स्कूल टीचर ने मेरी जमकर गांड मारी और मुझे गांड चुदाई का मजा दिया

स्कूल टीचर ने मेरी जमकर गांड मारी और मुझे गांड चुदाई का मजा दिया

नमस्कार दोस्तों। मेरा नाम रोहित कुमार है. आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेरे “स्कूल टीचर ने मेरी जमकर गांड मारी और मुझे गांड चुदाई का मजा दिया”

मैं थोड़ा साँवला हूँ लेकिन बहुत चिकना हूँ, बिल्कुल लड़कियों की तरह। मेरे होंठ हल्के गुलाबी और पतली कमर है।

मेरी गांड मेरे शरीर के हिसाब से बहुत मोटी और कसी हुई है। मेरी छाती का उभार बिल्कुल किसी लड़की के उभरे हुए स्तनों जैसा दिखता है।

जब मैं जींस या कोई टाइट-फिटिंग कपड़े पहनती हूं तो मेरी गांड एकदम साफ दिखने लगती है. जब मैं घर से निकलता हूं तो उन्हीं कपड़ों में

तो मैंने कई बार नोटिस किया कि कई लड़के मुझे बहुत घूरते थे, जैसे वो लड़कियों को देखते हैं। मुझे ये समझ नहीं आया इसलिए मैंने कभी इस पर ध्यान ही नहीं दिया.

ये बात कुछ समय पहले की है, जब मैं पढ़ाई कर रहा था. मैं पहले दूसरे स्कूल में पढ़ता था. उसके बाद मैं इस स्कूल में आया.

दो साल तक मेरी तबीयत बहुत खराब रही, जिसके कारण स्कूल की पढ़ाई में दो साल की देरी हो गयी. उस वक्त मेरी उम्र 18 साल से ज्यादा थी.

हालाँकि मैं पढ़ने-लिखने में अच्छा था, लेकिन मेरी अंग्रेजी थोड़ी कमजोर थी। जब मैंने यहां एडमिशन लिया तो मुझे यहां की हर चीज बहुत पसंद आई।

लेकिन मेरे अंग्रेज बॉस ने मुझे कुछ अजीब नजरों से देखा। उसका नाम रमेश था और वो दिखने में बहुत स्मार्ट था. अपनी लंबी हाइट के कारण वह बिल्कुल ऋतिक रोशन की तरह दिखते थे।

कुछ दिनों तक पढ़ाई वैसे ही चलती रही. फिर एक दिन रमेश सर ने होमवर्क दिया तो कई बच्चों की तरह मैं भी उनका दिया हुआ होमवर्क नहीं कर पाया.

अगले दिन जब सर ने सभी से कहा कि जिसने भी होमवर्क नहीं किया है वह क्लास छोड़कर चला जाए। यह सुनकर मैं भी कुछ विद्यार्थियों के साथ कक्षा से बाहर आ गया।

हम उस दिन पूरे समय ऐसे ही बाहर खड़े रहे। जब अंग्रेजी काल समाप्त हुआ तो साहब बाहर आये।

उन्होंने हमें घूर कर देखा और कहा- अब सब बच्चे अंदर जाओ. आज पहली बार था इसलिए सबको छोड़ कर जा रहा हूँ, अगली बार सारा होमवर्क कर लेना।

हम सबने हाँ में सिर हिलाया और अन्दर जाने लगे। मैं सभी विद्यार्थियों के साथ अन्दर जाने लगा तो सर ने कहा- मेरी ये किताबें स्टाफ रूम में ले जाओ।

मैंने उससे किताबें ले लीं और उसके पीछे-पीछे चलने लगा। जब हम स्टाफ रूम में पहुंचे तो वहां अभी तक कोई नहीं था.

सर ने मुझसे कहा- इसे यहीं रख दो. मैं किताबें रखकर जाने लगा तो सर बोले- यहीं सुनो. मैं उनके पास गया। साहब कुर्सी पर बैठे थे.

उन्होंने कहा- तुमने अपना होमवर्क क्यों नहीं किया, तुम पढ़ाई में अच्छे हो. मैंने कहा- सर, मुझे समझ नहीं आ रहा था इसलिए मैं काम नहीं कर पाया. मेरी अंग्रेजी थोड़ी कमजोर है.

सर बोले- तुम अपनी इंग्लिश की ट्यूशन क्यों नहीं लगवा लेते? मैंने कहा- तलाश तो कर रहा हूँ, पर अभी तक कोई मिली नहीं।

सर बोले- अगर तुम मुझसे पढ़ना चाहो.. तो मैं पढ़ा सकता हूँ। मैंने कहा- ठीक है सर.. मैं घर पर बात करूंगा.. और आपको कल बताऊंगा। सर ने मुझे घूर कर देखा और जाने की इजाजत दे दी.

मैंने सर के घर जाकर पढ़ने की इजाज़त ले ली और अगले दिन मैंने सर से कहा- ठीक है सर, मैं आपके साथ पढ़ने के लिए तैयार हूँ। मुझे कितने बजे आना होगा और कितनी फीस देनी होगी?

सर ने कहा- 500 रुपये फीस भर दो और शाम को 7-8 बजे तक घर आ जाना. इसके बाद सर ने मुझे अपना मोबाइल नंबर दिया

और उन्होंने उस इलाके का पता देते हुए जहां उनका घर था, कहा कि मेरे घर के पास आकर मुझे फोन करो, मैं तुम्हें अपने घर का रास्ता बता दूंगा.

शाम को 7 बजे मैं सर के घर के पास पहुंचा और उन्हें फोन किया तो सर ने मुझे लोकेशन बता दी. मैं उसके घर पहुंच गया.

सर मुझे पढ़ाने लगे और मुझ पर नज़र रखने लगे. मैंने कॉपी खोली और बड़े ध्यान से पढ़ रहा था. वो मुझे पढ़ाते समय कभी मेरे कंधे पर, कभी मेरी पीठ पर तो कभी मेरी जांघ पर हाथ रखकर मुझे समझाते थे.

मुझे भी सर की इस हरकत से बहुत मजा आ रहा था. एक घंटे के बाद जब मैं अपने घर जाने लगा तो सर ने कहा कि जो मैंने पढ़ाया है उसे घर जाकर दोहराऊं और कल होमवर्क करके वापस आऊं.. नहीं तो मुझे सज़ा मिलेगी.

इतना कह कर उसने मेरी गांड पर जोर से तमाचा मारा और मुस्कुराने लगा. मैंने भी इसे सामान्य घटना समझा और मुस्कुराते हुए घर आ गया.

उस रात मुझे रह-रहकर सर की याद आ रही थी और खास तौर पर उनका मेरी गांड पर मारना मुझे अन्दर से बेचैन कर रहा था. मुझे खुद भी समझ नहीं आ रहा था कि ऐसा क्यों हो रहा है.

फिर मैं अगले दिन इंग्लिश पीरियड खत्म होते ही स्कूल चला गया. तो सर ने मुझे फिर किताबें लेने का इशारा किया.

मैंने किताबें ले लीं और जैसे ही स्टाफ किताबें रखकर कमरे से लौटने लगा. गेट पर रमेश सर खड़े थे और उन्होंने मुझे मुस्कुराते हुए देखा और मेरी गांड पर फिर से हाथ मारा.

मुझे भी अच्छा लगा और मैंने मुस्कुरा कर उसकी तरफ देखा. कुछ दिनों तक ये सब ऐसे ही चलता रहा. फिर एक दिन जब मैं घर से सर के यहाँ के लिए निकला तो मौसम थोड़ा ख़राब हो गया था।

कुछ दूर पहुंचने के बाद तेज बारिश होने लगी. अब तक मैं अपने घर से काफी आगे आ चुका था और सर का घर पास में ही था.

लेकिन बारिश इतनी तेज़ थी कि अगर मैं दौड़ता भी तो भीग जाता। मैं कुछ देर तक वहीं खड़ा रहा और बारिश रुकने का इंतजार करता रहा.

लेकिन आधा घंटा बीत गया और बारिश नहीं रुकी. अब मुझे थोड़ी ठंड लगने लगी थी तो मैंने सोचा कि क्यों न सर के घर भाग जाऊं और जैसे ही बारिश बंद होगी मैं अपने घर चला जाऊंगा.

जैसे ही बारिश धीमी हुई, मैं दौड़कर रमेश सर के पास गया. लेकिन फिर भी मैं पूरा भीग गया था. मैं रमेश सर के घर गया और दरवाजे की घंटी बजाई तो सर ने दरवाजा खोला और मुझे अंदर बुलाया.

बोला- अरे तुम इतने भीग कैसे गए… जब इतनी तेज़ बारिश हो रही थी तो आज तुम आते ही नहीं.
मैंने कहा- सर जब मैं घर से निकला था.. तो बारिश नहीं हो रही थी और जब आपके घर के पास आया तो तेज़ बारिश होने लगी। मुझे बहुत

मैं देर तक इंतजार कर रहा था कि बारिश रुकेगी और मैं अपने घर जा सकूंगा… लेकिन बारिश नहीं रुकी और मुझे वहां बहुत ठंड लग रही थी, इसलिए मैं आपके घर आ गया.
सर बोले- ये तुमने बहुत अच्छा किया. चलो, मैं तुम्हें एक तौलिया देता हूँ।

सर ने मुझे एक तौलिया दिया और कहा कि मैं अपने गीले कपड़े उतार दूं … और तौलिये से खुद को साफ कर लूं. मैं तुम्हारे लिए चाय बनाऊंगा.

रमेश सर किचन में चले गये.. और मैंने अपने सारे कपड़े उतार कर तौलिये से खुद को साफ़ किया और तौलिया वहीं बाँध लिया।

तभी रमेश सर आए और मेरे स्तनों को देखते हुए बोले- अपने गीले कपड़े मुझे दे दो, मैं दूसरे कमरे में पंखा चलाकर उन्हें फैला दूंगा.. ताकि वे सूख जाएं।

रमेश सर ने मेरे कपड़े फैलाये और चाय लेकर आ गये.
हम दोनों साथ में बैठ कर चाय पीने लगे और बातें करने लगे.

रमेश सर- बताओ तुम्हारी पसंद क्या है?
मैं- मुझे डांस करना बहुत पसंद है.
रमेश सर- तुम डांस करो.
मेरे हां।
रमेश सर- मुझे भी डांस का बहुत शौक है.
मैं सच में!
रमेश सर- हां तुम मेरे साथ डांस करोगी.
मेरे हां।
रमेश सर- लेकिन तुम लड़कियों के कपड़े पहनकर डांस करते हो, मुझे कपल डांस बहुत पसंद है.
मैं: ठीक है, लेकिन मेरे पास लड़कियों वाले कपड़े नहीं हैं.
रमेश सर- तुम चिंता क्यों करती हो, मेरे पास सब कुछ है.. तुम बस इतना कह दो कि तुम साड़ी खुद ही बाँध लो.. क्योंकि मुझे साड़ी बाँधनी नहीं आती।
मैं: हाँ सर, मैं बांध दूँगा.
रमेश सर उठे और बोले- ठीक है.. तो मेरे कमरे में आ जाओ।

मैं भी उसके पीछे हो लिया. उसने मेरी साड़ी उतार दी और मुझे मेकअप किट भी दे दी. सर ने कहा- थोड़ा मेकअप भी कर लो. ये कह कर वो बाहर जाने लगा और मुझे तैयार होकर बाहर आने को कहा.

मैंने सर के दिए कपड़ों पर नज़र डाली तो देखा कि साड़ी के साथ ब्लाउज, पेटीकोट और ब्रा पैंटी भी रखी हुई थी। मुझे ब्रा और पैंटी पहनने का बहुत शौक था. जब मैंने पैंटी पहनी तो वो बिल्कुल मेरे साइज़ की थी.

इसके बाद मैंने पेटीकोट और ब्रा और ब्लाउज पहना. मेरे स्तन ब्रा में बिल्कुल फिट थे और मैं एक लड़की की तरह लग रही थी। सर ने जो ब्लाउज दिया था वो स्लीवलेस था और बिल्कुल मेरे साइज का था.

इस ब्लाउज का गला आगे से काफी गहरा था और पीछे से सिर्फ एक डोरी थी। वो भी बहुत पतला. पीछे से मेरी पूरी पीठ खुली हुई थी. फिर मैंने सर की दी हुई पीली साड़ी पहनी.

मैंने पेटीकोट नाभि के ठीक नीचे बांधा था, जिससे मेरा पूरा पेट और नाभि सामने से दिख रही थी. उसके बाद मैंने लाल चूड़ियाँ पहनीं और लाल बिंदी और लिपस्टिक लगाई और बहुत अच्छा मेकअप किया।

फिर बड़े बालों वाला विग भी लगाएं। अब जब मैंने खुद को शीशे में देखा तो पहचान ही नहीं पाया कि मैं लड़का हूं या लड़की. मैं बहुत सतर्क दिख रहा था. अगर मैं बाहर जाती तो कई लोग मुझे छेड़ने से बाज नहीं आते.

अब मैं कमरे से बाहर आई तो रमेश सर मुझे देखते ही रह गये. वो बोला- कसम से तुम तो क़यामत लग रही हो. मैं शरमा गया. रमेश सर बोले- अगर तुम्हें कोई दिक्कत न हो तो मैं तुम्हारी कुछ फोटो ले लूं.

मैं इस बारे में सोचने लगा, तभी रमेश सर बोले- चिंता मत करो, मैं ये फोटो किसी को नहीं भेजूंगा.. ना ही तुम्हें कोई दिक्कत होगी. मैंने कहा- ठीक है.

मैंने तस्वीरें खिंचवाईं और तस्वीरें खिंचवाईं। इसके बाद रमेश सर ने ‘टिप टिप बरसा पानी..’ गाना बजाया और मुझसे डांस करने के लिए कहा.

मैं भी इस गाने पर बहुत सेक्सी डांस करने लगी. तभी रमेश सर ने आकर मुझे पीछे से पकड़ लिया और अपने दोनों हाथों से मेरे पेट को पकड़कर डांस में मेरा साथ देने लगे.

उसके बाद वो मेरी नाभि पर अपनी उंगली फिराने लगा और उसका तना हुआ लंड मेरी गांड पर बहुत जोर से दब रहा था. मैं भी बड़े उत्साह से उनके साथ डांस करने लगा.

इस समय सर के मुझसे चिपके होने का अहसास मुझे बहुत अच्छा लग रहा था. कुछ देर बाद उसने मेरी पूरी पीठ को चूमना शुरू कर दिया और फिर मेरी साड़ी को ऊपर उठाया और मेरे पैरों से लेकर जांघों तक चूमा।

मैं उत्तेजित होने लगा था. मेरा मजा देख कर उसने मेरे पेट और नाभि को चूमना शुरू कर दिया. इसके बाद उसने मेरी गर्दन को चूमा और मेरे कान को काट लिया.

अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था. फिर उसने मुझे अपनी तरफ घुमाया और मेरे होंठों पर अपने होंठ रख कर मुझे चूमने लगा. मैं इतनी कामुक हो गया था कि मैंने उनसे कुछ नहीं कहा, बस सर को किस करने में सपोर्ट करने लगी.

कुछ देर किस करने के बाद उसने मुझे गोद में उठाया और अपने बेडरूम में ले गया. रमेश सर ने मुझे लिटा दिया और मेरे होंठों से लेकर मेरे पूरे शरीर को चूमने लगे.

मैं भी लड़कियों की तरह कराहती रही. धीरे धीरे सर ने मेरे सारे कपड़े उतार दिये. अब मैं रमेश सर के सामने पूरी नंगी थी.

रमेश सर ने मुझे उल्टा लिटाया और मेरी गांड के छेद को चूमने लगे और अपनी जीभ से मुझे चोदने लगे. मुझे बहुत मजा आ रहा था. मैं बस ‘उफ्फ्फ आह्ह फक मी..’ की आवाजें निकाल रही थी।

रमेश सर बोले- आज से तुम्हारा नाम मेरे लिए गुड़िया रानी है… और आज से तुम लड़कियों की तरह व्यवहार करना. मैं सहमत।

अब रमेश सर ने अपनी टी-शर्ट उतार दी और लेट गये और मुझे इशारा किया. इस इशारे का मतलब था कि अब उससे प्यार करने की बारी मेरी थी।

मैं भी उसके होंठों को चूमने और चाटने लगा. मैं नीचे उसके निचले घर में आया, जो पहले से ही एक तम्बू था। मैं उनके लोअर के ऊपर से ही उनका लंड चूसने लगी, तभी सर ने मुझे बाहर निकालने का इशारा किया

टी लिंग.

जब मैंने उसके लंड को लोअर से बाहर निकाला तो मैं देख कर एकदम हैरान रह गया. रमेश सर का लंड पूरा 8 इंच लम्बा था. मैं उसके लंड को देखती रह गयी. रमेश सर बोले- क्या हुआ गुड़िया रानी? मैंने कहा- कुछ नहीं सर.

सर ने लंड चूसने का इशारा किया. मैंने पहले उसके लिंग के टोपे को अपने होठों से चूमा और फिर उसे चाटना शुरू कर दिया। फिर धीरे-धीरे उसके लिंग को अपने मुँह के अंदर डालो।

ले लिया और चूसने लगा. सर का लंड इतना बड़ा था कि मेरे मुँह में पूरा नहीं जा रहा था. उधर रमेश सर बार-बार कह रहे थे कि आह … बहुत मजा आ रहा है मेरी जान … लंड को और अंदर तक ले जाओ.

मैं भी अपनी तरफ से पूरी कोशिश कर रहा था. फिर सर ने मेरा सिर पकड़ा और अपना पूरा लंड मेरे मुँह में डाल दिया. इससे मेरा दम घुटने लगा, लेकिन रमेश सर की पकड़ इतनी मजबूत थी कि मैं खुद को छुड़ा नहीं सकी.

कुछ देर तक वो मेरे मुँह को ऐसे ही चोदता रहा. फिर रमेश सर ने बिस्तर के बगल वाली दराज से तेल की बोतल निकाली और मुझे घोड़ी बनने को कहा.

उसने ढेर सारा तेल मेरी गांड के अन्दर तक लगा दिया. फिर उसने मुझे सीधा लेटा दिया और अपने लंड पर भी तेल लगा लिया. सर ने मेरी टांगें अपने कंधों पर रखीं और अपने लिंग का सुपारा मेरी गांड के छेद पर रख दिया.

उसने मुझसे कहा- छेद को ढीला छोड़ दो.. बहुत मजा आएगा। मेरी गांड का फूल मचल रहा था. सर ने सुपारा गांड में रगड़ा तो गांड को मजा आने लगा.

जैसे ही मेरी गांड का छेद खुला सर ने मुझे एक जोरदार झटका दे मारा. इससे उसका टोपा गांड के अन्दर घुस गया. मुझे बहुत दर्द हुआ और मैं दर्द से रोने लगी. मेरी गांड से खून भी निकलने लगा. मुझे बहुत तेज दर्द हो रहा था.

मैंने रमेश सर से कहा- रहने दीजिये, मुझे बहुत दर्द हो रहा है. रमेश सर बोले- ठीक है.. अब मैं कुछ नहीं कर रहा हूँ.. लेकिन इसे ऐसे ही छोड़ दो।

अब कुछ देर में दर्द दूर हो जाएगा. रमेश सर मुझे चूमने लगे और मेरे मम्मों को चूसने और चाटने लगे.

कुछ देर बाद मुझे कुछ राहत मिली तो सर ने अचानक झटका दिया और मेरा लंड अन्दर पेल दिया. इस बार रमेश सर ने अपना पूरा लंड मेरी गांड में घुसा दिया था.

अब ऐसा लग रहा था जैसे मैं दर्द से पागल हो रही थी और रमेश मुझे इससे छुड़ाने की पूरी कोशिश कर रहा था. लेकिन वो मेरे ऊपर था और उसने मुझे बहुत कसकर पकड़ रखा था.

उसने मेरे मुँह को अपने मुँह से दबा लिया, जिससे मेरी चीख भी दब गयी. उसका पूरा 10 इंच का लंड मेरी गांड में था.

कुछ देर तक मैं ऐसे ही तड़पती और रोती रही. रमेश सर मुझे चूम रहे थे.. अब कभी वो मेरे स्तनों को चूसने लगते तो कभी मेरे गालों को चूमने लगते। इससे मेरा दर्द कम होने लगा.

करीब 5 मिनट बाद मुझे दर्द से कुछ राहत मिली. तो सर ने मुझे धीरे धीरे चोदना शुरू कर दिया. मुझे अपनी गांड में सर का लंड लेने में शर्म आने लगी. उसने अपनी गति बढ़ा दी.

एक मिनट बाद मुझे भी उससे चुदाई का मजा आने लगा और मैं पूरे जोश से उसका साथ देने लगी. ‘उफ़्फ़ आह्ह फ़क मी सर फ़क मी हार्ड उफ़ येस्स।’

फिर कुछ देर चोदने के बाद रमेश सर मेरी गांड में ही झड़ गये और बिल्कुल ढीले होकर मेरे ऊपर लेट गये. उसके लिंग की गर्म नोक से मुझे बहुत राहत महसूस हुई और मैंने उसे चूमना शुरू कर दिया।

तभी मेरा फ़ोन बजा. मैंने देखा कि मेरे घर से पापा का फोन आ रहा था. मैंने नमस्ते कहा। पापा ने पूछा- कहां हो … कब आओगे? मैंने कहा- मैं यहीं साहब के घर में हूँ, बारिश रुकते ही आ जाऊँगा।

पापा बोले- बारिश रुक गई है.. जल्दी आओ। उसने फोन रख दिया. रमेश सर ने मुझे चूमा और बोले- अब तुम फ्रेश हो जाओ और अपने कपड़े पहन लो.. रात हो गई है, मैं तुम्हें तुम्हारे घर छोड़ दूंगा।

मैंने फ्रेश होकर अपने कपड़े पहने. मेरे कपड़े अब तक सूख चुके थे. रमेश सर ने भी अपने कपड़े पहने और मुझे मेरे घर छोड़ दिया.

उसके जाते ही मैं अन्दर जाने लगा. मेरी गांड में आठ इंच का लंड मुझे दर्द देने लगा, मेरी गांड फट गयी थी. मैं ठीक से चल नहीं पा रहा था.

मैं किसी तरह लंगड़ाते हुए घर में दाखिल हुआ। तो सबने पूछा क्या हुआ तुम लंगड़ाकर क्यों चल रहे हो? मैंने बताया- मेरा पैर सड़क पर पानी में फिसल गया था.. तो सर ने मुझे घर छोड़ दिया।

कोई कुछ नहीं बोला। मैंने अपनी गांड में बोरोलीन लगाई और सो गया. फिर अगले दिन जब मैं स्कूल गया तो रमेश सर ने मुझे स्माइल दी. मैं भी उसे देखकर मुस्कुराया.

अवधि ख़त्म होने के बाद उन्होंने अपनी किताबें ले जाने का इशारा किया. मैंने इसे ले लिया और रख लिया. रमेश सर भी अन्दर आये. उसने पूछा अब दर्द कैसा है? मैंने कहा कि अब ठीक है.

उसने मुझे चूमा और अपना लिंग चूसने को कहा. मैंने कहा कि अगर कोई यहाँ आ गया तो क्या होगा? उसने कहा- कोई नहीं आएगा. तुम जल्दी से मेज़ के नीचे रेंगो।

मैंने भी यही किया। मैं टेबल के नीचे चला गया और रमेश सर ने अपना लंड अपनी पैंट से बाहर निकाला और मेरे सामने रख दिया.

मैंने उसके लिंग को चूसा और लिंग से निकले तरल पदार्थ को चाट कर साफ कर दिया. कुछ देर बाद मैं क्लास में चला गया.

अब यह क्रम ऐसे ही चलता रहा. स्कूल में जब भी रमेश सर को मौका मिलता तो वो मुझे अपना लंड चुसवाते और कभी-कभी स्कूल के बाथरूम में ले जाकर मेरी गांड भी चोदते.

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds