पापा के दोस्त की बेटी की हार्डकोर चुदाई – वर्जिन गर्ल सेक्स

पापा के दोस्त की बेटी की हार्डकोर चुदाई – वर्जिन गर्ल सेक्स

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “पापा के दोस्त की बेटी की हार्डकोर चुदाई – वर्जिन गर्ल सेक्स”। मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

वर्जिन गर्ल सेक्स स्टोरी में मैंने एक कुंवारी लड़की के साथ पहली बार चूत का मजा लिया. वह मेरे पापा के दोस्त की बेटी थी. हम दोनों दोस्त भी बन गये. दोनों की जवानी खिल रही थी.

मेरा नाम कपिल है. मैं 25 साल का हूं, लेकिन मै 25 का नहीं लगता. मैं अपनी उम्र से करीब 2-4 साल छोटा दिखता हूं.
मैं दिल्ली में Subhash Nagar रहता हूँ, मेरा शरीर भी ठीक है। मैं जिम जाता हूं इसलिए मेरी बॉडी बहुत फिट है.

हाइट भी ठीक ठाक है और लंड का साइज़ भी बहुत प्यारा है. यह लगभग 7 इंच का है. चूत और दूध देख कर थोड़ा फनफनाने लग जाता है.

मैंने खुद कभी भी अपने लिंग का ठीक से नाप नहीं लिया है. मैंने इसे दो-चार बार अपने हाथों से नापा, तो अंदाज़ा हुआ कि यह बहुत बड़ा है।

यह वर्जिन गर्ल सेक्स स्टोरी तब की है जब मैं कॉलेज में था और मैंने पहली बार चूत चोदी थी.

हुआ ये कि मैं अपने पापा के दोस्त के घर गया था और वहां उनके दोस्त की बेटी पूनम भी थी.
काफी समय से मेरी उससे मुलाकात नहीं हुई थी तो मैं उससे मिला.
हमने खूब बातें कीं.

उस समय वह बहुत अच्छी लड़की नहीं थी लेकिन अच्छी थी।
उसके कसे हुए स्तन, कसी हुई गांड… न ज्यादा बड़ी, न ज्यादा छोटी।

कुल मिलाकर मुझे इसमें कोई खास दिलचस्पी नहीं थी.

उन दिनों पूनम नौकरी की तलाश में थी तो उसने मुझे अपनी जरूरत बताई.
मैंने कहा मुझे अपना नंबर दो मैं तुम्हें बता दूंगा.

उसने कुछ सोचा और मुझे नंबर दिया और मैंने पूनम से बात ख़त्म की और घर आ गया.

कुछ दिन बाद मैं कॉलेज जा रहा था तो मैंने उसे फोन किया और कहा- नौकरी मिल गयी है, इंटरव्यू दे दो।
इस पर उसने बताया कि उसे नौकरी मिल गयी है. (वर्जिन गर्ल सेक्स)

यह सुनकर मैंने कहा- ठीक है.

मैंने उसका हालचाल पूछा और फोन रख दिया.

अगले दिन उसका फ़ोन आया और मैंने पूछा- क्या हुआ?
वो बोली- बस ऐसे ही मुझे बात करने का मन हुआ.. तो मैंने तुम्हें फोन कर लिया।
मैंने कहा- ठीक है, ठीक है.

हमने कुछ देर बात की, फिर मैंने फोन रख दिया.

अब इसी तरह रोज उसके कॉल आने लगे और हमारी बातचीत बढ़ने लगी.

मुझे भी उससे बात करने में मजा आने लगा और हम घंटों बातें करने लगे.

एक दिन मैं घर पर बैठा पोर्न देख रहा था तभी उसका फोन आया.

उसने पूछा- क्या कर रहे हो?
मैंने कहा- मैं पोर्न देख रहा हूं.

वो बोली- बस देखते रहो, कभी कुछ करना मत!
मैंने कहा- तुम तो ऐसे कह रही हो जैसे कई बार कर चुकी हो!

वो बोली- मैंने भी कभी नहीं किया है, पर क्या करूँ?
मैंने पूछा- तुम्हारा मन नहीं करता क्या?

वो कहने लगी- करता तो है, लेकिन मैं क्या कर सकती हूँ?
मैंने कहा- किसी को तो पटाओ और उसके साथ मजा करो.

वो कहने लगी- नहीं यार, ऐसे तो मैं किसी के साथ कुछ भी नहीं कर लूंगी! लड़का भी पसंद आना चाहिए.
मैंने कहा- ये भी ठीक है. अब जल्दी से फोन काट दो और मुझे पोर्न देखने दो, वो एक बहुत हॉट लड़की वाली मूवी है.
इतना कह कर मैंने फ़ोन काट दिया. (वर्जिन गर्ल सेक्स)

अगले दिन जब उसका कॉल आया तो मैं फिर वही पोर्न देख रहा था.
छुट्टी का दिन था और मैं, एक कॉलेज वाला लड़का… फ्री था, तो क्या करूँ?

उसने फिर पूछा- क्या कर रहे हो?
मैंने कहा- मैं फिर वही कर रहा हूं.
वो बोली- फिर वही… क्या मतलब?

मैंने कहा- जो मैं कल कर रहा था, वही आज भी कर रहा हूँ. हॉट लड़कियों की पोर्न देखना.
वो कहने लगी- ये तो हद हो गई यार,  तुम कितने ठरकी हो?

मैंने कहा- हाँ, मैं हूँ, तो तुम्हें क्या?
इस पर वो बोलीं- क्या तुमने कभी किसी लड़की को छुआ है.. या ऐसे ही?

मैंने कहा- नहीं यार, मैंने आज तक कभी ऐसा नहीं किया.
वह बोली, क्या हाथ से ही काम चलायेंगे?

इस पर मैंने गुस्से में कहा- अगर तुम्हें इतनी चिंता हो रही है तो तुम मेरी गर्लफ्रेंड बन जाओ!
वो कुछ नहीं बोली और फ़ोन काट दिया. (वर्जिन गर्ल सेक्स)

फिर शाम को फोन आया तो वो पूछने लगी- अभी नहीं देख रहे हो ना?
मैंने कहा- नहीं, मैं अभी नहीं देख रहा हूं.
वह हंसने लगी।

फिर मैंने कहा- क्या तुमने कभी किसी को किस किया है?
वो बोली- हां 

तो मैंने कहा- मुझे सिखाओगे?
वो बोली- हां, मैं तुम्हें सिखा दूंगी.
मैंने कहा- ठीक है, मैं तुमसे मिलूंगा.

कुछ दिनों के बाद मेरे माता-पिता दिल्ली से बाहर घूमने गये।
वे लगभग 7 या 8 दिनों के लिए गये।

मैंने Poonam को फोन किया और उसे मेरे घर आने के लिए कहा।
वो बोली- कुछ मेहमाननवाजी करोगे या यों ही बुला रहे हो?

मैंने कहा- पहले आओ.. हम साथ में बीयर पियेंगे।

वो बोली- ठीक है. मैं कल आउंगी। तुम मुझे मेट्रो से लेने आ जाना.
मैंने कहा ठीक है.

और अगले दिन उसे अपने घर ले आया.
आते समय मैं 3 बोतल बीयर भी ले आया।

घर आकर हम दोनों बियर पीने लगे.
एक बोतल पीने के बाद वो इधर उधर घूमने लगी.
मैं उसे रोकने लगा.

उस वक्त मैंने पहली बार उसकी कमर पकड़ी, मुझे थोड़ा अजीब लगा लेकिन अच्छा लगा.

मैंने उसे पकड़ कर बिस्तर पर बैठा दिया.

बैठते ही वो बिस्तर पर लेट गई और मुझसे बोलने लगी- तू तो चूतिया है, तुझे कुछ नहीं होगा… ये सब तेरे बस की बात नहीं है… बस लंड पकड़ कर हिलाते रह!

धीरे-धीरे मुझे भी उसकी बातों पर गुस्सा आने लगा. (वर्जिन गर्ल सेक्स)

जब वह ‘उंड बंड’ कहती रही तो मैं अचानक उसके ऊपर चढ़ गया और उसके होंठों पर एक लंबा चुम्बन दे दिया।

उसने भी मेरा पूरा साथ दिया.
मैं एक हाथ से उसके Big Boobs दबाने लगा.

चूंकि हम दोनों इस सेक्स के खेल में नये थे इसलिए कुछ भी ठीक से नहीं हो पा रहा था.

कुछ देर में मैंने उसके कपड़े उतार कर उसे नंगी कर दिया और उसके ऊपर चढ़ गया.

मैं पूनम के स्तनों को चूसने लगा और उसकी चूत में उंगली करने लगा.
वो जोर जोर से आवाजें निकालने लगी.

मैंने उसके स्तनों को बहुत जोर से दबाया और वह दर्द से चिल्लाने लगी.

कुछ पल बाद मैंने जल्दी से अपने कपड़े उतारे और अपना खड़ा लंड निकाल कर उसके हाथ में रख दिया.

लंड देख कर उसकी गांड फट गयी.
वो कहने लगी- ये तो बहुत बड़ा है.. अन्दर कैसे जाएगा?
मैंने कहा- सब चला जायेगा. आप बस देखते रहिये.

मैंने उसे सीधा लिटाया, उसके ऊपर आ गया और अपना लिंग अन्दर डालने लगा।
मैंने बहुत कोशिश की लेकिन लंड अन्दर नहीं गया.

फिर उसने अपने हाथ से लंड को पकड़ा और अपनी Tight Chut के मुँह पर सेट किया.

वो अभी मेरे लंड को अपनी चूत पर रगड़ ही रही थी कि मैंने अचानक उसे एक जोरदार धक्का दे दिया.
मेरा मोटा लंड थोड़ा अन्दर चला गया.

इससे वह तड़पने लगी.
लेकिन मैंने उसे पकड़ रखा था इसलिए वो लंड बाहर नहीं निकाल पाई.

कुछ देर बाद जब उसे आराम महसूस हुआ तो मैंने एक और धक्का लगा दिया.

लेकिन मेरा लंड कहीं फंसा हुआ था. (वर्जिन गर्ल सेक्स)
वह और अंदर नहीं जा रहा था.

मैंने अपना लंड निकाला और उसे चूमना शुरू कर दिया.
वह राहत की सांस लेने लगी.

हालाँकि, उसने मेरी तरफ देखा और बोली- क्या हुआ.. क्या तुम्हारा वीर्यपात हो गया? तुमने इसे क्यों निकाला?
मैं कुछ नहीं बोला और रसोई से एक कटोरी मूंगफली का तेल ले आया.

मैंने अपनी उंगलियाँ तेल में डुबोईं और उसकी चूत में अपनी उंगलियाँ डालीं और उन्हें अंदर तक डाल दिया।
वो भी मस्ती में अपनी गांड उठा रही थी.

फिर मैंने अपने लिंग पर भी तेल लगाया और वापस सेक्स पोजीशन में आकर लंड को चूत के मुँह पर रख दिया.

इस बार मेरे लंड ने खुद ही रास्ता ढूंढ लिया था.

जैसे ही वो चूत की दरार में बसा, मैंने एक बहुत ही जोरदार धक्का लगा दिया.

मेरा पूरा लंड चुत को फाड़ता हुआ अन्दर चला गया.
वह बिस्तर के ऊपर कूद पड़ी.

मैंने उसके कंधे पकड़े और अपना मुँह उस पर रख दिया और वो बस ‘ह्म्म्म्म…’ करती रही।

मैंने उसके कंधों को कसकर पकड़ लिया और अपना लिंग बाहर निकाला और वापस पूरा अंदर डाल दिया।
वह दर्द से छटपटाने लगी और रोने लगी. (वर्जिन गर्ल सेक्स)

मैं अपना लिंग अन्दर धकेल कर रुक गया.

फिर जब उसका रोना कम हुआ और उसका विरोध कम हुआ तो मैंने धक्के लगाना शुरू कर दिया.
धीरे-धीरे उसे भी Chut Chudai का मजा आने लगा और वो आराम से चुदवाने लगी.

मैंने अचानक अपनी स्पीड बहुत बढ़ा दी.
मैंने पांच-दस जोरदार धक्के लगाए तो वो ‘आआह… आआह… उहह…’ चिल्लाने लगी।

मैंने उसका मुँह पकड़ लिया और कुछ देर तक उसे बहुत बुरी तरह से चोदा।
वह फिर रोने लगी लेकिन इस बार उसने रुकने के लिए नहीं कहा.

कुछ देर बाद मैंने उसे घोड़ी बना दिया.
मैं पीछे से उसके ऊपर चढ़ गया और अपना लंड डाल कर उसे चोदने लगा.

मैंने इसका भरपूर आनंद लिया.
मैंने उसकी कमर पकड़ ली और तेज शॉट लगाने लगा.

हर झटके के साथ उसे भी और मजा आने लगा.
मैंने एक हाथ से उसके मम्मे पकड़ लिये और दूसरे हाथ से उसके बाल खींच कर उसे चोदने लगा।

उसे चोदते समय मैंने उसके कंधों पर काट लिया.
वो कराहते हुए गाली देने लगी- आह काटो मत हरामी … बस चोद डालो.

फिर उसको सीधा लिटाया और उसकी टांगें अपने कंधों पर रखीं और एक ही झटके में पूरा लंड जड़ तक अन्दर डाल दिया.

‘आह्म्म्म्म…’ करके उसकी सांसें रुक गईं.
मैंने बहुत तेज धक्के लगाने शुरू कर दिये.

कुछ देर के लिए उनकी सांसें थम गईं और आंसू निकलते रहे.
न वह रो सकती थी, न चिल्ला सकती थी.

फिर जब उसकी सांसें काबू में आईं तो चिल्लाने लगी- आह्ह… आह्ह… मम्मी… मम्मी… थोड़ा धीरे धीरे चोद मुझे हरामी!
मैंने उसकी टाँगें नीचे कीं और उसे चोदना शुरू कर दिया।

अब वो बड़े मजे से ‘आह… ओह… ओह… और चोदो और चोदो…’ कहते हुए चुदवाने लगी।
मैंने उसकी गर्दन दबाई और उसे खूब चोदा. (वर्जिन गर्ल सेक्स)

मेरे हर झटके के साथ वो खूबसूरत चीखें निकाल रही थी.
मैंने उसकी गर्दन को काटते हुए उसे चोदा और उसके स्तनों को काटते हुए उसे चोदा।

मैंने उसे बहुत देर तक ठोका और बहुत बुरी तरह से चोदा.
वह भी खूब मजे से चुदवायी।

आख़िर में चोदते-चोदते वो और मैं एक साथ स्खलित हो गये।

मैं उसकी चूत में ही स्खलित हो गया था.
चुदाई के बाद मैंने घड़ी की तरफ देखा तो पता चला कि शाम हो चुकी थी.

फिर मैंने उसे दर्द की गोलियाँ दीं और घर छोड़ दिया।

बाद में मैंने उसकी Moti Gand भी चोदी की और उसने मेरा लंड भी चूसा।

अगर मुझे वर्जिन गर्ल सेक्स स्टोरी पर आपके अच्छे कमेंट्स मिले तो मैं वो सब भी लिखूंगा.
आप मुझे मेल कर सकते हैं.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds