शादी से पहले चुदाई की भूल भुलैया।| Group Sex Story

शादी से पहले चुदाई की भूल भुलैया।| Group Sex Story

नमस्कार दोस्तों, रितु जी की आज की कहानी शहनाज की ज़ुबानी है, धन्यवाद रितु जी, आपने मुझे अपनी कहानियाँ प्रस्तुत करने का अवसर दिया। हैलो दोस्तों ! यह मेरी कहानी है। मुझे उम्मीद है कि आप इसे पसंद करेंगे। (Group Sex Story)

हाय मेरा नाम शहनाज है। मैं जयपुर से संबंधित करती हूं। मैं शादीशुदा हूं और मुंबई में रहती हूं। रंग गोरा और फिगर 34-28-36. ये कहानी हम वक्त की है जब मेरी शादी नहीं हुई थी।

शादी से पहले मेरे बॉयफ्रेंड्स और मैंने उनके साथ बहुत कुछ किया भी था। लेकिन ये कहानी उनके बारे में नहीं है। ये घाटना मेरी शादी से 2 महिनें पहले की है। (Group Sex Story)

मैं नवी मुंबई में अपनी कॉलेज-फ्रेंड सुहू के साथ रहती थी। उसकी भी मुंबई में ही जॉब थी। हम अच्छे दोस्त और एक दूसरे से लगभाग सारी बातें शेयर करते हैं। ऑफिस गॉसिप, कौन सा लड़का पसंद है और कौन नहीं, किसके साथ घूमने गए और क्या क्या किया। अब मुख्य कहानी पे आती हूं।

मेरी शादी फिक्स हो चुकी थी। जिस लड़के से मेरी शादी होने जा रही थी उसकी अहमदाबाद में सरकारी नौकरी थी।

सुहू का एक बॉयफ्रेंड था, रजत। एक वीकेंड पर उसने कहा कि रजत वीकेंड के लिए आएगा। जो पहले भी काफी बार हो चूका था और मुझे भी इस बात से कोई परेशानी नहीं थी। अब तो रजत भी मेरा दोस्त बन चुका था। (Group Sex Story)

हम तीनो पार्टी करते, पीते पीते। फिर वो और सुहू आपस में वो सब करते हैं जो एक गर्लफ्रेंड बॉयफ्रेंड के बीच होता है। सुहू और मेरा रूम अलग था। हमारा शुक्रवार, रजत ने कॉल किया और पूछे कि हम क्या लेंगे। क्योंकि नवंबर का टाइम था और थोड़ी थोड़ी थंड थी तो हमसे तय किया गया कि व्हिस्की पाई जाए।

रात 8:30 के करीब घंटा बाजी और मैं गेट खोल गई। मुझे पता था कि रजत ही होगा। लेकिन उसके साथ 2 लड़के और द। उनमे से एक था शशांक, जिसको मैं पहले मिल चुकी थी। लेकिन दूसरे लड़कों को मैंने पहले कभी नहीं देखा था।

अब सुहू भी अपने कमरे से बाहर आ गई थी। रजत ने अपने दूसरे दोस्त से हमारा परिचय करावे। उसका नाम शोभित था। थोड़ी बातें करने के बाद हमने ड्रिंक लेना स्टार्ट कर दिया।

सुहू – शोभित को, तुम क्या करते हो?

शोभित – असल में मुख्य परीक्षा की तैयारी कर रहा हूँ।

सुहू – ओह अच्छा। शुभकामनाएं।

शोभित – धन्यवाद।

रजत- वैसे शहनाज, शादी की डेट फिक्स हुई?

मैं- हां। 02 महीने बाद है। तुझे और सुहू तो आना है, ठीक है?

शशांक- और मुझे इनवाइट नहीं करेगी?

मैं – बेशक, तुझे भी आना ही है। उम्म…शोभित, आप भी आमंत्रित हैं।

वो बस एक औपचारिकता थी।

शोभित – धन्यवाद। मैं कोशिश करूंगा।

अब हम पहले से ही थोड़ी पी चुके हैं और सुहू ने गाने लगा दिए। सब डांस करने लगे। सुहू और रजत बिल्कुल चिपक के नाच रहे थे। कुछ देर बाद शशांक ने कहा कि वो और शोभित वापस जा रहा है।

सुहू – अरे, इतनी जल्दी क्यों जा रे हो?

शशांक – यार, पापा मार डालेंगे। लास्ट वीकेंड हाय लोनावाला की ट्रिप की है राधिका के साथ (राधिका उसकी गर्लफ्रेंड थी)। अब कुछ समय तक सख्त आदेश है कि 11 बजे से पहले घर के अंदर होना चाहिए। वैसे भी आपन तो मिलते रहेंगे। तुम लोग एन्जॉय करो, और शहनाज शादी का कार्ड जल्दी भेज देना। (Group Sex Story)

मैं – ज़रूर।

शशांक शोभित से- चलें?

सुहू – अरे तुझे जल्दी जाना है, शोभित को क्यों ले जा रहा है साथ में?

शशांक – क्यूंकी शोभित मेरे साथ मेरी गाड़ी में आया है, जाते वक्त ड्रॉप कर दूंगा।

सुहू – अबे चुतिये, कैब्स नाम की कोई चीज होती है या नहीं? शोभित कैब से चला जाएगा।

रजत – हां शोभित भाई, रुक जा ना यार। तू बाद में चला जाना। वैसे भी अभी 10:30 ही बजे है

शोभित रुक गया और शशांक वापस चला गया। फिर हम वापस ड्रिंक करने लगे। लगभाग 11:30 बजे रजत बोला की यूज नींद आ रही है और वो और सुहू साथ में सोने चले गए। (Group Sex Story)

अब बस मैं और शोभित द. हमारी ड्रिंक अभी भी बच्ची हुई थी।

शोभित ने अपनी ड्रिंक टेबल पर राखी और कहा – उम्म…मुझे भी चलना चाहिए।

मैं – कम से कम अपनी ड्रिंक तो खत्म करलो।

शोभित- ठीक है।

फिर हम भी बातें करने लग गए। हमरी पीते हैं खत्म हुई तो हमने वापस अगला पेग बना लिया। कुछ डर बाद हमें कुछ अजीब आवाज़ सुनाई दी। वो सुहू के कमरे से आ रही थी। हम समझ गए कि अंदर क्या चल रहा है।

शोभित और मैं एक दूसरे को देखा और हंसने लगे। मुझे लगा कि कहीं हमारी हंसी वो लोग सुन न लें तो मैंने शोभित के मुंह पर अपना हाथ रख दिया। ‘शशशश’।

शोभित- क्या लगता है? अंदर क्या चल रहा है?

मैं- हाहा। जैसे कि तुम्हें नहीं पता।

शोभित- अरे मुझे पता है। मेरा मतलब था कि कौनसी पोजीशन में कर रहे होंगे?

मैं – तुम्हें उसमें क्या दिलचस्पी है?

शोभित- अरे बस ऐसे ही। समय पारित।

मैं पहले ही नशे में थी और अच्छे से सोच नहीं पा रही थी। और अंदर से जो जाग आ रही थी उनसे मुझे भी कुछ कुछ हो रहा था।

मैं – काउगर्ल!

शोभित – क्या !?

मैं – शशह्।

शोभित – काउगर्ल क्या?

मैं – उनकी पोजीशन।

शोभित – तुम्हें कैसे पता।

मैं- मैं सुहू की फ्लैटमेट हूं। ये पहली बार नहीं है जब ऐसा हो रहा हो।

शोभित- ठीक है। लेकिन तुम बिल्कुल केसे पाटा। तुमने करते हुए देखा है क्या उन्हें?

मैं – कुछ भी?

शोभित – तो फिर तुम्हें कैसे पता।

मैं – मैं आपको एक राज़ की बात बताता हूँ। लड़कियां आपस में बात करती है। और रजत को बस तीन पोजीशन आती है। हर स्थिति पे विभिन्न स्तरों की आवाज़ निकलती है। इसी पता है। (Group Sex Story)

शोभित- ठीक है।

कुछ डर बाद अंदर से और ज़ोर की आवाज़ आने लगी।

शोभित – ये कौनसी पोजीशन है?

मैं – डॉगी स्टाइल।

शोभित – अच्छा। (थोड़ा विराम के बाद) तुम्हें कुटिया बनाना पसंद है?

मैं चौंक गया – क्षमा करें?

शोभित- अरे बस पूछ रहे हो यार। बताओ ना, कुटिया बनाना पसंद है?

मैं – प्लीज मुझसे ऐसी बात मत करो।

उसके बाद कुछ देर तक हमें से कोई नहीं बोला। लेकिन अंदर से आ रही आवाज मुझे भी माधोश कर रही थी। फिर मैंने कहा।

मैं- हां।

शोभित- क्या?

मैं – पसंद है।

ये सुनते ही शोभित मेरे करीब आया और मेरा चेरा अपनी तरफ किया। उसके चेहरे पर मुस्कान थी। फिर वो मेरे इतने करीब आ गए कि हमारे होंड़थो के बीच अब ना के बराबर दुरी थी।

मेरी सांसे तेज थी और मैं उसकी सांसे अपने ऊपर मेहसूस कर पा रही थी। फिर शोभित ने अपना हाथ मेरे सर के पीछे रखा और मुझे अपनी और खिच लिया। हमारे होठ टकराए और वो मेरे होंठ चुमने लगे।

मुझसे भी रहा नहीं गया और मैं भी उसे चुनने लगी। अब मैं उसकी गोदी में आके बैठ गई और हम एक दूसरे को किस करे जा रहे। उसके हाथ कभी मेरी पीठ सहलाते, कभी मेरे बूब्स मसलते और कभी मेरी गांड मारो।

फिर उसने मेरा और खुद का टॉप उतारा दिया। उसने मेरी ब्रा का बटन खोलने की कोशिश की लेकिन वो उससे नहीं खुली। तो वो ब्रा के ऊपर से ही मेरे बूब्स दबने लगा। फिर मैंने खुद अपनी ब्रा को अनहुक कर दिया और मेरे बड़े दूध उसके सामने थे।

उसके कुछ पल मेरे बूब्स को घूरा और फिर उन्हें मुह में लेने के लिए चुसने लगा। “आह,” मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा था। कुछ डर बाद उसे मुझे उठाया और सोफे पे देता दिया। उसका मेरा पायजामा और पैंटी एक साथ उतार फेनकी। (Group Sex Story)

अब मैं उसके सामने पूरी नंगी थी। फिर हमें मेरी तांगे फेलै और मेरी चोट चाटने लगी। मैं उसका सर पकड़ के अपनी छूट के ऊपर दबा रही थी। लगभग 5-मिनट मेरी चुत चाटने के बाद वो खड़ा हुआ और अपनी जीन्स उतारने लगा।

मैं तुरंत सोफे से उठके सामने बैठ गई। क्योंकि अब मेरी बारी थी हमें वही ऐसे देने की जो मुझे अभी दिया था। उसे अपनी पंत उतारी और सिर्फ अंडरवियर में खड़ा हो गया तो मैंने पूछा।

मैं – ये क्यों नहीं उतारी?

शोभित – सब कुछ मैं उतार लूंगा तो तू क्या करेगी?

मैंने उसकी अंडरवियर के ऊपर से उसके लुंड को किस किया और फिर उसका अंडरवियर उतार दिया। उसका लगभाग 7-इंच का लंड अब मेरे सामने था। फिर मैंने उसके लंड को अपने मुह में लिया।

फिर लगभाग 5 मिनट तक उसी पोजीशन में मैं उसका लुंड चुस रही थी। उसके बाद मैंने सोफे पे बैठने को कहा। वो सोफे पे बैठा और मैं उसके ऊपर आ गई।

मैं उसका लुंड अपनी चुत पे लगाके उस्पे बैठने ही वाली थी कि सुहू के कमरे का दरवाजा खुला।

आगे की कहानी अगले भाग में। अगर आपको ये कहानी अच्छी लगी तो कमेंट में लिखके जरूर बताना।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds