अपनी शादी शुदा दोस्त को चोदा और उसे मज़ा दिया !

अपनी शादी शुदा दोस्त को चोदा और उसे मज़ा दिया !

सभी को नमस्कार, आशा है कि आप लोग अच्छा कर रहे होंगे। मेरा नाम है रोहित, और मेरी उम्र है 19 साल। मैं देहरादून में रहता हूँ। मेरी फैमिली में 4 लोग है, मैं, मेरी दोस्त, पापा और मां। इस कहानी में मैं बताऊंगा की कैसे मेने अपनी शादी शुदा दोस्त को चोदा और उसको मज़ा दिया।

मेरी दोस्त का नाम है रिधिमा। और वो मुझसे 4 साल बड़ी है। 1 साल पहले उसकी शादी हुई थी। रिधिमा की उम्र 22 साल है और अभिनव 30 साल के हैं। और उनके पिता जी की उम्र 56 साल है।

ये देसी चुदाई की कहानी है कुछ दिन पहले की, जब मैंने अपना न्यू कॉलेज ज्वाइन किया था। हम गांव में रहते थे, और मेरे अभिनव और रिधिमा शहर में रहते थे। पढाई के लिए मैं रिधिमा के घर पर चला गया।

मुझे देखते ही सब लोग खुश हो गए। मेरी रिधिमा के घर में रिधिमा, अभिनव, और उनका बाप, कुल 3 लोग रहते हैं। क्यों अभिनव की मां की कुछ दिन पहले मौत हो गई थी। मेरे अभिनव की एक दुकान है, तो वो सुभा होते ही दुकान पर चले जाते हैं, और रात को वापस आते हैं। मतलाब उनका सारा दिन काम करते हुए निकलते हैं। “शादी शुदा दोस्त को चोदा”

उनके पिता जी रिटायर हो चुके हैं, तो इसलिय घर में ही रहते हैं। रिधिमा और अभिनव के अभी 2 महीने पहले ही एक लड़की हुई थी। अब मैं उनके घर में रहने लगा था। पहले मेरी दोस्त कुछ पतली थी, उसके स्तन अब पहले से कुछ बड़े हो गए थे।

शादी के बाद वो बहुत खूबसूरत हो गई थी, और उसके स्तन का जबर्दस्त नजर देखते ही बन गया था। और उनकी गांड की तो बात ही अलग थी। उनकी गांद तो किसी भी मर्द को उनका दीवाना बना शक्ति है। उनका साइज 36-30-36 है, तो आप सोच सकते हैं कैसी है वो।

वो शादी के बाद घर में साड़ी पहचान थी। उनके घर में रहते हुए मैंने नोटिस किया, की अंकल जी, मतलब रिधिमा के ससुर जी मेरी दोस्त को पोचा मरते समय घोरते। और उनकी नज़र उसके बूब्स पर ही रहती थी। फिर जब भी रिधिमा उनकी बच्ची को दूध पिलाती थी, तब भी उनके ससुर जी उनको घोरते। मुझे पहले ये सब अजीब लगा, फिर ये सब नॉर्मल लगने लगा। क्यों ऐसे खूबसूरत स्तन को तो हर कोई घोरेगा हाय। “शादी शुदा दोस्त को चोदा”

मैं अपनी रिधिमा को कभी गलत नजरों से नहीं देखता था, पर ये सब भी बदल गया। एक दिन जब मैंने रिधिमा को बोला की में गांव जा रहा हूं, तो मुझे बोला ठीक है। फिर जब 4 दिन गांव में रहने के बाद मैं उनके घर को आया तो कुछ ऐसा हुआ, जिसी मैंने कल्पना भी नहीं की थी।

मेरे पास घर की दूसरी छबी होने की वजह से मैं बिना कॉलिंग बेल बजाये और घुस गया। तब शाम के 5 बज रहे थे। मैंने अंकल को रिधिमा को बुलाते हुए सुना। फिर रिधिमा उनके कमरे में चली गई। मैं भी बिना आवाज किया वह चुपके से खड़ा देख रहा था। मैंने देखा, के अंकल रिधिमा को कुछ बोल रहे थे।

फिर तबी उन्होन रिधिमा को पक्का लिया, और उसके साथ चिपका-चिपकी करना शुरू कर दी। उनकी आंखों में रिधिमा के लिए हवा साफ नजर आ रही थी। रिधिमा ने उनसे पीछे चुढाने की बहुत कोशिश की, पर कुछ कर नहीं पा रही थी। अंकल ने ज़ोर से रिधिमा को पक्का के रखा था, और उसके स्तन को दबा रहे थे। “शादी शुदा दोस्त को चोदा”

कुछ समय वो ऐसा ही करते रहे। फिर उन्होन रिधिमा की साड़ी उतर दी। रिधिमा बहुत कोशिश कर रही थी, अपने आप को चुढाने की, पर अंकल ने उसे नहीं छोटा। फिर अंकल ने उसके ब्लाउज के 2 बटन खोल दिए, और उसके बड़े-बड़े स्तन को मसाला रहे थे।

फिर उन्होन रिधिमा की राइट साइड का एक उल्लू चुनना शुरू कर दिया। और रिधिमा के बूब्स से दूध निकल रहे थे। मैं वहा खड़ा खिडकी के पीछे से ये सब देख रहा था, और अपने लुंड पर हाथ मार रहा था।

मेरा लुंड खड़ा हो चुका था। कुछ समय रिधिमा के राइट बूब को चुनने के बाद, अंकल उसके लेफ्ट बूब्स को चूस रहा था। अब रिधिमा का दूध अंकल के मुह में जा रहा था। “शादी शुदा दोस्त को चोदा”

रिधिमा भी धीरे-धीरे गरम होने लग गई थी। अब वो चुनने के लिए ज्यादा संघर्ष नहीं कर रही थी, और मौन कर रही थी-

रिधिमा: आह आआआह ऊह हाआ नहीं आआआआह नहीं आआआह।

ऐसे करके रिधिमा महल को और रंगें बना रही थी। करीब 20 मिनट चुनने के बाद अंकल ने उसके बाकी कपड़े उतरे दिए, और खुद भी नांगे हो गए। अब वो दोनो ही नांगे थे, और अंकल ने रिधिमा को बिस्तर पे ढका देके लिता दिया। फिर उन्होन उसके होने पे किस करना शुरू कर दिया। “शादी शुदा दोस्त को चोदा”

यह मैं बहार लुंड हिला-हिला के ठक चूका था। अंकल होंथो को चुनने के बाद नीचे आए, और उन्हें अब रिधिमा की चुत को चुनना शुरू कर दिया था।

अब रिधिमा फिरसे आह उउउह आहा ऊउउह आआ ऊउउउह आआआह करके मौन कर रही थी। छुट को चुनने के बाद अंकल ने अपना लुंड रिधिमा की छुट पर सेट किया। फिर उन्होन अपना लुंड रिधिमा के चुत में दाल दिया, और उसे चोदने लगे।

कुछ समय बाद वो रिधिमा को डॉगी स्टाइल में चोदने लगे। ऐसे ही करीब 1 घंटा अंकल ने रिधिमा को छोटा। फिर छोडने के बाद उन्होन अपना माल सब रिधिमा की चुत के अंदर ही निकला दिया।

फिर दोनो नंगे ही एक साथ सोने लगे। उसके बाद मैं घर के बहार आ गया, और कॉलिंग बेल बजाई। तो अंकल ने कुछ समय बाद दरवाजा खोला, और वो मुझे देख कर शॉक हो गए। मैंने नॉर्मल एक्ट किया, और अंदर चला गया। “शादी शुदा दोस्त को चोदा”

अंदर जाके देखा रिधिमा वॉशरूम के अंदर थी। कुछ समय बाद रिधिमा वॉशरूम से बाहर आई, और ऐसा व्यवहार करने लगी, जैसे की कुछ हुआ ही नहीं था। पर मुझे तो पता था की वो रंडी बन चुकी थी। और अब मुझे अपनी रिधिमा को छोडना था।

ये भाग यही खतम होता है। दुरसी सेक्स की कहानी पढ़ने के लिए wildfantasystory.com पर जाएं।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds