पड़ोस वाली भाभी को सेट करके उसकी चूत और गांड का मुरब्बा बनाया

पड़ोस वाली भाभी को सेट करके उसकी चूत और गांड का मुरब्बा बनाया

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम पंकज उदास है और मै लाया हू एक मजेदार स्टोरी, आज मै आपको बताने जा रहा हू की कैसे पड़ोस वाली भाभी को सेट करके उसकी चूत और गांड का मुरब्बा बनाया, मै दावे के साथ कह सकता हू इसे पढ़कर आपकी पैंट गीली हो जाएगी तो चलिए शुरू करते है बिना किसी देरी के,

नमस्ते। सबसे पहले मैं आप सबका को धन्यवाद देना चाहूंगा आप हमे इतना प्यार करता है इसी वजह से हम आपके लिए स्टोरी लाते रहते है । खैर अब मैं अपनी कहानी पर आता हूँ. मेरा नाम पंकज है और मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ। मेरी आयु 22 वर्ष है।

भले ही मेरी अभी तक शादी नहीं हुई है, आप समझ सकते हैं कि मैं सेक्स के लिए कितना भूखा हूँ। मुझे मोटी औरतें और शादीशुदा औरतें बहुत पसंद हैं. मैं जब भी किसी बड़ी गांड वाली लड़की या औरत को देखता हूं तो मेरा मन करता है कि अपना लंड निकाल कर उसकी गांड में डाल दूं.

खैर अब मैं आपको अपनी कहानी बताता हूं। हमारे पड़ोस में एक भाभी रहती हैं. उनके दो बचे भी हैं और उनकी उम्र 28 के आसपास होगी. उनके पति को अमेरिका गए 8 साल हो गए हैं. तब से आज तक वह वापस नहीं लौटा। अब मैं जवान हूं और दोस्तों के साथ बाहर घूमने जाता हूं. तो वह मेरी तरफ देखती है और कहती रहती है, “अपनी गर्लफ्रेंड के साथ जा रहे हो?”

तो मैंने कहा , “हमारी किस्मत इतनी अच्छी क्यों है कि नहीं की कोई लड़की हमारी तरफ देखे?” और ये सच है कि मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं थी. धीरे-धीरे मैं उनसे घुल-मिल गया। उसके घर आना जाना शुरू कर दिया . चूँकि मेरा घर भी पास में ही था इसलिए मुझे डर कर जाना पड़ता था ।

फिर एक दिन हमारी बातचीत के दौरान भाभी ने मुझसे सेक्स के बारे में पूछा, “क्या तुमने कभी किसी के साथ सेक्स किया है?” तो मैंने कहा, “मैंने किया तो नहीं लेकिन देखा जरूर है।” तो भाभी ने कहा, “तुम्हारा ऐसा करने का मन नहीं है क्या?” तो मैंने कहा, “मैं करना चाहता हू लेकिन क्या कर सकता हू ?” मुझे खुद को अपने आप से ठंडा करना पड़ता है ।” मैं अंदर ही अंदर समझ गया कि भाभी भी सेक्स के लिए बेताब हैं. क्योंकि पति बाहर थे.

मैंने हिम्मत करके कहा, “क्या तुम मेरे साथ सेक्स करोगी?” तो भाभी थोड़ा नखरे में आ गईं और बोलीं- नहीं, मैं तो बस बात कर रही थी. लेकिन मैंने कहा, “जब आप बात कर सकते हैं, तो आप कर भी सकते हैं।” और समस्या क्या है?” थोड़ी हिचकिचाहट के बाद भाभी बोलीं- ठीक है, जब मौका मिलेगा तब करेंगे.

अब मैं मौके की तलाश में था. क्योंकि उसके भी दो बच्चे थे . लेकिन जब भी मौका मिलता मैं उसके शरीर को छू लेता। कभी उसके दूध दबाता तो कभी उसकी गांड मसलता.

इसी बीच होली का दिन आ गया. मैंने सबसे पहले अपने घर पर होली खेली और फिर मौका देखकर मैं अपनी भाभी के घर पर होली खेलने चला गया. हमने एक बजे तक होली खेली. उसके बाद मैं अपने घर आ गया और नहा कर फ्रेश हो गया. समय था दोपहर के 3 बजे. आप तो जानते ही हैं कि होली दोपहर तक ख़त्म हो जाती है और लोग नहाकर सो जाते हैं. हमारी गली का माहौल भी कुछ ऐसा ही था.

मेरे घर पर सभी लोग सो रहे थे तो मैं सड़क पर घूमने लगा. फिर मैंने भाभी को फोन किया और पूछा कि आप क्या कर रही हैं? क्या मुझे आपके घर आना चाहिए? भाभी बोली अभी बच्चे उठे है. शाम को आना।” फिर कुछ देर बाद भाभी का फोन आया कि आ जाओ. मैं उसके घर गया. आज मेरी दिल की धड़कन तेज़ हो रही थी, शायद आज कुछ हो जाये।

खैर, मैं जैसे ही घर में घुसा, भाभी ने दरवाजा जल्दी से बंद कर दिया. और अपने कमरे में ले गयी . उनके बच्चे अपने कमरे में सो रहे थे। भाभी ने काले रंग का सूट पहना हुआ था जिसमें से उनकी काली ब्रा दिख रही थी. भाभी के बाल भी खुले हुए थे और वो बहुत सेक्सी लग रही थीं. मैंने कहा, “आज क्या बात है, हर जगह काला ही काला है।”

तभी भाभी अचानक पलटीं और बोलीं- नहीं, नीचे तो सफेद है. भाभी बोलकर ये कम्बल में घुस गयी. और मैं भी उसके साथ कम्बल में घुस गया. कम्बल में घुसते ही मैंने अपना हाथ उसकी कमर पर रख दिया और घुमाने लगा. भाभी बोलीं- ऐसा मत करो, बच्चे उठ जायेंगे. मैंने कहा वो नहीं उठेंगे . मैं शॉर्ट्स और टी-शर्ट में था. उसके बदन को छूते ही मेरा लंड खड़ा हो गया था. और उसकी गांड को छू रहा था.

भाभी ने कहा- लंड को हटाओ । तो मैंने कहा, “आज ये पीछे नहीं हटेगा ।” तुम अपनी सलवार नीचे करो. आज मौका है।” आप जानते हैं कि महिलाएं थोड़ा झिझकती हैं और फिर मान जाती हैं। खैर मैंने बिना समय बर्बाद किये अपने होंठ भाभी के होंठों पर रख दिये। और चूमने लगे. किस करते करते मैंने अपनी टी-शर्ट उतार दी. और धीरे-धीरे उसने भाभी के सूट को ऊपर उठाया और उसकी ब्रा के ऊपर से उसके मम्मों को चूसने लगा।

अब भाभी को मजा आने लगा. मुझे भाभी को आधी नंगी देख कर ही बेचैनी हो रही थी. क्योंकि मैंने पहली बार किसी औरत को नंगी देखा था। मैंने ज्यादा समय बर्बाद न करते हुए भाभी की सलवार खोल दी और अपना शॉर्ट्स भी उतार दिया. जैसे ही मैंने सलवार खोली तो नजारा देख कर मैं दंग रह गई. सफेद पैंटी और मोटी जांघें, भाभी गजब लग रही थीं. मैं उसकी पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत और टांगों को चूमने लगा. मैं बता नहीं सकता कि उस समय मुझे क्या आनन्द आ रहा था।

फिर मैंने भाभी की पैंटी भी उतार दी. अब भाभी मेरे सामने पूरी नंगी थीं. मैं 2 मिनट तक उसकी चूत को देखता रहा. क्योंकि मैं अपने जीवन में पहली बार औरत की चूत को देखा था . फिर मैंने अपना मुँह भाभी की चूत पर रख दिया और अपनी जीभ से उसे चूसने लगा। भाभी मजा आ रहा था और भाभी अपनी गांड भी चुसवा रही थी. उसके हाथ मेरे बालों पर घूम रहे थे. मैं चूत चाट रहा था.

फिर मैंने अपना लंड भाभी के मुँह में डाल दिया और उनके मम्मों पर बैठ गया. भाभी के चूचे मेरी गांड में महसूस हो रहे थे. और भाभी बोली, “तुम्हारा लंड तो काफी दिलचस्प है।” फिर मैंने अपना लंड भाभी के मुँह से निकाला और उनके मम्मों पर रगड़ने लगा.

अब भाभी बोलीं- जल्दी करो, मुझे करने का मन हो रहा है. मैं बिना समय बर्बाद किये भाभी की चूत के सामने आकर बैठ गया. लंड को हाथ में पकड़ कर भाभी की चूत में घुमाने लगा. और एक ही झटके में अन्दर डाल दिया. भाभी को दर्द हुआ लेकिन मैंने परवाह नहीं की और चोदना शुरू कर दिया.

लंड को अन्दर-बाहर करने और देखने में बहुत मज़ा आ रहा था। कुछ देर बाद भाभी की चूत से पानी निकलने लगा. मैं समझ गया कि भाभी को चरमसुख मिल गया है. तगड़े झटके देने के बाद मैं भाभी की चूत में ही स्खलित हो गया और नंगा ही उनके ऊपर लेट गया. कुछ देर लेटे रहने के बाद मैं बाथरूम में गया, खुद को साफ़ किया और फिर कम्बल मे लेट गया।

भाभी ने भी बाथरूम में जाकर खुद को साफ किया और अपना सूट उतार कर मैक्सी पहन ली और कंबल में मेरे साथ लेट गयी . थोड़ी देर बात करने के बाद मैं फिर से तैयार हो गया. भाभी मना करने लगीं लेकिन मैंने उन्हें मना लिया. मैंने भाभी की मैक्सी ऊपर की और उन्हें उल्टा लिटा दिया और उनकी गांड पर बैठ गया. उसकी गोल गांड पर गोल गोल गोल गोल गोल गोल गोल गोल गोल गोल गोल गांड घुमाने लगा. मैं उसकी गांड का छेद देख कर उत्तेजित हो गया था.

मैंने मौके का फायदा उठाते हुए उसकी गांड को घुमाते हुए अपना लंड उसकी गांड में घुसा दिया. भाभी एकदम से चिल्ला उठीं लेकिन मैंने झट से उनका मुँह बंद कर दिया. और वह आप ही उन पर लेट गया। और जोर जोर से उसकी गांड चोदने लगा. भाभी छूटने की जिद कर रही थी. लेकिन मैंने कस कर पकड़ रखा और गांड चोदने लगा.
धीरे-धीरे उनको मजा आने लगा,भाभी सामान्य हो गईं और सहयोग करने लगीं।

मैं यह दूसरी बार कर रहा था इसलिए थोड़ा देर से स्खलित हुआ। मैंने अपना वीर्य भाभी की गांड में छोड़ दिया और अपना लंड डाल कर लेट गया. कुछ देर बाद उठ कर साफ किया. फिर भाभी उठी और बाथरूम में जाकर खुद को साफ़ किया और बोली कि तुम बहुत बड़े बदमाश हो. तुमने वह काम किया जो मेरे पति ने नहीं किया।” तो मैंने कहा, “मुझमें और आपके पति में क्या फर्क रहेगा?”

खैर उस दिन से लेकर आज तक मैंने भाभी को कभी उनकी गांड तो कभी उनकी चूत को चोदा. और मैं भगवान से प्रार्थना करता हूं कि वह मुझे ऐसी और महिलाओं से मिलवाएं जिनके पति बाहर चले गए हैं या सेक्स नहीं करते हैं।

मुझे मेरी कहानियों पर बहुत अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है. मुझे उम्मीद नहीं थी कि आप सबको मेरी कहानी इतनी पसंद आएगी. तो देखा आपने कैसे पड़ोस वाली भाभी को सेट करके उसकी चूत और गांड का मुरब्बा बनाया ,दोस्तों कैसी लगी मेरी स्टोरी मैंने कहा था आपकी पैंट गीली होने वाली है , तो चलिए मिलते है अगली स्टोरी मैं तब तक के लिए अपना दिन रखिये | और हिंदी सेक्स स्टोरी पढ़ने के लिए हिंदी सेक्स स्टोरी पर क्लिक करे

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds