प्यारी चाची की टाइट चूत में मेरा वीर्य: XXX चाची चुदाई स्टोरी भाग 1

प्यारी चाची की टाइट चूत में मेरा वीर्य: XXX चाची चुदाई स्टोरी भाग 1

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “प्यारी चाची की टाइट चूत में मेरा वीर्य: XXX चाची चुदाई स्टोरी भाग 1”। यह कहानी किशोर की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

मेरी वासना की कहानी, चाची से मेरी दोस्ती और फिर उनके शरीर के प्रति मेरा आकर्षण। मुझे मेरी चाची बहुत हॉट लगीं.

दोस्तो, मेरी वासना की कहानी उन दिनों की है जब मैं जवानी की फिसलन भरी उम्र में कदम रख चुका था.. मतलब 19 साल का था।

12वीं कक्षा की परीक्षाएँ नजदीक आ रही थीं और मैं पढ़ाई के लिए गाँव से शहर जाता था।

12वीं कक्षा में बोर्ड परीक्षा का डर इतना ज्यादा था कि अभी कई महीने बाकी थे, फिर भी मुझे घबराहट होने लगी।
दरअसल, मन में बहुत चंचलता थी. लेकिन जब किताब सामने आती तो मूड ख़राब हो जाता। सारी चंचलता व्यर्थ हो जाती थी।

दोस्तों के साथ रहकर मैंने हस्तमैथुन के बारे में बहुत कुछ सीख लिया था और अनाचार के बारे में भी बहुत कुछ सीख लिया था।
अनाचार की बात ने मेरे मन पर गहरा प्रभाव डाला। (XXX चाची चुदाई)

मैंने सेक्सस्टोरी साइट्स पर सेक्स की बहुत सी कहानियाँ पढ़ी थीं।
मैंने कई बार उन कहानियों को पढ़कर हस्तमैथुन करके अपने लंड का रस टपकाया है और अब भी यह मेरी पसंदीदा एक्टिविटी है.

मैं जब शहर से पढ़ाई करके वापस आता था तो खाना खाकर अपने कमरे में जाकर सो जाता था. फिर वह शाम 5 बजे चाय पीने के लिए कमरे से बाहर आता था. तो उस समय मेरी चाची वहां रहती थी.

चाची और मेरी बहुत अच्छी बनती थी। हम दोनों एक दूसरे से खूब बातें करते थे. मैं जब भी कमरे से बाहर निकलता तो चाची के पास ही रहता.

मुझे मेरी चाची बहुत हॉट लगीं. उनकी उम्र भी उनके चाचा से दस साल छोटी थी.

मेरी नजरें चाची के Big Boobs पर ही टिकी रहीं. उसके स्तन बहुत बड़े थे.. शायद 36 साइज के होंगे।

चूंकि चाची साड़ी पहनती थीं, इसलिए उनके बड़े बूब्स के कारण उनका पल्लू ज़्यादा देर तक ऊपर नहीं रह पाता था। इसलिए चाची ने मेरे सामने अपना पल्लू संभालने पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया.

इससे मुझे चाची के गहरे गले के ब्लाउज से उनके बूब्स की दूधिया घाटी को देखने का मौका मिला।

उन दिनों मैं चाची के मम्मे देख कर अपना लंड बहुत हिलाने लगा था. कुछ दिन बाद मुझे एक विचार आया. मैंने अपने पैर में दर्द का कारण बताया और चाची से मालिश करवाने लगा।

मालिश के दौरान मैं सिर्फ अंडरवियर में रहता था और चाची के हाथों से अपने पैरों की मालिश करवाता था.

जब चाची मेरी जाँघों पर मालिश करती थीं तो उनके बड़े-बड़े स्तन देखकर मेरा लंड अंडरवियर में ही खड़ा होने लगता था।
चाची भी अपनी आँखों से मेरे लंड को फूलता हुआ देख कर हँसती रहती थी।

ऐसे ही कुछ दिन बीत गए… हफ्ते में तीन-चार बार चाची से मालिश करवाना और उनके बूब्स को देखकर ही अपना लंड हिलाना मेरा पसंदीदा खेल बन गया था।

जब उन्हें मेरी नज़र के बारे में पता चला तो पहले तो वो इसे नज़रअंदाज़ करने लगीं लेकिन बाद में चाची ने अपना पल्लू पिन करना शुरू कर दिया।

ऐसे ही दिन बीतते गए.

मेरी परीक्षाएँ आ गईं और परीक्षा के बाद मैंने अपनी छुट्टियाँ अच्छे से बिताईं लेकिन उस समय चाची को लेकर कोई खास हलचल नहीं थी।

फिर मुझे कॉलेज में दाखिला मिल गया. मैं कॉलेज जाने लगा और चाची के साथ कुछ नहीं कर पाया.

जब मैं छुट्टियों में घर लौटा तो चाचा एक महीने के लिए गाँव से बाहर गए हुए थे।
मैं चाची के साथ उनके कमरे में सोने लगा.

पहले तो मैंने अपना पुराना रूटीन आज़माया, लेकिन चाची की ओर से कोई सकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं मिली।
इससे मैं दुखी हो गया लेकिन ‘नेवर गिव अप’ वाली कहावत याद आ गई और हिम्मत जुटाकर एक रात चाची से बात की।

मैं: चाची, मुझे गलत मत समझो.
चाची- क्या हुआ बेटा?

मैं- जो मैं हमेशा देखता हूं.
चाची- क्या देखते हो?

मैंने उसके बूब्स को देखते हुए उसे बताने की कोशिश की।

में : ..प्लीज़ चाची मुझे माफ़ कर दो।

मैंने चाची के पैर पकड़ लिए और उनसे माफी मांगी.

चाची- अरे क्या कर रहे हो बेटा, कोई बात नहीं.. छोड़ो ये सब.
मैं: चाची प्लीज किसी को मत बताना.

चाची: नहीं बेटा, नहीं, लेकिन तुम जो देख रहे थे वो गलत था. तुम्हें पता होना चाहिए।
में : चाची, हाँ प्लीज़ मुझे माफ़ कर दो। क्या मैं कुछ कह सकता हूँ, चाची?

चाची- क्या?
मैं: चाची, मुझे लगा कि आपके बूब्स में दूध है.

चाची को पता था कि मुझे दूध पीना बहुत पसंद है.

तो चाची हंस कर बोलीं- नहीं, इनमें हर वक्त दूध नहीं होता. ऐसा तभी होता है जब बच्चे को स्तनपान कराया जाता है।
मैं- सॉरी चाची. (XXX चाची चुदाई)

चाची: ठीक है, कोई बात नहीं. अब बाद में ऐसे मत देखना… ठीक है!
मैं- हां ठीक है चाची.

उसी समय कुर्सी पर बैठते समय मेरे लंड की गोलियाँ दब गईं और बहुत दर्द करने लगीं. मेरा चेहरा रोने जैसा हो गया.

चाची- क्या हुआ बेटा?
मैंने दबी और दर्द भरी आवाज में कराहते हुए कहा- कुछ नहीं चाची.

चाची- क्या हुआ … बताओ.
मैं: ज्यादा कुछ नहीं चाची, जाने दो।

चाची थोड़ा गुस्से में बोलीं- बताओ.. क्या हुआ है?
मैंने इशारा करके कहा- चाची, मेरी गोलियाँ दब गयी और बहुत दर्द कर रही हैं।

चाची- हे भगवान कैसे?
मैं- ज्यादा कुछ नहीं हुआ चाची, क्रिकेट खेलते समय मुझे कई बार गेंद लग चुकी है इसलिए अब तो जरा सा भी दबाव पड़ने पर दर्द होने लगता है.

चाची- क्या तुम्हें डॉक्टर के पास जाना है?
मैं- अरे नहीं चाची.. मैं बस थोड़ा उछल-कूद वगैरह कर लूँगा.. फिर सब ठीक हो जाएगा।

चाची- क्या मैं कुछ कर सकती हूँ?
मैं- नहीं चाची … कुछ खास नहीं हुआ.

चाची: क्या मुझे तुम्हारी मालिश करू?
मैं- अरे नहीं चाची, रहने दो.

चाची हँसीं और बोलीं- कमाल है, आज तक मैं मालिश न करने के लिए बहाने बनाती रही और आज तुम मना कर रहे हो… क्या बात है? मैं- अरे चाची क्यों मजा ले रही हो.. मेरी हालत तो पहले से ही बहुत पतली हो गई है.

चाची: अरे बेटा, मैं तो ऐसे ही मज़ाक कर रही थी।
मैं: मैंने एक मिनट के लिए सोचा था कि तुम सच में मेरी मालिश करोगी.

चाची- हट जाओ…पागलों की तरह कुछ मत कहो.
मैं हंसा- सॉरी चाची, रियली सॉरी.

जब मैं उनके पैरों पर गिरने के लिए झुका तो दर्द और बढ़ गया और मेरी आँखों में पानी आ गया- सॉरी चाची!
चाची- अरे हर बार मेरे पैर क्यों पकड़ता है.. ठीक है. बाहर जाओ, हॉल में जाओ और टीवी देखो।

मैं बाहर आया और थोड़ा उछल कूद किया. थोड़ी देर इधर-उधर घुमा और फिर टीवी देखने बैठ गया.
बाद में खाना खाने के बाद सभी लोग सोने चले गये. (XXX चाची चुदाई)

रात को करीब एक बजे मेरी आंख खुली. चाची मेरे बगल में सोती थीं.
जब मैंने उसे गहरी नींद में सोते हुए देखा तो मैं थोड़ा ऊपर सरक गया.

अब मेरा लंड लगभग चाची के हाथ के करीब आ रहा था.

मैंने एक क्षण सोचा और उस ओर मुड़ गया। इससे मेरे लंड को चाची के हाथ से हल्का सा स्पर्श मिल गया.
जैसे ही उसका हाथ मेरे लंड को छुआ, ऐसा लगा जैसे मेरे पूरे शरीर में बिजली दौड़ गई और लंड अचानक से सख्त हो गया।

फिर मुझे नहीं पता कि नींद में.. या जानबूझ कर लेकिन कुछ देर बाद उसने मेरा लंड अपने हाथ में पकड़ लिया।

आह, ये सब इतना अद्भुत लग रहा था कि मेरा सारा वीर्य वहीं निकल गया और मैं करवट लेकर सो गया. बाद में ज्यादा खास दिन नहीं गुजरे, ऐसे ही गुजर गये.

चाची को सब कुछ बताने के बाद मैंने भी उनके बूब्स की तरफ देखना बंद कर दिया था.

कुछ समय और बीता. अब मैं फिर से चाची के बूब्स को छुप कर देखने लगा; मैं भी पहले जैसा माहौल बनाने में लग गया. अब मैं पहले की तरह चाची के साथ समय बिताने लगा और उनसे बातें करने लगा.

उन्हीं दिनों फिर गर्मी की छुट्टियाँ आ गईं।

एक दिन हम दोनों यूट्यूब पर वीडियो देख रहे थे. मैं उसे पीछे से देख रहा था और मैंने पीछे से उसके कंधे पर अपना सिर रख दिया था.

सामने एक वीडियो चल रहा था, लेकिन मैं उसके कानों से खेल रहा था, अपनी उंगलियों से उसके कानों को छेड़ रहा था।

मैं उसकी भारी साँसें भी सुन सकता था। धीरे-धीरे चाची की साँसें थोड़ी तेज़ हो गईं।
कुछ देर बाद पता नहीं क्या हुआ, मैं पीछे हट गया और चला गया.

अब मेरे मन में बार-बार एक ही बात आ रही थी कि चाची इतनी तेज़ साँसें क्यों ले रही थीं?
मैं सोचने लगा कि क्या चाची को मुझमें कोई उम्मीद नजर आने लगी है.

चाची अभी भी मोबाइल पर वीडियो देख रही थी।
मैं छुप कर उनकी हरकतें देखने लगा.

कुछ पल बाद चाची उठकर बाथरूम में चली गईं और मैं भी उनके पीछे-पीछे चला गया। मैं बाथरूम के बाहर दरवाजे के पास खड़ा हो गया और अन्दर की आवाजें सुनने लगा.

अंदर की कामुक आवाजें सुनते ही मेरा हाथ अपने आप मेरे लंड पर आ गया और मैं उसे हिलाने लगा.

अंदर की आवाज़ों से मुझे साफ़ पता चल रहा था कि चाची अपनी चूत में कुछ डाल कर मजा ले रही थीं, बहुत मस्त आवाज़ें आ रही थीं। (XXX चाची चुदाई)

दस मिनट बाद चाची बाहर आईं.
फिर मैं उसके पास आया.

उसका चेहरा कुछ अलग ही बयां कर रहा था… उसके चेहरे के भाव बदल गये थे।

मैंने चाची से सामान्य रूप से बात करते हुए उनसे चाय के लिए पूछा और कुर्सी पर बैठ गया.

चाची ने चाय बनाकर मुझे दी और चाय देते समय उन्होंने मुझे दूध भी दिखाया.
उसने इस बात पर ध्यान दिया था कि मैं उसके बूब्स को देख रहा हूँ या नहीं… लेकिन मैंने एक पल के लिए उसके बूब्स को देखा और दूसरी ओर देखा।

चाची ने कुछ नहीं कहा और मैं भी चाय पीकर बाहर चला गया।

अगले दिन करीब 12 बजे मैंने देखा कि उसकी ब्रा बिस्तर पर पड़ी है.
मैं अपने आप पर काबू नहीं रख पाया और मैंने ब्रा उठाकर देख ली.

उसमें उसके बूब्स का आकार 36 डी लिखा था। मुझे अंदर से ख़ुशी हुई कि मैंने उसके बूब्स को अपनी आँखों से सही ढंग से मापा था। (XXX चाची चुदाई)

मैं चाची के 36 डी साइज़ के बूब्स को याद करके मुठ मारने लगा।
कुछ देर बाद मैंने अपने लंड का सारा वीर्य चाची की ब्रा में ही स्खलित कर दिया.

कुछ देर बाद वो नहा कर वापस आ गयी. उस दिन काम बहुत था इसलिए वो देर से नहायी.
नहाने के बाद जब वो ब्रा पहनने लगी तो थोड़ी गीली महसूस हुई. चाची ने उसे सूँघा और हल्के से मुस्कुराई और ब्रा पहन ली।

अब चाची का मुझे देखने का नजरिया बदल गया था.

मेरे दिमाग में अभी भी चाची की ब्रा का ख्याल था कि उनके स्तन मेरे लंड के वीर्य से सने हुए थे। मैं अपने ख़यालों में उसके बूब्स पर गीलेपन के दाग़ साफ़ महसूस कर रहा था। (XXX चाची चुदाई)

मैं मन ही मन उस नारे को याद करके मुस्कुराने लगा कि दाग अच्छे होते हैं।

मैं लेट गया और अपनी आँखें बंद कर लीं। मैं मन ही मन सोचने लगा कि घर पर मेहमान आए हैं और चाची उनके लिए खाना बना रही हैं.

तभी अचानक बाहर से कुछ गिरने की जोरदार आवाज आई।
सभी लोग देखने के लिए बाहर की ओर भागे।

वहां देखा तो एक बड़े ट्रॉलर में लोहा गिराया हुआ था. मैं भी वहां गया और चाची मेरे ठीक बगल में खड़ी थीं. अचानक चाची ने मेरा लंड पकड़ लिया और उसे थोड़ा हिलाया और उसमें करंट लगा गया.

बाद में जब सब लोग खाना खा रहे थे तो चाची बाथरूम में चली गईं।
मैं पहले से ही बाथरूम में था. जब वो अन्दर आई तो मैं उसके मम्मे दबाने लगा.

चाची झेंप गईं और बोलीं- अरे अभी नहीं.. बाद में, अभी मेहमान हैं।
मैं: कोई बात नहीं चाची, बस 5 मिनट तक दबाने दो।
चाची: ठीक है, जल्दी करो.

मैं चाची के बूब्स की इसी तरह मालिश करता रहा.
फिर में अपना एक हाथ चाची की Tight Chut पर ले गया और ऊपर से ही सहलाने लगा.

वो भी अपने आप पर काबू नहीं रख पाई और अपना एक हाथ मेरे लंड पर ले गयी. वो अपने दूसरे हाथ से मेरे हाथ को अपनी चूत पर दबाने लगी.

ज्यादा समय बर्बाद न करते हुए, मैं बैठ गया और अपना मुँह चाची की साड़ी पेटीकोट के अंदर ले गया और रस से टपक रही उनकी चूत के सिरे को दबाने और खेलने लगा। (XXX चाची चुदाई)

चाची ने अपनी टाँगें फैलाकर मेरा सिर अपनी चूत पर दबाया तो मैं उनकी चूत पर थूक कर चाटने लगा, जीभ अन्दर डालने लगा, उनकी भगनासा से खेलने लगा।

चाची ने ज्यादा शोर न मचाने के लिए अपना मुँह अपने हाथ से ढक लिया था। तभी एक हल्की सी आवाज आई और चाची ने अपनी चूत का बांध खोल दिया.

चूत का रस मेरे मुँह में टपकने लगा; मैंने सारा रस चाट लिया और चाची की चूत साफ कर दी. फिर मैं उसकी साड़ी से बाहर आया और उसे चूम लिया. (XXX चाची चुदाई)

उसने अपना हाथ नीचे किया और मेरा लंड बाहर निकाल लिया और हिलाने लगी. जैसे ही चाची मेरे लंड को मुँह में लेने वाली थीं, मेरा वीर्य निकल गया.

उसी समय चाची ने चिल्लाकर कहा- इतनी देर तक कौन सोता है… उठ किशोर!

मेरा सपना टूट गया और मेरी आंखें खुल गईं. मेरा लंड खड़ा था और उसका सारा वीर्य निकल चुका था.
मेरा बॉक्सर गीला पड़ा हुआ था. चाची की नज़र वहां से हट ही नहीं रही थी. (XXX चाची चुदाई)

दोस्तों, अपनी चाची की वासना भरी नजरों को देखकर मैं शरमा गया और अपने बॉक्सर के ऊपर चादर ओढ़ने लगा.

चाची ने चादर खींच दी और बोलीं- अब ये चादर भी गीली कर देगा. जल्दी उठ!

XXX चाची चुदाई स्टोरी के अगले भाग में मैं बताऊंगा कि कैसे चाची के साथ Chut Chudai आगे बढ़ी और बात लंड और चूत तक पहुंच गई.

मेरी इस वासना कहानी पर कमेंट करना न भूलें.

कहानी का अगला भाग: XXX चाची चुदाई स्टोरी

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds