मामा की लड़की को चोदा और चुदाई का सुख दिया

मामा की लड़की को चोदा और चुदाई का सुख दिया

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम अमन है आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने अपने “मामा की लड़की को चोदा और चुदाई का सुख दिया”

मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ। मेरी लम्बाई 5 फुट 8 इंच है और शरीर भी अच्छा है। मेरे लंड का साइज 6 इंच है. बाकी लोगों की तरह मैं झूठ नहीं बोलूंगा कि 9 या 10 इंच का है… मैं वही बता रहा हूं जो सच है.

यह सेक्स कहानी मामा की जवान बेटी की चूत चुदाई की है. घटना 1 साल पहले की है, जब मैं किसी काम से अपने मामा के घर गया था. उस समय मैं 19 साल का था.

जब मैं वहां गया तो मेरे मामा-मामी को किसी काम से बाहर जाना पड़ा. उन्हें मेरे आने का पता था इसलिए उन्होंने अपनी बेटी को घर पर छोड़ने का फैसला किया था.

मैं आपको बताना चाहता हूं कि मेरे मामा के परिवार में कुल 4 सदस्य हैं. मामा और मामी, एक लड़का और एक लड़की है. मौसी की बेटी का नाम आशिका है. मामा का बेटा घर से बाहर पढ़ता है.

जब मैं घर गया तो घर में मैं और मेरे मामा की लड़की आशिका ही बचे थे. आशिका एक अद्भुत दिखने वाली लड़की थी। वो इतने लाजवाब शरीर की मालकिन थी कि कोई भी उसे देख कर अपना होश खो बैठे.

उनके फिगर की बात करें तो उनका 34-30-36 का बेहद कातिलाना फिगर है. उस वक्त वो भी मेरी ही उम्र की थी यानी 19 साल की. आज उनसे 2 साल बाद मुलाकात हुई.

जब मैंने उसे देखा तो देखता ही रह गया. क्योंकि मैं भी बाहर पढ़ता था. इसलिए मेरा घर कम आना-जाना होता था।

जब मामा मामी चले गए तो हम दोनों काफी देर तक एक दूसरे से बातें करते रहे. फिर उसने खाना बनाया और हम दोनों ने साथ में खाना खाया.

बाद में उसने बर्तन साफ किये और हम दोनों टीवी देखने लगे. उस दिन टीवी पर जिस्म फिल्म आ रही थी. एडल्ट फिल्म देखने की वजह से मेरा कुछ मूड हो गया

और मैं उसकी तरफ देखने लगा. वो भी मुझे तिरछी नजरों से देख रही थी. अचानक मैंने टीवी बंद कर दिया और वो मेरी तरफ देख कर मुस्कुराने लगी. उन्होंने पूछा- तुमने इसे क्यों रोका?

मैंने कहा- जितना देखना चाहिए था, उतना देख लिया है. वो बोली- फिर..! मैं हँसा। हम दोनों ऐसे ही एक दूसरे से बातें करने लगे. मैंने उससे पूछा कि क्या तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड है?

वह बोला, नहीं। मैंने पूछा- क्यों.. तुम इतनी खूबसूरत हो.. कोई तो होगा.. झूठ मत बोलो। उसने हंस कर जवाब दिया- हां है तो.. लेकिन घर वालों के डर से मैं किसी को अपना बॉयफ्रेंड नहीं बनाती.

मैंने उसके स्तनों की तरफ देखा और कहा- यार, तुम सच में बहुत खूबसूरत हो, लड़के तुम्हारे पीछे घूमते होंगे. उसने भी सीना ऊंचा करके कहा- क्या तुम्हें भी मुझमें कुछ खास दिखता है?

मैंने कहा- अगर एक बात खास है तो मैं कहूंगा, आपकी हर बात खास है. उसने बात बदलते हुए मुझसे पूछा कि क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?

मैंने उससे कहा- हाँ पहले थी. लेकिन अब नहीं.. क्योंकि अब मैं पढ़ाई पर ध्यान दे रहा हूँ। मैं अब भी उनसे इसी तरह की सामान्य बातचीत की उम्मीद कर रहा था.

लेकिन उनका अगला सवाल सुनकर मैं सोचता रहा. उसने मुझसे पूछा- क्या तुमने कभी उसके साथ सेक्स किया है? मुझे नहीं पता था कि वो ये सब भी पूछना चाहेगी.

पर दिल खुश हो गया कि आज उसके साथ कुछ हो सकता है। मैंने उसे जवाब दिया- हां … मैंने उसके साथ दो-तीन बार किया है.

ये सुनकर वो मुस्कुराने लगी और उसका चेहरा लाल हो गया. अब मैं समझ गया कि वो गर्म हो गयी है. मैं धीरे-धीरे उसके करीब गया. क्योंकि पहले हम सोफे पर बैठ कर टीवी देख रहे थे।

जैसे ही मैं उसके पास गया तो वो उठ कर अपने कमरे में चली गयी. मैं सोचने लगा कि कुछ गड़बड़ हो गई है, लेकिन जब वो वापस नहीं आई तो मैं भी उठ कर अपने कमरे में आ गया.

मुझे नींद नहीं आ रही थी, इसलिए मैं आँखें बंद करके करवटें बदलता रहा और इसके बारे में सोचता रहा।

एक घंटे बाद मुझे किसी की आहट सुनाई दी तो मैंने धीरे से आंखें खोल कर देखा. मैंने देखा कि आशिका मेरे कमरे में आ गयी थी.

मेंने कुछ नहीं कहा। उसने मुझे हिलाया और कहने लगी कि मुझे अकेले नींद नहीं आ रही है. मुझे रात को अकेले सोने से डर लगता है। मैंने उससे कहा कि ठीक है तुम मेरे साथ सो जाओ.

मैं थोड़ा सा हिल गया और वो मेरे पास आकर लेट गयी. मेरे पास केवल एक कंबल था. उन दिनों सितंबर का महीना था, ठंड तो नहीं थी.. लेकिन सामान्य एसी चलने के कारण थोड़ी ठंड थी।

उसने अपने आप को कम्बल से ढक लिया… कुछ देर बाद उसने अपनी आँखें बंद कर लीं और सो गई। उसके पास सोने से मुझे नींद नहीं आ रही थी.

कुछ देर बाद मैंने उसे आवाज दी, जब उसने कोई जवाब नहीं दिया तो मैं भी कंबल के अंदर आ गया. वो मेरी तरफ मुँह करके लेटी हुई थी.

मैंने धीरे से उसके पैरों पर पैर रखा, जब कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई. तो मैंने धीरे से अपना हाथ उसकी जांघ पर रख दिया और उसे हिलाने लगा।

जब उसने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी तो मेरी हिम्मत बढ़ गई और मैंने धीरे से अपना हाथ उसके स्तनों पर रख दिया। हालाँकि मुझे डर तो लग रहा था लेकिन मजा भी बहुत आ रहा था.

जब उसने कोई विरोध नहीं किया तो मैंने धीरे-धीरे उसके मम्मों को दबाना शुरू कर दिया. उन्होंने फिर भी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी. मैंने उसके मम्मों को जोर से दबाया तो उसके मुँह से ‘आहह……’ निकल गया।

अब मैं समझ गया कि वो जाग रही है. अब मैंने बेधड़क उसकी टी-शर्ट के अन्दर डाल दिया और उसके मम्मे दबाने लगा। वह उत्तेजित होने लगी थी. मैं आगे आया और उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये

उसके होंठ चूमने लगा। यह वाकई बहुत मजेदार था. अब वो भी मेरा साथ देने लगी. मैंने उससे कहा- आशिका … कुछ तो बोलो.

उसने कुछ उत्तर नहीं दिया, बस अपनी आंखें थोड़ी सी खोलीं और फिर बंद कर लीं। ऐसा करने के बाद उसने अपना चेहरा दोनों हाथों से ढक लिया.

मैंने धीरे से अपना हाथ उसके लोअर में डाल दिया. मैं हैरान हो गया. क्योंकि उसने पैंटी नहीं पहनी थी। उसकी चूत पर एक भी बाल नहीं था.

अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था. मैंने टी-शर्ट ऊपर उठाई और उसे खड़े होने को कहा. वह वैसे ही खड़ी रही. मैंने उसकी टी-शर्ट उतार दी.

उसने अन्दर ब्रा भी नहीं पहनी थी. अब मैं समझ गया कि वो मुझसे चुदवाने ही आयी थी। वो सिर्फ शर्म के कारण कुछ नहीं बोल रही थी.

मैंने धीरे से उसका लोअर उतार दिया और वो पूरी नंगी हो गयी. अब मेरी बारी थी … क्योंकि मेरा लंड लोअर से बाहर आने वाला था.

मैंने अपना लोअर उतार दिया. अब मैं सिर्फ अंडरवियर में था। मेरा लंड अंडरवियर के बाहर से साफ़ दिख रहा था.

मैंने अपना अंडरवियर उतारा तो उसका मुँह खुला रह गया. वो बोली- इतना बड़ा! मैंने कुछ नहीं कहा, हल्का सा मुस्कुराया और उसके पास चला गया.

मैं उसके ऊपर लेट गया और उसके स्तनों से खेलने लगा. उसे चूमने लगा। मेरा लंड लोहे की रॉड की तरह गर्म हो गया था.

मैं एक हाथ से उसके मम्मे दबा रहा था और धीरे-धीरे दूसरा हाथ उसकी चूत पर ले गया। उसकी चूत पर हाथ फिराने लगा.

यह वाकई बहुत मजेदार था. उसके मुँह से ‘आआअहह… उहह..’ की आवाजें आने लगीं. वो मछली की तरह छटपटा रही थी.

फिर मैं खड़ा हो गया, उसे समझ नहीं आया कि क्या हुआ. क्योंकि वो पूरी तरह से उत्तेजित हो चुकी थी। उसने मुझसे पूछा- क्या हुआ?

मैंने उससे खड़े होने को कहा. वह उठकर खड़ी हो गई। अब मैंने उसे लंड की तरफ इशारा किया और उसे चूसने को कहा, लेकिन उसने साफ़ मना कर दिया कि वो ऐसा नहीं करेगी.

मैंने उसे बहुत फ़ोर्स किया, लेकिन वो नहीं मानी. मैं भी इस खेल का पुराना खिलाड़ी था. मैंने कुछ नहीं कहा और उसे फिर से लेटने को कहा.

वो लेट गयी, तो मैं उसके ऊपर आ गया. इस वक्त हम दोनों 69 पोजीशन में लेटे हुए थे. मैं इसी पोजीशन में आ गया और उसकी चूत को चाटने लगा.

जैसे ही मैंने अपनी जीभ उसकी चूत पर रखी, तो वो अचानक से अपने आप पर काबू नहीं रख पाई और जोर-जोर से ‘आआह उआह ईई ईईह..’ करने लगी और कुछ पल बाद उसने मेरा लंड भी अपने मुँह में ले लिया.

जैसे ही लंड उसके मुँह में गया, मैं उत्तेजित हो गया. वह मेरे लंड को बहुत अच्छे से चूसने लगी. अब मैं भी मजे से उसकी चूत चाटने लगा.

जब मैंने अपनी जीभ चूत के अन्दर डाली. तभी उसे अचानक पीड़ा महसूस हुई… और चरमसुख महसूस हुआ।

मैं खड़ा हुआ और उसके बगल में लेट गया और उसे चूमने लगा। मैं उसकी चूत में अपनी एक उंगली अन्दर बाहर करने लगा.

उसकी चूत झड़ने के कारण पूरी गीली हो चुकी थी. मैंने धीरे धीरे अपनी पूरी उंगली अन्दर डाल दी. चूत पूरी गर्म हो चुकी थी. वो फिर से मछली की तरह तड़पने लगी.

वो मुझसे बोली- तुमने मेरे साथ क्या किया.. मुझे होश नहीं है.. जल्दी से कुछ करो.. नहीं तो मैं मर जाऊँगी।

अब मैं समझ गया कि यही सही समय है.’ मैं उसकी टांगों के बीच गया और अपना लंड उसकी चूत पर ठीक से रखा और दबाव डाला.

चूँकि चूत बहुत रसीली थी इसलिए मेरे लंड का टोपा चूत के अंदर चला गया. टोपा अन्दर जाते ही आशिका जोर से चिल्लाने लगी- उम्म… मर गई… अब और अन्दर नहीं जा रहा… जल्दी से बाहर निकालो।

मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये और उसके स्तनों को सहलाने लगा। जब वो सही बोली तो मैंने पूरी ताकत से एक जोरदार झटका दे मारा. इस बार मेरा आधा लंड अन्दर चला गया.

आशिका जोर से चीखना चाहती थी, लेकिन मेरा हाथ उसके मुँह पर होने के कारण वह चिल्ला न सकी। लेकिन वो मुझे अपने से अलग करने की कोशिश करने लगी.

मैंने उसे कस कर पकड़ लिया. इसलिए वो मुझे हटा नहीं पाई. मैं कुछ देर तक शांत रहा और बाद में पीछे हट कर एक और झटका दे मारा.

इस बार मेरा पूरा लंड चूत की जड़ में जा लगा. उसकी आंखें आंसुओं के कारण लाल हो गई थीं. मैं उसे धीरे-धीरे सहलाने लगा और अपना हाथ मुँह तक ले गया और उस पर अपने होंठ रख दिए… और उसे चूमने लगा।

जब आशिका सामान्य हुई तो मैंने उसके आंसू साफ किए और उसके माथे और आंखों पर चूमना शुरू कर दिया. फिर धीरे-धीरे आगे-पीछे होने लगा। अब उसे मजा आने लगा और मेरा साथ देने लगी.

कुछ ही देर में कमरे में फच फच की आवाजें आने लगीं. उसके मुँह से कराहें निकल रही थीं. वो झटकों के साथ ‘आहह..’ कर रही थी. करीब 5 मिनट की चुदाई के बाद वो स्खलित हो गयी.

अब चूत गीली होने के कारण लंड आसानी से अन्दर-बाहर हो रहा था. अब मैं उसे पूरी स्पीड से चोद रहा था और पूरे कमरे में फच फच की आवाजें आ रही थीं.

मैंने पूरी स्पीड से 10-15 धक्के लगाए और वीर्य उसके अन्दर छोड़ दिया. झड़ने के बाद मैं उसके ऊपर लेट गया. यह वाकई बहुत मजेदार था. मैं तो मानो स्वर्ग पहुंच गया था.

पांच मिनट बाद वो खड़ी हुई और बिस्तर की चादर की तरफ देखा तो चादर खून से पूरी लाल हो गई थी और उसकी चूत से वीर्य मिला हुआ खून निकल रहा था.

मैंने उसे उठाया और बाथरूम में ले गया. वह ठीक से चल नहीं पा रही थी. बाथरूम में जाकर अपनी चूत साफ़ की, बाद में चादर उठाकर टब में डाल दी।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds