मेरी पहली सेक्स स्टोरी। पड़ोस अंकल ने की चुदाई। टीन गर्ल सेक्स स्टोरी

मेरी पहली सेक्स स्टोरी। पड़ोस अंकल ने की चुदाई। टीन गर्ल सेक्स स्टोरी

मैं एक सेक्स क्रेजी लड़की बन गई हूं। जैसे ही मैंने अपनी युवावस्था में कदम रखा, 19 साल की उम्र में मैंने पहली बार सेक्स किया। मैं पड़ोस के एक चाचा द्वारा गर्म और गड़बड़ था।

इस अंतरवासन ऑडियो कहानी को सुनें।

मैं Azra Khan अंतरवासन का नियमित पाठिका हूं।
जब मैं लॉकडाउन में मुक्त हुई तो मुझे लगा कि मुझे भी अपने जीवन के रसीले किस्से मोह पर लिख देना चाहिए क्योंकि मेरी जिंदगी सेक्स कहानियों से भरी पड़ी है।

मुझे शुरू से ही फुल सेक्स में बहुत दिलचस्पी थी। मेरे दोस्त मुझे सेक्स के अनुभव बताते थे
उनके बॉयफ्रेंड के साथ थे, जिसके कारण मेरी सेक्स में दिलचस्पी बढ़ती चली गई। मैं एक सेक्स क्रेजी लड़की बन गई।

जैसे ही मैंने अपनी युवावस्था में कदम रखा, मैंने 19 साल की उम्र में पहली बार सेक्स किया।
आज मैं 40 साल की हूं और अब तक 64 लंड का स्वाद चख चुकी हूं।

मैं आपको अपने पहले लंड से लेकर 64 लंड तक की सभी कहानियां बताना चाहती हूं। यह एक कहानी में संभव नहीं है, इसलिए मैंने इन कहानियों के अलग-अलग हिस्से बनाए हैं।

आगे बढ़ने से पहले मैं आपको अपने बारे में बताना चाहती हूं। मैं 38 साल की एक पूर्ण कामुक और सुंदर महिला हूं।
मुझे देखकर किसी का भी लंड खड़ा हो जाता है.
आज भी जब 25-30 साल के लड़के मुझे देखते हैं तो उन्हें नहीं लगता कि मैं उनके बराबर नहीं हूं इसलिए मेरे पीछे मँडराते रहते हैं।

मेरा फिगर 36-28-38 है। वैसे तो मैं एक 11 साल के बेटे की मां हूं, लेकिन मुझे देखकर कोई नहीं कह सकता कि मैं शादीशुदा हूं।
आप इस तरह भी कह सकते हैं, अलग-अलग लंड खाने की आस में मैंने खुद को काफी मेंटेन किया है.

मेरी शादी जयपुर में एक बिजनेसमैन विजय से हुई। वे बहुत स्मार्ट और भावुक भी हैं।
उसे भी सेक्स में उतनी ही दिलचस्पी है जितनी मेरी।

खैर... मैं अपनी पहली xxx chudai की कहानी पर आती हूँ।
मेरी जवानी के दौरान मेरे पड़ोस में शर्मा चाचा-चाची रहते थे, जिनकी उम्र उस समय लगभग 35-36 वर्ष रही होगी।
उन लोगों के साथ हमारी पारिवारिक बातचीत होती थी, अक्सर वे या तो हमारे घर होते थे या हम उनके घर होते थे।

एक दिन शर्मा आंटी अपने मायके में अपने भाई की शादी का न्यौता देने हमारे घर आई।
उसने मेरी बूब्स को परिवार के साथ आने के लिए आमंत्रित किया और कहा कि तुम्हारा देवर (शर्मा चाचा) शादी से एक या दो दिन पहले आएगा। आप लोग भी उनके साथ आइए।
मेरी मां ने शर्मा आंटी से कहा- हां भाभी, आप बिल्कुल निश्चिंत रहें। हम भाई के खाने-पीने का पूरा ख्याल रखेंगे।

यह सुनकर मौसी शर्मा मन में शांति की अनुभूति लेकर अपने मायके चली गईं।

अब मेरी जिम्मेदारी बन गई है कि शर्मा चाचा को सुबह की चाय, रात का खाना और रात का खाना देना।
जब तक वह खाना खाता, मैं उससे बहुत बातें करता।

धीरे-धीरे मेरे चाचा और शर्मा हर तरह की बातें करने लगे।

एक दिन उसने मुझसे पूछा- अज़रा क्या तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड है?
मैंने कहा नहीं।

तो उसने बड़े आश्चर्य से मुझसे कहा - तुम इतने बड़े हो गए हो और तुम्हारा अभी तक कोई बॉयफ्रेंड नहीं है। तुम इतनी खूबसूरत हो कि हजारों लड़कों ने तुम्हें फॉलो किया होगा, फिर भी तुमने आज तक किसी को 
अपना बॉयफ्रेंड नहीं बनाया। तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड क्यों नहीं है? मैंने उससे कहा- मुझे डर लग रही है। उसने मुझसे कहा- इसमें डरने की क्या बात है। आजकल सभी लड़कियों के बॉयफ्रेंड होते हैं। मैंने हां कहा, लेकिन मेरे दोस्त बताते हैं कि लड़के बॉयफ्रेंड बनने के बाद अजीबोगरीब हरकतें करते हैं। अंकल ने कहा- अरे पागल, अजीब हरकत नहीं करता... इसे कहते हैं सेक्स। फिर आजकल सभी लड़कियां अपने बॉयफ्रेंड के साथ यह सब बड़े मजे से करती हैं। यह जीवन का परम सत्य है। मैंने अंकल से कहा- लेकिन मुझे डर लग रही है। अंकल ने कहा- तुम चाहो तो मैं तुम्हारा डर दूर भगा सकता हूं क्योंकि मुझे सेक्स का बहुत अनुभव है। यह कहते हुए अचानक अंकल ने मेरा हाथ पकड़ लिया और मुझे अपनी बाँहों में पकड़ लिया। अंकल की इस हरकत से मैं कुछ देर के लिए स्तब्ध रह गयी। फिर मैंने अपना ख्याल रखा और मामा की गोद से निकलने की कोशिश करते हुए उनसे कहा- तुम कहां हो और कहां हो... तुम मुझसे बड़े कैसे हो। अंकल ने बड़े प्यार से मुझे समझाया- इसमें क्या छोटा-बड़ा है। सेक्स आनंद लेने की एक चीज है, जिसे एक अनुभवी पुरुष एक लड़की को बेहतर तरीके से आनंदित कर सकता है। मेरे साथ सेक्स करना शौकिया के साथ
सेक्स करने से बेहतर है। मैं तुम्हें स्वर्ग जैसा महसूस कराऊंगा।
इतना कह कर उन्होंने मुझे छोड़ दिया और कहा - सोचो और बताओ कि क्या तुम अपने डर पर काबू पाना चाहते हो... या खुलकर मौज करना चाहते हो। क्योंकि डर के आगे जीत होती है।

फिर मैं भाग कर अपने घर चला गयी।
घर आने के बाद मैंने किसी से कुछ नहीं कहा क्योंकि कहीं न कहीं मुझे शर्मा चाचा भी पसंद आने लगे थे और मुझे उनकी हरकत पर किसी तरह का गुस्सा नहीं आ रही था.

रात भर मैं अपने कमरे में लेटा रही और सोचता रही कि क्या वह जो कह रही है वह सच है।
मैं भी यही सोचकर सो गयी।

अगले दिन जब मैं उसे खाना देने गयी तो उसके और मेरे बीच पहले की तरह कोई बात नहीं हुई।
अब मैं उसकी आँखों से नहीं मिल पा रही था और वह मुझे देखकर हलके से मुस्कुरा रहे थे।

उसने मुझसे पूछा- अज़रा तुमने क्या सोचा?
जब मैंने उसका जवाब नहीं दिया, तो उसने अचानक मुझे बाँहों से पकड़ लिया और मेरे होठों पर किस कर दिया।

मैं कुछ कह देता कि वो मेरे होठों को चूसने लगा और मुझे लगातार चूसा जा रही थी।

मैंने खुद को उनसे अलग करने की कोशिश की।

मैने कहा आप क्या कर रहे हैं?
उसने मेरी एक नहीं सुनी और मुझे गोद में उठाकर अपने बेडरूम में ले गए।

मैंने उससे कहा- मैंने तुम्हें हां नहीं कहा है।
उन्होंने कहा- आपकी चुप्पी ही आपकी हां है। मेरे प्रिय, अब आपको और कुछ कहने की आवश्यकता नहीं है।

इतना कहकर अंकल मेरी मां को मेरे कपड़ों के ऊपर दबाने लगे।
पहली बार किसी ने मेरी मां को दबाया था।

उसकी बूब्स को दबा कर मुझे नशा सा लगने लगा।
मेरे मुंह से अपने आप 'अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ःः' की आवाजें अपने आप निकलने लगीं.

मौका पाकर उसने धीरे से मेरा कुर्ता उतार दिया।
अब मैं उनके सामने सिर्फ ब्रा में थी।

अंकल मेरी बूब्स को ब्रा के ऊपर से बहुत अच्छे से सहला रहे थे।
फिर मेरे दूध को सहलाते हुए उसने मेरी ब्रा भी उतार दी।

मैं आपको बताना चाहती हूं कि जब अंकल ये सब कर रहे थे तो मैं उन्हें बार-बार रोकने की कोशिश कर रही था लेकिन वो रुकने का नाम ही नहीं ले रहे थे.

आखिर में उसने मेरी बूब्स को मेरी ब्रा की कैद से छुड़ाया और मेरे निप्पल को अपने मुँह से चूसने लगा।
पहली बार अपने मम्मा पर मर्द का अहसास पाकर मैं एक अलग ही दुनिया में पहुंच गयी था।
बूब्स को दबाया और चूसा जा रही था और साथ ही साथ कहती रही- अज़रा, तुम्हारी बूब्स कितनी सुंदर है, तुम्हारा शरीर कितना सेक्सी है अज़रा ... तुम्हारी जवानी आज तक कैसे अछूती रही ... आज मैं तुम्हारे 
फिर उसने मेरी सलवार भी उतार दी, अब मैं उसके सामने सिर्फ पैंटी में थी, वह मुझे बेतहाशा किस कर रहे था।
चूम कर वो मेरी बूब्स से पेट पर... और पेट से मेरी चूत तक पहुँच गयी।

पैंटी के ऊपर बहुत देर तक किस करने के बाद अचानक उसने मेरी पैंटी को भी मेरे शरीर से अलग कर दिया।
मैं आपको बता नहीं सकती कि यह पहली भावना मेरे जीवन में कितनी प्यारी थी।

उसने मेरे दोनों पैरों को चौड़ा किया और मेरी चूत उसकी जीभ चाटने लगी।
मैं काँप उठी और मेरे मुँह से आहों की नशीली आवाज़ें निकलने लगीं।

दस मिनट तक चूत को चाटने का मज़ा लेने के बाद अचानक मुझे लगा कि मेरी चूत से कुछ गर्म लावा निकल रही है।
यह मेरा पहला स्खलन था, लेकिन यह कितना अद्भुत था… यह वास्तव में मेरी कल्पना से परे आनंद की अनुभूति थी।

अब उसने अपने सारे कपड़े भी उतार दिए।
मैंने पहली बार अपने सामने एक नंगा आदमी देखा।
उसका लंड देखकर मैं घबरा गयी।

अंकल का लंड लगभग साढ़े सात इंच लंबा होगा।
मैं सोच रही था कि अगर यह लंड मेरी नन्ही चूत में घुस गयी तो मेरा क्या होगा।

फिर अंकल अपना लंड मेरे मुँह के पास ले आए।
मुझे समझ नहीं आ रही था कि क्या करूं।

अंकल ने कहा - चूसो!
मैंने कहा गंदा है।
अंकल बोले-पागल, गंदा नहीं, बहुत स्वादिष्ट होता है। एक बार ट्राई करके देखिए।

उसके बार-बार जिद करने और जिद करने पर मैं उसका लंड अपने मुँह में लेने लगी।
अंकल की बात सच निकली, लंड बहुत स्वादिष्ट लग रहा था।
मैं पहली बार किसी का लंड चूस रही था लेकिन इतना अच्छा चूस रही था कि मुझे खुद पर विश्वास ही नहीं हो रही था कि मैं पहली बार लंड  चूस रही हूँ।

कुछ देर लंड चूसने के बाद अंकल ने मुझसे कहा- मेरी रानी, अब तुम तैयार हो... कली से फूल बनने का मन बना लो। अब अपनी चूत में एक लंड लो।
मैंने कहा- नहीं अंकल आप ऐसा मत करो। बाकी हम कभी करेंगे।

पर ये सब होने के बाद मामा कहाँ मानने वाले थे वो मेरे ऊपर आ गए और मेरे दोनों पैरों को चौड़ा करके अपने लंड की सुपारी मेरी चूत के मुँह पर रख दी.
साथ ही अंकल ने अपने होठों से मेरे होठों को दबाया और मेरी चूत में जोरदार झटका लगा और अपना लंड आधा अंदर कर लिया।

दर्द के कारण मेरी आंखों से आंसू निकल आए। मैं चिल्लाना चाहती था लेकिन उसने मेरे होठों को अपने होठों से बंद कर रखा था।
मैं बहुत कसम खाता हूं लेकिन उनके मजबूत शरीर ने मेरे शरीर को थाम लिया।

वे मुझे हिलने-डुलने नहीं दे रहे थे।
फिर उसने फिर से एक जोरदार प्रहीर किया और बाकी आधा लंड भी मेरी चूत में चुभ गयी और अंदर चला गया।
मुझे इतना दर्द हुआ कि मैंने अपनी पूरी ताकत से अपने चाचा को खुद से दूर धकेल दिया और जोर से चिल्लाया - चले जाओ चाचा।

तभी मेरी नजर अंकल के लंड पर पड़ी और देखा कि लंड चूत के लाल खून से लथपथ है.
मैं डर गयी और रोने लगी।

तभी अंकल मेरे पास आए और मुझसे प्यार से बोले- शुरुआत में थोड़ा दर्द होता है अज़रा, एक-दो बार अंदर बाहर, ये दर्द मस्ती में बदल जाएगा... और आज अगर आपने ये हिम्मत नहीं दिखाई तो आप पूरी जिंदगी बिता 
देंगे आप इस बात से डरेंगे। मैं उसकी व्याख्या से समझ गयी। मेरे पास समझने के अलावा कोई चारा नहीं था। फिर उसने फिर से अपना लंड मेरी चूत के मुँह पर रख दिया और अब इस बार धीरे-धीरे उसका लंड मेरी चूत में निकल गयी। इस बार मुझे दर्द कुछ कम हुआ। कुछ देर तक उसने अपना लंड बिना हिलाए अंदर ही रखा और मेरी मम्मियों को चूसने लगा। धीरे-धीरे मेरा दर्द कम होने लगा और मैं पीछे से उत्तेजित होने लगी। अब मुझे अपनी चूत में लंड का अहसास हो रही था। कुछ देर रुकने के बाद अंकल धीरे-धीरे चलने लगे और मुझे भी अब मजा आने लगा। धीरे-धीरे मेरे मुंह से 'हम्म्म्म आह्ह्ह्ह...' की आवाज निकल रही थी। अंकल अब मुझे धीरे-धीरे चोद रहे थे। बहुत देर तक वह धीरे-धीरे मुझे चोदता रहा। इस बीच मेरी चूत ने दो बार पानी छोड़ दिया था। अचानक अंकल उठे और अपना लंड मेरे मुँह के पास लाए और कहा - मुँह खोलो। इससे पहले कि मैं कुछ समझ पाती, उसके लंड ने मेरे चेहरे पर गर्म गर्म वीर्य गिरा दिया. मैं 'ची... ची...' करते हुए बाथरूम में भाग गई। मैंने अपना चेहरा और चूत अच्छी तरह धोई और कपड़े पहन कर बाहर के कमरे में आकर बैठ गयी। कुछ देर बाद अंकल भी कपड़े पहन कर बाहर आये और मुस्कुराये और बोले- आपको अज़रा कैसी लगी? मैंने कहा - बहुत दर्द होता है। उन्होंने कहा- आज पहली बार था, तो ऐसा लगा। उसके बाद धीरे-धीरे दर्द खत्म हो जाएगा और मस्ती शुरू हो जाएगी। उसके बाद अंकल ने मुझे प्यार से गले लगाया और मैं अपने घर आ गयी। उस दिन के बाद अंकल दिन में तीन बार अलग-अलग मुद्राओं में मेरा गला घोंटने लगे। मुझे भी अपनी चूत चाटने में मज़ा आने लगा। अंकल ने शायद ही ऐसा कोई आसन छोड़ा होगा, जिसमें उन्होंने मेरा गला नहीं घोंटा होगा। मामा ने 15 से 20 दिन में मुझे करीब 50 बार किस किया होगा और मैं भी इन 15 से 20 दिनों में बिल्कुल जबरदस्त था। वह चुदाई वादक बन गई थी।
स्पर्श से खुश हूँ अछूते यौवन चला गयी। अब तुम चिंता मत करो, आज के बाद तुम्हें किसी प्रकार का भय नहीं होगा क्योंकि मैं अपना लंड तुम्हारी सुन्दर चूत में डाल कर तुम्हें कली से फूल बनाऊँगा।
 
ऐसे शब्द मैंने आज तक कभी नहीं सुने थे। उनके मुंह से ऐसे शब्द सुनकर मैं और रोमांचित हो रही था। मेरा पूरा शरीर कांप रही था और मुझमें प्रतिरोध करने की ताकत नहीं रह गई थी।
दोस्तों ये थी मेरे पहले किस की कहानी।
अगली xxx कहानी में, मैं आपको बताउंगी कि कैसे मैं अपने परिवार के साथ शर्मा की मौसी के भाई की शादी में गयी था, जहाँ शर्मा की चाची के भाई और उनके तीन दोस्तों ने मिलकर मुझे चूमा।

दोस्तों आपको Sex Girl की सच्ची कहानी कैसी लगी आप मुझे मेल कर सकते हैं।
[email protected]

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds