प्यार सेक्स चुदाई कहानी – मेरा पहला प्यार और मेरी पहली चुदाई

प्यार सेक्स चुदाई कहानी – मेरा पहला प्यार और मेरी पहली चुदाई

दोस्तो, कैसे हैं आप लोग! प्यार सेक्स चुदाई कहानी में मैंने अपने पड़ोस की एक जवान लड़की को चोदा. ये मेरा पहला सेक्स था. वह रोज पार्क में टहलने आती थी। मैं उसे हवस की नजर से देखता था.

मेरी पिछली कहानी थी: Bhabhi ki sexy chudai
जो आप सभी को बहुत पसंद आया.

सबसे पहले तो मैं आपसे माफ़ी चाहूंगा कि मुझे अपनी नई हिंदी सेक्स कहानी लाने में इतना समय लग गया.
लेकिन पिछले 2 सालों में मेरे साथ बहुत कुछ हुआ है जो मैं आपके साथ शेयर करूंगा.

इसलिए इस कहानी में मेरे साथ बने रहिए और इस कहानी को भी वैसे ही प्यार दीजिए जैसे आपने पिछली हिंदी सेक्स स्टोरीज को दिया था।

दोस्तो, यह प्यार सेक्स चुदाई कहानी भाभी के साथ 6 महीने की रासलीला के बाद की है, जब हम होली के एक महीने बाद दूसरी कॉलोनी में शिफ्ट हो गए थे।

यह अमीरों का उपनिवेश था; यानी वहां सभी अमीर लोग रहते थे.
शुरुआत में हम नए-नए शिफ्ट हुए थे तो किसी से बात नहीं करते थे.

वहाँ मैं अक्सर शाम को बगीचे में टहलने जाता था।
शाम को वहां कई लोग आते थे, जिनमें दो लड़कियां भी थीं, उनमें से एक का नाम शहनाज़ था, जिसकी कहानी यह है.
दूसरी लड़की का नाम आशिका था.

दोस्तों शहनाज़ और आशिका दोनों बहुत अच्छी दोस्त थीं और एक साथ देखी जाती थीं।
दोनों की उम्र करीब 21-23 साल थी.

उन दोनों का फिगर एकदम सेक्सी था; वो दिखने में किसी अप्सरा से कम नहीं लगती थी.

शहनाज़ की बात करूं तो वो 32-28-34 के फिगर वाली कड़क माल थी.
वो ज़्यादातर जींस और टी-शर्ट पहनती थी जिसमें उसके मम्मे और उभरी हुई गांड देखकर कोई भी उसे चोदने का मन कर सकता था।

मेरे साथ भी यही स्थिति थी.
मैंने मन बना लिया था कि शहनाज़ को चोद कर रहूँगा।

ऐसे ही कुछ दिन बीत गये.

तभी हमारे घर के पास से किसी कार्यक्रम का निमंत्रण मिला.

उस दिन शाम को जब मैं वहां गया तो पता चला कि प्रोग्राम शहनाज़ के घर पर ही हो रहा है.

उस दिन शहनाज़ से मेरी पहली औपचारिक मुलाकात हुई.
हालाँकि हमारे बीच कोई बात नहीं हुई, बस दोनों एक दूसरे को देख कर मुस्कुरा दिए.

उस दिन के बाद शहनाज़ और मैं एक दूसरे को जानने लगे।
बगीचे में भी हाय-हैलो होती रहती थी.

शहनाज़ कभी अकेली नहीं मिलती थी, आशिका हमेशा उसके साथ रहती थी।
आशिका की वजह से मैं कुछ भी शुरू नहीं कर पा रहा था.

कुछ दिन ऐसे ही बीते.

फिर एक दिन शहनाज़ गार्डन में अकेली आई।
मैं उसके पास गया और पूछा- तुम्हारी दोस्त आशिका आज नहीं आई क्या?
न जाने क्या सोच कर बोली-क्यों, उसके न आने से तुम्हें दुख हुआ क्या?
मैंने कहा- नहीं, लेकिन आज तक मैंने तुम दोनों को एक साथ देखा है, आज तुम अकेले आये हो तो पूछ लिया.

इस पर उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया और फिर आगे बढ़ गईं.
मैं भी उसका पीछा करने लगा.

कुछ देर बाद हम दोनों साथ-साथ चलने लगे.
फिर एक बेंच पर बैठ गया.

हमारे बीच कुछ बहुत सामान्य बातें हो रही थीं.
सूरज डूब रहा था और कुछ ही देर में अंधेरा होने वाला था।

उस दिन पहली बार मैं शहनाज़ के इतना करीब आ पाया था.
डूबते सूरज की किरणें हम दोनों के चेहरे पर पड़ रही थीं.
उनमें शहनाज़ का चेहरा चमक रहा था.

फिर अचानक उसने अपना हाथ मेरे हाथ पर रख दिया और बोली- आज मुझे यहां बैठकर डूबते सूरज को देखते हुए बहुत अच्छा लग रहा है.
तभी मैंने अपना दूसरा हाथ उसके हाथ पर रख दिया और कहा- ये तो मेरा सौभाग्य है.

दोस्तों उस वक्त मुझे शहनाज़ का सेक्सी फिगर नजर नहीं आया था और ना ही उसे चोदने का कोई ख्याल मेरे मन में था.
उस वक्त हम दोनों के बीच बस एक प्यार भरा एहसास बन रहा था.

फिर कुछ देर तक हम ऐसे ही चुपचाप बैठे रहे!
फिर जब हम चलने लगे तो शहनाज़ ने मुझे अपना नंबर दिया.

अब हम रोज बातें करने लगे.
मुझे भी शहनाज़ से प्यार होने लगा था.

लेकिन प्यार के साथ-साथ वासना भी आती है।
मुझसे रुका नहीं गया और मैंने शहनाज़ से इशारे में कहा कि मेरा सेक्स करने का मन हो रहा है.

सच कहूँ तो शहनाज़ ने भी बिल्कुल मना नहीं किया।

बाद में मुझे पता चला कि वो पहले भी सेक्स कर चुकी थी.
उसे कॉलेज के समय में सेक्स का अनुभव हो चुका था और अब वह अकेली रह रही थी।

फिर एक दिन मेरे घर वालों को बाहर जाना था तो मैंने सारा प्लान बनाया और शहनाज़ को बता दिया.
उन्होंने भी हां कहा.
हालांकि हमें प्यार हुए अभी 4 महीने ही हुए थे.

जैसा प्लान किया था वैसा ही हुआ और शहनाज़ ठीक 7 बजे मेरे घर पहुँच गयी.
वो नॉर्मल ड्रेस में आई थी क्योंकि उसने घर पर बता दिया था कि वो अपनी सहेली के यहाँ जा रही है.

जैसे ही शहनाज़ अंदर आई, मैंने उसे पकड़ लिया और अपनी बांहों में भर लिया.

वो भी पूरी तैयारी से आई थी, उसने भी इसमें मेरा साथ दिया.
मैं उसके साथ हर एक पल जीना चाहता था लेकिन मेरा दिल उसे चोदने के लिए मचल रहा था।

लेकिन मैंने कंट्रोल किया और हमने पहले खाना खाया.

कुछ देर तक ऐसे ही बातें होती रहीं.
फिर मैंने उसे अपने बेडरूम की तरफ चलने का इशारा किया.

वो खड़ी हो गयी और अपना हाथ मेरी तरफ बढ़ा दिया.

मैंने उसका हाथ पकड़ा और हम बेडरूम की ओर चल दिए।
फिर हम बेडरूम में गये और मैंने उसे अपनी तरफ खींच लिया और अपनी बाहों में भर लिया.

मैंने एक हाथ उसकी कमर पर रखा और दूसरा उसकी पीठ पर रख कर सहलाने लगा.
हम दोनों एक दूसरे की आँखों में देख रहे थे और उसके होठों पर लगी लाल लिपस्टिक मुझे उसकी ओर खींच रही थी।

मैंने देर न करते हुए शहनाज़ के होंठों पर अपने होंठ रख दिए और चूमने लगा.
वो भी पूरा साथ दे रही थी.

कुछ ही पलों में हमारा प्यार अब वासना में बदल गया था.
शरीर से एक-एक करके कपड़े उतरते गये और हम दोनों कब नंगे हो गये, हमें पता ही नहीं चला।

अब वो मेरे सामने सिर्फ ब्रा और पैंटी में थी.
मैं अपने अंडरवियर में था और मेरा 7 इंच का लंड मेरे अंडरवियर को फाड़ने की कोशिश कर रहा था।

शहनाज़ भी मेरे अंडरवियर के तंबू को देख रही थी.
मैंने पूछा- क्या देख रही हो?
वह शर्म से मुस्कुराई और मेरे कच्छे में मेरे तने हुए लिंग पर अपना हाथ फिराते हुए मेरे शरीर से लिपट गई।

उसका हाथ लगते ही मेरा लंड और फड़फड़ा गया.

तो मैंने उसे अपनी गोद में उठाया और बिस्तर पर लिटा दिया।

मैं उसके ऊपर आ गया और उसके पूरे शरीर पर चुम्बनों की बौछार कर दी।

मैं उसके शरीर पर हर जगह हल्के चुंबन के साथ प्यार कर रहा था।
वह भी हर चुम्बन पर सिहर उठती थी; उसके रोंगटे खड़े हो गए थे.

फिर मैंने उसकी ब्रा को खोलना शुरू कर दिया.
उन्होंने भी मेरा समर्थन किया.

मैंने ब्रा उतार दी और उसके स्तन अब आज़ाद होकर बाहर झूल रहे थे।
मैं उसके 32 के मम्मों को मुँह में लेकर चूसने लगा.

मैं उसके एक-एक बोबे को मुँह में लेकर उसके निप्पल को चूस रहा था।
इससे शहनाज़ की सिसकाशहनाज़ं निकलने लगीं.

उसकी चुचियों को पीते हुए मेरी हवस और भी बढ़ती जा रही थी.
मेरा लंड पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत से टकरा रहा था.

फिर मैं उसकी चुचियों को जोर जोर से दबाते हुए पीने लगा.
उसकी आग भी अब और भड़क गयी.

मैं उसे चूमते हुए नीचे आने लगा.
फिर मैंने उसकी पैंटी भी उतार दी.

उसकी चूत मेरे सामने नंगी थी. चूत पर एक भी बाल नहीं था.
उसने शायद हाल ही में सफाई की थी।

मैं हाथ से चूत को रगड़ने लगा.
उसकी सिसकाशहनाज़ँ अब तेज़ हो गईं- आह्ह… आह्ह… उफ्फ… अस्स्स।

फिर मैंने मोके की नजाकत को समझते हुए उसकी चूत में एक उंगली डाल दी.
अचानक हुए इस हमले से वह घबरा गई.
मैंने अपना काम जारी रखा.

मैंने उसके दोनों पैरों को फैलाया और उसकी चूत को अपनी जीभ से चाटने लगा.

उसे और भी नशा होने लगा.
वो मेरे सर को अपनी चूत पर दबाने लगी.

मैं भी चूत में जीभ डाल कर गहराई तक चोदने लगा.
वो जोर जोर से सिसकियाँ लेते हुए अपनी चूत चटवाने का मजा ले रही थी.

करीब 15 मिनट तक मैं उसकी चूत को लगातार चाटता रहा.
मैं भी हांफने लगा.

तभी अचानक उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया.
मेरा मुँह उसकी चूत के पानी से भीग गया.
मुझे शहनाज़ की चूतरस बहुत स्वादिष्ट लगी.

फिर मैं उठा और उसे चूमने लगा.
उसने अपना एक हाथ मेरे लंड पर रख दिया और सहलाने लगी.

फिर खुद ही उठकर मेरे लंड के पास गयी और उसे अपने मुँह में भर लिया.

आह! क्या अहसास था दोस्तो… बयान नहीं कर सकता।
उसने थोड़ी देर तक मेरा लंड चूसा लेकिन मजा आया!

फिर मैं खड़ा हुआ और कंडोम निकाला और अपने लंड पर लगा लिया.
मैंने पूछा- क्या तुम तैयार हो मेरी जान?
वो बोली- मैं तो कब से तैयार हूँ, मत तड़पाओ, अब डाल दो… मुझे चोदो प्लीज़!

फिर क्या था, मैंने भी अपना मोटा लंड उसकी गीली मुलायम चूत पर रगड़ना शुरू कर दिया और एक ही झटके में पूरा लंड उसकी चूत में उतार दिया।

इस हमले से शहनाज़ की चीख निकल गयी!
उसकी आँखों में पानी आ गया.

शहनाज़ की चुदाई पहले भी हो चुकी थी लेकिन उसकी चूत बहुत टाइट थी.

दोस्तो, थोड़ी देर रुकने के बाद मैंने धीरे-धीरे धक्के लगाने शुरू कर दिए।
कुछ ही मिनटों में शहनाज़ का दर्द मजे में बदल गया.
लेकिन हर धक्के का मजा उसके चेहरे पर साफ झलक रहा था.

उस वक्त वो और मैं सिर्फ अपनी हवस मिटाना चाहते थे.
अब वो मुझे अपने ऊपर खींचते हुए मुझे किस करने लगी.

वो नीचे से अपनी चूत उठा कर मेरा साथ देने लगी.
मेरा लंड अब उसकी चूत की पूरी गहराई नाप रहा था.

दोस्तो, मुझे चूत चोदने में इतना मजा आ रहा था कि दिल कर रहा था कि बस दिन रात इसे ऐसे ही चोदता रहूँ।
लेकिन ऐसा नहीं हो सका.

कुछ देर बाद मैंने उससे घोड़ी बनने को कहा.
वो घोड़ी बन गयी.

मैंने पीछे से उसकी चूत में लंड डाल दिया और घोड़ी बना कर चोदने लगा.
अब उसे फिर से दर्द होने लगा था.
लेकिन इस बार धक्कों में दर्द कम और मजा ज्यादा आया.

मैं लगातार उसे खाना खिलाता जा रहा था.
हमने करीब 25 से 30 मिनट तक सेक्स का मजा लिया.

तभी मेरा वीर्य निकलने वाला था.
मैंने कहा- होने वाला है!
वो बोली- पेट पर छोड़ दो, अंदर नहीं.

मैं अपनी चूत छोड़ना चाहती थी लेकिन ऐसा नहीं कर पाई.
यह जोखिम भरा काम था.

इसलिए मैंने आखिरी वक्त पर लंड बाहर निकाल लिया.
जैसे ही मैंने एक दो बार हिलाया तो मेरे लंड से वीर्य की पिचकारी उछलकर उसकी चुचियों तक जा लगी.
फिर बाकी सारा वीर्य पेट पर गिर गया.

मैं झटकों के साथ शांत हो गया.
मैंने अपने अंडरवियर से उसके पेट पर लगे वीर्य को साफ कर दिया.

फिर हम थक कर बिस्तर पर लेट गये.
प्यार सेक्स चुदाई से मिली संतुष्टि उसके चेहरे पर साफ झलक रही थी.

हम वहीं नंगे सो गये और अगली सुबह वो अपने घर चली गयी.

https://sexnivarak.com/ling-ko-kaise-kathor-kare/

मुझे शहनाज़ के साथ सेक्स का पहला अनुभव हुआ और वो रात मेरी जिंदगी की सबसे खूबसूरत रात थी.

तो दोस्तो, इस तरह मेरी दोस्ती शहनाज़ से हुई।
हम दोनों को प्यार हुआ और फिर सेक्स हुआ.

लेकिन अभी मेरे पास आपको बताने के लिए और भी बहुत कुछ है इसलिए बने रहें।
आपको यह प्यार सेक्स चुदाई कहानी पढ़कर कितना मजा आया, जरूर बताएं.
मुझे आपकी प्रतिक्शहनाज़ की प्रतीक्षा होगी।

आप मुझे मेरे ईमेल पर मैसेज कर सकते हैं, या कमेंट बॉक्स में अपनी टिप्पणी लिख सकते हैं।
जल्द ही एक और नई कहानी में मिलते हैं।
तब तक के लिए विदा।

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds