ममेरी बहन को होटल में ले जाकर पेला – ब्रो फ़क सिस कहानी

ममेरी बहन को होटल में ले जाकर पेला – ब्रो फ़क सिस कहानी

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “ममेरी बहन को होटल में ले जाकर पेला – ब्रो फ़क सिस कहानी”। यह कहानी दिनेश की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

ब्रो फ़क सिस कहानी मेरी ममेरी बहन की चुदाई के बारे में है। वह हमारे घर पर रहने आई थी. हमारी बातचीत के दौरान हम सेक्स के बारे में बातें करने लगे और एक दिन हम दोनों सेक्स करने के लिए होटल में चले गये.

दोस्तो, मैं दिनेश हूँ!

आप तो जानते ही हैं कि मैं लखनऊ का रहने वाला हूँ और सेक्स के बारे में बहुत कुछ जानता हूँ। मैंने अपनी सगी बहन और पड़ोस में रहने वाली चचेरी बहन को चोदा है.

मुझे उम्मीद है कि आप लोगों को मेरी ब्रो फ़क सिस कहानी पढ़ने में पहले की तरह मज़ा आएगा।

मेरी ममेरी बहन Maya 19 साल की है और मैं 25 साल का हूँ.
माया का कोई सगा भाई नहीं है. उसके लिए मैं इकलौता भाई हूं जो उससे राखी बंधवाता हूं।’

मेरी बहन बहुत खूबसूरत और सेक्सी है.
वह अभी भी बहुत मासूम है और प्यार, सेक्स आदि के बारे में ज्यादा नहीं जानती।

मेरी सगी बहन और चचेरी बहन हाल ही में C.A की कोचिंग लेने के लिए नोएडा गयी थीं. वे दोनों वहां तीन महीने तक रहने के लिए गयी है.

उसकी अनुपस्थिति में मेरे लंड की हालत ख़राब हो गयी थी और आजकल मैं सिर्फ हस्तमैथुन करके ही काम चला रहा था।

उन दिनों मेरे मामा की लड़की माया लखनऊ में रहने आयी थी और माँ ने उसे यहीं रहकर पढ़ाई करने को कहा। पहले तो मैंने इस बारे में कुछ नहीं सोचा. लेकिन एक दिन जब वो अपने कपड़े बदल रही थी तो मैंने उसे ब्रा और पैंटी में देखा.

उसकी मदमस्त जवानी देख कर मेरा लंड उत्तेजित होने लगा.
अब मेरा लक्ष्य अपनी बहन की सील तोड़ना और उसे चोदना तय हो गया था.

एक दिन की बात है, मेरी बहन माया जल्दी-जल्दी कॉलेज जाने की तैयारी हो रही थी।
मेरी बहन के पास भी एक टच मोबाइल था और मेरे पास भी था.

जब माया कॉलेज जाने के लिए तैयार हुई तो जल्दी से अपने कमरे से निकल कर नीचे जाने लगी. जैसे ही वो मेरे कमरे के सामने से गुजरी तो मैं भी अपने कमरे से निकल कर उसे देखने के लिए उसके कमरे की तरफ जा रहा था. (ब्रो फ़क सिस कहानी)

उसी वक्त वो अचानक मुझसे टकरा गयी.
उसके Big Boobs मेरी छाती से टकराये और वह गिरने वाली थी।

उसी वक्त मैंने उसे अपने हाथ के सहारे पकड़ लिया और इस वजह से मेरे होंठ उसके होंठों से टकरा गये.

उसने कहा ‘माफ करना भाई।’ इतना बोलकर वो मेरे हाथों से अलग हो गई और अपनी गांड हिलाते हुए नीचे चली गई.
उसके इस नाज़ुक स्पर्श ने मेरे लंड में आग लगा दी थी.

अब मेरे दिमाग में बार-बार वही सीन आ रहा था.
शायद मेरी बहन को भी ये पल याद होगा. क्योंकि जवान शरीर में आग बहुत जल्दी लग जाती है और एक बार आग लगने के बाद जब तक वह बुझ न जाए, चैन नहीं मिलता।

मैंने सोचा कि शायद वह नहीं, बल्कि मैं ही ज्यादा सोच रहा हूँ। लेकिन शाम को जब वो घर आई तो मुझसे नजरें नहीं मिला रही थी. (ब्रो फ़क सिस कहानी)

उस समय तक मां नौकरी से नहीं लौटी थीं और पिता भी देर रात को ही लौटते थे.
मैंने उससे पूछा- माया, तुम्हें क्या हो गया है, तुम इतनी चुप क्यों हो?

मेरी बहन ने मेरी आँखों में देखा और थोड़ा शर्माते हुए बोली- भाई, तुम्हें कुछ याद नहीं है क्या? सुबह सुबह हम दोनों एक दूसरे से कैसे टकराये!

मैंने कहा- हां मुझे अच्छी तरह याद है … लेकिन इसमें कुछ नहीं है माया, ये तो होता रहता है.
माया बोली- होता तो है, लेकिन होंठ मिल जाएं ऐसा कम ही होता है.

उन्होंने ये बात बहुत धीमी आवाज़ में कही लेकिन मैंने सुन लिया.
मैंने उसकी तरफ देखा और उसकी मनोदशा को समझने की कोशिश की और वह क्या चाहती है।

मैंने उसे टटोलने के लिए कहा- कोई बात नहीं यार, आजकल ये सब नॉर्मल है. शिखा मुझसे जानबूझ कर टकराती रहती है. इतना कह कर मैं चुप हो गया और उसका रुख देखने लगा.

मैंने माया से अपनी सगी बहन शिखा के बारे में भी चर्चा करके उसे भड़काने की कोशिश की थी. वो मेरी तरफ देखने लगी और बोली- अच्छा, शिखा दीदी जानबूझ कर आपसे टकराती है?

मैंने कहा- हां, तो क्या? वह मुझे बिस्तर पर भी नहीं छोड़ती. वह लड़ती रहती है और उस समय हमारा क्या क्या टकराता है पता नहीं! वो शरमा गई और धीरे से बोली- अच्छा, क्या दीदी तुमसे बिस्तर पर भी टकराती है?

मैंने कहा- हाँ… और सच कहूँ तो वो भी मुझसे अपनी सारी कहानियाँ शेयर करती है कि उसका बॉयफ्रेंड उसके साथ क्या करता है। अब मामला बिल्कुल साफ हो गया था. माया शरमा कर अपने कमरे में भाग गयी. (ब्रो फ़क सिस कहानी)

फिर रात को मैंने अपनी बहन को मैसेज किया- हाय!
उधर से भी जवाब आया- हाय!

‘मुझे नींद नहीं आ रही है!’
‘क्यों?’

‘याद आ रहा है कि सुबह क्या हुआ था!’
बहन बोली- मुझे तो पता ही नहीं कि क्या हो रहा है!

मैंने कहा- माया, एक बात कहूँ?
‘हाँ बताओ भाई?’

‘क्या हम दोनों दोस्त बन सकते हैं?
तो माया बोली- हां, हम दोनों दोस्त बन सकते हैं.

मैंने कहा- ठीक है, तो आज से हम दोनों पहले दोस्त हैं फिर कुछ और!
बहन बोली- ठीक है, लेकिन भैया हम दोस्त क्यों बने हैं?

मैंने कहा- अगर हम दोस्त बनकर रहेंगे तो हमें बुरा नहीं लगेगा कि हमने एक दूसरे को किस किया है. बहन बोलीं- ठीक है, तो क्या तुम एक दोस्त के तौर पर मुझे रोज किस करोगे?

मैंने कहा- नहीं, लेकिन अगर कभी ऐसा हुआ तो कम से कम हम दोनों को बुरा नहीं लगेगा.. और किसी को शर्म भी नहीं आएगी. उन्होंने कहा- हां ये तो है.

इस तरह हम दोनों कुछ देर तक बातें करते रहे और दोस्त बनने के लिए राजी हो गये.
अब मैं पूरी रात अपनी बहन से बातें करने लगा.

जब वो कॉलेज जाती थी तब भी हम एक दूसरे से बातें करते रहते थे.
हमारी दोस्ती कब प्यार में बदल गई मुझे पता ही नहीं चला.

हम दोनों एक दूसरे को वेज नॉन वेज जोक्स भी भेजने लगे.
कभी-कभी वह मुझे सेक्सी चुटकुले भी भेजती थी।

एक दिन हम दोनों मैसेज में इतने खुल गए और सेक्स की बातें करने लगे कि हमने बस लंड और चूत का नाम नहीं लिया. उस दिन मैंने उससे कहा- यार, आज तो हद हो गयी. वह हंसने लगी। (ब्रो फ़क सिस कहानी)

मैंने कहा- मेरी पैंट गीली हो गयी है.
वो बोली- क्यों?

मैंने कहा- दही गिरने से गीली हो गयी है.
वो बोली- मेरी मलाई भी टपक गयी.

मैंने कहा- उंगली से चाटो इसे.
कुछ देर बाद बोली- मलाई खट्टी है.

मैंने कहा- मेरा दही तो पहले से ही खट्टा है. क्या आप चाटना चाहेंगे?
वो बोली- हां, अपनी मलाई चाटने के बाद मैं तुम्हारा दही भी खाऊंगी.

मैंने कहा- उसके लिए तुम्हें मेरी कुल्फी चूसनी होगी!
वो हंस कर बोलीं- आपकी कुल्फी में दही या मावा निकलता है?
मैंने कहा- एक बार चूस कर तो देखो.. फिर तुम्हें खुद पता चल जाएगा कि क्या निकलता है।

वो बोली- हां हां चूसूंगी यार … इसमें क्या है? मैं डरती नहीं हूँ!

उस दिन की बातचीत ने हमारे बीच के सारे पर्दे खोल दिये थे. बहन तैयार थी.
अब तो बस लंड, चूत, चुदाई आदि शब्दों का खुल कर इस्तेमाल करना बाकी रह गया था.

अब हम दोनों एक दूसरे को हर वक्त सिर्फ नॉन वेज मैसेज ही भेजा करते थे.

मेरी ममेरी बहन को भी ये सब मजा आने लगा. मैं सोचता था कि काश एक बार अपनी बहन के मुंह से ‘आई लव यू…’ सुन लेता तो कितना मजा आता. फिर तो मेरी छोटी बहन को चोदने में मजा आ जायेगा. (ब्रो फ़क सिस कहानी)

मेरी बहन ने भी शायद सोचा था कि अगर मेरा भाई आई लव यू कहेगा तो वो भी अपने बड़े भाई का मोटा लंड लेगी.

एक दिन मैंने गूगल से एक लंड की फोटो डाउनलोड की और अपनी बहन को भेज दी.

बहन बोलीं- ये क्या है?
मैंने कहा- ये तो लंड है, लेकिन इसे कुल्फी भी कहते हैं.

वो बोली- ठीक है … लेकिन ये किसका लंड है?
जब उसने खुलकर कहा लंड तो मैंने पलट कर कहा- मुझे नहीं पता कि यह किसका लंड है, लेकिन यह तुम्हारी चूत के लिए बिल्कुल सही लग रहा है!

मेरी बहन बोली- हट … तू मुझे किसी और का लंड क्यों भेज रहा है?
मैंने कहा- तो क्या मैं अपना काट कर भेज दूं? अरे यार मेरे मोबाइल में व्हाट्सएप पर आया था तो मैंने तुम्हें भेज दिया. अगर तुम्हें बुरा लगे तो मना कर देना, मैं आइंदा तुम्हें कोई लौड़ा नहीं भेजूंगा?

वो हंसने लगी और बोली- ठीक है, आगे क्या भेजोगे?
मैंने कहा- अगला तो लंड ही है.

बहन हंस पड़ी और बोली- अरे यार, मुझे इससे मतलब नहीं कि तुमने ये क्यों भेजा. मैं तो यह कह रही हूँ कि किसी और का लौड़ा मेरे पास क्यों भेजा। किसी और का मुझे क्या करना? लेकिन हाँ, यह अच्छा होगा अगर इतना बड़ा हो।

मैंने कहा- जिसका इतना बड़ा लंड हो, तुम्हें पसंद आएगा? ख़ैर, ऐसा हर किसी का होता है.
बहन ने पूछा- तुम्हारा कितना बड़ा है? मैंने कहा- इतना ज्यादा है कि तुम सहन नहीं कर पाओगी.

बहन बोलीं- क्यों … फोटो वाले से बड़ा लंड तो मैं ले सकती हूं.
मैंने कहा- कैसे?

बहन बोलीं- लड़कियों की चूत में लचीलापन और गहराई बहुत होती है. इसलिए इंसान का बच्चा दो इंच की योनि से बाहर आता है।

मैं बोला- अरे वाह, तुम तो बड़े ज्ञान की बात कर रही हो. एक बार के लिए मेरे कमरे में आ जाओ.
बहन बोलीं- घर पर नहीं, कहीं बाहर प्रोग्राम बनाओ.

मैंने कहा- क्या होटल चलें? बहन बोलीं- हां, होटल में ठीक रहेगा. मैंने एक होटल में कमरा बुक किया और अपनी बहन को ले आया. (ब्रो फ़क सिस कहानी)

कमरे में आकर मैंने अपनी बहन से कहा- मुझे अपनी Tight Chut दिखाओ!
बहन बोलीं- हाँ हाँ क्यों नहीं, मैं तो चुदवाने ही आई हूँ… तुम मुझे अपना लंड दिखाओ!

मैंने झट से अपना लंड बाहर निकाल लिया.
बहन तो पहले से ही नंगी थी, वो लंड देख कर डर गई और बोली- अरे ये क्या है?
मैंने कहा- ये तो लंड है.

वो डर गई और बोली- नहीं, मैं नहीं कर पाऊंगी. सच में बहुत मोटा है तुम्हारा!
मैंने कहा- उस दिन चुदाई की बड़ी बातें हो रही थीं कि चूत बहुत लचीली होती है. इसमें से बच्चा भी बाहर आ जाता है. अब क्या हुआ!

ऐसी बातों के बाद वो मेरे साथ मस्ती करने लगी.
उसने भी मेरा लंड चूसा और पीठ के बल लेट कर Chut Chudai के लिए तैयार हो गयी.

मैंने उसकी टांगों को फैलाया और उसकी चूत को चाटने लगा.
फिर मैंने उसके दोनों पैरों को ऊपर उठाया और अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया.

दरअसल, मेरा लंड उसकी चूत में इतनी मजबूती से घुस गया था कि दर्द होने लगा.
मैं उसके दर्द की परवाह किये बिना उसे जोर जोर से चोदने लगा.

वो भी चुदाई का मजा लेने लगी. कुछ ही देर में पहली चुदाई पूरी हो गई. भाई से बहन की चुदाई के बाद अब उससे उठा भी नहीं जा रहा था. (ब्रो फ़क सिस कहानी)

मैंने उसे एक दर्दनिवारक दवा दी और कुछ देर बाद फिर से काफी देर तक उसकी Moti Gand भी मारी।
फिर हम दोनों घर आ गये.

अब माया की चूत को मेरा लंड पसंद आने लगा है.
वो हर रात अपनी जवानी से मेरे लंड को मदहोश करने लगी है.

अब तो वो किसी भी तरफ से लंड ले लेती है. यहाँ तक कि किसी अफ्रीकन का मोटा लंड भी घुसवा सकती है

मैंने अपनी ममेरी बहन की चूत को भोसड़ा बना दिया है.

अब अगला प्लान उसकी चूत और गांड को एक साथ दो लंड से चोदने का है.
जैसे ही मुझे कोई पार्टनर मिल जाएगा, मैं उसकी सैंडविच चुदाई करूंगा और उसकी सेक्स कहानी लिखूंगा.

आप मुझे मेल करके बता सकते हैं कि आपको ब्रो फ़क सिस कहानी कैसी लगी.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds