ट्यूशन टीचर की बीवी की जंगली जवानी

ट्यूशन टीचर की बीवी की जंगली जवानी

हेलो फ्रेंड्स, मई आप की रितु पेश है एक और सेक्स स्टोरी के साथ, इस बार टीचर की बीवी की जंगली जवानी रफ सेक्स मेरे दोस्त के घर पर। ऐसे ही और Indian Sex Stories हिंदी और अंग्रेजी में पढ़ने के लिए wildfantasystory.com पर जाओ।

मैं उस वक्त इंजिनियरिंग के फर्स्ट ईयर में था और मेरे जो टुशन टीचर द मैथ्स के वो मारवाड़ी द। माई उनके घर पर तूने पढ़ने जाता था। हम Delhi में रहते हैं उनकी उमर करीब 29 साल की थी। वो अपनी बीवी के साथ रहते हैं। उनका एक लड़का था जोकी हॉस्टल में रहकर पढ़ा कर रहा था। किसी ने देखा नहीं था का प्रयोग करें। उनकी बीवी की उमर शायद 28-30 की होगी। सेक्सी स्तन अश्लील उसका नाम Azra Khan है।

लेकिन वो अपनी उमर से कफी छोटी दिखी थी। जब भी मैं उनके घर जाता था तो वो मेरा बहुत ख्याल रखती थी। मेरे दिल में भी उनके लिए बहुत इज्जत थी। लेकिन एक दिन मैंने उन्हे नहीं के बाद सिरफ पेटीकोट में देखा जो की उनकी चुन्चियां पर बंध हुआ था। उनके गोरे पेयर और पिंडालियां खुली थी.. कितने गोर और गदरे जोड़ी।

माई उनकी चुनचियां को देखता ही रह गया। मुझे देखते हैं देखा, थोड़ा मुस्कुराई और अंदर चली गई। मेरा मन अब पढाई में नहीं लग रहा था। मेरा लुंड कड़क होने लगा। किसी तरह मैं दबा रहा था का उपयोग करें। सर ने पंच क्या हुआ? बाथरूम जाना चाहते हो? मैंने डरते हुए या मैं अपनी बीवी से कहा इसे बाथरूम दिखलाना चाहता हूं।

वो टैब ले साड़ी पेहन चुकी थी, मारवाड़ी स्टाइल मी। याने पेटीकोट में लप्पेट कर बाकी आंचल था। उनकी चुन्चियां बड़े गले के ब्लाउज से ज्यादा से ज्यादा दिख रही थी। ये देख कर मेरा लुंड और कड़क हो गया। और मेरे 7.5 इंच के मोटे लुंड को समाधान मुश्किल हो गया।

माई बुक्स रखकर जैसे ही खड़ा हुआ, मेरे लुंड ने नाइट पायजामा में टेंट बना दिया और उसे ये देखा और बड़ी अदा से मुस्कान। मुझसे कहा जल्दी आओ इधर है बाथरूम। मैं अंदर गया लेकिन जल्दी में दरवाजा बंद नहीं किया। लुंड को बहार निकला तो मैं पेशाब करता हूं लुंड ठंडा नहीं हो रहा था, तो मैं मुठ मारने लगा..

2 मिनट में हाय उसे जोर की पिचकारी मारी.. जो सामने दीवाल पर गई। उसे अच्छे से धोया और लुंड को पंत के अंदर किया। जैसे ही मैं पिचे घुमा मैंने देखा दीवार के किनारे सर की पत्नी खादी है। इस्का मत उसे मुझे मुथ मरते हुए देखा था, क्योंकि वहा से मेरा लुंड पुरा दिख रहा था।

माई सर नीचा करके बहार निकला आया। तब उसे धीरे से कहा.. बहुत मोटा और लंबा है। ये कहकर वो जल्दी से चली गई। वैसा मुझे वो अच्छी लगती थी और वो भी मुझे पसंद करती थी। लेकिन उसके साथ सेक्स के लिए मैंने कभी भी सोचा नहीं था। मेरे सर मैथ्स मी एक्सपर्ट। और उनसे पढने के लिए बहुत लड़के तू लगवाना चाहते थे।

लेकिन उन्होन सिर्फ मुझे ही चुना क्युकी तू तो पसंद नहीं था। वह हमेशा गणित के प्रश्न हल करने और कुछ अन्य चीजें करने में व्यस्त रहता था। उनकी पत्नी को ये पसंद नहीं था। वो तो मुझे बहुत सेक्सी लगी थी। उन्हे अच्छी चुदाई की चाहत थी और वो किसी को धुंध रही थी। जबकी सर को लगता था की अब सेक्स की कोई जरूरत नहीं है।

ये बाते मुझे तब पता चली जब मैं उनकी पत्नी के संपर्क में आया और उनकी डायरी पढ़ी। मैंने ये डायरी उनके अलमारी से निकल के पढ़ी थी। अस डायरी मी मेर बेयर मी भी लिखा था। “मैं एक कमसिन लडका हूं और बहुत ही गरम लड़का हूं, जो भी लड़की मुझसे से चुदवेगी उसकी किस्मत खुल जाएगी।

इसे भी पढ़े – पहली चुदाई गर्लफ्रेंड के साथ नाइटआउट पे

जिस लड़की को मेरा लुंड मिलेगा वो बहुत ही नसीब वाली होगी। अगर मुझे मौका मिले तो माई है लड़कों से एक बार जरूर चुडवाउंगी और अपनी चूत की प्यास बुझाउंगी।” उसकी डायरी की ये लाइन ई मेरे दिमाग में घूम रही थी।वो मुझसे चुदवाना चाहती थी लेकिन अपने पति से दर्शती थी। और फिर हम दिन के बाद मेरी नजर भी बदल गई।

उसकी उफनती हुई जवान बदन को याद करके मैं अब रोज ही मुथ मरता था। मैंने भी सोचा इसे एक मौका दिया जाए, लेकिन कैसे? एक दिन मैंने उन्हे सेल फोन पर कॉल किया और कहा की आज मैं 4 बजे आउंगा। ये बात आप सर को बता दिजिये। मुझे मालुम था की सर 4 बजे लाइब्रेरी जेट है और रात के 10 बजे वापस आते हैं। मैने ये बात जनबुझकर उसका सेल फोन पर कहा था।

ये मेरी तरफ से इशारा था। क्यूकी इसके पहले मैंने उसका सेल पर कभी कोई मैसेज नहीं दिया था। और जब से उसे मेरा लुंड देख लिया था तब से मैंने उसकी आंखों में भी एक तड़प देखी थी। माई उनके घर ठिक 4.30 पर पहुंचा। उसे दरवाजा खोला। मैंने देखा आज उसे एक पारदर्शी साड़ी पहनी थी और खुले गले का ब्लाउज।

उस्का फिगर 34 26 36 है। उसकी चुन्चियां ब्लाउज फड़ कर बहार निकल रहा। ब्लाउज छोटा था। और लहंगा नाभि के बहुत आला बंध था.. जिससे आज उसका गोरा गोरा पेट और पाटली कमर साफ दिख रहे थे। उसका गोरा पेट और चिकनी कमर देख कर मेरा लुंड हरकत में आ गया। उसे मुझे बैठाने को कहा और पानी लेन और गई।

पानी देते हुए वो है तराह झुकी की उसकी मदमस्त चुननहिया मेरे सामने आ गई। उफ्फ वो घाटी। रस दार ट्यूशन टीचर चुन्चियां देख कर मेरे मन में पानी ए गया.. वो सोफ़े पर मेरे करीब ही किनरे पर बैठा गया। मैंने उन हिचकिचाते हुए पुंचा सर कहां है.. क्या आपने मेरे आने के नंगे में सर को बताया है?

हां वो भूल गई? उसे कहा मैंने सर को कुछ नहीं कहा। मैने पुंचा क्यू? उसे कहा आज वो मुझे पढ़ायेंगे। ये कहते हुए वो अपने रसिले होंतो को दांत से दबा रही थी और कोन में कट रही थी। मैंने तब कहा”आप मजा कर रही है”उसने कहा”नहीं मैं गंभीरता से कह रही हूं।

तब मैंने कहा “आप कौन सा यूनिट सिखेगी?” उसने कहा “मैं गंभीर हूं लेकिन तुम्हें गणित नहीं पढूंगा” ये बात उसे बड़े नटखट और मैं कहि। मैंने पूंछा “फिर क्या पढ़ाओगी?” वो चुप रही और मेरे करीब अगायी। और मेरा हाथ पकड़ा लिया। उसे कहा आज तुम मेरे महमान हो। आज मैं तुम्हारी परीक्षा लेने वाली हूं।

मैने कहा कैसी परीक्षा?. उसे कहा बुद्धू मत बनो मैं जनता हूं तुम मुझे पे फिदा हो। मुझे मालुम था की वो भी चुडवाने के लिए बेटाब हो गई है और तयार है। उसे मेरा हाथ पक्का और खादी हो गई और मुझे अपने बेडरूम में ले गई। फिर उसे मेरे गाल पर किस किया और पंत मेरे दिए शर्ट और… मुझे भी मजा आ रहा था..

उसका नारम हाथ मेरे बदन पर घूम रहा था। उसे मेरी बनियां भी निकल दी। मैंने अब उसका पल्लू आला गिरा दिया। उस्का बड़े बड़े रस भरी चुनचियां मेरे सामने थी। मैं थोड़ा नर्वस था लेकिन मुझे मजा भी आ रहा था। उसका नोकदार चुचियों को देख कर मेरा लुंड और कड़क होने लगा।

उसकी तानी हुई चुन्चियां किसी भी मर्द को गरम कर देने लायक थे। अब मैंने अपने से लगा लिया और उसे होने को अपने हों तो मैं कैद कर लिया और चुन लिया ब्लाउज पिच… उसके हाथ मेरी पीठ उसके पास और उसके लिए सिर्फ 2 इंच का होगा। मेरा हाथ उसकी पीठ पर घूम रहा था।

उसके गोल गोल चुतद मैंने दबाय। उसका मुं से सिसकारी निकल पड़ी..आआआह। .एसएसएसएस मैं उसे होने को बहुत जोर से चुस रहा था। फिर मैंने अपनी जीभ उसका मुह के अंदर दाल दी। वो चुसाने लगी। उसकी चुन्चियां मेरे साइन में दब गई थी। बहुत कस के लिपटी हुई थी वो। मैंने पिचे से उसका ब्लाउज के हुक खोल दिए।

वो बिस्तर पर बैठ गई। मेरे गले और चाटी को चुनने लगी। मैंने इस्तेमाल करें थोड़ी देर ऐसा करने दिया। लेकिन मैं भी गरम हो गया था, अब और सबरा नहीं हो रहा था। थी..मैंने उसका ब्रा के अंदर मेरी उनग्लियां दाल दी.. और उसकी चुन्नी में पका ली।

उसके बूब्स मेरे हाथो में थे, मैंने उसके होने को चुना शुरू किया। और उसका आला के होंट को कात लिया वो सिसक उठी..उम्म..आह। . माई उसका गले पर होंथ राखे और वहा किस किया फिर जीब से सहलया..उसकी आंख बंद हो गई।आह्ह्ह्ह ऊऊओहहू..

ऐसी आज़ निकलने लगी मैंने अब दो चुन्चियां के बीच में होते हैं राखे थोड़ा जीभ से छटा और फिर हल्के से दांत लगा दिए। .करके वो चिल्ला उठी.. मैं चुमते हुए आला जाने लगा। मैंने अब उसकी ब्रा निकल दी और निप्पल को अनग्लियों से छेदा… वो कदक हो गए थे। क्या मस्त चुन्चियां थी। ब्रा की जरूरत ही नहीं थी का प्रयोग करें। एकदम भरे हुए दूध के बार्टन।

मैने निप्पल मेरे मैं में लिया और चुभने लगा। उसे मेरा सर अपनी साइन में दबया और कहा..पूरा मु में लेलो। आह पुरा खालो। मैं समझ गया की अब भी मजा ले रही है और गरम हो गई है।

दुसरे तारफ की चुची को मैं सेहला रहा था और निप्पल को अनगली से मसाला रहा था। ये सिलसिला एक कर दो चुन्चियां के साथ कर रहा था। मैं हल्के से काट लेता तो वो चिल्ला उठाती थी…आह काटो मत… चुसो… जोर से… आह्ह… उसका मारवाड़ी बदन गोरे से लाल हो रहा था।

माई उसकी चुन्चियां के साथ पूरी बेदर्दी से पेश आ रहा था। देख कर मैंने बहुत बार मुठ मारी है का प्रयोग करें। इधर मेरा लुंड भी कड़क हो चुका था..और बहार आने को तड़प रहा था। मेन उपयोग इशारा किया। उसे मेरा अंडरवियर आला खिंचा और मेरा लुंड ऊंचाकर नाहर आ गया।

उसे कहा “मितुल” सच में तुम्हारी लुंड बहुत मस्त है.. मैंने उसदिन कहा था ना। इतना लंबा और मोटा लुंडमने नहीं देखा कभी..उसने मेरे लुंड को हाथ से पक्का कर सेहलाना शुरू किया फिर सुपड़े को किस किया, जीवन से छटा और फिर इस्तेमाल में मुझे ले कर होतो से चुन्नी लगी।

इसे भी पढ़े – एक वर्जिन लड़के साथ डोमिनेटिंग भाभी

आप लोगों को बता दूं की मैं एक मुस्लिम आदमी हूं और मैंने लिंग काट लिया है जिस से चुदाई करने में कुछ ज्यादा ही मजा आता है कोज ऑफ द शेप या हमारा लिंग … उसके चेहरे को देख कर ऐसा लगा जैसे किसी भुके को पाकवान की थाली मिल . वो बहुत आराम से चुनने लगी.. उसके चेहरे पर समाधान नज़र आ रहा था।

वो मेरे लुंड को चुस रही थी और मैं सत्वे आसमान में था.. आह्ह्ह्ह.. मैने उसे पसंद को चोदना शुरू किया। उसने अपने होते हैं गोल कर लिए और अंदर बहार जाते लुंड पर दबा रही थी। वो लुंड चुनाने में माहिर थी… और फिर मुझे लगा का मेरा लावा निकल जाएगा.. मैंने उसका सर पिचे हटाना चाहा..

उसे कहने से पुछा क्या है। मैंने कहा.. मेरा निकलने वाला है.. उसे कहने से कहा मेरे मुंह में निकलो.. और मेरे लुंड से बहुत सारा वीर्य उसके मैं में जा गिरा। उसे एक बूंद चाट लिया अब मैंने उसकी साड़ी पूरी निकल दी और ले खिंच दिया.. ओह उसे अंदर कुछ नहीं पहचान था..

मैंने इस्तेमाल ढकेल कर बिस्तर पर लिया और उसकी चूत को देखा..एकदम गुलाबी छू थी.. किसी 18 साल की लड़की जैसी.. और उसकी छू पर एक भी बाल नहीं था.. मैंने उसका लगाया आज ही साफ किया.. जोड़ी फेलये और चूत के दोनो होंठ फेलये.. जैसे वो गुलाब की पंखुड़ी हो.. छू का मुंह एकदम छोटा था..

मुझे थोड़ा शक हुआ, मैंने पूंछा सर क्या छोटे नहीं? उसे कहा.. मेरी चूत कुंवारी है.. मैं कुछ समझ नहीं पाया.. कुंवारी छूत और एक लड़का.. खैर मैं अभी तो खुश हो गया.. क्युकी चूत कुंवारी नहीं भी हो फिर भी एकदम टाइट चूत थे. वो मेरे थे. पडी थी। सांचे में ढाला बदन.. चुन्चियां आसमान देख रही थी..

और जोड़ी फेलये उसकी बैंड चूत मेरे सामने थी.. मैने छू के दाने को धुंधा और हल्के से रागदने लगा.. वो ईश..आह्ह.. उफ्फ.. मितुल.. मत तड़पा मुझे.. मैंने अपना चेहरा उसकी छू के पास आह्ह्ह उसे पेशाब और जूस की क्या मस्त खुशबू थी.. मैंने उसकी चूत पर जीभ फेरा और वो उचचल पड़ी..आईiii. . ऊह..उसकी चूत से बहुत पानी निकल रहा था..

और वो उसकी ग़ंद की तरफ़ बह रहा था.. मैंने उसकी ग़ंद के आला एक तकिया रखा और जोड़ी ऊपर उठा कर बीच में बैठा और छू के दरवाजे खोल कर जीभ और दाल दी.. और 2 मिनट में ही उसे जाने दिया पानी बहार निकला आया.. मेरा मुंह पूरा भर गया..

और वो जोर से चिल्लाई..राआअज्जज जज यू.. मेरा हो गया..आआआह. .बस अब मत चैट.. कहे हुए वो मुझे दूर ढकने लगी.. उसकी छूत हुए मेरे लुंड फिर से फंफना गया था.. मैंने उसे चूत से निकलने वाले शुद्ध जूस को चाट लिया.. ऐसा करते हुए मैंने उसे दिया को भी जीब से सहला रहा था.. जिससे वो फिर गरम हो गई..

वो कहने लगी..अब मत तड़पा..मैं बहुत तरसी हूं मेरी जवानी को अपना ले.. अब ये और दाल के फड़ दे मेरी चूत को.. अब मैं उठा..उसने कहा. तू तो एकदम विशेषज्ञ है.. मेरा तारिका बहुत पसंद आया का प्रयोग करें। अब मैं आला के तारफ गया और उसकी चिकनी मोती जांघो को चुम्ने और चाटने लगा। दोनो तराफ चाट रहा था..

मैं उपयोग आज जी भर के चोदने के मूड में था। मैने इस्तेमाल पेट के बाल लिता दिया फिर उसका चुतड और पीठ को भी जीब से छटा..उसका पिचे का भाग और भी सेक्सी था। ऊपर हुए गोरे मस्त चूतड़ और उसकी घाटी.. चिकनी गोरी पीठ.. उसकी पीठ चुमते हुए मैं सामने हाथ ला कर उसे चुनची और निप्पल मसाला रहा था।

उसकी चुतड चैटने और दबने में बहुत मजा आ रहा था। मैंने हल्के से कट लिया वो चिल्ला उठी..आआआह। . नहीं..III. माई उसके चुतड़ जोर जोर से दबये जार आहा था। मेरी जीभ दो चूतों के बीच की घाटी में सैर कर रही थी। चूतड इतने नरम और मुलायम द की उन्हे दबाने में अलग ही मजा आ रहा था..

घटी में हाथ फेरा उसकी गांद का छेद भी गुलाबी था। हमें सुरख में मैंने जीब की नोक घुमई, वो सिहर उठी, उसका मचाना बहुत ही मजेदार था। फिर मैंने पिचे से उसे पूरी हुई चूत को सहला और एक उंगली और डालने की कोषिश की.. चूट तो गिली थी लेकिन बहुत तंग थी।

मेरी उंगली के अंदर जाते ही वो थोड़ा चिल्लायी..आह्ह. . धीरे.. दर्द होता है.. मैंने कहा ये तो उनगली है और तुम मेरा 3 इंच मोटा और 7.5 इंच लंबा लुंड लेने के लिए तड़प रही हो.. उसे कहा.. मुझे नहीं मालुम, मेरी चूत में आग लगी है… चिंताएं रेंग रही है.. मैंने चूमा का उपयोग किया है।

मैं समझ गया लोहा गरम हो गया है। अब खेल ठोक देना है। मैने इस्तेमाल अब सिद्ध लिटाया और पेट और नाभी को जीब से छटा.. गिला कर दिया..मैंने फिर छू पर मैं लगा..अब मेरी जीब छू के और खेल रही थी। एकदम फुलने लगी को चुनें। वो भी अपनी कमर उचल रही थी.. मैं अभी और तड़पना चाहता था।

मैंने चूत को देखा नहीं और उसका जोड़ा से लेकर जंगो के संयुक्त तक उपयोग पुरा मेरी जीब से गिला कर दिया। इस बार मैं चूत में नहीं उसका चारो तारफ जीभ और हाथ से सहला रहा था। मैंने देखा बिस्तर की चादर उसकी गांद के आला पूरी गिली हो रही थी। अब वो पूरी गरम हो गई थी.. अपनी जोड़ी रागद रही थी..Hiiiii. .अब सहन नहीं हो रहा..

उसे हाथ बड़ा कर मेरे लुंड को हाथ में लिया वो भी फिर से शुद्ध जोश में आ गया था, इस बार वो और भी मोटा लग रहा था। उसे उठा कर मेरे लुंड को किस किया थोड़ा छटा..उसने कहा.. सच में मितुल उस दिन मैंने बाथरूम में जब तुम्हारी ये प्यारा लुंड देखा तब सोच लिया था की मेरी कुंवारी चूत की सील इसी लुंड से तुड़वाउंगी..

उस दिन के बुरे से मैं सिर्फ इसी लुंड को सपने में देखता हूं और मेरी चूत पानी निकल देता है। ऊपर रगडा तकी उसकी चूत के जूस से मेरे लुंड का सुपाड़ा चिकना हो जाए।

फ़िर यूज़ किस किया और लुंड को चूत के लाल छेड पर रखा और पुश किया.. उसकी छू का मुंह बहुत छोटा था और मेरा बहुत बहुत मोटा.. वो फिसाल गया.. मैं उठा और मैंने पास रखा तेल के दिब्बे से दूर से मेरे लुंड पर लगा और उसकी चूत के छेद में भी डाला। अब मैंने उसका जोड़ा को और चौड़ी किया.. और लुंड को छेद पर रख कर थोड़ी तक से ढकेला..

लुंड का सुपाड़ा और घुसा और वो चिलयी..मार गइइइइ.. हैइइइइ.. ऊह निकलो। इतना मोटा नहीं जाएगा… एक 28 साल की औरत और एक 22 साल का लड़का.. लुंड तो लोहे का रॉड हो गया था.. मैंने इस्तेमाल किया किस किया..तब वो बोली..

मैं कितना भी चिल्लौ तुम आज मेरी चूत फड़ दो.. मैंने उसका होना पर अपने होने रख तकी वो जोर से चिल्ला न खातिर.. मैं समझ गया था की वो सच में कुंवारी ही है.. अब मैंने अपनी कमर को और किया और मैं को तकत के साथ और ढकेला.. लुंड 2 इंच घुसा वो दर्द से बिलबिला उठी.. तड़पने लगी..

मैंने उसका मुंह नहीं छोटा.. लेकिन मैंने महसूस किया उसकी चूत के अंदर कुछ मेरे लुंड को और जाने से रोक रहा है.. शायद इतनी बड़ी उमर होने के करन छूत का परदा मोटा हो गया था. और पूरी तकत से झटका मारा.. चूत के परदे को काकड़ी की तरफ फड़ कर मेरा लुंड 5 इंच और हो गया..

और उसके चूत ने खून की उलटी कर दी..वो तड़प और फिर बेहोश जैसी हो गई.. मैं डर गया.. मैं चुन सकता हूं.. करीब 5 मि. ऐसे ही रहने के बुरे वो होश में आई.. आंखों में पानी और चेहरे पर दर्द.. थोड़ी देर में जब दर्द कम हुआ मैंने हलके.. मजा आने लगा का प्रयोग करें..

मैंने पूंछा अब दर्द कम हुआ? उसने कहा.. हां.. और अब मैंने लुंड को बहार खिंचा और करारा झटका देते हुए शुद्ध लुंड को जद ले उसे छू में पेल दिया वो फिर चिलयी..ऊह। .मार्च गेiiiiii। .लेकिन मेरे ढाके चालू .. और फिर 4-5 मिनट में उसे भी चूताड ऊंचेते हुए ढाके शुरू किए.. अब उसे चूत से पानी निकलने लगा था..

और लुंड को भी अंदर बाहर होने में सहुलियत हो रही थी। मैं अब जोर से चोदने लगा.. वो भी कह रही थी..और जोर से.. फड़ दो.. मुझे मां बना दो.. मैंने अब उसे पुंचा अगर तुम कुंवारी थी तो फिर वो लड़का किसका है जिसे तुमने हॉस्टल में रखा है..उसने कहा वो उसे बड़ी बहन का लड़का है.. जिसी एक दुर्घटना में मौत हो गई..

और उसका पति ने दुसरी शादी कर ली, इसलिये 1 साल के बच्चे को उसने भगवान ले लिया था। अब वो अपने बच्चे की मां बनाना चाहता है.. मितुल.. मेरे पेट में बच्चा दे दो..आह.. क्या मस्त मजबूर लुंड है..और फिर वो मुझसे चिपने लगी..आआह. मेरा निकलने वाला है.. मुझे कास के पक्का लिया और वो झड़ गई..

मुझे मेरे कांधे पर से कुछ गरम बेहता हुआ महसूस हुआ.. मैंने हाथ से देखा वो खून था.. दरसाल जब उसे सील टूटी तब उसे नाखुन से मेरे पीठ पर घाव बना दिया था.. और वही से खून निकला था था कर मुझे और जोश आ गया.. मैंने मेरे ढक्को की बाद बढ़ा दी। उसकी चूत को इस तरह की चुदाई उम्मेद नहीं थी.. और चूत एकदम लाल हो गई..

मैंने उसे कमर और चुतड़ को दो हाथो से पक्का और चूत में लुंड डाले हुए ही मैंने सिद्धा गया और इस्तेमाल अपने ऊपर खिच लिया.. अब मैंने उसे कहा.. अपनी गांद ऊपर आला करो। उसका है तारह ​​उचलने से उसे मस्त चुन्चियां मेरे मुंह के सामने ऊंचा राही थी। मैंने दो हाथो से चुन्चियां पकड़ी, मसाला और निप्पल को मैं ले कर चुनने लग…

वो लगार झड़ रही थी.. मेरी गोटिया भी गिली हो गई उसका चूत के पानी से.. थोड़ी देर में वो ठक कर मेरे साइन पर जाने दें. .. वहन उसकी चूत के आला तकिया लगा और मैं खुद आला खड़ा हो गया..

उस्का जोड़ी मेरे कंधे पर रखे और। इस बार मेरे ढकके बहुत ही तूफानी थे.. वो चिल्ला रही थी। . क्या मस्त लुंड है.. मेरी चूत की किस्मत खुल गई.. मारो.. और जोर से..ऊह.. माई गईiiiiii. . वो फिर झड़ गई.. अब मेरा भी झड़ने का समय हो गया था.. मैंने पूंछा.. मैं झड़ने वाला हूं.. कहां निकलू..

उसे कहा मेरी चूत में भर दो.. मुझे मां बना दो मितुलज्जज्जज्जज तुम्हारी मजबूरी लुंड से मुझे गंभीर कर दो। मैंने 5-6 जबर्दस्त ढकके मारे और लुंड को उसके बच्चे दानी के मुंह पर रख कर लुंड से फौवारा चला दिया.. क्या जबर्दस्त पिचकारी थी..

इसे भी पढ़े – दोस्त की छोटी बहन को चोदा अपने घर लेजाके

उसे आपने जोड़ी मेरे कमर पर जक्कड़ दिया और मुझसे चिपक गई.. मेरे लुंड की गरम पिचकारी से वो भी झड़ गई थी.. हम कुछ डर ऐसे ही मिले रहे। फिर मैं उठा और अपने लुंड को बहार खिंचा.. वो खून और दोनो के जूस से लठपथ हो रहा था..

और उसकी चूत..वो तो मुझे खोले सब माल बहार निकल रही थी..उसका आकार “ओ” जैसा हो गया था। मैंने कहा बाथरूम में चलते हैं.. उसे उठने की कोशिश की फिर आ नहीं करते हैं ..उसका पेयर काम रहे थे.. मैने सहारा देकर यूथ उथया.. बाथरूम में फ्रेश हुआ..उसकी नंगी जवानी को देख कर मेरा लुंड फिर तयार होने लगा..उस

हम बाथरूम से लौटेंगे और नांगे ही बिस्तर पर जाने देंगे.. मैने इस्तेमाल रात के 9 बजे तक और 2 बार छोटा.. अलग अलग पोज मी. एक बार तो उसके किचन टेबल पर बैठा के मेरे लुंड पर झूला झूला..उसका बाद से मैं छोडने थिक 4.30 पर उसका घर जटा था और मैंने 2 बार गर्भवती किया का इस्तेमाल किया। लेकिन उसका पति के डर से अबॉर्शन करना पड़ा.. तिसरी बार उसे किसी तरह अपने पति से चुडवाया.. और मेरे बच्चे को जन्म दिया जो की आज 5 साल का है। उसे मुझे कहा था की ये तुम्हारी गुरु दक्षिणा है अपने गुरु के लिए।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds