ऑफिस की बोस को चोदा और उसकी चुदाई की इच्छा को पूरा किया

ऑफिस की बोस को चोदा और उसकी चुदाई की इच्छा को पूरा किया

मेरा नाम अमन है आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने अपनी “ऑफिस की बोस को चोदा और उसकी चुदाई की इच्छा को पूरा किया”

मेरी उम्र 31 साल है, मैं बैंगलोर में एक कंपनी में काम करता हूँ। छह महीने पहले मेरे ऑफिस में एक नई मैडम आई और बाद में वह मेरी बॉस बन गई।

उन मैडम का नाम आशिका है और उनकी उम्र 35 साल है. वह देखने में भले ही बहुत खूबसूरत न हों, लेकिन उनमें एक अनोखी अपील है।

उसका फिगर 35-32-40 है. उसके शरीर में उसकी गांड सबसे ज्यादा उभरी हुई है और जब वो चलती है तो उसकी गांड ऐसे मटकती है जैसे समुद्र में लहरें उठ रही हों.

वह हमेशा वेस्टर्न ड्रेस पहनकर ऑफिस आती थीं। जींस या ट्राउज़र में उसकी गांड बहुत सेक्सी लगती थी. मेरा मन कर रहा था कि उसकी गांड पर जोर से थप्पड़ मार कर खा जाऊं.

बड़ी गांड मेरी कमजोरी है. अगर किसी महिला की गांड सेक्सी और बड़ी हो तो वह मुझसे सेक्स में कुछ भी करवा सकती है। बस मुझे वो अपनी गांड से जो मैं करना चाहूँ करने दे।

मेरी बातों से आपको अंदाज़ा हो गया होगा कि मैं सेक्स के मामले में कितना वाइल्ड हूँ. जब मैडम ने ज्वाइन किया तो मैं उनसे ज्यादा बात नहीं करता था.

लेकिन बाद में जब वह मेरी बॉस बनकर मेरे विभाग में आईं तो हम दोनों नियमित रूप से बातें करने लगे। उनकी बातचीत से पता चला कि उनके पति केंद्र सरकार में इंजीनियर हैं

और फिलहाल नॉर्थ ईस्ट में पोस्टेड हैं. उनका एक बेटा है जो अभी मुंबई से इंजीनियरिंग कर रहा है और मैडम यहाँ अकेली रहती हैं।

काम के साथ-साथ हम अपनी निजी बातें भी साझा करने लगे, जैसे परिवार के बारे में, अपनी गर्लफ्रेंड के बारे में।

उससे बात करने के बाद मुझे लगा कि वह बहुत अकेली है और उसके अंदर बहुत सारी भावनाएँ हैं जिन्हें वह व्यक्त करना चाहती है लेकिन कोई नहीं है जिसके साथ वह साझा कर सके।

कई बार देर तक बैठने की वजह से हम दोनों को रात तक काम करना पड़ता था और फिर मैं उसे घर छोड़ कर चला जाता था.

ऐसे ही एक दिन जब मैं उसे घर छोड़ने जा रहा था तो मैडम ने कहा- चलो साथ में चाय पीते हैं। मैं उसके घर गया जो 2 बीएच फ्लैट था

और मैं हॉल में बैठ गया और उसने कहा- मैं एक मिनट में कपड़े बदल कर चाय बनाती हूँ। उसने गाउन पहना और चाय बनाने लगी. तभी उसने मुझे अंदर से आवाज दी- इधर आओ, किचन में बात करते हैं.

मैं रसोई में गया. वो किचन में गया और वहां स्टैंड के पास खड़ा होकर बातें करने लगा. मैंने देखा कि वो लाल गाउन में बहुत सेक्सी लग रही थी.

उसके मम्मे दिख रहे थे और उसका क्लीवेज भी दिख रहा था. नीचे उसकी गांड बाहर की ओर उठी हुई थी. गाउन लाल रंग का था और उसका गला काफी बड़ा था.

नीचे से टाइट थी और उसकी पैंटी की लाइन दिख रही थी. यह देख कर मेरा खड़ा हो गया, जिसे मैं इधर-उधर घूम कर छुपा रहा था।

लेकिन मैडम ने मेरे खड़े लंड को नोटिस कर लिया था. वो बार-बार झुककर मुझे अपने मम्मे दिखा रही थी और मैं पागल हो रहा था।

हमारी बातचीत के दौरान उन्होंने बताया कि वह अपने पति को बहुत मिस करती हैं. लेकिन क्या करें, पति तो महीने दो महीने में एक बार ही आते हैं.

और कभी-कभी उनका बेटा बीच में आ जाता है. फिर जब चाय तैयार हो गई तो हम दोनों सोफे पर बैठ गए और चाय पीने लगे. उसने पूछा- भोजन का क्या करोगे?

मैंने कहा- मैं अभी जाऊंगा और या तो कुछ बनाऊंगा या ऑर्डर करूंगा. उसने कहा- एक काम करते हैं, यहीं ऑर्डर कर दो, तुम खाना खाओ और चले जाना। मैंने कहा- ठीक है. और हमने खाना ऑर्डर किया.

उन्होंने कहा- खाना आने में टाइम लगेगा, तुम थोड़ा फ्रेश हो जाओ. मैं फ्रेश होने के लिए उसके बाथरूम में चला गया.

वहां मैंने देखा कि मैडम के अंडरगारमेंट्स लटके हुए थे. उसकी ब्रा गुलाबी रंग की थी और उसकी पैंटी काली और कटी हुई थी और बहुत सेक्सी लग रही थी।

मैंने उसकी पैंटी और ब्रा को चूमा और फिर फ्रेश होकर बाहर आ गया. बाहर आकर हम दोनों फिर बातें करने लगे. वो मेरी तरफ थोड़ा झुक कर बैठी थी

इसलिए मुझे उसके मम्मे दिख रहे थे. उसने देखा कि मैं उसके स्तन देख रहा था। वह फिर भी वैसे ही बैठी रही.

और बात करते करते वो मेरा हाथ पकड़ कर उससे खेल रही थी. तभी हमारी नजरें मिलीं और हम दोनों एक दूसरे को खा जाने वाली नजरों से देखने लगे.

अचानक क्या हुआ… दोनों एक-दूसरे को चूमने लगे। मैं उसे काफी देर तक चूमता रहा और वो भी मेरा साथ देती रही.

उसके बाद मेरे हाथ उसके मम्मों पर चले गये और मैं उसके मम्मे दबाने लगा. फिर मेरा दूसरा हाथ उसके पीछे उसकी गांड को दबाने लगा. अब वो कराह रही थी. फिर हम दोनों खड़े होकर किस करते रहे.

मैंने उसका गाउन उतारने की कोशिश की तो वो बोली- हम जो कर रहे हैं उसमें तुम्हें कोई आपत्ति तो नहीं है?

तो मैंने उससे कहा- मुझे बहुत ख़ुशी है कि आज मैं तुम जैसी खूबसूरत औरत के साथ कुछ प्यार भरे पल बिता पा रहा हूँ।

फिर मैंने उसका गाउन उतार दिया. वो भी मेरे कपड़े उतारने लगी. उसने मेरी शर्ट उतार दी और फिर मेरी पैंट भी खोल दी. अब मैं बनियान और अंडरवियर में था और वो सिर्फ ब्रा और पैंटी में थी.

मैंने उससे पूछा- बेडरूम में चलें क्या? और बहुत देर बाद खाना आया. जैसे ही दरवाजे की घंटी बजी, हम दोनों डर गए लेकिन फिर उसने जल्दी से गाउन पहना और बोली- मैं खाना लेकर आती हूँ, तुम बेडरूम में जाओ।

फिर वह बेडरूम में खाना लेकर आई। मैं वहीं लेटा हुआ था. आते ही उसने अपना गाउन उतार दिया और मेरे ऊपर लेट गयी.

मैंने उसे फिर से चूमना शुरू कर दिया. कुछ देर बाद मैं उसके ऊपर आ गया और उसके शरीर को चूमने लगा, उसके माथे, गाल, गर्दन, कान, छाती हर जगह चूमने लगा!

और फिर मैंने उसकी ब्रा उतार दी और अपनी बनियान भी! फिर मैं उनके स्तनों को चूमने लगा और मैम के स्तनों के निपल्स को मुँह में लेकर चूसने लगा, काटने लगा और उनके स्तनों को प्यार से दबाता रहा।

वो बहुत जोर से आह आह करती रही और मेरे सिर को अपने चूचों के बीच दबाती रही. मैं उसके पेट और उसकी नाभि को चूमने लगा. और फिर मैंने उसे पलटा दिया और फिर उसकी पूरी पीठ को चूमने और काटने लगा.

मैंने हर जगह चाटना शुरू कर दिया, उसकी पीठ, उसकी बाँहें और उसके पेट के निचले हिस्से को चूमने लगा।

और फिर मैं मैम की पैंटी उतारने लगा. पैंटी उतारते समय मैं उसके साथ-साथ अपने होंठ भी हिलाता रहा. नीचे आते हुए मैं उसके पैरों को चूमने लगा और उसकी पैंटी उतार कर फेंक दी.

मैं फिर से उसके पैरों को चूमता हुआ ऊपर जाने लगा और उसकी जाँघों को चूमने लगा। उसकी जाँघों को चूमने के बाद उसके नितम्बों को चूमने लगा या यूँ कहूँ कि उसके नितम्बों को चूमने लगा और उन्हें अपने दाँतों से काटने लगा।

वो बस आह आह आह आह करती रही और बोली- बहुत मजा आ रहा है अमन.. बहुत मजा आ रहा है. और अधिक ऑफर करें… और अधिक करें। और मैं उसकी गांड को चूमता और काटता रहा.

और फिर मैंने उसे पलट दिया और उसकी जाँघों को चूमने और चाटने लगा। फिर मैंने अपनी दोनों जांघें फैला दीं और उसकी चूत को देखने लगा.

वो बहुत प्यारी लग रही थी, बिल्कुल गुलाबी… उसकी चूत के आसपास छोटे-छोटे बाल थे जो बहुत प्यारे लग रहे थे।

फिर मैंने तुरंत मैम की चूत पर धावा बोल दिया और उसे चाटने और चूमने लगा. मेरे होंठ उसकी चूत के रस से पूरी तरह गीले हो गये… और मेरी लार भी उसकी चूत को गीला करने लगी।

मैंने उसकी चूत को उंगलियों से फैलाया, जीभ अन्दर डाल दी और चूसने-चाटने लगा. उसकी चूत के दोनों हिस्सों को काटने लगा.

मैम एकदम पागल हो गईं और चिल्लाने लगीं- अमन, मैं मर जाऊंगी. आह आह आह मैं झड़ने वाला हूँ. वो बोली- और जोर से चढ़ाओ… और चाटो… खा जाओ मेरी चूत को… इसकी सारी गर्मी निकाल दो।

मैं मैडम की चूत चाटता रहा. और फिर मैं उठा, अपना अंडरवियर उतार दिया और उससे कहा- अब तुम मेरा लंड चूसो.

मैं अपना लिंग उसके मुँह की ओर ले गया और उसने मेरा लिंग अपने मुँह में ले लिया और जोर-जोर से चूसने लगी। मैं उसके बाल पकड़ कर अपना लिंग अन्दर तक डाल रहा था।

ऐसे ही चूसने के बाद मैंने कहा- चूत के अन्दर डालूँ क्या? वो बोली- मैं तो कब से इंतज़ार कर रही थी. फाड़ दो मेरी चूत को… इसकी खुजली मिटा दो।

और फिर मैंने उसके दोनों पैरों को फैलाया और अपना लंड एक ही झटके में अंदर डाल दिया. उसके मुँह से बहुत तेज आवाज निकली और फिर बोली- धीरे धीरे करो मेरी जान.

मैंने आसानी से पूरा लंड मैम की चूत से बाहर निकाला और फिर पूरा अन्दर डाल दिया. मैं ऐसे ही झटके देता रहा और फिर उससे कहा- पोजीशन बदल लो.

और वो मेरे ऊपर आ गई, मेरे ऊपर बैठ गई, लंड को अपनी चूत में ले लिया और उस पर उछलने लगी, उछल-उछल कर लंड लेने लगी।

उसके चूचे भी साथ-साथ ऊपर-नीचे हो रहे थे। मैम बहुत सेक्सी लग रही थीं. मैंने उसे रोका और चूमा और फिर कहा- तुम तो सेक्स में एक्सपर्ट हो.

तो वो बोलीं- अमन, तुमने भी मुझे खुश कर दिया. मेरी चूत की सारी आग ख़त्म कर दी. मैंने कहा- डॉगी स्टाइल में आ जाओ. और वो कुतिया बन गयी. मैंने पीछे से उसकी चूत में अपना लंड डाल दिया और तेजी से झटके मारने लगा.

मैम की गांड बिल्कुल सेब की तरह लग रही थी और फैलने पर बहुत बड़ी लग रही थी. मैं उसकी गांड देख कर पागल हो गया. हर झटके के साथ गांड में लहरें उठ रही थीं.

और फिर मैंने अपने दोनों हाथों से उसकी गांड पकड़ ली और तेजी से झटके मारने लगा. मैडम की गांड का छेद बिल्कुल गुलाबी था… शायद उन्होंने अपनी गांड का छेद ब्लीच किया हुआ था।

तब मैम ने कहा- मैं दो बार स्खलित हो चुकी हूँ। अब मुझे दर्द हो रहा है. इतनी देर से कर रहे हो, अब निकालो इसे. तो मैंने कहा- ठीक है. और मैं बहुत तेजी से धक्के लगाने लगा.

मैंने कहा- तो मैं निकलने वाला हूँ? वो बोली- मेरा ऑपरेशन हो गया है, अन्दर ही निकाल दो डार्लिंग, प्रेगनेंसी का कोई डर नहीं है.

फिर मैंने अपना सारा लावा उसकी चूत के ज्वालामुखी में उड़ेल दिया. उस रात हम पूरी रात सेक्स करते रहे. मैंने उसे 5 बार चोदा और उसकी चूत को कभी आइसक्रीम तो कभी शहद से चाटा।

फिर सुबह हम दोनों वहां से तैयार होकर ऑफिस चले गये. उसके बाद मैंने अब तक उसे कई बार चोदा है. कई बार हम ऑफिस में होते हुए भी सेक्स करते हैं, वो मेरा लंड चूसती हैं या मैं मैडम की चूत चाटता हूं.

वह कहती है कि उसे मेरे लंड के बिना अच्छा नहीं लगता और वह चाहती है कि मैं उसे हर वक्त चोदता रहूँ।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds