सेक्सी आंटी को रंडी बनाकर चोदा और चरम सुख दिया

सेक्सी आंटी को रंडी बनाकर चोदा और चरम सुख दिया

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम पंकज उदास है और मै लाया हू एक मजेदार चुदाई स्टोरी, आज मै आपको बताने जा रहा हू की कैसे मैंने सेक्सी आंटी को रंडी बनाकर चोदा , मै दावे के साथ कह सकता हू इसे पढ़कर आपकी पैंट गीली हो जाएगी तो चलिए शुरू करते है बिना किसी देरी के,

मेरी माँ की सहेली सविता आंटी बहुत सेक्सी और हॉट थी. मैं अक्सर अपनी मां के साथ चाय पीने हमारे घर आता था और हम दोनों घंटों बातें करते थे। लेकिन मेरा ध्यान तो सविता आंटी के बड़े स्तनों और उनके सेक्सी फिगर पर ही था. मैंने उसके जैसी हॉट औरत कभी नहीं देखी और मैं रात को उसके बारे में सोच कर ही हस्तमैथुन करता था। और मुझे अपनी आंटी को चोदने की बहुत ज्यादा इच्छा थी जिसके लिए मैंने पढ़ाई भी शुरू कर दी थी.

मैं उसके मजबूत शरीर और उसके खूबसूरत गोरे बदन के बारे में सोच कर और उसकी याद में मुठ मारता था। ऐसा लग रहा था कि आंटी को चोदने का सपना कभी पूरा नहीं होगा, लेकिन उस दिन सब कुछ बदल गया. जब ,

आंटी हमारे घर एक रात रुकने के लिए आई थीं. उस दिन उसने नीले रंग की साड़ी पहनी हुई थी और कसम से वो उसमें बहुत हॉट और सेक्सी लग रही थी. उसे देखते ही मेरा लंड खड़ा हो गया.

वह चोदने के लिए तड़पने लगा और मैंने अपनी भावनाओं पर काबू पा लिया। हर बार की तरह माँ और आंटी काफी देर तक बातें कर रही थीं और मैं अपने कमरे में अकेला था और आंटी के बारे में सोच रहा था।

रात बहुत हो चुकी थी और आंटी सोने के लिए अपने कमरे में चली गईं, माँ पापा के साथ अपने कमरे में चली गया । मुझे नींद नहीं आ रही थी और पूरी रात आंटी के हॉट फिगर के बारे में सोचता रहा.

तो मेरे मन में एक चुनौती थी और मैंने सोचा कि क्यों ना मैं चुपके से आंटी के कमरे में जाकर देखूँ और उन्हें चोदकर अपनी वासना शांत कर लूँ। मैं आंटी के कमरे के पास पहुँच गया और दरवाजे के पीछे से उनके कमरे में झाँकने लगा।

जब मैंने देखा कि आंटी मोबाइल पर पोर्न वीडियो देख रही थी और अपनी चूत में उंगली कर रही थी तो मेरी आँखें फटी की फटी रह गईं। आंटी की खूबसूरत गोरी चूत देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया और उसमें से पानी टपकने लगा.

मैंने अपना हाथ अपनी योनि के अंदर डाल दिया और अपने लिंग की मालिश करने लगा। मैं अपनी चूत में उंगली कर रहा था जहाँ मैं अपना लंड रगड़ रहा था। तभी अचानक दरवाज़ा खुला.

आंटी ने मुझे देखा और डर के मारे अपनी बेडशीट हिलाने लगीं. मेरा लंड पजामे के बाहर खड़ा सलामी दे रहा था. आंटी बोली- सूरज बेटा, तुम यहाँ क्या कर रहे हो?

मैं, कुछ नहीं आंटी, बस में यहीं से गुजर रहा था कि दरवाजा खुला। आंटी, की तुम और तुम्हारे लंड को देखकर नहीं लग रहा की तुम यहाँ से गुजर रहे थे।

आंटी, ओह सूरज , तुम्हारा टॉप तो तुम्हारी उम्र के हिसाब से बहुत बड़ा है.!! मुझे लगा कि मैं सपने में हूं या फिर आंटी सच में मुझसे ऐसे बात कर रही हैं। तो मैंने आंटी से पूछा कि आप क्या कह रही हो? !

आंटी, चलो सूरज , अब इतने भोले मत बनो, तुम्हारा लंड काफी बड़ा हो गया है. आंटी ने अपने दोनों पैर फैलाये और अपनी उभरी हुई चूत दिखाते हुए बोली, सूरज इधर आओ!!!

उस दिन तो मेरी मानो चांदी हो गई, मेरे मन में एक नहीं बल्कि एक दर्जन लड्डू फूट रहे थे। मैंने सेक्सी आंटी को रंडी बनाकर चोदा. मैं आंटी की चूत के पास गया और आंटी ने मेरा मुँह पकड़ लिया और मेरा मुँह अपनी गीली चूत में डाल दिया.

आंटी गिली गिली की गोरी चूत से बहुत अच्छी खुशबू आ रही थी और उसे चाटने में उन्हें बहुत मज़ा आ रहा था। आंटी , आह!! आह!! सूरज … तुम बहुत अच्छा चाटते हो!!!

मुझे यकीन ही नहीं हो रहा था कि कोई औरत ऐसी बातें कह सकती है, लेकिन ये सब सच में हो रहा था. मुझे ये सब कुछ सेक्स कहानियों जैसा लग रहा था. लेकिन मैंने इस बारे में ज्यादा नहीं सोचा.

आंटी की चूत चाटने के बाद उसने अपना मोटा लंड आंटी की चूत में डाल दिया. मैं बहुत दिनों से अपनी आंटी को चोदना चाहता था और अब मुझे ये मौका मिल गया है.

मैं आंटी को जोर जोर से उनकी चूत चोदने लगा. मेरे लंड के प्रहार से आंटी के बड़े बड़े स्तन ऊपर नीचे हिल रहे थे. आंटी , आओ, आओ, आओ… तुम बहुत शक्तिशाली हो…!!सूरज ??!!!

मैंने कहा- सच में आंटी… क्या आपको मेरी चुदाई में मजा आ रहा है?!!! आंटी, हाँ! हाँ! मुझे बहुत मजा आ रहा है…तेरी चुदाई से, चोद अपनी आंटी को, जोर से चोद मुझे!!

यह सुनकर मेरे लंड में बिजली दौड़ गई और मैंने आंटी को जोर से पकड़ लिया और जोर जोर से चोदने लगा. फिर मैंने आंटी के बड़े स्तनों को सहारा बनाकर पकड़ लिया और उन्हें जोर जोर से चोदने लगा.

आंटी, अरे!!! तुम… मेरी ब्रैस्ट उखाड़ दोगे…!!! मैं आंटी को जोर जोर से चोदे जा रहा था और फिर आंटी के बड़े बड़े मम्मों पर छोटे छोटे वार भी कर रहा था. मैं, रंडी आंटी!! मजा आ रहा है ना!!!

आंटी , हाँ…सूरज …तेरी आंटी तो रंडी है…उसे रांड बना कर चोदो!!!! फिर मैंने आंटी को घोड़ी बना दिया और उनकी चूत को जोर जोर से चोदने लगा. मैं जितनी बार आंटी की गांड पर अपना लंड रख कर बात कर रहा था

आंटी की गांड बीच-बीच में हिल जाती थी. चोदते समय मैं आंटी के नितंबों पर थप्पड़ मार रहा था और उनकी पीठ भी खरोंच रहा था, मतलब मैं उन्हें बहुत ज़ोर से चोद रहा था।

आंटी, तुम तो चोदने में एक्सपर्ट हो सूरज , मुझे तो बार बार ऑर्गेज्म हो रहा है..!!! मैं, ये ले रंडी आंटी, मैं तुझे और जोर से चोदूंगा!!! फिर मैंने आंटी को अपने ऊपर लेटा लिया और थोड़ा ऊपर उठाकर ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा.

मेरी तेज़ गति से चुदाई के कारण आंटी को बार-बार चरमसुख मिल रहा था जिसके कारण वो अपना मुँह दाएँ-बाएँ कर रही थीं। वो नशे में धुत्त औरत की तरह बोल रही थी, हाँ सूरज , चोदो मुझे, चोदो मुझे, तुम्हारे चाचा मुझे नहीं चोद पाते, तुम ही तो हो जो मुझे शारीरिक संतुष्टि दे रहे हो!!!

मैं भी झड़ने वाला था तो मैंने आंटी की गांड में उंगली डाल दी और जोर जोर से चोदने लगा. मैं उसे बहुत तेजी से चोद रहा था और झड़ने वाला था.

मैंने अपना सारा वीर्य आंटी की चूत में उगल दिया। आंटी, आओ! आइए… आह्ह….!!! ऊऊह… आ आ आ आआहह!!!!!!….!!!! मैं, ओह!!! ओह!!! बहनचोद!!!!!! चूत को चोदने में कितना मजा आता है……!!!

आंटी को इतनी जोर से चोदने में मेरा शरीर टूट चुका था और आंटी भी बार-बार कामोत्तेजना से पूरी तरह टूट चुकी थीं। वो बेबस की तरह मेरे ऊपर गिर पड़ी और हम दोनों जोर-जोर से साँसें लेने लगे।

फिर आंटी ने मुझे अपना दूध को पकड़ बोली मेरा दूध पीकर सो जाओ तुम्हे भूक भी लगी होगी और थक भी गए होंगे फिर में आंटी को दूध को अपने मुँह के अंदर रखकर चूसने लगा और उनसे चिपक कर सो गया ।

अगर आपको कहानी पसंद आई हो तो प्लीज इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें. हमारी वेबसाइट wildfantasystory.com/ आपके लिए ऐसी मजेदार सेक्स कहानियां लाता रहूँगा .

दोस्तों मुझे मेरी कहानियों पर बहुत अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है. मुझे उम्मीद नहीं थी कि आप सबको मेरी कहानी इतनी पसंद आएगी. तो देखा आपने कैसे मैंने सेक्सी आंटी को रंडी बनाकर चोदा ,दोस्तों कैसी लगी मेरी स्टोरी मैंने कहा था आपकी पैंट गीली होने वाली है , तो चलिए मिलते है अगली स्टोरी मैं तब तक के लिए अपना दिन रखिये | और हिंदी सेक्स स्टोरी पढ़ने के लिए हिंदी सेक्स स्टोरी पर क्लिक करे

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds