चचेरी बहन को पांच दोस्तों के साथ चोदा – XXX ग्रुप सेक्स कहानी

चचेरी बहन को पांच दोस्तों के साथ चोदा – XXX ग्रुप सेक्स कहानी

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “चचेरी बहन को पांच दोस्तों के साथ चोदा: XXX ग्रुप सेक्स कहानी”। यह कहानी दिनेश की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

इस XXX ग्रुप सेक्स कहानी में वर्जिन लड़की पहले सेक्स का आनंद ले रही है! वो मेरी चचेरी बहन है और तब वर्जिन थी. बाद में उसने मेरे 5 दोस्तों को बुलाया और अपनी चुदाई का मजा लिया.

दोस्तों मैं दिनेश, आप तो जानते ही हैं कि मैंने अपनी सगी बहन को चोदा है.
आप सभी ने वो सेक्स कहानी हॉट वर्जिन गर्ल XXX कहानी पढ़ी थी और बहुत पसंद भी की थी.
साथ ही मैंने अपनी गर्लफ्रेंड को भी चोदा.

आज मैं आपको अपनी दूसरी बहन की चुदाई की कहानी बता रहा हूँ.
वर्जिन लड़की के पहले सेक्स का आनंद लें।

वह मेरे चाचा की लड़की है और मेरे घर के बगल में रहती है।
उसकी उम्र और मेरी बहन की उम्र बराबर है.

उसे अभी तक हमारे सेक्स करने के बारे में नहीं पता था.

हालाँकि, जब मैंने एक बार अपनी सगी बहन को चोदते समय उससे इस बात का जिक्र किया था, तो मेरी बहन ने मुझे उसके बारे में बताया था कि वह आसानी से लंड के नीचे आने वाली नहीं है।

मैंने कारण पूछा तो उसने बताया कि एक तो वो वर्जिन है और मेरे शरीर के सामने बहुत छोटी लगती है. मैंने कहा- छोटी है तो और भी मजा आएगा. वो बोली- कैसे? (XXX ग्रुप सेक्स कहानी)

मैंने उसे एक पतली गोरी लड़की की एक अफ़्रीकी सांड जैसे आदमी के साथ Chut Chudai करते हुए फिल्म दिखाई।
उसमें लड़की अफ्रीकन सांड का दस इंच लम्बा और बहुत मोटा लंड पूरा अपनी चूत में ले रही थी.

मेरी बहन उस फिल्म को देखकर हैरान हो गई और उसने हां में अपना सिर हिलाया और कहा कि इस फिल्म को देखने के बाद लगता है कि वह आपका इतना बड़ा लंड ले लेगी.

अब मेरे मन में अपनी चचेरी बहन की चूत लेने का प्लान बनने लगा कि कैसे उसे अपने लंड के नीचे लाकर हचक कर चोदू. उस दिन मैं अपनी बहन को चोदते समय बस यही सोच रहा था कि पहले इन दोनों बहनों को अलग-अलग चोदूंगा, फिर किसी दिन एक साथ एक ही बिस्तर पर रंडियों की तरह चोदूंगा.

दोस्तो, मैं अपनी चचेरी बहन Devika को अपने लंड के नीचे लाने की सोच रहा था, लेकिन मेरे लंड की किस्मत से एक दिन ऐसा मौका अपने आप ही आ गया, जिसमें मेरी चचेरी बहन मेरे लंड से चुदाई करवाने के लिए बेकरार थी.

हुआ यूं कि उस दिन मैं अपने कंप्यूटर पर ब्लू फिल्म देख रहा था और ब्लू फिल्म की आवाज सुनने के लिए मैंने कानों में ब्लूटूथ ईयरफोन लगा रखा था.
मैं एक हाथ से अपने लंड को सहला रहा था.

उस दिन मेरे माता-पिता घर पर नहीं थे और मेरी छोटी बहन स्कूल गई थी।

तभी अचानक मेरी चचेरी बहन घर में आ गयी.
चूँकि वो पीछे से कमरे में आई थी तो मुझे पता ही नहीं चला कि कोई आया है।

मुझे अपनी सगी बहन के आने की कोई चिंता नहीं थी क्योंकि वो आती थी तो खुद ही अपने कपड़े उतार कर मेरे लंड को अपनी चूत में ले लेती.

मुझे अंदाज़ा नहीं था कि घर के बाहर से भी कोई आ सकता है.

अब चचेरी बहन मेरे कमरे में आई और पीछे से कंप्यूटर पर चल रही ब्लू फिल्म देखने लगी. कुछ देर तक मुझे कोई होश नहीं रहा. चूंकि चुदाई की आवाजें मेरे कानों तक पहुंच रही थीं इसलिए मैंने किसी और आवाज को सुनने पर ध्यान ही नहीं दिया.

तभी मेरी चचेरी बहन के हाथ पर कुछ लगा और उसके गिरने से मेरा ध्यान उस तरफ गया.
जब मैंने पीछे मुड़कर देखा तो एक पल के लिए मैं डर गया और सहम गया।

फिर वो भी घबराई हुई आवाज में बोली- भैया, ये सब क्या देख रहे हो?
मैंने खुद पर काबू किया और उसकी तरफ वासना से देखा और कहा- तुम अभी छोटी हो, बाहर जाओ, ये तुम्हारे काम की नहीं है. (XXX ग्रुप सेक्स कहानी)

बहन शायद मेरी नज़र समझ गईं और बोलीं- लेकिन ये क्या है … इसमें सब नंगे क्यों हैं और ये कौन सी फिल्म है?

मैं उसकी हवस को समझ गया और बोला- अगर तुम किसी को नहीं बताओगी तो मैं बता दूंगा.
बहन बोलीं- मैं किसी को नहीं बताऊंगी, तुम बताओ!

मैंने कहा- तुम अपने मम्मी-पापा को भी नहीं बताओगी?
वो बोली- मैं नहीं बोलूंगी.

मैंने कहा- पूरी मूवी देखनी है क्या?
उन्होंने कहा हाँ।

मैंने कहा- ठीक है तो जाओ, दरवाज़ा बंद करके आओ!
उसने झट से दरवाज़ा बंद किया और मेरे पास आ गयी.

मैंने कहा- अब चुपचाप बैठ कर देखो.
वह मेरे बगल में बैठ गई.

मैंने एक और फिल्म चलायी।
इस ब्लू फिल्म में एक लड़की और 8 लड़के थे.

सारे लड़के एक साथ खड़े थे.

लड़की ने अपने दोनों हाथों में दो लड़कों के लंड पकड़ रखे थे. उसके मुँह में एक लड़के का लंड था और एक चूत में.
बाकी लड़के खड़े थे.

मेरी चचेरी बहन बोली- इतना बड़ा भी होता है क्या?. मैंने तो नहीं देखा?
मैं उसके मुँह से ये सुन कर हैरान हो गया कि वो कह रही थी कि उसने लड़कों का लंड देखा है। जबकि मेरी बहन कहती थी कि वह वर्जिन है.

मैंने पूछा- कब देखा और किसका देखा?
वो बोली- मैंने भाभी के बेटे का देखा है, मैंने इसे नंगा घूमते देखा है. उसका तो छोटा सा है.

उसकी बात सुनकर मैं हंसने लगा.

मैंने कहा- अच्छा, तुमने उसका देखा. क्या तुमने कोई बड़े लड़के का नहीं देखा?
वो कहने लगी कि बड़े से आपका क्या मतलब है?

मैंने कहा- जितना मेरे पास है.
बहन बोलीं- नहीं, मैंने कभी इतना बड़ा नहीं देखा.

मैंने कहा- देखोगे?
वो- देखना क्या हैं, ये बाबू जितना बड़ा होगा.

हमने कहा- नहीं, आप देखे बिना कैसे कह सकती हो?
तो बहन बोलीं- मैं तुम्हारा कैसे देख सकती हूँ? आप कभी भी नग्न होकर थोड़ी घूमते हो।

मैंने कहा- हां ये बात तो सही है. लेकिन एक बात कहूँ? मैंने तुम्हारा छेद देखा है।
बहन बोलीं- कब?

‘जब तुम छोटी थी तो नंगी घूमती थी।
वो बोली- हां, तब तो तुमने देखा ही होगा. लेकिन मैं अब बच्ची नहीं हूं.

मैंने कहा- तुम्हारी चूत तो बिल्कुल टीवी वाली लड़की जैसी होगी.
वो बोली- नहीं, मेरी तो उससे भी छोटी है.

मैंने कहा- ठीक है… दिखाओ!
वो बोली- क्यों?
मैंने कहा- अरे चेक तो करने दो.. जैसे वो लड़की उन लड़कों को दिखा रही है, वैसे ही तुम भी मुझे दिखाओ।

इस पर बहन बोली- वहां तो बहुत सारे लड़के हैं. फिर तुम अकेले क्यों देखना चाहते हो?
मैंने कहा- तो तुम क्या चाहती हो कि पूरा मुहल्ला आ जाए, फिर तुम अपनी Tight Chut दिखाओगी?

वो मेरे मुँह से चूत शब्द सुनकर हंसने लगी और मस्ती में हाँ कह दी.

मैंने प्रश्नवाचक निगाहों से उसकी ओर देखा, तुम्हारा इससे क्या तात्पर्य है?
इस पर मेरी बहन बोली- नहीं, जब इतने लड़के होंगे जितने टीवी पर हैं.. तो मैं तभी दिखाउंगी।

मैंने कहा- ठीक है, मैं अपने दोस्तों को बुला लूंगा.
वो बोली- अभी? (XXX ग्रुप सेक्स कहानी)

मैंने कहा- हाँ अभी.
उसने कहा- हां ठीक है, बुलाओ.

मैं उसकी तरफ देखने लगा तो वो अपने बालों की लट अपनी उंगली में लपेटने लगी और बोली- क्या हुआ? सभी को कॉल करो…. आप मेरी ओर क्यों देख रहे हैं? (XXX ग्रुप सेक्स कहानी)

मैंने कहा- मैं तुम्हें इसलिए देख रहा हूं कि मैं अपने दोस्तों से क्या कहूंगा आने के लिए?
वो भी ये बात समझ गयी और हंसने लगी.

मैंने उससे कहा- अगर मैं सबको बुलाऊं और तुम मना कर दो या कहो कि नहीं दिखाउंगी तो क्या होगा?
वो बोली- क्या होगा, सब गालियाँ देकर चले जायेंगे.

मैं समझ गया कि ये बड़ी रांड है, आसानी से आने वाली नहीं है.

अब मैंने उस पर से ध्यान हटाया और फिर से ब्लू फिल्म देखने लगा.
वो भी मेरे पास आकर खड़ी हो गयी और चुदाई देखने लगी.

मैंने उनसे कहा- आपको ऐसी फिल्म नहीं देखनी चाहिए.
वो बोली- क्यों?

मैंने कहा- ये फिल्म वही देख सकता है जिसने सेक्स का मजा लिया हो.
वो बोली- ऐसा कुछ नहीं है. मैं भी देख सकती हूँ.

मैंने कहा- क्यों देखना चाहती हो?
वो बोली- मुझे भी कभी न कभी तो करना ही पड़ेगा.

मैंने कहा- क्या करना पड़ेगा?
वो झिझकते हुए बोली- चुदाई.

मैंने उसे खींच कर अपनी गोद में बैठा लिया और उसे मूवी दिखाने लगा.

वो भी मेरे लंड पर बैठ गयी और सेक्स मूवी देखने लगी.
मैं उसकी गर्दन पर गर्म सांसें छोड़ कर उसे गर्म करने लगा. वो खुद ही अपनी गांड मेरे लंड पर रगड़ने लगी.

कुछ ही पलों में मैं भी उसके Big Boobs को सहलाने लगा.
उसे मजा आने लगा.

कुछ ही देर में मैंने उसकी शर्ट के बटन खोल दिए और अपना हाथ अन्दर डाल कर उसकी ब्रा में छुपे उसके एक स्तन को मसलने लगा और अपनी दो उंगलियों से उसके निप्पल को भींचने लगा।

उसकी मादक कराहें निकलने लगीं.
वो नशे में बोली- भैया, आज मेरा भी काम कर दो.

मैंने कहा- चलो बिस्तर पर चलते हैं.
वो मान गयी और मेरी गोद से उठकर बिस्तर पर चली गयी.

मैं उसके पास आया और अपने कपड़े उतारने लगा.
वो भी अपनी शर्ट खोलने लगी.

कुछ ही पलों बाद वो वर्जिन लड़की पूरी तरह नंगी होकर मुझसे चिपक गई और मेरे लंड से खेलने लगी.
उसकी चूत सच में बहुत छोटी थी.

मैंने उसे बिस्तर पर लिटाया, उसकी चूत पर क्रीम लगाई और अपनी उंगली से उसे खोला।
उंगली से करवाने में भी उसे बहुत दर्द हो रहा था. (XXX ग्रुप सेक्स कहानी)

थोड़ी मेहनत के बाद वो उंगली से चुदाई करवाने लगी और अब मैंने उसके पैर फैलाये और अपना लंड उसकी चूत में डालने लगा.

वह बहुत साहसी लड़की थी. दर्द के बावजूद उसने मेरा लंड अपनी चूत में खा लिया और काफी देर तक चुदती रही. उसकी चूत की सील तोड़ने के बाद मैंने उससे पूछा- अब बताओ? (XXX ग्रुप सेक्स कहानी)
वो मुस्कुराई और बोली- क्या?

मैंने कहा- आप मुझसे अपने दोस्तों को बुलाने के लिए कह रही थी ना? अब बताओ, बुलाऊ क्या उन्हें?
वो हंस कर बोली- हां बुलाओ.

मैंने कहा- मैं कल बुलाऊंगा उन्हें.
वह मान गयी।

उस दिन मैंने अपनी चचेरी बहन को चार बार चोदा और उसकी चूत को एक तरह से फाड़ दिया।

फिर अगले दिन मैंने अपने सभी दोस्तों को फोन किया.
वे सभी आये.

मेरी बहन भी तैयार थी.
वो बोली- अब तुम सब अपने कपड़े उतारो.
सभी दोस्तों ने अपने कपड़े उतार दिए.

बहन बोली- भाई, तूने अपनी पैंट क्यों नहीं खोली?
यह कहते हुए मेरी बहन ने मेरे दोस्तों के सामने ही मेरी पैंट भी उतार दी.

मेरा मोटा लंड देख कर वो खुश हो गयी और मेरे दोस्तों को चिढ़ाते हुए बोली- ये मर्द का लंड है.. भाई मुझे आपका लंड बहुत पसंद है. आपके दोस्तों के लंड काफी छोटे हैं.

मैंने कहा- चलो अब बकवास मत करो.. मेरा लंड मुँह में ले लो।
बहन बोलीं- ठीक है. (XXX ग्रुप सेक्स कहानी)

उसने मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया.
मेरे पांचों दोस्त अपना अपना लंड हिलाने लगे.

फिर बहन ने एक एक करके मेरे सभी दोस्तों के लंड अपने मुँह में ले लिये.

उसके बाद चुदाई शुरू हो गयी. मेरे सभी दोस्त एक एक करके मेरी बहन को चोदने लगे. मेरे दोस्तों से चुदाई करवाते समय मेरी बहन को बहुत दर्द होता था. (XXX ग्रुप सेक्स कहानी)

वो चुदाई से थक गई तो बोली- अब और नहीं.
मैंने कहा- मैं रह गया? अब मैं तेरी चूत में अपना लंड डालूँगा.

बहन बोलीं- नहीं, अब रहने दो. तुम मुझे बाद में कभी भी चोद सकते हो.
मैंने कहा- बस एक बार ले लो!

वो बोली- नहीं, आगे बहुत दर्द हो रहा है.
मैंने कहा- अगर आगे दर्द हो तो गांड में ले लेना.

उसने मना कर दिया और फिर बोली- अब मैं सोने जा रही हूँ.
मेरे सभी दोस्त कपड़े पहन कर चले गये.

उसके जाने के बाद मैं नंगा ही अपनी बहन के पास लेट गया. फिर मैंने अपना लंड अपनी बहन की Moti Gand में डाल दिया. वो चिल्लाई लेकिन किसी तरह मेरा लंड उसकी गांड में घुस गया. (XXX ग्रुप सेक्स कहानी)

जब उसकी गांड का दर्द खत्म हो गया तो मैंने काफी देर तक उसकी गांड चोदी.
फिर मैंने गांड से लंड निकाला तो उसके मुँह में डाल दिया.

बहन को लंड चूसने में बहुत मजा आने लगा.
वो बोली- भैया, मैं आपकी गांड भी चाटना चाहती हूं.

मैंने अपनी गांड उसके मुँह पर रख दी. वो गांड के छेद को चाटने लगी.
इस तरह मेरी बहन मुझे जोश में चाटने लगी.

हम दोनों अब हर दिन सेक्स करते हैं.

अगली बार मैं अपनी सगी बहन और चचेरी बहन दोनों को एक साथ चोदने का प्लान बनाऊंगा.
वो सेक्स कहानी भी मैं जल्द ही लिखूंगा.

आपको यह XXX ग्रुप सेक्स कहानी कैसी लगी मुझे जरूर मेल करें.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds