भाभी को लंड दिखाकर चूत का मजा लिया. | Bhabhi Ki Chut Ka Maja

भाभी को लंड दिखाकर चूत का मजा लिया. | Bhabhi Ki Chut Ka Maja

Bhabhi Ki Chut Ka Maja मैंने अपने ही घर में लिया था! भाभी कुछ दिनों के लिए मेरे घर रहने आ गईं. मैंने उसे छेड़ा तो उसने भी मुझे छेड़ा. मैं समझ गया कि माल गरम है.

आज की रितु जी की कहानी, अंशुल की जुबानी धन्यवाद, रितु जी आपने मुझे मेरी कहानी रखने का मौका दिया। 

हैलो दोस्तो, मेरा नाम अंशुल है. मैं 30 साल का एक मजबूत श्वेत व्यक्ति हूं।

मेरी शादी दो साल पहले दीक्षा नाम की लड़की से हुई थी.
दीक्षा बेहद खूबसूरत, विनम्र और सरल स्वभाव की लड़की है।
वह एक कामकाजी महिला हैं.

Bhabhi Ki Mast Chudai Ka Maja ये मुझे मेरी बीवी की भाभी ने दिया था.

मुझे स्वयं के बारे में आप थोड़ा कहने दीजिए।
मैं सुंदर हूं, स्मार्ट हूं और मेरे बाल घुंघराले हैं।

मैं अपने कॉलेज के दिनों में सेक्स का खूब आनंद लेता था.
मैं लड़कियों से हंसकर बात करता था और मजे करता था।

चूँकि मैं पढ़ाई में बहुत अच्छा था और खेलकूद में भी बहुत अच्छा था, इसलिए हमारे कॉलेज की लड़कियाँ मुझ पर मरती थीं और मेरे पीछे-पीछे घूमती थीं।
मैंने भी मौके का सोनिया उठाया.

धीरे-धीरे मैंने लड़कियों को प्रभावित करना शुरू कर दिया; उसने उसे अपनी मोटरसाइकिल पर बैठाया और चलाने लगा।
फिर धीरे धीरे अपना लंड उसके सामने पेश करने लगा.
मुझे लड़कियों को अपना लिंग देने में मजा आता था इसलिए मैं किसी बहाने से उन्हें सिनेमा ले जाता था और पीछे की सीट पर बैठ कर लड़कियों को अपना लिंग देता था और उनके स्तनों की मालिश करता था।

एक बार फ़रीदा नाम की एक लड़की अपने पैसों से मुझे सिनेमा दिखाने ले गयी।
हम दोनों पीछे की सीट पर बैठ गये.

फिल्म फ्लॉप थी इसलिए भीड़ नहीं थी.
हॉल में अंधेरा होते ही उसने मेरा लंड पकड़ लिया.

वो मेरे लंड को प्यार से हिलाती रही, सहलाती रही और मेरे कान में गंदी गंदी बातें कहती रही.
फिर वह मुझे बाहर लेडीज टॉयलेट में ले गई और अपने स्तन खुले करके कमोड पर बैठ गई।

उसने मुझे अपने सामने खड़ा किया, मेरी पैंट खोली और मेरा लंड बाहर निकाला.
फिर वो मेरे लंड को प्यार से चाटने और चूसने लगी.

मुझे अपना लंड चुसवाने और चटवाने में मजा आने लगा.

फिर उसने लिंग को मुट्ठी में ले लिया और मुठ मारने लगी.
कुछ देर बाद लंड ने वीर्य उगल दिया जिसे वह चाट गयी.

ये देख कर मुझे उससे प्यार हो गया.
मैंने उसे अपने सीने से लगा लिया.

हमें मूवी नहीं देखनी थी तो हम दोनों वापस आ गये.

ऐसा मैंने कई लड़कियों के साथ किया और सभी को लंड देकर मजा लिया.

मुझे अपनी शादी से पहले नौकरी मिल गई थी.
मैं बहुत खुश हो गया.

लेकिन शादी के बाद भी मेरा लड़कियों को चोदने का सिलसिला बंद नहीं हुआ.
मैं अब भी छुप छुप कर लड़कियों को अपना लौड़ा दे देता हूँ।

एक दिन अचानक मेरी सगी भाभी तान्या मेरे घर आ गयी.
उसे देखकर मुझे आश्चर्य भी हुआ और ख़ुशी भी.

मुझे उसे देखे हुए दो साल हो गए थे.
मैं अपनी शादी के बाद आज उसे पहली बार देख रहा था।

वह 20 साल की थी.

उन्होंने साड़ी और डीप नेक स्लीवलेस ब्लाउज पहना हुआ था. ब्लाउज के अन्दर से उसकी छोटी सी ब्रा का घेरा भी साफ़ दिख रहा था.

उनके बालों का आकार साफ नजर आ रहा था.
बहनचोद बाहर जाने के लिए बहुत बेताब हो रहा था.

यह देखते देर न लगी कि उसकी पत्नी मेरी पत्नी की सहेलियों से बड़ी है।

मुझे अभी भी इन सबके बीच अपना परिदृश्य डालने का मन कर रहा था।

उसकी खुली बाहें बहुत सेक्सी लग रही थीं और उसकी स्कूटर की गोलाई तो कमाल की थी.

उसकी बड़ी गांड देख कर, पीछे से उसकी नंगी पीठ देख कर, उसकी मोटी जाँघों का आकार देख कर मैं अपने आपे से बाहर हो रहा था।
ऐसा लग रहा था कि साला ढांचा बनाकर ही निकलेगा.

मैं उसकी Pink Chut और गांड की कल्पना में खोया हुआ था.
उसका गोरा रंग मुझे अपनी ओर खींच रहा था.
उसका बड़ा, सफ़ेद, गोल चेहरा और गुलाबी मूंछें मुझे मार रही थीं।

जब जीजाजी ने बड़े प्यार से मुझसे यह बात कही तो मेरा मन हुआ कि उन्हें अपनी गोद में ले लूं.

मैं तो बस अपनी ननद तान्या के सामने घूमने लगी, अपनी मनमर्जी करने लगी, बातें करने लगी।

दूसरे, मेरी पत्नी ने अपनी भाभी से दोबारा मिलने के लिए 3 दिन की छुट्टी ले ली।
मुझे भी 3 दिन की छुट्टी लेनी पड़ी.

हम तीनों खूब घूमे।
इन तीन दिनों में मैंने उसे खुश करने के लिए बहुत कुछ किया।

दूसरे दिन से ही मैंने भाभी के साथ छोटी-मोटी जगह बनानी शुरू कर दी।
जब मेरी पत्नी बाथरूम या शौचालय में या बाहर रसोई में होती है, तो मैं कभी उसका हाथ पकड़ता हूं, कभी उसे चूमता हूं और कभी उसके भगशेफ को दबाता हूं।

वह भी जवाब देती है कि कभी मेरे कंधे पर मारती है, कभी कंधे पर हाथ लगाकर मारती है, कभी दांतों पर हाथ रखकर मारती है, तो कभी मुंह बनाकर जीभ निकालकर मारती है.

जैसे मैं उस पर डोरे डाल रहा था, वैसे ही वह भी मुझ पर डोरे डालने लगी।

लेकिन 3 दिन में हम दोनों को कभी अकेले रहने का मौका नहीं मिला.

एक दिन जब मैं एक बहुत पवित्र स्थान पर लैपटॉप लेकर शयनकक्ष में जा रहा था तो साकी बरामदे में प्लाट पर सब्जी काट रही थी।
मेरी पत्नी रसोई के अंदर नाश्ता बना रही थी।

मेरा लैंडस्केप बहन चोद खड़ा था।
मुझे एकरूपता बताओ.

मैं साक्षात्कारकर्ता के सामने रसोई की ओर देखते हुए खड़ा हो गया और उसे अपने ब्लॉक के दोनों स्टूडियो से अपना नग्न लैंडस्केप शो दिखाया और कहा- तान्या, इधर उधर भी देख लो!
उसने देखा तो बोली- हे भगवान… इतना बड़ा? इतनी मोटी?

फिर मैं बाथरूम में चला गया.

मेरी बीवी दूसरी रसोई से बोली- अरे तान्या, क्या बड़ा और क्या मोटा?
उसने लिखकर कहा- प्रभु, देखिये बकरे के फूल में कोई बड़ा या मोटा कीड़ा तो नहीं है।

ये देखकर मुझे बहुत ख़ुशी हुई.

आख़िरकार मैंने भाभी को अपना स्टूडियो दिखाया.
मुझे आश्चर्य हुआ कि यदि यह मेरे परिदृश्य में था तो यह इसके कट में भी था।

चौथे दिन मेरी पत्नी काम पर चली गयी और मैं भी काम पर चला गया.
लेकिन मैं एक घंटे बाद घर लौट आया.

जैसे ही भाभी ने दरवाज़ा खोला, मैंने दरवाज़ा बंद कर दिया और उन्हें अपनी बांहों में लेकर उनसे चिपक गया और उन्हें अपने बिस्तर पर ले आया.
वो बोली- अरे जीजू, क्या कर रहे हो? कोई देखेगा?
मैंने कहा- कोई नहीं देखेगा. यहाँ हम दोनों के अलावा कोई नहीं है. मैं कई दिनों से परेशान हूं. आज मौका है मेरी रानी!

वो बोली- अगर दीदी को पता चल गया तो?
मैंने कहा- उसे पता नहीं चलेगा. चिंता मत करो।

वो खुद को मुझसे छुड़ाने की कोशिश करती रही लेकिन मैं उसे छोड़ने के मूड में नहीं था.
मैंने उसे कसकर गले लगा लिया और उसे जोश से चूम रहा था।

वो बोली- ठीक है रुको, मुझे बाथरूम जाना है.
फिर मैंने उसे छोड़ दिया.

उसने एक ताला उठाया और बगल के छोटे दरवाजे से बाहर चली गई और मुख्य दरवाजे पर ताला लगा दिया और फिर वापस आ गई।
छोटा दरवाज़ा अंदर से बंद था.

उन्होंने कहा- अब जो भी आएगा ताला देखकर चला जाएगा. अगर दीदी आएगी तो मुझे बुला लेगी, तब तुम छत से कूद जाना और मैं तुम्हें बता दूंगी कि मैंने अपनी सुरक्षा के लिए ताला लगाया था.

मैंने उसे फिर से चूमा और कहा- हाय मेरी रानी, तुम सच में बहुत होशियार हो, बहुत समझदार हो और बहुत होशियार हो। अब मैं तुम्हें चोदे बिना नहीं जाऊंगा. आज तो मैं तुम्हें जी भर कर चोदूंगा मेरी रानी!
वो शरमाते हुए बोली- बहनचोद तू मुझे तभी चोद पाएगा जब मैं चोदूंगी. वरना तुम मुझे कभी नहीं चोद पाओगे.

मैंने कहा- तो फिर मुझसे ही चुदवा लो मेरी रानी. मैं तुम्हें खुश रखूंगा।
मैं उसके कपड़े खोलने लगा.

वो बोली- नहीं जीजू, मुझे नंगी मत करो, मुझे शर्म आ रही है.
मैंने कहा- अब तो तुम जवान हो गयी हो यार! शर्म और डर को छोड़ दो. मैं तुम्हारा जीजा हूँ कोई बाहर वाला नहीं. जब तेरी भाभी मेरे सामने नंगी हो जाती है तो तू भी मेरे सामने नंगी हो जाना मेरी रानी.

मैंने उसके मम्मे खोले तो मेरे लंड में करंट सा लग गया.
फिर मैंने उसका पेटीकोट खोल दिया और वो अपनी जांघों के बीच में अपनी चूत दबा कर बैठ गयी.

मैंने कहा- अरे यार, जरा अपनी मस्त चूत तो दिखाओ मेरी भाभी! आप अद्भुत रूप से सुंदर हैं. मैं तुम्हारी चूत देखने के लिए मरा जा रहा हूँ.

मैंने उसकी जाँघों को फैलाया और झुक कर उसकी चूत को कई बार चूमा।
उन्होंने गाना भी शुरू कर दिया.

वह भी उत्तेजित हो गया.
उसे भी जोश आ गया तो उसने मेरे कपड़े उतार दिए और मेरा नंगा खड़ा लंड पकड़ कर चूम लिया और बोली- हाय दईया, तेरी रंडी का लंड तो बहुत मोटा और तगड़ा है! उस दिन जब मैंने तेरा लंड देखा तो मुझे पहली नज़र में ही पसंद आ गया. मेरी चूत पूरी गीली हो गयी थी. तब से आपका लंड मेरी नज़रों में ही रह गया है जीजू! आपका लिंग कितना प्यारा और अद्भुत है!

मैंने कहा- आई लव यू मेरी प्यारी तान्या! ,
वो बोली- मैं आपसे बहुत प्यार करती हूँ जीजू और आपका लंड भी मुझे बहुत पसंद है!

फिर हम दोनों नंगे ही बिस्तर पर गये और एक दूसरे के सामने 69 की पोजीशन में लेट गये.
मैं उसकी Tight Chut चाटने लगा और वो मेरा लौड़ा चाटने लगी!

मैं चूत के साथ-साथ उसकी खूबसूरत जाँघों को भी चाटने लगा।
वह उसकी जाँघों को नंगे दाँतों से प्यार से काटने भी लगा।
वह उसकी Moti Gand को भी चाटने लगा और उसके नितंबों पर प्यार से थपकी देकर मजा लेने लगा.
फिर मैंने उसकी दोनों चुचियों को मसलना शुरू कर दिया.

वो भी मेरे पूरे नंगे बदन पर, मेरी जाँघों पर, मेरे नितंबों पर फिरने लगी और फिर मेरे नितंबों को प्यार से चूमने और चाटने लगी।
उसने मेरे लंड पर तमाचा मारा और बोली- तू बहुत प्यारी रांड है यार! तुम कितने मोटे हो… कितने लम्बे हो! तुम मेरी जान ले लोगे. मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूँ.

मैंने कहा- मैं भी गवाह रहा हूँ!
वह बोली – अरे जीजा जी, मैं आपसे नहीं बल्कि आपके लण्ड से बात कर रही हूँ। मुझे लंड से बात करना बहुत पसंद है. मैं जब भी किसी का लन्ड पकड़ती हूँ तो लन्ड से बात जरूर करती हूँ। मुझे अपने लिंग से बताना पसंद है.
मैंने पूछा- तुमने अब तक कितने लंड पकड़े हैं तान्या?
वह बोली- जीजाजी, मैंने कई लंड पकड़े हैं लेकिन किसी मादरचोद का लंड तेरे जितना दमदार नहीं हुआ। मुझे तो तेरे लंड से प्यार हो गया है जीजू.

तब तक मैं बहुत उत्साहित हो चुका था.
मैं उसे खींच कर बिस्तर के कोने पर ले गया और उसकी टाँगें फैला कर नीचे खड़ा हो गया।
मेरा लंड उसकी चूत के सामने आ गया.

मैंने गचागच अपना लंड अंदर धकेल दिया!
लंड सरसराता हुआ पूरा अन्दर घुस गया.

उसके मुँह से उफ़्फ़ निकल गया, वो भी मजे से चुदवाने लगी.

मैं समझ गया कि वो पहले ही चुद चुकी थी.
लेकिन मुझे उसे चोदने में मजा आने लगा.

मैं स्पीड बढ़ाता गया और वो भी अपनी गांड हिला कर चुदवाने लगी.
उसके बड़े-बड़े स्तन मेरी आँखों के सामने नाचने लगे।

मैं उन स्तनों पर बार-बार प्यार से प्रहार करने लगा।
वह बोली – हाय मेरे जीजू, मेरे राजा, आज मुझे खूब अच्छे से चोदो, सच कहूँ तो मैं तुमसे चुदवाने ही आयी हूँ। मैं तेरे लौड़े का मज़ा लेने आयी हूँ। मैं तो तेरा लौड़ा अपनी चूत में डलवाने आयी हूँ। मैं तुमसे चुदवाने आयी हूँ मेरे हरामी जीजू! मुझे एक रंडी की तरह चोदो, मुझे हर दिन चोदो, मुझे एक चुदासी रंडी बना दो। मैं बहुत शरारती लड़की हूं.

मैं तो हर दिन लंड लेती हूँ. मैं तो हर दिन Bur Ki Chudai करवाती हूँ. फाड़ दो मेरी चूत… फाड़ दो मेरी चूत! वाह, मैं महान हूँ! यह अच्छा लग रहा है। मैं वहाँ हूँ, चोदो, ओह माय… क्या लंड है, क्या मस्त चुदाई है। वाह, मजा आ गया. और मुझे दिन रात चोदो. मुझे खुल कर चोदो…तेरी भाभी का हरामी जीजा. मुझे चोदो. बहन की चूत। तुम मेरे आदमी हो दोस्त. मुझे अच्छे तरीके से इंडो!

तान्या सच में चोदने में बहुत अच्छी थी।
यह पहली बार था जब मैंने अपनी भाभी के साथ सेक्स किया था, इसलिए न तो वह और न ही मैं ज्यादा देर तक टिक सके।
वो भी थक गयी और मैं भी.

फिर वो मेरे झड़ते हुए लंड को प्यार से चाटने लगी.

फिर मैं नहा कर तुरंत अपने ऑफिस चला गया.

शाम को मैं अपने ऑफिस से और मेरी पत्नी अपने ऑफिस से वापस आये.
हम ऐसे मिले जैसे कुछ हुआ ही न हो.

मेरे आते ही मेरी पत्नी ने मुझसे कहा- अरे सुनो, आज भाभी का फोन आया था. कल उनके बेटे का मुंडन संस्कार है. हम सभी को सुबह-सुबह वहां जाना होता है. कुछ और लोग भी हैं जो हमारे साथ जायेंगे.
मैंने कहा- ठीक है, मैं कल छुट्टी ले लूँगा.

मेरे भाई का घर यहां से 12 किलोमीटर दूर है.

सुबह-सुबह हम सब तैयार होकर कार में बैठ गये.

तब तक कुछ और लोग आ गये और मेरी पत्नी बोली- तान्या, तुम अपने जीजाजी के साथ मोटरसाइकिल पर आओ. अब गाड़ी में जगह नहीं है.

तान्या बोली- ठीक है दीदी, मैं जीजाजी के साथ आऊंगी, आप सब जाओ.

उन लोगों के जाने के बाद तान्या ने मुझे गले लगा लिया और बड़े सेक्सी अंदाज में बोली- अब तो मैं तुमसे जरूर चुदूंगी जीजू! मैं आपके लंड का मजा लेकर ही जाऊंगी, जीजू!
मैंने भी हंस कर कहा- हां हां मेरी रानी, मैं भी तुम्हें चोदूंगा. मैं तुम्हारी चूत का मजा लेकर ही जाऊंगा.

फिर क्या…उसने अपने कपड़े उतारे और मैंने अपने!
वह मेरे सामने नंगी हो गयी और मैं उसके सामने नंगा हो गया।

भाभी मेरा लंड चूसने लगीं और मैं उनके नंगे बदन से खेलने लगा.

मैंने कहा- तान्या, आज मैं तुम्हें पीछे से चोदूंगा. मैं तुम्हें डॉगी स्टाइल में चोदूंगा.
वो बोली- हां हां, बिल्कुल चोदो. किसी भी स्टाइल में चोदो, लेकिन चोदो और ज़ोर से चोदो।

मैंने उसे खूब चोदा और पहले उसकी चूत में उंगली करके उसे बहुत गर्म कर दिया।
वह भी इतनी हॉट जवान औरत है कि उसकी चूत हमेशा गीली और हमेशा गर्म रहती है।

जैसे ही मैंने अपना लिंग डाला तो वह और अंदर तक घुसता चला गया।

उसने भी अपने दोनों हाथ नीचे ज़मीन पर रख दिये और अपनी गांड को आगे-पीछे करते हुए बड़े मजे से चुदवाने लगी.

तान्या चोदने के लिए एक बेहतरीन लड़की है।
इतनी अच्छी तरह तो मेरी बीवी भी नहीं चुद पाती.

वैसे भी भाभी की चूत मुझे मेरी बीवी की चूत से कहीं ज्यादा अच्छी और प्यारी लग रही थी!

उसके वापस घर जाने से पहले मैं उससे अपने घर के पास Aerocity के होटलमें ले गया और वहां ले जाकर उसको खूब चोदा अपने लंड की प्यास को मैंने उसकी चुत मैं लंड पेल कर बुझाया।

अब उसकी शादी हो चुकी है लेकिन जब भी वो मुझसे मिलती है तो मुझसे जरूर चुदवाती है।
उसके ससुराल वाले स्थानीय ही हैं.
जब भी उसका पति बाहर जाता है तो वो मुझे बुला लेती है और मैं भी उस Xxx Bhabhi ki bur Chudai जी भर कर चोदता हूँ और मजे लेता हूँ।

प्रिय दोस्तों, आपको यह (Bhabhi Ki Chut Ka Maja) कैसा लगा?
मुझे अपने विचार बताएं।

Dehradun Call Girls

This will close in 0 seconds