तलाकशुदा आंटी की चुदाई की प्यास: XXX आंटी चुदाई स्टोरी भाग 1

तलाकशुदा आंटी की चुदाई की प्यास: XXX आंटी चुदाई स्टोरी भाग 1

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “तलाकशुदा आंटी की चुदाई की प्यास: XXX आंटी चुदाई स्टोरी भाग 1”। यह कहानी अरशद की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

मैंने आंटी को उनके ही घर में नंगी देखा! वह मेरे दोस्त की मामी थी और मेरे पड़ोस में अपने पति से अलग रहती थी। मैं उनका काम कर दिया करता था.

दोस्तो, मेरा नाम अरशद है और मैं रायपुर का रहने वाला हूँ। ये XXX आंटी चुदाई दो साल पुरानी है. मेरे दोस्त की दूर की मामी हमारे फ्लैट के सामने वाले फ्लैट में रहती थी। उसका नाम फातिमा था.

आंटी की उम्र करीब 35 या 37 साल रही होगी. उनका रंग दूध जैसा सफ़ेद था.
आंटी के बूब्स बड़े और अच्छे थे। लेकिन उसके नितम्ब बहुत सेक्सी और भरे हुए थे।

मैं उन्हें Fatima आंटी कहता था. आंटी अपने पति के साथ नहीं रहती थीं. चार महीने पहले उसका अपने पति से तलाक हो गया था. उनके दो बच्चे थे, दोनों स्कूल जाते थे।

उन दिनों मैं घर पर बहुत बोर हो रहा था, हर वक्त बस Chut Chudai का मन करता था।
साथ ही अगर मैं फातिमा आंटी को देख लेता.. तो मेरा लंड पैंट फाड़ कर बाहर आने को हो जाता।

मैं फातिमा आंटी से सेक्स के लिए पूछने से भी डरता था क्योंकि वो मेरे दोस्त की दूर की मामी लगती थीं इसलिए मैं उनके नाम की मुठ मार कर काम चला लेता था.

मैं हर पल फातिमा आंटी की गांड देखने के लिए बेचैन रहता था.
जब वो झुक कर अपने कमरे में झाड़ू लगाती थी तो मुझे उसके सेक्सी बूब्स भी दिख जाते थे।

अभी तक मैं आंटी के चूतड़ और बूब्स ही देखता था, लेकिन एक दिन मेरी किस्मत खुल गई और मैंने फातिमा आंटी को पूरी नंगी देख लिया। (XXX आंटी चुदाई)

हुआ यह था कि मैं अक्सर कुछ अवसर ढूँढ़ता रहता था ताकि उन्हें देख सकूँ।

एक दिन माँ ने मुझे फातिमा आंटी को कुछ देने के लिये भेजा।
मैं बिना दरवाज़ा खटखटाए फातिमा आंटी के कमरे में घुस गया.

उस समय फातिमा आंटी अपने कपड़े बदल रही थी और वो आंटी नंगी थी.
जैसे ही मैंने उसे नंगा देखा तो मेरे पूरे शरीर में करंट दौड़ गया.

आंटी भी शरमा कर बिस्तर के पीछे छुप गईं और मैं भी कमरे से बाहर आ गया. उस वक्त मेरा दिल जोर-जोर से धड़क रहा था क्योंकि इतना खूबसूरत नजारा मैंने पहली बार देखा था.

मुझे थोड़ा बुरा भी लगा कि मैं बिना खटखटाये आंटी के कमरे में चला गया।
लेकिन मेरे दिल में एक खुशी भी थी कि कम से कम इसी बहाने मैंने फातिमा आंटी को नंगा तो देख लिया.

जिस दिन से मैंने फातिमा आंटी को नंगी देखा, मेरी उनको चोदने की चाहत और भी बढ़ गयी.

अब आंटी हर रात मेरे सपनों में नंगी आने लगीं.

उस दिन के बाद न जाने क्या हुआ कि फातिमा आंटी को देखने का मेरा नजरिया बदल गया।
अब वो मुझसे कुछ ज्यादा दिलचस्पी से बात करने लगी.

जबकि उस दिन के बाद से मुझे उससे आमने-सामने होने में थोड़ा डर लगने लगा था.

लेकिन चार दिन बाद जब उसने मुझे अपनी बालकनी से देखा तो उसने मुझे बुलाया और कहा- अरशद, अगर तुम फ्री हो तो मेरे घर आना. मुझे बाजार से कुछ चीजें मंगवानी है. (XXX आंटी चुदाई)

उनके दोनों बच्चे स्कूल गए थे. पहले तो मुझे बहुत झिझक हुई और डर भी लगा कि पता नहीं उसे सच में कोई काम था या मुझे डांटने के लिए बुला रही थी।

इन सब सवालों में मैं दस मिनट तक उलझा रहा.
इसके बाद मैं हिम्मत करके आंटी के घर चला गया.

मैं उसके घर गया और सबसे पहले दरवाजा खटखटाया. कुछ देर बाद आंटी आईं और दरवाज़ा खोलकर मुझे अन्दर बुलाया. आंटी हंस कर बोलीं- आज तुम दरवाजा कैसे खटखटा रहे हो, उस दिन तो तुम सीधे अन्दर आ गये थे?

उसकी यह बात सुनकर मुझे थोड़ी शर्मिंदगी महसूस हुई, मैंने उससे सॉरी कहा।

मैंने आंटी से कहा कि मैं अगली बार से ध्यान रखूंगा.
उन्होंने कहा- अच्छी बात है, ध्यान भी रखना चाहिए.

अब मेरी जान में जान आई।

फिर मैंने कहा- बताओ फातिमा आंटी, तुम्हें मुझसे क्या काम था?
वो बोली- तुम 10 मिनट बैठो, मैं झाड़ू लगा कर आती हूँ.

मैं वहीं सोफ़े पर बैठ गया. आंटी कमरे में झाड़ू लगाने के लिए अन्दर चली गईं. फिर 5-7 मिनट के बाद वो अंदर झाड़ू लगाकर सोफा वाले रूम में आ गयी. (XXX आंटी चुदाई)

जब वह झाड़ू लगाते हुए सोफे के पास आई तो मुझे उसके ब्लाउज में से उसके प्यारे सेक्सी Big Boobs साफ़ दिखाई दे रहे थे और ललचा रहे थे। ये अद्भुत नजारा देख कर मेरा लंड खड़ा होने लगा.

मैं उस सेक्सी सीन को देखने में इतना खो गया था कि मुझे पता ही नहीं चला कि फातिमा आंटी मुझे कितनी देर से बुला रही थीं.
वो मुझे इस सोफे से उठकर दूसरे सोफे पर बैठने के लिए कह रही थी ताकि वो यहां झाड़ू लगा सके.

उनकी बात सुनकर जैसे ही मेरा ध्यान गया तो मैं दूसरे सोफे की तरफ बढ़ने लगा.
लेकिन इन सबके बीच मैं यह भूल गया था कि मेरे अंडरवियर के अंदर मेरा लंड खड़ा हुआ था.

जैसे ही मैं उठा तो आंटी ने मेरा खड़ा लंड देख लिया. मैं तुरंत जाकर दूसरे सोफे पर बैठ गया.
आंटी मुझसे बिना कुछ कहे झाड़ू लगाती रहीं.

फिर पूरे कमरे में झाड़ू लगाने के बाद आंटी ने मुझसे कहा- मैं हाथ-मुँह धोकर आती हूँ और काम के बारे में बताती हूँ।

एक तरफ मैं आंटी के बूब्स देख कर खुश हो रहा था और दूसरी तरफ मुझे थोड़ा डर भी लग रहा था कि कहीं आंटी मेरा खड़ा लंड देख कर मुझे डांटने न लगें.

करीब बीस मिनट बाद आंटी अपने कमरे से बाहर आईं और मेरे सामने सोफे पर बैठ कर मुझसे बोलीं- अरे, तुम इतनी देर से यहीं बैठे हो? (XXX आंटी चुदाई)

मुझे समझ नहीं आया कि उसने क्या कहा क्योंकि मैं तो बस उसके आने का इंतज़ार कर रहा था.

फिर एक तरफ मुझे आंटी की इस बात के पीछे एक अलग टिप्पणी भी महसूस हुई. खैर.. फिर मैंने आंटी से कहा- हां आंटी, बताओ क्या काम था?

उन्होंने कहा- मुझे बाजार से कुछ चीजें मंगवानी थीं और ऊपर अचार के जार रखे थे, उन्हें उतारना था.

मैंने कहा-बताओ कहाँ हैं, पहले मैं उन्हें उतार दूँ। फिर मैं सामान ले आऊंगा. आंटी मुझे अपने पीछे आने को कह कर रसोई में ले गईं।

जब वो आगे चल रही थी तो मैं उसके पीछे चल रहा था और उसकी हिलती हुई Moti Gand को ऊपर नीचे होते हुए देख रहा था।

मेरा मन कर रहा था कि जाकर उसे सीधे पीछे से पकड़ लूं और अपना एक हाथ उसकी गर्दन में डाल दूं, दूसरे हाथ से उसकी साड़ी और पेटीकोट ऊपर उठा दूं और उसके बड़े-बड़े हिलते हुए नितंबों के बीच उसकी गांड में एक ही बार में अपना पूरा लंड डाल दूं।.

लेकिन मैंने खुद पर काबू रखना ही बेहतर समझा, लेकिन इस कमीने लंड को कौन समझाए… वो फिर से खड़ा होने लगा था.

खैर… हम दोनों रसोई में पहुँच गये। आंटी ने किचन स्लैब के पास एक स्टूल रखा और बोलीं- अरशद, इस पर चढ़ जाओ और ऊपर शेल्फ से अचार के डिब्बे नीचे उतार लो.

स्टूल मजबूत लग रहा था, लेकिन जब मैं उस पर चढ़ा तो वह बहुत हिलने लगा, शायद उसके जोड़ पुराने हो गए थे।

मैंने आंटी से कहा- फातिमा आंटी, प्लीज़ स्टूल पकड़ लो, कहीं मैं गिर न जाऊँ! वो बोली- चिंता मत करो … तुम बिना किसी झिझक के चढ़ जाओ, मैं सब संभाल लूंगी. (XXX आंटी चुदाई)

मैं उसकी बातों का दोहरा मतलब समझ गया लेकिन मन ही मन मुस्कुराता रहा। आंटी ने स्टूल पकड़ लिया. शेल्फ से एक-दो नहीं बल्कि चार-चार डिब्बे उतारने पड़े.

जब मैंने पहली बार डिब्बे को पकड़कर आंटी के हाथ में दिया तो पहली बार मुझे उनके मुलायम हाथों का स्पर्श मिला। मुझे बहुत अच्छा लगा। साथ ही मुझे उसके प्यारे मम्मे एक बार फिर से देखने को मिले.

इसी तरह बाकी के 3 डिब्बे उतारते समय मैं उसके मुलायम हाथों को छूता रहा और उसके सेक्सी बूब्सों को भी देखता रहा.
इससे मेरा लंड फिर से खड़ा होने लगा.

मैंने सोचा चलो जल्दी से नीचे उतर जाऊं. फिर आंटी बोलीं- अरशद, थोड़ी देर रुको … मुझे कुछ सामान ऊपर भी रखना है.

मैं वहीं रुक गया. तब तक मेरा लंड पूरा खड़ा हो चुका था. जब आंटी सामान लेने दूसरे कमरे में गईं तो मैंने अपना लंड कच्छे में सेट करने की कोशिश की.

मैं ये ट्राई ही कर रहा था कि आंटी सामान लेकर वापस किचन में आ गईं. मुझे बॉक्सर के साथ कुछ करते देख आंटी ने पूछा- क्या हुआ अरशद, कोई दिक्कत है क्या?

मैंने बोला नहीं आंटी कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन आंटी मेरे लंड को हल्की सी तिरछी नज़र से देखते हुए मुस्कुराने लगीं.
गांड फटने के कारण मेरा लंड तो बैठ गया लेकिन मेरे मन में आंटी के लिए चाहत बढ़ गयी.

अब आंटी अपने साथ लाए हुए तीनों डिब्बे एक-एक करके मुझे देने लगीं।

फिर वही सारी हरकतें फिर से होने लगीं. आंटी के मुलायम हाथों के स्पर्श और आंटी के खूबसूरत गोल बूब्सों के दर्शन से मेरा हरामी लंड फिर से खड़ा हो गया. (XXX आंटी चुदाई)

इस बार मुझे नहीं पता कि आंटी ने अनजाने में या जानबूझ कर मेरे लंड को अपने हाथ से छुआ। जैसे ही उसका हाथ मेरे लंड पर लगा, मैं डर गया और इस वजह से मेरा संतुलन बिगड़ने लगा.

मैंने गिरने के डर से आंटी के कंधों को पकड़ लिया.
फातिमा आंटी ने भी मेरे गिरने के डर से झट से मेरे पैर पकड़ लिये। इससे उसका मुंह मेरे लंड के बिल्कुल करीब आ गया.

मैंने भी डर का बहाना बनाते हुए पीछे से आंटी के कंधों को पकड़ने के बहाने अपने आप को जोर से आगे की ओर धकेल दिया और अब उनका मुँह सीधे मेरे लंड पर चला गया।

कुछ पल तक फातिमा आंटी का मुँह मेरे लंड पर रहा.
फिर झटके से उसने अपना चेहरा दूसरी तरफ कर लिया.

मैंने भी अपने होश पर काबू किया और आंटी को पीछे हटने को कहा.

वो पीछे खड़ी हो गयी और मैं नीचे आ गया. फिर मैंने स्टूल हटा कर एक तरफ रख दिया और आंटी की तरफ देखा तो वो पानी पी रही थीं, उनकी साँसें ऊपर-नीचे हो रही थीं।

जैसे ही उसने पानी खत्म किया, मैंने उससे जाने को कहा और बाहर वाले कमरे की ओर जाने लगा.

मैं अभी बाहर वाले कमरे में पहुंचा ही था कि उसने मुझे पीछे से आवाज दी और पूछा- अरशद, तुम्हें घर पर कोई काम है क्या?
मैंने कहा- नहीं, ऐसा कोई जरूरी काम नहीं है, तुम्हें कोई और काम है क्या? (XXX आंटी चुदाई)

उसने कहा- हाँ, कल मैं पोछा लगा रही थी तो मेरा पैर थोड़ा सा पानी में फिसल गया। शायद इसी वजह से मुझे थोड़ी सी मोच आ गई है. मैंने तुम्हारी दादी से सुना है कि तुम पैरों की बहुत अच्छी मालिश करती हो, तो क्या तुम मेरे पैरों की भी थोड़ी मालिश कर दोगे?

यह सुन कर मेरे मन में लड्डू फूटने लगे. मैंने सोच लिया था कि आज मुझे फातिमा आंटी की सेक्सी Tight Chut चोदने को मिलेगी.

मैंने कहा- हां आंटी क्यों नहीं?

आंटी बोलीं- मैं यहीं बड़े सोफे पर बैठूंगी, तुम मालिश कर देना.
मैंने कहा- ठीक है.

अब आंटी सोफे पर बैठ गईं और अपने सीधे पैर की साड़ी घुटनों तक उठा लीं. मैं भी सोफे पर बैठ गया और उसके पैर की उंगलियों को दबाने लगा.

मैंने कहा- आंटी, अगर आपके पास सरसों का तेल है तो ले आओ, मालिश अच्छे से हो जायेगी.
उन्होंने कहा कि बस ऐसे ही दबाओ और तेल मालिश फिर कभी कर लेना.

मैं उसके पैर दबाने लगा.

थोड़ी देर दबाने के बाद मैंने कहा कि मैं तुम्हारे दोनों पैर अपनी गोद में रख लू, ताकि उन्हें अच्छे से दबा सकूं.
तो उसने कहा- ठीक है, जैसा तुम्हें ठीक लगे.

उसके बाद मैं उठकर उसके दोनों पैरों को अपनी गोद में रखकर बैठ गया और उन्हें दबाने लगा.
कुछ देर दबाने के बाद आंटी थोड़ा आराम करने लगीं.

उसने अपनी आँखें बंद कर लीं और अपना सिर सोफे के एक तरफ रख दिया और अपने पैरों को क्रॉस करने लगी।

इधर मैं भी मजा लेते हुए फातिमा आंटी के मुलायम पैरों को दबाने लगा. उसी वक्त मेरे लंड महाराजा ने भी एक्टिंग शुरू की और खड़े हो गए.

शायद मेरा लंड आंटी के पैरों में चुभने लगा था क्योंकि आंटी अपने पैरों को थोड़ा इधर उधर करके एडजस्ट करने लगी थी.

पहले तो मैं अपने पैरों को आंटी के घुटनों तक दबा रहा था, फिर धीरे-धीरे मैं अपना हाथ फातिमा आंटी के घुटनों के ऊपर ले जाने लगा। (XXX आंटी चुदाई)

उधर आंटी मजे से अपनी आंखें बंद करके लेटी हुई थी.

मेरी सांसें भारी होने लगीं. मेरे सामने फातिमा आंटी घुटनों तक साड़ी उठा कर आधी नंगी लेटी हुई थीं और उनके दोनों प्यारे-प्यारे बूब्स मुझे आकर उन्हें चूसने का निमंत्रण दे रहे थे।

मैंने सोचा कि हिम्मत जुटाकर थोड़ा आगे बढ़ना चाहिए.

दोस्तो, कैसे मैंने आंटी की चूत में आग भड़काई और उसकी चूत को चोदने के लिए तैयार किया। ये सब मैं आपको देसी आंटी सेक्स स्टोरी के अगले भाग में लिखूंगा. आपको यह XXX आंटी चुदाई कहानी कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएं!

कहानी का अगला भाग: XXX आंटी चुदाई स्टोरी

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds