पहाड़न गर्लफ्रेंड को चोदा और उसे चुदाई का पूरा आनंद दिया

पहाड़न गर्लफ्रेंड को चोदा और उसे चुदाई का पूरा आनंद दिया

हेलो दोस्तों मेरा नाम अमन है आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने अपनी “पहाड़न गर्लफ्रेंड को चोदा और उसे चुदाई का पूरा आनंद दिया”

ये घटना करीब 1 साल पहले की है. उस समय मैं दिल्ली में ही एक ऑफिस में काम करता था.

मेरे ऑफिस में कृतिका नाम की लड़की भी काम करती थी, जो पहाड़ी थी. दोस्तों पहाड़ी लड़की चाहे कैसी भी हो दिखने में एकदम खूबसूरत होती है. इनका रंग और फिगर अद्भुत है. कृतिका भी वैसी ही थी.

कृतिका का फिगर 34-28-32 था. अगर आप उन्हें एक बार देख लें तो देखने वाला दीवाना हुए बिना नहीं रह पाता. ठीक उसी तरह मुझे भी बिना एहसास हुए ही उससे प्यार हो गया.

मैंने उसे यह बताने के बारे में सोचा। मैंने हिम्मत जुटाई और उसे अपने दिल की बात बता दी. उसे गुस्सा तो नहीं आया लेकिन उसने हमारे रिश्ते को दोस्ती से ज्यादा कुछ नहीं समझा.

मैंने उससे कई बार कहा कि मैं उससे एक बॉयफ्रेंड-गर्लफ्रेंड के तौर पर प्यार करता हूं, लेकिन हर बार वह यह कहकर बात टाल देती थी कि हम सिर्फ अच्छे दोस्त हैं।

मुझे लगता था कि वो भी मुझसे प्यार करती है लेकिन वो अपने प्यार का इजहार खुलकर नहीं करना चाहती थी इसलिए दोस्ती का बहाना बना लेती थी. वह थोड़ी शर्मीली थी.

शायद उसे डर था कि बात उसके परिवार के किसी सदस्य तक पहुंच सकती है. ऐसे ही दिन बीत रहे थे. फिर एक दिन कुछ ऐसा हुआ जिसे मैं कभी नहीं भूल सकता.

वह दिन था 31 दिसंबर. उस दिन मेरा ऑफिस बंद होने वाला था. वह अपनी एक सहेली के साथ एक कमरे में रहती थी.

कृतिका की सहेली एक दिन पहले ही अपने घर गयी थी. अब कृतिका कमरे में अकेली रहने वाली थी. मुझे उसकी चिंता थी. खैर, सच कहूँ तो मैं उसे चोदना चाहता था। इसलिए बार-बार उसके साथ रहने का मन करता था.

मैंने कृतिका को यह भी बता दिया कि तुम्हारी सहेली घर चली गई है और तुम कमरे में अकेली रहोगी. उसने कहा कि वह रहेगी.

मैंने उससे अपनी चिंता व्यक्त की और कहा कि अगर वह सहज महसूस करेगी तो मैं एक रात के लिए उसके कमरे में आऊंगा। कृतिका ने मना कर दिया.

ये सुनकर मैं हैरान रह गया. वो भी मेरा उदास चेहरा देख कर सोच में पड़ गयी. वास्तव में मुझे उनकी किसी भी बात का बुरा नहीं लगा। बस उसके सामने गुस्सा होने का नाटक कर रहा हूं.

मेरा उदास चेहरा देख कर वो मान गयी. बाद में उन्होंने मुझे अपने कमरे में आने की इजाजत दे दी. मैं खुश हुआ। मैं उसे लेकर उसके कमरे में चला गया.

वो कमरे में गया और हम दोनों के लिए खाना बनाया. हम दोनों ने साथ में खाना खाया और फिर उसने हम दोनों के लिए दो बिस्तर लगा दिए.

दो बिस्तर देखकर मैं चौंक गया। जहां मैं उसे चोदने का प्लान बना रहा था और वो मेरे लिए अलग बिस्तर बना रही थी.

फिर मैं कोई बहाना बनाकर उसके पास लेट गया. उसने पूछा तो मैंने कहा कि मुझे रात को अकेले सोने की आदत नहीं है.

जब मैंने ये कहा तो उसने कुछ नहीं कहा. मैंने भी कह दिया कि अभी जब तक हमें नींद नहीं आ जाती तब तक हम एक ही बिस्तर पर लेटे रहेंगे, उसके बाद मैं अपने बिस्तर पर जाकर सो जाऊँगा। मेरी बात से उन्हें थोड़ी राहत महसूस हुई.

हम दोनों कुछ देर तक ऑफिस के बारे में बातें करते रहे. उसने अपनी सहेली के बॉयफ्रेंड के बारे में भी बताया. ये सब सुन कर मेरा लंड भी पैंट में खड़ा होने लगा. लेकिन मैंने कृतिका को इसका अहसास नहीं होने दिया.

बात करते-करते उसे नींद आ गई। जब उसने बोलना बंद किया तो देखा कि वो सो गयी है. उसकी नाइट ड्रेस में उसके उभरे हुए मम्मे देख कर मैं उस पर हावी होने लगा. मैंने उसके स्तनों को हल्के से छुआ. उसने कोई जवाब नहीं दिया।

फिर मैंने उसके स्तनों को धीरे से दबाया और उनकी तरफ देखा. तब भी उन्होंने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी. अब मेरी हिम्मत बढ़ गई और मैंने अपना एक-एक हाथ उसके दोनों स्तनों पर रख दिया।

धीरे-धीरे मुझे उसके मम्मे दबाने में मजा आने लगा और मेरा लंड खड़ा हो गया. अब मैं अपने आप को रोक नहीं सका. मैंने अपना हाथ उसके नाईट टॉप में डाल दिया.

उसने अपने हाथ उसके स्तनों के अन्दर डाल दिये और उन्हें दबाने लगा। मेरे हाथ उसकी ब्रा के ऊपर से उसके स्तनों को दबा रहे थे।

अचानक उसने एक गहरी साँस ली और दूसरी ओर मुड़ने लगी। मेरे दिल में जोर जोर से धड़कने लगी. मैंने सोचा कि शायद वो जाग गयी है. इससे पहले कि वह मुड़ती, मैंने अपना हाथ खींच लिया।

इसके बाद मैंने कुछ देर इंतजार किया. जब एक-दो मिनट तक कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई तो मैंने दोबारा कोशिश करने की सोची.

आप तो जानते ही हैं दोस्तो, जब आपके सामने जवान लड़की सो रही हो तो कंट्रोल करना कितना मुश्किल हो जाता है.

दो मिनट इंतज़ार करने के बाद जब मुझे लगा कि सब कुछ सही है तो मैंने फिर से उसके स्तन दबाना शुरू कर दिया।

अब मैं उसके मम्मों को पहले से भी ज़्यादा ज़ोर से सहला और मसल रहा था। मैं ये भी भूल गया था कि वो मेरी दोस्त है.

मैंने उसके मम्मों को जोर से दबाया तो वो जाग गयी. जैसे ही उसने देखा कि मैं उसके मम्मों को छेड़ रहा हूं तो वो उठ कर बैठ गयी. उसने अपने टॉप की ओर देखा और उसे फिर से पेट के बल नीचे खींच लिया।

यह समझ कर कि मैं उसे चिढ़ा रहा हूँ, उसने मेरी ओर गुस्से से देखा। लेकिन फिर वह रोने लगा. मुझे डर लग रहा था कि अब ये चिल्लाकर सबको बता देगी. मेरी गांड फट रही थी.

फिर मैंने बात संभाली और कहा- सॉरी कृतिका, ये सब गलती से हो गया. मुझसे रुका नहीं गया। मुझे आप से बहुत सारा प्यार है। मैं आपका फायदा नहीं उठाना चाहता. मेरी बात सुनकर उसे थोड़ी राहत महसूस हुई.

बड़ी मुश्किल से मैंने उसे मनाकर चुप कराया. फिर उसने मेरी तरफ देखा और मैंने उसकी तरफ. हमारे होंठ एक बार एक दूसरे से मिले. लेकिन पता नहीं अचानक उसे क्या हुआ कि उसने मुझे पीछे धकेल दिया.

लेकिन अब मैं बेकाबू हो गया था. मैंने उसे फिर से पकड़ लिया और उसकी गर्दन पकड़ ली और उसके होंठों को अपने होंठों से जोर-जोर से चूसने लगा।

पहले तो उसे परेशानी हुई लेकिन कुछ ही सेकंड में उसे मजा आने लगा। अब वो मेरा साथ देने लगी.

मैं धीरे-धीरे उसके होंठों को चूसने का मजा लेते हुए उसके मम्मों को फिर से दबाने लगा. वो अब गर्म होने लगी थी. वह हल्के-हल्के कराहने लगी और मैं उसके स्तनों को दबा रहा था।

उसके बाद मैंने हाथ ऊपर करके उसकी नाइट ड्रेस भी उतार दी. मैं उसकी ब्रा के ऊपर से ही उसके मम्मों को दबाने लगा.

एक तरफ मैं उसके मम्मे दबा रहा था और दूसरी तरफ उसके होंठ चूस रहा था. उसके होंठों को चूसते हुए मैंने उसकी ब्रा भी उतार दी.

मैंने कृतिका की छातियाँ नंगी कर दीं. एक स्तन को हाथ में लेकर दूसरे को मुँह में ले लिया. आह्ह… जब मेरा मुँह उसके स्तनों पर लगा तो मजा आ गया।

मैं मजे से उसके स्तनों को चूसने लगा. कुछ ही देर में मैंने उसके मम्मों को चूस-चूस कर लाल कर दिया।

अब उसके स्तन अचानक से सख्त हो गये थे. अब उसे मजा आ रहा था. उसे थोड़ा दर्द भी हो रहा था क्योंकि मैं उसके मम्मों को जोर-जोर से दबा रहा था और मसल रहा था। उसके निपल्स अचानक से टाइट हो गये थे.

ऐसे ही मैं धीरे-धीरे उसके पूरे शरीर को चूमने लगा। कभी उसके पेट पर तो कभी उसकी नाभि पर. कभी उसके कंधों पर तो कभी उसके गालों पर. मुझे इसे खाने का मन हुआ.

उसकी गर्दन को चूसते समय मेरा लंड उसकी चूत के ठीक ऊपर था. मैंने उसके बदन को खूब चूसा और सहलाया. मेरा लंड बार-बार उसकी चूत के छेद को छू रहा था. उसकी पैंटी पर रगड़ रहा था.

अब मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उसकी पैंटी उतार दी. उसकी चूत ने पानी छोड़ना शुरू कर दिया था. उसकी चूत बाहर से गीली दिख रही थी.

मैंने उसकी चूत को सूँघा और फिर उसे एक चुम्बन दिया। चूमते ही वो सिहर उठी. उसने मुझे अपनी बांहों में कस कर पकड़ लिया.

इसी बीच मैंने अपनी पैंट उतार दी और उसका हाथ अपने लंड पर रख दिया. पहले तो वो अपना हाथ हटाने लगी लेकिन फिर बाद में उसने मेरा लंड पकड़ लिया. अब उसका हाथ मेरे लंड को सहलाने लगा.

मेरा मन कर रहा था कि अपना लंड उसके मुँह में डाल दूँ. मैंने उसे उठाया और अपना लिंग उसके मुँह के सामने रख दिया। वह नखरे दिखाने लगी. लेकिन मैंने हार नहीं मानी.

मैंने उसकी चूत में उंगली की और तेजी से उसकी चूत में उंगली करने लगा. कृतिका के मुँह से तेज़ कराहें निकलने लगीं. पूरा कमरा गरम हो गया था. हम दोनों के शरीर से पसीना निकलने लगा.

जब उससे और बर्दाश्त नहीं हुआ तो वो उठी और मुझे अपने ऊपर खींच लिया. उसने मेरे होंठ चूसे और मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ा.

फिर मैंने दोबारा से अपना लंड उसके मुँह के पास रख दिया और उसने मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया.

जब उसने लंड को मुंह में लिया तो मुझे बहुत मजा आया. मैंने उसका सिर पकड़ लिया और उसे अपना लंड चुसवाने लगा.

अब मेरे मुँह से ‘आअहह… आआह’ करके कराहें निकल रही थीं और जब लंड उसके मुँह में जा रहा था तो उसके मुँह से ‘गं-गं’ की आवाज आ रही थी।

फिर हम 69 की पोजीशन में आ गये. मैंने उसकी चूत में अपनी जीभ डाल दी और वो मेरा लंड चूसने लगी. जल्द ही वह नियंत्रण से बाहर हो गया. मेरा भी मन उसे चोदने का कर रहा था.

वो बोली- आह्ह … आयुष अब नहीं रहा जा रहा, अब अन्दर डाल दो।
मैंने कहा- जान अंदर डाल दूँ क्या?
वो बोली- अपना अंदर डालो.
मैंने कहा- तुम उसे क्या कहते हो, एक बार बताओ तो सही.
वो बोली- अपना लंड डालो.

मैंने पूछा- कहां डालूं? आपका लिंग.
वो बोली- अपना लंड मेरी चूत में डालो.
उसकी ये बात सुनकर मुझे राहत महसूस हुई. जो लड़की पहले मुझे मना कर रही थी वो अब मेरा लंड अपनी चूत में लेने के लिए तड़प रही थी.

मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रखते हुए पूछा- क्या तुमने पहले भी लिया है डार्लिंग?
वो बोली- नहीं, बस उंगली से सहलाया है.
मैंने कहा- ठीक है, तो फिर आज मैं तुम्हारी कुँवारी चूत का उद्घाटन करने जा रहा हूँ. तैयार हो जाओ।
वो बोली- हां, डाल दो, मैं तैयार हूं.

मैंने कहा- लेकिन कंडोम तो है नहीं.
वो बोली- ऐसे ही डालो.
मैंने कहा- ठीक है जान.

मैंने अपना लंड उसकी कुँवारी चूत पर रखा और एक धक्का दे दिया. चूत टाइट थी इसलिए पहले तो लंड का टोपा अंदर नहीं गया और चूत से फिसल गया.

मैंने दोबारा जोर से धक्का मारा तो मेरा लंड उसकी चूत में घुस गया. वो दर्द से चिल्लाई लेकिन फिर मैंने उसके होठों को अपने होठों से बंद कर दिया।

अब मैं रुक गया. उसकी चूत की चुदाई पहली बार हुई थी इसलिए उसे इतना दर्द देना ठीक नहीं था.

कुछ देर रुकने के बाद मैंने फिर से अपना लंड उसकी चूत में सरकाना शुरू कर दिया. मैं उसके होंठों को चूस रहा था

और नीचे से अपना लंड भी उसकी चूत में पेल रहा था. धीरे धीरे करके मैंने अपना आधा लंड उसकी चूत में डाल दिया.

फिर मैंने एक झटका दिया और पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया. वो फिर उछल पड़ी और मैंने उसके होंठ दबा दिये.

कुछ देर रुकने के बाद मैंने फिर से अपने लंड को चूत में धकेलना शुरू कर दिया. उसका दर्द कम होने में दो-तीन मिनट लग गये. अब मैं धीरे-धीरे उसकी चूत को चोदने लगा.

हम दोनों के शरीर बिल्कुल नंगे थे. मैं उसके मम्मों को दबा रहा था और उसकी चूत में धक्के लगा रहा था और वो मेरे होंठों को चूस रही थी.

कुछ ही देर में उसकी गांड ऊपर की ओर उठने लगी. अब वो अपनी चूत को चुदवाने का मजा ले रही थी.

अब मैंने अपने धक्के तेज कर दिए और तेजी से उसकी चूत को चोदने लगा. वह भी जोश में आकर चुदवाने लगी। तीन-चार मिनट में ही उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया.

चूत से पानी निकलने के कारण जब लंड चूत में घुस रहा था तो कमरे में पच-पच की आवाज आ रही थी. अब मेरा लंड मलाई की तरह उसकी चूत में अंदर-बाहर हो रहा था।

वो मजे में कराहते हुए बोली- आह्ह … चोद दो मुझे यार आज … अभी तक ये चूत भी कुंवारी थी और मैं भी कुंवारी थी. मैंने कहा- हां मेरी जान, मेरी नजर बहुत दिनों से तुम्हारी चूत पर थी.

वो मेरे होंठों को चूसते हुए मेरी गांड को ऊपर उठाता रहा. मुझे भी उसकी टाइट चूत चोदने में मजा आ रहा था.

दस मिनट के बाद वह फिर से कामोन्माद से भर गयी। अब मेरा भी माल निकलने वाला था. मैंने उसकी चूत में तेजी से दो-चार धक्के मारे और जब एकदम से वीर्य निकलने लगा तो मैंने झट से लंड बाहर निकाला और उसके मुँह में डाल दिया.

उसने मेरे लिंग को मुँह में लेकर एक-दो बार चूसा तो मेरे लिंग से वीर्य की पिचकारी निकलने लगी। मेरा पूरा शरीर अकड़ने लगा. मैंने झटके देकर अपना सारा वीर्य उसके मुँह में गिरा दिया और वो उसे पी भी गई.

फिर हम दोनों नंगे ही रहे. कुछ देर बाद उसने खुद ही मेरा लंड पकड़ लिया और सहलाने लगी. फिर उसने बिना कुछ कहे मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और पांच मिनट तक चूसा और मेरा लंड फिर से कड़क हो गया.

एक बार फिर मैंने उसकी चूत चोदी. इस बार मैंने उसे डॉगी स्टाइल में चोदा. कुतिया की तरह चोदने में बहुत मजा आया. उन्होंने भी इस पोजीशन का भरपूर आनंद उठाया.

उस रात मैंने उसकी चूत तीन बार चोदी. इस तरह मैंने एक कुंवारी चूत को चोद कर अपना नया साल मनाया. सुबह जब वह उठी तो उसके पूरे शरीर पर लाल निशान थे. मैंने उसके शरीर को जी भर कर चूसा।

उस रात के बाद कृतिका मेरी दीवानी हो गयी थी. उस दिन पहली जनवरी को दिल्ली में मस्ती करते हुए मैंने उसे फिर से चोदा. उसके बाद उसकी गांड भी मारी.

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds