मकान मालकिन की कमसिन लड़की की चढ़ती जवानी – जवान लड़की XXX

मकान मालकिन की कमसिन लड़की की चढ़ती जवानी – जवान लड़की XXX

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “मकान मालकिन की कमसिन लड़की की चढ़ती जवानी – जवान लड़की XXX”। यह कहानी मयंक की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

मकान मालकिन की कुंवारी जवान बेटी ने मुझे दिया गरमा गरम चुदाई का मजा! वह शुरू से ही मुझ पर नजर रखती थी. जब भी वो सुबह चाय देने आती थी तो उसकी नज़र मेरे लंड पर होती थी.

नमस्कार दोस्तो, मैं मयंक हूँ, यह मेरी पहली कहानी है।
घटना 5 साल पहले की है.

इस कहानी में चार पात्र हैं, मैं मयंक, दूसरा इशिका, तीसरा करिश्मा (इशिका की बहन), चौथी बुढ़िया गायत्री देवी (करिश्मा की माँ)।

अब आते हैं जवान लड़की XXX हॉट चुदाई स्टोरी पर.

मुझे नोएडा के एक होटल में नौकरी मिल गयी.
होटल में ड्यूटी के समय खाने की सुविधा थी; रहने की नहीं.

तो मैंने पास की बस्ती में.. यानि बुजुर्ग गायत्री देवी से एक कमरा किराये पर ले लिया।

हां, यहां आपको एक बात बता दूं कि इशिका की उम्र करीब 19-20 साल थी.
करिश्मा की उम्र करीब 27-28 साल थी. वह शादीशुदा थी लेकिन उसके पति ने उसे छोड़ दिया था, इसलिए करिश्मा अपने 4 साल के बेटे के साथ अपनी मां के साथ रह रही थी। (जवान लड़की XXX)

तभी मेरी नज़र इशिका से मिली, वो मुझे चाय देने मेरे कमरे में आई थी।
क्या बताऊँ… उसका शरीर लम्बा और पतला है और उसके स्तनों का आकार भी 30-32 ही होगा।

सुबह की चाय देने का सिलसिला हर दिन सुबह 6 बजे से शुरू हो जाता था.
कुछ दिन तक सब ठीक चला.

मैं देर रात 11 बजे ड्यूटी से लौटता था, थका हुआ, रात को कपड़े उतार कर केवल लुंगी पहन कर सोता था।
मेरा 7 इंच लंबा और 3 इंच मोटा लंड Ishika के बारे में सोच कर ही खड़ा हो जाता था.

इशिका चाय रख कर चली जाती थी लेकिन जाने से पहले मेरे खड़े लंड को देख लेती थी.
एक दिन जब मैं उठा तो उसने हल्की सी मुस्कुराहट के साथ मेरी तरफ देखा.

लेकिन सब के जागने के कारण वह कुछ नहीं कर सकी.

एक दिन मैं रात को 1 बजे ड्यूटी से आया.
वह जाग रही थी.

कमरे में आकर मैं अपने कपड़े उतार कर लुंगी पहन कर लेटा ही था कि दरवाजे पर दस्तक हुई.

मैंने दरवाज़ा खोला तो सामने इशिका खड़ी थी, वो चुपचाप कमरे में आ गयी और दरवाज़ा बंद कर दिया।
उसने मुझे सीने से लगा लिया.

जैसे ही वो मुझसे लिपटी, मेरा लंड सांप की तरह खड़ा हो गया.
मैंने उसे अपनी बांहों में ले लिया और चूमने लगा.

तभी खट-खट की आवाज आई।
शायद बुढ़िया जाग गई थी और पेशाब करने आई थी.
इशिका ने चुपचाप दरवाज़ा खोला और भाग गयी।

अगले दिन जब मैं नाइट ड्यूटी से लौटा तो इशिका जाग रही थी.
मेरे कमरे में आते ही वो भी चली गयी.

अभी मैंने अपने कपड़े भी नहीं उतारे थे, उसने तुरंत मेरी पैंट खोली और नीचे खींच कर मेरा लंड पकड़ लिया.
तो मैंने भी उसकी कुर्ती के ऊपर से उसके संतरे के आकार के Big Boobs को अपने हाथों में लेकर चूसना शुरू कर दिया।

वह सिहर उठी।

इधर मेरा लंड फनफना रहा था, वो उसे मसल रही थी।

मैंने धीरे से उसे बिस्तर पर लेटा दिया, एक हाथ से मैं उसके संतरे को कुर्ती के अंदर से सहला रहा था, दूसरे हाथ से उसकी सलवार में हाथ डाल कर पैंटी के ऊपर से उसकी चूत को सहला रहा था।

वह कराह रही थी.
मैंने धीरे से उसकी कुर्ती उतार दी, फिर सलवार का नाड़ा खोल दिया।

अब वो सिर्फ पेंटी ब्रा में थी.
मैं उसकी पैंटी के ऊपर से उसकी चूत को सहला रहा था.
उसने मेरा 7 इंच लम्बा लंड पकड़ रखा था.

मैंने उसकी ब्रा खोल दी.
वाह, क्या स्तन थे… सफ़ेद स्तन और भूरे रंग के निपल्स!

मैं अपने आप पर काबू नहीं रख सका, मैंने उसे मुँह में ले लिया और चूसने लगा।
वह कराह भी रही थी. (जवान लड़की XXX)

मैंने एक हाथ से उसकी पैंटी उतार दी.

क्या बताऊँ… उसकी चूत पर – रेशमी बाल थे!
मैं नीचे सरक रहा था और उसकी नाभि को चूस रहा था।

अब मेरे हाथ उसकी केले के तने जैसी चिकनी जाँघों को सहला रहे थे।

फिर मैंने उसकी चूत को अपनी दो उंगलियों से फैलाया और देखा कि उसकी चूत के बालों के बीच गुलाबी होंठ दिख रहे थे.
मैंने अपनी एक उंगली उसकी चूत में डाल दी. वह सिहर उठी और कराहने लगी.

छेद से पानी रिस रहा था. मैं अपने आप पर काबू नहीं रख सका, मैंने अपनी जीभ उसकी चूत की दोनों फांकों के बीच डाल दी और अन्दर-बाहर करने लगा। वह पागल हो गयी.

उसने अपने हाथों से मेरा सिर अपनी Tight Chut पर दबा दिया.
उसकी चूत से भीनी भीनी खुशबू आ रही थी.

कुछ देर बाद उसका शरीर अकड़ने लगा और उसकी चूत से पानी बहने लगा.

शरीर अकड़ गया, चूत से पानी निकल गया और वो ठंडी हो गयी.

कुछ देर शांत रहने के बाद वह उठ गयी.
उसने मेरे लंड को अपने मुँह में ले लिया और उसे आइसक्रीम की तरह चूसने लगी, अपने कोमल होंठों से मेरे लंड के टोपे को चाटने लगी।

मेरी हालत ख़राब होती जा रही थी.
वो मेरा लंड चूस रही थी.

मेरा लंड पूरे उफान पर था.

मैंने उसके सिर को अपने हाथ से पकड़ कर दबाया तो लंड उसके गले तक जा फंसा.
मैं अपना लंड अन्दर-बाहर करने लगा।

अब मेरा निकलने वाला था.
कुछ ही धक्कों के बाद मेरे लंड ने अपनी पिचकारी छोड़ दी.
उसने उसे निगल लिया और मेरे लंड को चाट कर साफ़ कर दिया।

मैं निढाल होकर बिस्तर पर पसर गया।

उसने कपड़े पहने।
सुबह के 3 बजे थे, वो चुपचाप चली गयी.

हां… ये सब हुआ लेकिन हमने एक-दूसरे से बात नहीं की.

अगले दिन उसकी मौसी उसकी माँ से मिलने आई।

उनके गांव में एक रिश्तेदार की शादी थी.
मौसी उसे लेने आई थीं.

करिश्मा और बुढ़िया जाने को तैयार हो गईं।
लेकिन इशिका ने तबियत खराब होने का बहाना बनाकर जाने से इनकार कर दिया.

अब बुढ़िया को यह चिंता सताने लगी कि उसे अकेला कैसे छोड़ा जाए।
बुढ़िया मेरे पास आई और बोली- बेटा, इशिका घर पर अकेली है। हमें शादी में जाना है. वह ठीक नहीं है, कृपया उसका ख्याल रखें।’ हम दो या तीन दिन में वापस आ जायेंगे. (जवान लड़की XXX)

मैंने कहा- इसकी चिंता मत करो, मैं हूँ!

मैं 2 बजे अपनी ड्यूटी पर चला गया.
शाम 7 बजे वे चले गये.

रात 11 बजे जब मैं लौटा तो देखा कि इशिका जाग रही है और मेरा इंतज़ार कर रही है।

आज पहली बार उसने कहा- आप आ गए.. मैं इंतज़ार कर रही थी।
मैने कह दिया हां। और अपने कमरे में आ गया.

वो भी मेरे पीछे पीछे आ गयी.
मैं पूरे दिन इस पल का इंतजार कर रहा था.’

मैंने तुरंत उसे अपनी बांहों में ले लिया और उसके होंठों को चूसने लगा.
मैंने अभी तक अपने कपड़े भी नहीं उतारे थे!

वो बोली- आराम से … अब कोई डर नहीं है. मैं पूरी रात तुम्हारी हूँ. दो-तीन दिन मिल कर मौज करेंगे, खुली छूट है तुम्हे।

मैंने अपने कपड़े उतार दिए और पूरा नंगा हो गया. साथ ही इशिका ने मेरे सामने अपनी कुर्ती भी उतार दी.
अब वो सलवार में थी और ऊपर उसकी ब्रा थी। (जवान लड़की XXX)

उसके संतरे जैसे स्तन तने हुए थे.

मैंने कहा- सलवार भी उतार दो!
तो वो बोली- अगर मैं सारा काम करूंगी तो तुम क्या करोगे?

फिर क्या… मैं उस पर टूट पड़ा, उसकी सलवार का नाड़ा खोल दिया। सलवार झट से नीचे सरक गयी.

अब इशिका पैंटी ब्रा में स्वर्ग से उतरी हुई परी लग रही थी। मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये और चूसने लगा.

फिर मैंने उसे बिस्तर पर लेटा दिया.
मैंने उसके होंठों को चूसते हुए उसकी गर्दन तक ले गया और फिर उसकी ब्रा खोल दी और उसके संतरे जैसे स्तनों को चूसने लगा। (जवान लड़की XXX)

उसके स्तनों पर रोंगटे खड़े हो गये।

फिर उसकी नाभि और चिकने पेट को अपनी जीभ से चाटते हुए उसकी पैंटी तक पहुंच गया.
जैसे ही मैंने उसकी पैंटी उतारी और उसकी चूत पर अपनी जीभ रखी, उसके शरीर में एक सिहरन सी दौड़ गई.
वह चहकने लगी.

इशिका कहने लगी- अब मुझसे बर्दाश्त नहीं होता. प्लीज़ मेरी चूत की आग बुझा दो
, जल्दी से अन्दर डालो. मैंने कहा- इशिका, आज मैं तुम्हें जन्नत का मजा दूँगा।

फिर मैंने अपना लंड उसके मुँह में दे दिया और कहा- इसे चूस कर गीला कर दो।
उसने मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी.

अब मैंने अपना लंड उसकी चूत के मुँह पर रखा और धीरे से दबाव डाला.
मेरा लंड फिसल गया.

फिर मैंने बिस्तर के पास रखी तेल की शीशी से तेल लिया और अपनी उंगली से अपने लंड और उसकी चूत पर लगाया.
फिर मैंने अपना लंड चूत के मुँह पर रखा और एक झटका दिया.

मेरा लंड अभी एक इंच ही अन्दर गया था कि वो चिल्ला पड़ी और बोली- मैं मर गयी.. जल्दी से बाहर निकालो।
मैंने झट से उसके होंठों पर हाथ रख दिया ताकि वो चिल्ला न सके.

फिर मैं रुक गया और कुछ देर वैसे ही लेटा रहा. फिर मैं धीरे-धीरे अपना लंड उसकी चूत में डालने लगा.

अभी लंड थोड़ा ही अंदर गया था कि मैंने एक जोरदार धक्का मारा तो मेरा पूरा लंड उसकी चूत को फाड़ता हुआ अंदर चला गया. (जवान लड़की XXX)

वो चिल्ला नहीं पाई क्योंकि मैंने अपना मुँह उसके मुँह पर रख दिया था.
हाँ… वो तड़प उठी, उसकी आँखों से आँसू निकल आये।

वह दर्द से कराह रही थी.
मैं थोड़ी देर रुका और उसके मुँह से अपना मुँह हटा कर उसके स्तनों को चूसने लगा।

जब उसका दर्द कम होने लगा तो मैंने धीरे-धीरे अपना लंड उसकी चूत में अन्दर-बाहर करना शुरू कर दिया।

उसे भी मजा आने लगा.
वो Moti Gand उठा उठा कर साथ देने लगी.
वो कराहने लगी और अपनी गांड ऊपर-नीचे करने लगी.

मैं उसकी चूत को बहुत ही धीमी गति से चोद रहा था.
उसने अपने नाखून मेरी कमर में गड़ा दिए और बोली- और जोर से चोदो मुझे मेरे राजा!

मैंने स्पीड बढ़ा दी.
वह झड़ने करने लगी.

लेकिन मेरा नहीं निकला था.
मैं तेज गति से ऊपर नीचे होकर Chut Chudai कर रहा था.

इस समय तक मैं भी झड़ने वाला था. मैंने कहा- इशिका, कहां निकालूं?
उसने कहा- राजा, अन्दर ही छोड़ दो।

मैं चार-पाँच झटके में झड़ा और उसके ऊपर ही लेट गया।
उस रात हमने चार बार सेक्स किया.

सुबह उठे तो देखा कि चादर खून से लथपथ है.
यह देख कर वह डर गयी.

मैंने उसे समझाया कि चुदाई में पहली बार ऐसा ही होता है।

वो चल भी नहीं पा रही थी, उसकी चूत सूज गयी थी।
मैंने उस दिन छुट्टी ले ली. (जवान लड़की XXX)

मैं उसके लिए बाजार से दवा लाया.

फिर हम साथ में नहाये.
नहाते समय मैंने उसे घोड़ी पोजीशन में चोदा.

शाम को मैं बाहर से खाना लाया, साथ में अपने लिए शराब की बोतल और उसके लिए बीयर भी लाया।

मैंने शराब पी, उसने बियर पी और फिर सेक्स करने लगा. इस तरह उसकी मां और बहन के वापस आने तक हम दोनों ने खूब चुदाई की.

प्रिय पाठको, आपको मेरी जवान लड़की XXX हॉट चुदाई कहानी कैसी लगी?

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds