मैंने अपनी सेक्सी मुस्लिम बेटी को चोद कर उसको माँ बनाया

मैंने अपनी सेक्सी मुस्लिम बेटी को चोद कर उसको माँ बनाया

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम पंकज उदास है और मै लाया हू एक मजेदार चुदाई स्टोरी, आज मै आपको बताने जा रहा हू की कैसे मैंने अपनी सेक्सी मुस्लिम बेटी को चोद कर उसको माँ बनाया , मै दावे के साथ कह सकता हू इसे पढ़कर आपकी पैंट गीली हो जाएगी तो चलिए शुरू करते है बिना किसी देरी के,

मुस्लिम सेक्स स्टोरी: दोस्तों आज इस सेक्स स्टोरी में मैंने एक मुंहबोली बेटी की गांड चुदाई की कहानी लिखी है. मैंने अपनी मुंहबोली बेटी शेहनाज की गांड कैसे चोदी.

इसका आनंद ले। दरअसल शेहनाज मेरी बीवी के भाई की बेटी है। हमने उसे पाला है क्योंकि शेहनाज की असली माँ और पिता की एक सड़क दुर्घटना में मृत्यु हो गई थी।

मेरी बेटी शेहनाज 16 साल की है। उसके गोल स्तन 34 इंच के हैं. लचीली कमर 30 इंच और उठी हुई गांड 36 इंच है. वह बहुत बढ़िया चीज़ है. उसकी चूत पर अभी हल्के बाल उगने शुरू हुए थे.

गोरी गोरी जांघें और चूसने लायक रसीले होंठ… बड़ी-बड़ी आंखें… लंबे और घने बाल। बस इतना समझ लो कि मेरी बेटी सपनों की परी और चुदाई में रंडी है. जो भी उसे एक बार चोद लेगा वो मरने के बाद भी नहीं भूलेगा.

कई बार मैंने अपनी बेटी से कहा कि वह बॉलीवुड में किसी डायरेक्टर को प्रभावित करे और उसे अपनी कसी हुई चूत के दर्शन कराए। एक बार वो डायरेक्टर तुम्हें चोद दे तो समझ लेना कि तुम्हें फिल्म में काम जरूर मिलेगा.

आप बहुत सेक्सी, हॉट और खूबसूरत भी हैं… इसमें एक मिनट भी नहीं लगेगा. लेकिन वो मुझे हर बार मना करती रही और कहती रही कि अब्बू मैं आपके लंड की दीवानी हो गयी हूँ. मैं बस जिंदगी भर तुमसे चुदवाना चाहती हूँ। तुम्हारा

सबसे अच्छा लंड है. मेरी चूत में एकदम फिट बैठता है. मैं अपनी बेटी को पहले भी कई बार चोद चुका हूँ. अभी कुछ ही दिन पहले की बात है, पूरे देश में लॉकडाउन के कारण सब कुछ बंद था।

इसलिए सब्जी लेने के लिए दूर जाना पड़ता था और सब्जी भी सुबह ही लानी पड़ती थी। यात्रा करने में बहुत समय लगता था. तो उस दिन मेरी पत्नी सब्जी लेने चली गयी. उसे लौटने में पूरे 1|30 घंटे लगेंगे.

उस समय सुबह के नौ बजे थे. घर में मैं और मेरी बेटी थी . उस दिन बहुत सुहावना मौसम था. मेरी बेटी नहा कर बाहर आई और किचन में चली गयी. उसने अपने नंगे बदन को सिर्फ तौलिए से ढक रखा था.

जब मैं चाय बनाने के लिए रसोई में गया तो देखा कि मेरी बेटी वहाँ तौलिया लपेटे खड़ी चाय बना रही थी। उसका भीगा बदन और गीले बाल बहुत ही सुन्दर लग रहे थे. उसने ऊपर सिर्फ तौलिया लपेटा हुआ था, जिससे उसका अधनंगा बदन मेरे लंड में हवा भर रहा था.

सच में वो इस वक्त बहुत खूबसूरत, सेक्सी और हॉट लग रही थी. बिल्कुल एक कामुक वेश्या की तरह। वो बहुत अच्छी रंडी लग रही थी. उसे देखते ही मेरा लंड खड़ा हो गया. मैंने बिना सोचे उसे पीछे से पकड़ लिया.

वो बोली- अब्बू, क्या कर रहे हो, छोड़ो, अम्मा आ जायेंगी. मैंने कहा- इतनी बढ़िया चीज़ को मैं कैसे छोड़ सकता हूँ? ऐसी चीज़ को ऐसी हालत में देख कर मैं चोदे बिना नहीं रह पाता. आज तुम बहुत सेक्सी लग रही हो.

मैं उसके स्तनों को मसलने लगा. वह एक हाथ से उसके स्तन दबाता रहा और दूसरे हाथ से उसका तौलिया ऊपर उठाकर उसकी गांड को सहलाता रहा। शेहनाज ने अन्दर ब्रा और पैंटी नहीं पहनी थी.

अंदर से तो उसका चोदने का बहुत मन कर रहा था, लेकिन बाहर से वो बार-बार खुद को छुड़ाने की कोशिश कर रही थी. मैं कुछ देर तक ऐसे ही करता रहा. उसके बाद मैंने उसका चेहरा अपनी तरफ किया और उसके मुलायम और मखमली होंठों को चूसने लगा.

उसने अपने दोनों हाथ उसके गालों पर रख दिये और उसके होंठों को चूसने लगा. आह्ह… क्या शहद से भरे होंठ हैं मेरे, शेहनाज के गुलाब की पंखुड़ियों जैसे मुलायम। अब तो वो और भी गर्म होने लगी थी.

वो भी मेरे होंठों को चूस रही थी. कुछ ही पलों में शेहनाज बहुत गर्म होने लगी और मुझे जगह जगह चूमने लगी. कभी वो मेरे माथे को, कभी मेरे गाल को, कभी मेरी गर्दन को चूमती रही. उसका हर चुम्बन मेरे शरीर में हलचल पैदा कर रहा था।

इसी बीच मैंने उसका तौलिया उसके शरीर से अलग कर दिया और उसे पूरी नंगी कर दिया. आह क्या अद्भुत संगमरमर जैसी वस्तु थी, मेरी आँखों में नशा आ रहा था। 

अगर मेरे अलावा मेरी बेटी भी बाहर की रांड बनेगी तो मुझे उसके सेक्सी बदन के लिए एक रात के कम से कम 5 लाख रुपये मिलेंगे. मेरी बेटी शेहनाज बहुत हॉट और सेक्सी लड़की है! अब मैंने शेहनाज को किचन स्लैब पर बैठा दिया.

उसकी टांगों को फैलाया और उसकी चूत को चाटने लगा. मेरी जीभ उसकी चूत के अन्दर तक मजा ले रही थी. शेहनाज भी सेक्स से गर्म होने लगी और आहें भरने लगी. उसकी कराहने की आवाज़ तेज़ होने लगी. उसके चूत के छेद से पानी रिसने लगा था।

‘ओह्ह अब्बू…’ मैं उसकी चूत से निकल रहे पानी को चाट रहा था और अपनी जीभ भी अन्दर तक डाल रहा था। मैं काफी देर तक उसकी चूत का रस चूसता रहा. अब मेरी शेहनाज बहुत गरम हो गयी थी.

वो कहने लगी- अब्बू … अब बर्दाश्त नहीं होता, जल्दी अन्दर डालो. तीन बार मुझसे चुदने के बाद उसकी शर्म ख़त्म हो गयी. तो वो खुद ही कहने लगी- आह मेरे राजा, तुम मुझे कब चोदोगे?

आह अपनी इस रंडी को जल्दी से चोद वरना माँ आ जाएगी. सुबह मेरा चुदाई करने का बिल्कुल भी मन नहीं था. लेकिन पापा आप इतने सेक्सी हो कि आपने मुझे चोदने पर मजबूर कर दिया.

अब जल्दी से अपना सात इंच का लंड मेरी कोमल चूत में डालो और मेरी मासूम चूत के टुकड़े-टुकड़े कर दो। मैंने उससे कहा- बेटी, आज मुझे तुम्हारी गांड चोदने का मन हो रहा है. उसने कहा- अब्बा, जो करना है करो, लेकिन जल्दी करो.

मुझे पता था कि मेरा लंड उसकी गांड में आसानी से नहीं घुसेगा, इसलिए मैंने रसोई से तेल निकाला और उससे कहा- बेटा, पहले अपने पापा के लंड की मालिश करो, तभी यह तुम्हारी कुंवारी गांड में घुस पायेगा.

शेहनाज ने सबसे पहले लौड़ा मुँह में लेकर चूसना शुरू किया। वो काफी देर तक ऐसे ही मेरा लंड चूसती रही. वो न सिर्फ किसी पोर्न स्टार की तरह मेरा लंड चूस रही थी.. बल्कि मेरे अंडकोष भी चूस रही थी।

शेहनाज दस मिनट तक मेरा लंड चूसती रही… फिर मेरा लंड झड़ने वाला था. मैंने कहा- शेहनाज बेटा, मैं झड़ने वाला हूं. लेकिन उसने मेरी बात को अनसुना कर दिया और मेरा लंड चूसती रही. फिर आगे क्या हुआ.

मेरे लंड का सारा वीर्य उसके मुँह के अंदर चला गया. उसने मजे से सारा वीर्य चाट लिया और मेरा लंड भी चूस कर साफ कर दिया. अब वह कहने लगी- अब्बू, आपके लंड का वीर्य इतना स्वादिष्ट है कि मैं सारा पी गयी.

इसका स्वाद बहुत अच्छा था. उसके बाद शेहनाज मेरे सीने से चिपक गयी. कुछ देर ऐसे ही रहने के बाद वो पूछने लगी- अब्बू, आपका लंड दोबारा कब खड़ा होगा, आपको तो अपनी बेटी की गांड भी मारनी है ना?

मैंने कहा- मैं आपके सामने हूँ.. आप जब चाहें मेरा लंड खड़ा कर सकती हैं। वह हंसी। फिर उसने अचानक फ्रिज से क्रीम निकाली और मेरे लंड पर लगा दी और चाटने लगी. उसने मेरे लंड को आइसक्रीम की तरह चाट चाट कर लाल कर दिया.

मैंने उससे कहा- बेटा, तुमने तो मेरा लंड चाट-चाट कर लाल कर दिया है. फिर वो हंसने लगी और बोली- अब्बा, आप भी मेरी चूत को चाट-चाट कर लाल कर देते हो. फिर वो मेरे लंड पर तेल की मालिश करने लगी.

वो काफी देर तक खूब सारा तेल लगा कर मालिश करती रही. अब मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया था. शेहनाज अभी भी गर्म थी… बोली- अब्बा, तुम मेरी प्यास कब बुझाओगे?

मैंने कहा- अभी ले लो बेटी. इसी बीच मैंने अपनी उंगली उसकी चूत में डालनी शुरू कर दी और धीरे-धीरे अन्दर-बाहर करने लगा। उसे बहुत मजा आ रहा था. कुछ देर तक ऐसा करने से मेरा लंड उसकी गांड में घुसने के लिए पूरी तरह से तैयार हो गया.

आज मैं अपनी रंडी बेटी की गांड चोदने के लिए बेताब था. मैंने कहा तेरे पापा का लंड तो सख्त हो गया है. वह बोली पापा अब देर मत करो आज अपनी नाजुक बेटी की बुर चोदो।

मैंने उससे कहा- तो फिर बेडरूम में चलते हैं, वहीं तुम्हारी गांड चोदूंगा. वो बोली हां चलो. हम दोनों चलने लगे, तभी उसने तेल की शीशी उठाई और मुझसे बोली- तुम अपनी रांड बेटी को ऐसे ही उठाओगे, गोद में उठा कर ले चलो. |

मैंने अपनी नंगी बेटी को गोद में उठा लिया और वो मेरे होंठों को चूसते हुए मेरे साथ खेलने लगी. मैं उसे बेडरूम में ले आया और बिस्तर पर पटक दिया. उसने उसे उल्टा कर दिया और उसकी गांड को चूमने लगा. उसकी गांड को अपनी जीभ से चाटने लगा.

आह, क्या मस्त गांड थी मेरी बेटी की. मैं काफी देर तक उसकी गांड चाटता रहा. मेरे लंड पर पहले से ही तेल लगा हुआ था तो मैंने बोतल से थोड़ा तेल निकाला और अपनी बेटी की गांड में भी डाल दिया.

फिर मैंने अपना लंड उसकी गांड के छेद पर रखा और अंदर धकेलने लगा. चूंकि यह उसका पहली बार था इसलिए लंड उसकी गांड में नहीं घुस रहा था. मैंने थोड़ा सा धक्का लगाया तो वो थोड़ा अन्दर चला गया.

मेरी बेटी चिल्लाने लगी- अब्बू, बहुत दर्द हो रहा है … आह अपना लंड निकालो, प्लीज़ बाहर निकालो. मैंने कहा- बेटा, जब मैंने पहली बार तुम्हारी चूत की सील फटी थी तो दर्द भी हुआ था.

बस थोड़ी देर के लिए दर्द होगा. थोड़ी देर ऐसे ही चुप रहो.. फिर मजा आएगा। वह शांत हो गयी. मैं भी बिना हिले वहीं पड़ा रहा. कुछ देर बाद मैंने एक ही झटके में अपना पूरा लंड अपनी बेटी की गांड में घुसा दिया.

दर्द के मारे उसकी हालत ख़राब हो गयी. उनके आंसू निकल पड़े. वह चिल्ला रही थी. मुझे उसकी चीखने में बहुत मजा आ रहा था. लेकिन मैं नहीं रुका, धीरे धीरे ज़राकी की गांड में धक्के लगाने लगा.

मैं पांच मिनट तक ऐसे ही अपनी बेटी की गांड चोदता रहा. अब दर्द कम होने लगा और वो भी मेरा साथ देने लगी. मेरी बेटी अपनी गांड उछाल-उछाल कर मेरे लंड का मजा लेने लगी.

वो कहने लगी- आह, आज कितना मजा आ रहा है अपने अब्बू से अपनी गांड मरवाने में, ओह्ह अब्बू, आह जोर से चोदो अपनी बेटी की गांड, आह्ह फाड़ दो अपनी बेटी की गांड, ओह्ह मेरे राजा, और जोर से धक्के लगाओ अब्बू.

उसकी आवाजें सुन कर मेरे धक्को की स्पीड बढ़ गयी थी. मेरी बेटी कहने लगी- अब्बा, जब आप झड़ने वाले हों तो सीधे लंड को चूत में डालना और लंड का वीर्य चूत में ही छोड़ना.

मुझे माँ बना दो… आह्ह अब्बू || मैं तुमसे प्यार करता हूँ मेरी जान, मेरे प्यारे दिल, आह्ह पेलो अब्बू पेलो। मैं ऐसे ही गांड में धक्के लगाता रहा. कुछ देर बाद मैंने शेहनाज को सीधी तरफ घुमाया और फिर से उसकी गांड में अपना लंड डाल दिया और उसे चोदने लगा.

वह उसके स्तन भी दबाने लगा. शेहनाज ने मेरा मुँह नीचे खींचा और अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिये और चूसने लगी. मैं भी उसके होंठों को चूसने लगा. गांड में लंड के धक्को की रफ़्तार जारी रही.

मैंने कहा- बेटा, मैं झड़ने वाला हूँ। वह कहने लगी- अब्बा, थोड़ी देर रुको और अपना लंड भी चूत में डालो. तो मैं थोड़ी देर रुका और मैंने भी उसकी टांगें ऊपर उठाईं और एक ही झटके में अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया और शेहनाज को चोदने लगा.

मैं बड़बड़ाने लगा – आह्ह, क्या मजा आ रहा है मेरी चूत में, बहुत टाइट चूत है मेरी बेटी की. अब शेहनाज की कराहें पूरे कमरे में चलने लगीं. शेहनाज की आवाजें तेज़ होने लगीं.

आअहह अब्बू… चोदो अपनी रानी को… आअहह ओह्ह्ह उव्विई… उविइइइइ अम्मी, मेरे पापा ने नाजुक कली को मसल दो … आअहह अब्बू ऊह्ह्ह अब्बू, उनकी गर्म सांसें मेरे चेहरे पर पड़ने लगीं और कराहें तेज हो गईं.

शेहनाज की आवाजों से कमरा गूंजने लगा. वो मुझसे मिन्नतें करने लगी- अब्बू, मुझे पूरी ताकत से चोदो, अपने धक्को की स्पीड बढ़ाओ और अपनी बेटी को रगड़ो. आह, चोद डालो अपनी बेटी को, आज मुझे अच्छे से रगड़ दो।

मैं अपने पापा में पूरी तरह समा जाना चाहती हूँ, आह मुझे निचोड़ लो पापा. कुछ देर तक ऐसे ही धक्के लगाने के बाद मैंने अपने लंड का माल ज़राकी की चूत में ही छोड़ दिया.

कुछ देर तक मेरे लंड को उसकी चूत में फंसाये रखा और फिर बाहर निकाल कर शेहनाज ने मेरे लंड को चूस कर साफ कर दिया. उसने मुझे अपने सीने से लगा लिया और जोर से चूमा और बोली- अब्बा, आज आपने मुझे गांड और चूत दोनों का भरपूर मजा दिया.

सच कहूँ पापा, सुबह के समय चोदने में अलग ही मजा है। अब हम ज्यादातर सुबह के वक्त सेक्स का मजा लेंगे. अब्बू, जब मैं बाथरूम में नहा रही थी तो उस वक्त यही सोच रही थी.

कि काश मेरे पापा बाथरूम में आकर अपनी बेटी को ढेर सारा वीर्य पिलाते. उस वक्त मुझे चुदाई करवाने का बहुत मन कर रहा था. जब मैंने अपने स्तनों पर साबुन लगाया तो ढेर सारा झाग बन गया और मेरी चूत गर्म हो गई।

मैंने कहा- कोई बात नहीं बेटा, अब जब भी बाथरूम में चोदने का मन हो तो बता देना, तुम्हारी जैसी हॉट लेडी को कहीं भी चोदूंगा, आज तो सच में बहुत मजा आ रहा है. सुबह सुबह तेरी गांड चोदने के लिए. आया

मैंने फिर से उसके होंठों को चूसना शुरू कर दिया और वो मेरे सीने से चिपक गई और अपने मम्मों को मुझसे रगड़ने लगी. तो दोस्तो, ये थी मेरी ओरल डॉटर सेक्स स्टोरी. अगर आपको कहानी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें. हमारी वेबसाइट wildfantasystory.com/ आपके लिए ऐसी मजेदार सेक्स कहानियां लता रहूँगा .

दोस्तों मुझे मेरी कहानियों पर बहुत अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है. मुझे उम्मीद नहीं थी कि आप सबको मेरी कहानी इतनी पसंद आएगी. तो देखा आपने कैसे अपनी सेक्सी मुस्लिम बेटी को चोद कर उसको माँ बनाया ,दोस्तों कैसी लगी मेरी स्टोरी मैंने कहा था आपकी पैंट गीली होने वाली है , तो चलिए मिलते है अगली स्टोरी मैं तब तक के लिए अपना दिन रखिये | और हिंदी सेक्स स्टोरी पढ़ने के लिए हिंदी सेक्स स्टोरी पर क्लिक करे

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds