ट्रेन में मॉम की चूत का बाजा बजाया – स्टेप मॉम चुदाई कहानी

ट्रेन में मॉम की चूत का बाजा बजाया – स्टेप मॉम चुदाई कहानी

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “ट्रेन में मॉम की चूत का बाजा बजाया – स्टेप मॉम चुदाई कहानी”। यह कहानी राहुल की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

स्टेप मॉम चुदाई कहानी में मैंने अपने पापा की दूसरी पत्नी को ट्रेन में चोदा. फर्स्ट क्लास केबिन में 4 लोग थे, एक और कपल भी चुदाई में लगा हुआ था.

दोस्त, मेरा नाम राहुल है. हम पैसे वाले अमीर लोग हैं.
पापा स्कूल के प्रिंसिपल हैं.

मेरे पिता ने दो शादियां की थीं. दोनों पत्नियों को एक साथ रखा। कुछ साल पहले मेरी जन्म देने वाली मां इस दुनिया को छोड़कर चली गईं। अब मेरी दूसरी मां हैं.

मैं आपको अपनी सौतेली माँ के बारे में बताता हूँ।
माता का नाम Dolly है। वह हाउसवाइफ हैं और घर पर ही रहती हैं।

ये स्टेप मॉम चुदाई कहानी तब की है जब हम शहर से अपने गांव जा रहे थे.
हमारे पास फर्स्ट एसी के टिकट थे और हम उसी केबिन में थे 4 सीटें थी।

माँ की नीचे वाली सीट थी और मेरी ऊपर वाली सीट थी.

करीब दो घंटे बाद एक कपल हमारे डिब्बे में आया.
शायद उसकी नई-नई शादी हुई थी.

पूछताछ करने पर पता चला कि वह अपनी पत्नी को उसके मायके से लेने आया था.
अब वो दोनों अपने घर जा रहे थे.

अब उन दोनों की सेक्सी हरकतें शुरू हो गई थीं.
वो एक दूसरे से सेक्सी बातें कर रहे थे और बात करते समय एक दूसरे को छू भी रहे थे.

माँ ये सब देखकर शरमा रही थी.
शायद उसे अपने दिन याद आ रहे थे.

मैंने देखा कि माँ अपने होंठ चबा रही थी और जब कोई नहीं देख रहा था तो माँ भी साड़ी सेट करने के बहाने अपनी Tight Chut खुजा रही थी।

मैं उस वक्त उनको देख रहा था.
जैसे ही उसने मेरी तरफ देखा तो मैं इधर उधर देखने लगा.

अब मैं अपनी माँ के ऊपर लगे शीशे में उनकी हरकतें साफ़ देख सकता था।
तभी मेरे सामने वाली औरत के पति ने देखा कि मैं उन दोनों को प्यार की हरकतें करते हुए देख रहा हूँ।

उस आदमी ने मुझे इशारा किया और बाहर आने को कहा.
मैं गया और पीछे-पीछे वो भी आ गया.

वो बोली- भैया, मेरी नई-नई शादी हुई है. अगर आप लोग ऐसा करेंगे तो कैसे काम चलेगा?
मै कहा माफ करो।

तो उसने कहा- कोई बात नहीं. अरे, मैं खुद पर काबू नहीं रख पा रहा हूं. आपकी भी क्या गलती है…और सामने बैठी महिला, मेरी पत्नी, उसे समझा रही है. (स्टेप मॉम चुदाई कहानी)

अगर तुम समझोगे तो मेरा एक काम करोगे. आप उनके साथ बैठें. उन्हें कंपनी दो. हम लाइट बंद कर देंगे. मेरे स्टेशन पहुंचने में अभी भी 5-6 घंटे बाकी हैं.

उसके बाद 4-5 दिन तक मुझे घर पर ऐसा मौका नहीं मिलेगा. भाई, मान जाओ. क्या पता अगर वो आंटी आपको मौका दे तो कुछ भी हो सकता है. मस्ती करो!

मैंने उससे कहा- ठीक है.

कुछ देर बाद जब हम अंदर आए तो मैं ऊपर नहीं गया और मां के पास ही बैठ गया.
माँ ने कहा- उसे प्राइवेसी चाहिए, तुम यहीं मेरे पास बैठो.

फिर उसने पूछा कि क्या हम लाइट बंद कर दे?
मैंने कहा- हाँ करो.

उसके बाद माँ और मैं अँधेरे में एक दूसरे के करीब बैठे थे.
अब हम कुछ देख तो नहीं सकते थे लेकिन उनकी हरकतों की आवाजें सुन सकते थे.

उनके चूमने की आवाज और उस लड़की की कामुक कराहें सुनकर मेरा लंड खड़ा हो गया था.

मेरा हाथ माँ की तरफ था.
मैंने महसूस किया कि माँ अपने स्तनों से मेरी कोहनी पर दबाव डाल रही थी।

इतने में माँ का फ़ोन आ गया और लाइट जला दी.

हम दोनों ने देखा कि औरत ऊपर से नंगी थी और आदमी उसकी गोद में बैठा हुआ उसके Big Boobs चूस रहा था।
माँ ने झट से फोन काट दिया और फोन अपने ब्लाउज में डाल लिया.

जैसे ही मैंने अपना हाथ नीचे किया, उसने अपना हाथ मेरी जांघों पर मेरे लंड के पास रख दिया।
मेंने कुछ नहीं कहा।

फिर पता नहीं क्यों… माँ ने अपना हाथ सरका कर मेरे लंड पर रख दिया और मेरे खड़े लंड को महसूस करने लगी।
माँ मेरे लंड को महसूस कर रही थी. (Hindi Sex Story)

उसने लंड पकड़ने की कोशिश की.
शायद उसे एहसास हो गया था कि ये मेरा लंड है तो उसने तुरंत अपना हाथ हटा लिया.

अब मेरा पारा चढ़ गया था, मैंने अपना हाथ पीछे ले जाकर माँ की कमर पर रख दिया और वहाँ से अपना हाथ निकाल कर उनके पेट पर मालिश करने लगा।

माँ फुसफुसा कर बोलीं- बेटा, ये क्या कर रहा है?
मैंने पूछा- क्या?
माँ कुछ नहीं बोली.

अँधेरे में माँ ने फिर से अपना हाथ मेरे लंड पर रख दिया.
इस बार उसने हाथ नहीं हटाया.

मुझे ऐसा लगा जैसे वो इशारा कर रही हो कि चलो हम भी कुछ करते हैं.
मैंने अपना एक हाथ माँ के स्तनों पर रख दिया और उन्हें मसलने लगा।

माँ मेरे कान में बोलीं- बेटा, ये ग़लत है.
मैंने माँ के कान में फुसफुसाया- रहने दो माँ… किसे पता चलेगा? कृपया माँ, मुझे यह करने दो! बस एक बार, इसके बाद न तो कुछ कहूंगा और न ही बताऊंगा. (स्टेप मॉम चुदाई कहानी)

इतना कह कर मैं मां के कान और गर्दन को चूमने लगा.
उसकी साँसें धीरे-धीरे ऊपर-नीचे हो रही थीं।

वातावरण में गर्मी बढ़ती जा रही थी.
मैं माँ का ब्लाउज खोलने लगा.

माँ ने मेरा हाथ पकड़ लिया लेकिन मैंने एक एक करके ब्लाउज के सारे हुक खोल दिये.
माँ का ब्लाउज खुल चुका था और उनका हाथ अभी भी मेरे हाथ पर था.

मैं समझ गया कि माँ गर्म है और यही मौका है उसकी Chut Chudai का.

अब मैं मां की साड़ी ऊपर खींचने लगा.
माँ ने फिर मेरा हाथ पकड़ लिया लेकिन इस बार उन्होंने मुझे रोका नहीं.

मैंने साड़ी ऊपर उठाई और मां की जांघें सहलाने लगा.

मां जोर-जोर से सांस ले रही थीं.
‘हम्म हम्म हम्म बेटा बेटा…’ की आवाजें आ रही थीं।

मैं चूत के पास गया और पैंटी के ऊपर से ही उसे सहलाने लगा।
पैंटी गीली लग रही थी तो मैंने हाथ अन्दर डाल दिया.

शायद माँ ने 2-3 दिन पहले ही अपनी चूत साफ़ की थी. उसके छोटे बाल थे.
उसकी चूत को सहलाना कितना मधुर अहसास था.

मुझे उसकी चूत के होंठ समझ नहीं आ रहे थे.
यह मेरा पहली बार था जब मैंने किसी की चूत को छुआ था।

उसने मेरा हाथ पकड़ कर अन्दर डाल दिया और मेरी उंगली पकड़ कर चूत के छेद में डाल दी.
फिर उसने अपनी गांड उठाई और अन्दर-बाहर करने का इशारा किया.

मैंने अपना हाथ चूत से हटा लिया और दो उंगलियाँ अन्दर-बाहर करने लगा।
तब तक सामने की सीट पर चुदाई शुरू हो चुकी थी.
कुछ-कुछ धक्कों की आवाजें आ रही थीं.

मैं उठा और अपनी पैंट उतार कर नंगा हो गया.
फिर अपनी माँ के पास बैठ गया और उसकी पेंटी उतारने की कोशिश करने लगा.

लेकिन माँ ने पहले ही अपनी पैंटी उतार दी थी और पैर फैलाकर लेटी हुई थी.
मैं माँ के ऊपर लेट गया.

माँ ने मेरा लंड पकड़ कर अपनी चूत पर सेट किया और धक्का लगाने को कहा- धक्का मारो!
जैसे ही मेरा भारी लंड चुत के अन्दर गया, माँ चिल्ला उठीं- आउच, मैं मर गयी, आह, आराम से करो!

मेरे कुछ ही धक्कों में माँ सामान्य हो गईं.
मेरा लंड आसानी से अन्दर आ जा रहा था.

अब हम भी फच फच की आवाजें निकालने लगे.
माँ अपनी Moti Gand उठा उठा कर चुदवा रही थी.

अब मैंने माँ के स्तनों को चूसने के लिए हाथ ऊपर उठाया तो वे नंगे थे।
माँ ने पहले ही अपनी ब्रा ऊपर खींच ली थी.

मैं स्तनों को बुरी तरह से चूसने लगा और काट भी रहा था।
माँ कह रही थी- आह काटो मत बेटा.. बस चूसने का मजा लो और ऐसे ही धक्के मारते रहो.. बहुत अच्छा लग रहा है।

धक्के लगाते हुए मैं माँ की चूत में ही स्खलित हो गया.
माँ का भी हो गया था. (स्टेप मॉम चुदाई कहानी)

उसने मुझे कस कर पकड़ लिया और अपनी शेव की हुई चूत को रगड़ने लगी. हम दोनों ने खुद पर काबू रखा.
मैंने माँ की पैंटी अपनी जेब में छुपा ली.

हम दोनों कुछ देर तक ऐसे ही एक दूसरे के साथ लेटे रहे.
तभी कोई स्टेशन आया तो खिड़कियाँ खटखटाने लगीं-चाय-चाय।

आगे की सीट पर बैठा आदमी बाहर गया और चाय ले आया।
मेरी मां ने भी मुझसे चाय मंगवाई. (Hindi Sex Stories)

वह आदमी मेरी तरफ देख कर हंस रहा था. उसने मुझे इशारा किया.

हम दोनों पानी लेने के बहाने बाहर चले गये.
बाहर आकर उसने मुझसे कहा- भाई, तुमने अच्छा खेला.. क्या कमाल का खेल खेला। वैसे एक बात बता दूं, वो मेरी पत्नी नहीं, मेरी बहन है.

चौंक पड़ा मैं।

मैंने कहा- चल झूठे… ऐसा भी कहीं होता है क्या?
“ऐसा क्यों नहीं होता? आज क्या क्या किया? तुम्हें ऐसा क्यों लगा कि जिस व्यक्ति की तुमने चुदाई की, मुझे पता नहीं चलेगा कि वे तुम्हारी कौन है? मैंने बाहर चार्ट पर आपके नाम पढ़े! आप मॉम को चोद रहे थे।”

अब मैंने बोलना बंद कर दिया है.
मैं उदास हो गया और सोचने लगा कि मुझे क्या हो गया!

उसने कहा- भाई, टेंशन क्यों लेते हो, मजे करो, इतना बड़ा कांड कर दिया! हर परिवार में ऐसा ही होता है, बस कोई बताता नहीं. अब मुझे अपनी पत्नी की तरह अपनी बहन को चोदते हुए देखो।

कुछ देर रुककर उन्होंने फिर कहा- हमारे पास अभी भी मौका है। यहां से निकलने से पहले हम बस एक और शॉट लेने जा रहे हैं।

अब तक तो मेरी बहन ने तेरी माँ का मन बना लिया होगा. अब तुम जब चाहोगे तब तुम्हें चूत मिलेगी, अगर नहीं भी मिलेगी तो भी तुम्हारे पास मौका है।

अब हम दोनों ट्रेन में चढ़ गये.

मेरी मां और वह लड़की दोनों हंसी-मजाक कर रहे थे.

तभी टीसी टिकट चेक करने आया.
अब उस आदमी ने कहा- मैं लाइट बंद कर देता हूँ.. तुम्हें कोई परेशानी तो नहीं?
मैंने हंस कर कहा- हां, बिल्कुल.

मैं ऊपर वाली बर्थ पर जाने लगा तो माँ बोलीं- बेटा, कहाँ जा रहा है, यहीं मेरे पास सो जा!
अब मैं बाहर की तरफ और माँ अंदर की तरफ सो रही थी. जगह कम थी इसलिए हम दोनों एक दूसरे से सट कर सो रहे थे.

वो दोनों फिर से शुरू हो गए थे. उसकी बहन की चूड़ियों की आवाज़ गूँज रही थी और उसके खिलखिलाने की आवाज़ आ रही थी। (स्टेप मॉम चुदाई कहानी)

मैं सोच रहा था कि अब क्या होगा.
क्या मुझे आगे फिर कुछ करना चाहिए?

फिर मां की हरकतें शुरू हो गईं.
माँ अपनी गांड मेरे लंड पर रगड़ने लगी.

मैं दोबारा सेक्स नहीं करना चाहता था लेकिन इस बार मां मुझे मौका दे रही थी.

माँ ने मेरा हाथ पकड़ कर अपने पेट पर घुमाया और नीचे लाकर अपनी चूत पर रख दिया.
माँ ने अपनी साड़ी ऊपर कर ली थी और एक हाथ से मेरी पैंट नीचे खींचने की कोशिश कर रही थी.

मैंने उठ कर अपनी पैंट उतार दी और माँ ने मेरा लंड पकड़ लिया.
वो लंड को हिला हिला कर टाइट कर रही थी.

माँ मूड में थी.
अब माँ मेरी तरफ थी और मेरे ऊपर आना चाहती थी.

मैंने माँ को अपने ऊपर खींच लिया.
माँ ने अपने ब्लाउज के बटन खोले; ब्रा पहले से ही ढीली थी.

ऊपर से माँ नंगी हो गयी थी और अपना दूध मेरे मुँह में दे रही थी.

कुछ देर बाद माँ ने मेरी शर्ट के बटन भी खोल दिये.
मैंने भी जोश में आकर माँ की साड़ी उतार दी.

मैं माँ के नीचे था और वो मेरे ऊपर थी.

माँ मुझसे अपने दूध चुसवा रही थी और खुद मेरे लंड को अपनी चूत में ऊपर नीचे करने लगी.
मैं नीचे से धक्के लगा रहा था.

ऐसे ही चुदाई चलती रही.

काफ़ी देर के बाद हम दोनों स्खलित हो गये।
माँ मेरे ऊपर नंगी ही सोती रही.

हम दोनों जो कम्बल मिला था उसमें सो गये।

सुबह अचानक उन दोनों ने हमें जगाया.
उसका स्टेशन आ गया था.

हमने उन्हें विदा किया और दरवाज़ा बंद कर दिया।
अब हम दोनों ऐसे ही नंगे बैठे थे.

मैंने पहली बार माँ का नंगा गोरा बदन देखा।

माँ मुझसे चिपक कर सो गयी.
हम एक दूसरे को देख रहे थे.

मां ने मुझसे कहा- राहुल बेटा, देख ट्रेन में जो हुआ, किसी को पता नहीं चलना चाहिए … और मान लेना कि सब यहीं खत्म हो गया. ट्रेन से उतरने के बाद ऐसा गलती से भी नहीं होगा. न मेरी तरफ से, न तुम्हारी तरफ से… ठीक है!

मैंने मां से ओके कहा और उनके स्तनों को चूसने लगा.

माँ ने मेरे बालों में हाथ डाल दिया और सहलाने लगी. मेरी एक जाँघ माँ की जाँघों के बीच थी और मुझे उनकी चूत की गर्मी महसूस हुई। मैं अपना लंड माँ की चूत में रगड़ने लगा. (स्टेप मॉम चुदाई कहानी)

माँ कुछ नहीं बोली.

मैंने अपनी मां से कहा- मां, ट्रेन से उतरने में अभी दो घंटे बाकी हैं. आख़िरी बार करे?
मां हंस कर बोलीं- बदमाश, मुझे पता था कि तू नहीं मानेगा.

अब हम दोनों किस करने लगे.
मैं माँ को चूम रहा था और चूस रहा था।

ये माँ को चोदने का आखिरी मौका था.
माँ मेरा लंड हिला रही थी.

मैंने माँ से मेरा लंड चूसने को कहा.
माँ खड़ी हो गईं और मेरा लंड चूसने लगीं.

आह, बहुत मजा आया.

मैंने माँ को सीट पर बैठाया और उनकी टाँगें फैलाकर उनकी चूत चाटने लगा।

अब मैं माँ को अपनी गोद में बैठाकर चोद रहा था।
फिर मैंने माँ को खिड़की के पास डॉगी स्टाइल में चोदना शुरू कर दिया.

माँ खिड़की की सलाखों को पकड़कर अपनी गांड उछाल-उछाल कर लंड को अंदर ले रही थी.
बहुत बढ़िया माहौल था. (स्टेप मॉम चुदाई कहानी)

मैं माँ को खड़ा करके और झुकाकर पीछे से चोद रहा था।

मैंने माँ को नीचे बैठाया और उन पर अपना वीर्य बरसा दिया और उनका पूरा शरीर अपने वीर्य से भर दिया।
हम दोनों हाँफते हुए एक दूसरे के ऊपर सो गये।

अब मुझे माँ को और चोदना था लेकिन माँ अपनी बात की पक्की थी।
वो मुझे कभी भी ट्रेन के बाहर चोदने नहीं देती.

तो मैंने माँ को कैसे मनाया और अगला सेक्स कब किया?
ये सब मैं अगली कहानी में लिखूंगा.

आपको मेरी स्टेप मॉम चुदाई कहानी कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताये।

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds