाटता रहा और उसकी चूत के क्लाइटोरिस को अपने होंठों में पकड़ कर खींचता रहा.
तो दीदी फिर से चुदासी हो गयी.

मेरा लंड भी फनफनाने लगा था तो अब मैंने उसे घोड़ी बना दिया.

दीदी अपनी गांड हिलाते हुए बोलीं- आज पूरा दिन मुझे तुम्हारे लंड के नीचे ही रहना है भाई… डाल दो अपना मोटा लंड मेरी प्यासी चूत में और फाड़ दो इसे… ध्यान रखना बेटा, लंड एक ही झटके में छेद के अंदर चला जाना चाहिए.

मैंने अपनी बहन के नितंबों पर जोर से थप्पड़ मारा और उसकी कमर को अपनी मुट्ठी से खरोंच दिया.

इससे दीदी की चीख निकल गई- मैं मम्मी … मर गई … आह आह ईईईई … मादरचोद बहन के लंड ऐसा क्यों कर रहा है … आह. (XXX बहन की चुदाई कहानी)

उसकी चीख अभी बंद भी नहीं हुई थी कि उसी वक्त मैंने अपना लंड उसकी फड़कती हुई चूत पर रखा और उसकी कमर पकड़ कर एक जोरदार झटका दे मारा.

एक ही बार में लगभग आधा लंड बहन की चूत में घुस गया.

दीदी- आउच माँ … मैं तो अपने भाई के लंड से मर गई … आह आज मुझे लग रहा है कि तू मुझे अपनी परमानेंट रंडी बना कर छोड़ेगा … आह बहनचोद तूने तो मेरी चूत का भोसड़ा बना दिया है.

मैं- अभी तो आधा ही गया है मेरी जान… आधा तो अभी भी अंदर जाना बाकी है साली कुतिया… अब तेरी चूत के लिए प्लेटफार्म बनाना है…. ये कहते हुए मैं अपनी बहन के रसीले Big Boobs को सहला और मसल रहा था.

दीदी- आह हरामी … तेरी भाषा तो बदल गयी मादरचोद … मैं तो ऐसे ही चुदवाना चाहती थी मेरे लंड राजा … दे दे मुझे अपना पूरा हथियार और फाड़ दे मेरी चूत को … स्टेडियम बना दे.

मैंने कहा- हां कुतिया, तेरी चूत का स्टेडियम बना दूंगा. एक और झटका ले कुतिया… आह्ह.

मैंने फिर से एक शॉट लगाया.
इस बार मैंने अपना पूरा लंड जड़ तक दीदी की चूत में घुसा दिया था.

दीदी- ओह मेरी चूत … आह फट गई … मैं ईईईई ऊऊ इस्स्स आह रुको मेरे मादरचोद सैयां … आह रुक जाओ कमीने.

मैंने बहन की गांड दबाते हुए कहा- दरअसल, तू भले ही तीन लंडों से चुदी हो, लेकिन साली तेरी चूत तो मेरे लंड से ही फटी है … सिर्फ खून नहीं निकला, दीदी- साले… गधे, घोड़े का लंड मिला है तुझे … पेल हरामी.

इतना कह कर दीदी नीचे से अपनी गांड हिलाने लगीं.
मैंने उसकी कमर पकड़ ली और जोर जोर से धक्के मारने लगा.

लंड के प्रहार से दीदी की पूरी बुर फैलने लगी.
कमरा उसकी कामुक सिसकारियों से गूंजने लगा.

मैंने अपना पूरा लंड बाहर निकाला और तेजी से झटके मारने लगा.
दीदी की ‘उई उई मर गई आह माय गॉड ओह..’ की आवाज तेज और सेक्सी होने लगी.

इसी बीच मैंने फिर से पोजीशन बदल ली.
मैं लेट गया और अपनी बहन को अपने ऊपर लेटने को कहा.

बहन ने वैसा ही किया.
उसने नीचे हाथ डाल कर लंड पकड़ लिया और चूत के मुँह पर रखा और नीचे सरक गयी.

लंड तेज़ी से उनकी चूत में घुसने लगा और दीदी किसी पोर्न एक्ट्रेस की तरह अपने हाथ पीछे ले जाकर लंड को अपनी चूत में लेने लगीं. उसकी पीठ मेरी छाती से थोड़ी ऊपर थी. (XXX बहन की चुदाई कहानी)

मेरे दोनों हाथ खाली थे, इसलिए मैंने एक हाथ उसके एक स्तन पर और दूसरा हाथ उसकी चूत पर रख दिया, जिससे लंड को अंदर-बाहर होने में मदद मिली।

मैं अपनी बहन की चूत को सहलाने लगा और नीचे से अपना लंड उठा कर उसे चोदने लगा.
मैं कहने लगा- वाह दीदी… क्या मज़ा दे रही हो, अब तो लगता है कि लंड के बिना रह ही नहीं पाओगी.

दीदी आँखें बंद करके अपनी चूत को लंड पर रगड़ रही थी और Chut Chudai का मजा ले रही थी.
वो ‘हम्म’ कहकर बस चुप हो गई और अपनी चूत को रगड़ने का मजा लेने लगी.

अब मैंने दीदी के दोनों मम्मे पकड़ लिए और उसे चोदने लगा.
दीदी के स्तन हिल रहे थे और बहुत मस्त लग रहे थे।

कुछ मिनट तक धकापेल चोदने के बाद मैंने कहा- दीदी … मैं झड़ने वाला हूं.
दीदी- अंत तक धक्के मारते रहो और चूत के अंदर ही झड़ जाओ!

‘आआ दीदी आह आह आई लव यू दीदी।’
ये कहते हुए मैंने अपने लंड से रस छोड़ना शुरू कर दिया और अपनी बहन की चूत को भर दिया.

दीदी लंड का रस अपनी चूत में लेकर सीधी लेट गईं और हांफते हुए मुझे अपनी बांहों में ले लिया और मुझे चूमने लगीं.

हम दोनों बहुत थके हुए थे तो कुछ देर सो गये. जब मैं उठा तो मैंने एक बार फिर से सिस्टर को चोदा. मैं- दीदी अब मैं आपकी गांड चोदूंगा.

दीदी- नहीं भाई गांड नहीं! अरे शादी के बाद पति को भी कुछ सील पैक मिलना चाहिए. गांड छोड़ो.
मेंने कुछ नहीं कहा। (XXX बहन की चुदाई कहानी)

फिर हम दोनों उठे, बाथरूम गये, फ्रेश हुए, नहाये और बाहर आ गये।
अब 2 बजे थे.

में : दीदी दो महीने बाद आपकी शादी हो जाएगी तो मेरा क्या होगा?

फिर दीदी ने अपनी सहेली ज्योति को फोन किया और बताया कि उसने एक लंबे और मोटे लंड का इंतजाम कर लिया है.
फ़ोन स्पीकर पर था इसलिए मैं सब कुछ सुन सकता था।

उधर से ज्योति बोली- मैं भी ऐसे लंड पर कूदना चाहती हूँ। मैं अपनी चूत में उंगली करके थक गयी हूँ. यार, प्लीज मुझे वो लंड दे दो… तुम जो कहोगे मैं वो करूंगी… प्लीज मुझे वो लंड दे दो. दस हजार तक खर्च कर दूंगी उस लंड के लिए मैं। बस उस मोटे डंडे को मेरी चूत में घुसा दो।

दीदी- ठीक है.. अभी रुको, मैं तुम्हें फिर कॉल करूंगी.

फिर दीदी मुझसे कहने लगीं- तुम्हारे लंड को चूत मिलती रहेगी. मैंने आज शाम को अपनी एक कुंवारी सहेली को बुलाया है. सारी रात उसे चोदो.

मैं खुश हुआ। दीदी- लेकिन मेरी एक शर्त है. तुम हमेशा पहले मुझे ही चोदते हो. जब भी मौका मिले मुझे ले जाना.. मैं सिर्फ 5 दिन के लिए तुम्हारी हूँ। तुम्हारे पास दस हजार रुपये का जुगाड़ हो गया है… ज्योति तुम्हारे लंड के बदले दे देगी।

उन पैसों से मुझे इन 5 दिनों तक शॉपिंग करनी है. मेरा हर दिन यादगार हो. मैं हर दिन तुम्हारी दुल्हन बनूंगी. तुम तो दिन में मेरी सहेलियों को चोदो. लेकिन तुम्हारी रातें सिर्फ मेरी होंगी.

मैंने बहन के मम्मों को सहलाया और दबाया और कहा- ठीक है.

दीदी- अब मैं आज आराम करूंगी, मैं चल भी नहीं पा रही हूं … तुमने तो जवानी की आग बुझा दी है. इस गली में मुझसे ज्यादा खूबसूरत कोई नहीं है और आज मैं तुम्हें अपने से भी ज्यादा खूबसूरत कुंवारी सीलबंद चूत ऑफर करूंगी.

मैंने एटीएम कार्ड दीदी के हाथ पर रखते हुए कहा- अपने दोस्त से इसमें पैसे ट्रांसफर करवा लो दीदी और इसका पासवर्ड ले लो और खूब खर्चा करो. (XXX बहन की चुदाई कहानी)

वो खुश होकर बोली- भैया आई लव यू.
‘मैं भी तुमसे प्यार करता हूँ बहन।’

दीदी: चलो अब बाजार चलते हैं.
मैं- तुम ठीक से चल भी नहीं पा रही हो.. कैसे चलोगी?

दीदी- तुम मेरे साथ हो.. तो दिक्कत क्या है?
‘तो हम चलते हैं।’

मैंने अपनी बहन को गोद में उठाया और चूमते हुए दरवाजे तक ले आया.

उस वक्त बहन ने जींस और टॉप पहना हुआ था.
वह बिजली गिराने बाजार जा रही थी।

मैंने बाइक निकाली तो बहन बोली- चलो अब कार से चलते हैं. चूत में बहुत जलन हो रही है. बाइक पर चूत रगड़ेगी तो दर्द होगा.

मैंने कार निकाली और उसे आगे बैठा लिया.
दीदी ने ज्योति को फोन करके आज शाम को ही आने को कहा, उसे सब कुछ बताया और पैसों के लिए अकाउंट नंबर भी दिया।

ज्योति ने तुरंत पैसे ट्रांसफर कर दिए और कॉल बैक करके कन्फर्म की।

दीदी- हां, आ गए है, अब तुम दोनों बात कर सकते हो.
‘अरे दीदी, मैं क्या बात करूँ?’
दीदी- तुम्हें उसे चोदना है और उसे चुदवाना है.

जब मेरी बहन ऐसा बोल रही थी तो मुझे शर्म आ रही थी.

‘लो… अभी बात करो, तभी तुम दोनों सेक्स के लिए तैयार हो पाओगे।’
मैं: ठीक है तुम गाडी चलाओ.

मैंने अपनी बहन को ड्राइविंग सीट पर बैठाया और खुद उसके बगल वाली सीट पर बैठ गया.
बहन गाड़ी चलाने लगी.

ज्योति और मैं बात कर रहे थे. मेरा हाथ बहन की जींस पर था और मैं उसकी चूत को सहला रहा था.

जब तक हम दोनों बाजार नहीं पहुंच गए, मैंने ज्योति से बात की।

बहन उतर कर एक दुकान में चली गयी.
मैं भी उतरने ही वाला था कि तभी ज्योति का फोन आ गया।

वह कपड़ों के बारे में पूछ रही थी- क्या पहनूं? मैंने उससे कहा कि छोटे कपड़े पहन कर अंदर और बाहर से पूरा काला पहन कर आना। (XXX बहन की चुदाई कहानी)

ज्योति- ओह शिट यार… अब मुझे दोबारा दुकान पर जाना होगा।
मैं- तो फिर चले जाओ.. अभी 6 बजे तक का समय है.

ज्योति- ठीक है बाबा, मैं जा रही हूँ..।
तभी मेरी बहन ने मुझे आवाज़ दी- राजीव!

मैं उनके पास गया।
दीदी ने मुझे ड्रेस दिखाई और पूछा- कैसी है?

मैं- पहनना तो तुम्हे है.. जो चाहो ले लो।

दीदी ने गहरे लाल रंग का ब्राइडल लहंगा चोली लिया। यह काफी भरा हुआ था.
और उन्होंने मेरे लिए एक शेरवानी खरीदी.
दुकानदार को लगा कि हम दोनों की शादी होने वाली है.

फिर बहन आर्टिफिशियल ज्वेलरी की दुकान पर गई. वहां से उन्होंने नाइकी का बिग साइज मेकअप लिया और कुछ ज्वैलरी भी ली, जिसे पहनकर वह दुल्हन बनने वाली थीं। (XXX बहन की चुदाई कहानी)

मैं मन ही मन सोचने लगा कि अब तक तो मैंने शादियों में सजी-धजी दुल्हनें ही देखी हैं, अब दुल्हन को चोदने का मौका भी मिलेगा.

दीदी- अब प्लीज मेरे साथ मेडिकल स्टोर पर चलो!
मैं क्यों?
‘मैं अभी तुम्हारे बच्चे की मां नहीं बनना चाहती… और मुझे तुम्हारे लिए प्रोटीन भी लाना है। आपके अंदर घोड़े जैसी ताकत होनी चाहिए. आख़िर 5 दिन तक मेरा भाई मेरे दोस्तों के सामने हांफने ना लगे.

मैं: हां दीदी, मेरा लंड भी बहुत दर्द कर रहा है.
दीदी- मैंने तो सब कुछ ले लिया है जान.

दोस्तो, ये थी मेरी न्यूड XXX बहन की चुदाई कहानी!
कैसे मैंने अपनी बहन की Moti Gand चोदी और उसकी चूत को फाड़ कर उसे भोसड़ा बना दिया, वो सब मैं अगली कहानी में बताऊंगा.

दोस्तों मुझे एक बात तो समझ आ गयी की अपनी बहन को चोदने से बहुत फायदे है. उसकी सभी सहेलियों को चोदने का मौका मिलता है और घर में मस्ती चलती रहती है।

मेरी सेक्स कहानियाँ आती रहेंगी.
दीदी ने मुझे अपनी सहेली ज्योति की कुंवारी चूत दिलवाई और खुद दुल्हन बनकर मेरे लंड से चुदाई का मजा लिया.
माँ की चुदाई की कहानी भी अभी बाकी है.

वो सब आपको सेक्स कहानी के अगले भागों में पढ़ने को मिलेगा.

आपको XXX बहन की चुदाई कहानी कैसी लगी, कमेंट करके जरूर बताएं.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds