मेरे लंड ने किया आंटी को सैल्यूट: पड़ोसन आंटी की सेक्स कहानी

मेरे लंड ने किया आंटी को सैल्यूट: पड़ोसन आंटी की सेक्स कहानी

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “मेरे लंड ने किया आंटी को सैल्यूट: पड़ोसन आंटी की सेक्स कहानी”। यह कहानी राज की है, वह आपको अपनी कहानी बताएंगे, मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

पड़ोसन आंटी की सेक्स कहानी में पढ़ा कि दुल्हन को सजाने का काम आंटी करती थी लेकिन उसके बारे में सुना था कि वह एक्टिव रहती है. होली पर जब मैं उसके घर मिठाई देने गया तो वह अकेली थी।

दोस्तों मेरा नाम राज है। मैं Delhi का रहने वाला हूं। ब्यूटी पार्लर वाली आंटी के साथ यह मेरी सच्ची सेक्स कहानी है। आंटी का नाम Poonam था। वह एक अधेड़ उम्र की महिला थी, जिसकी उम्र करीब 45 साल थी। उनका फिगर 38-34-42 का रहा होगा।

आंटी के एक बेटा और एक बेटी थी। उसका पति नल्ला था, वह कोई काम नहीं करता था। वैसे अफवाहें तो खूब सुनने को मिलीं कि जब वह आंटी किसी शादी में दुल्हन को सजाने जाती थी तो उसकी चुदाई या तो दूल्हा करता था या फिर दुल्हन के रिश्तेदार।

इस मामले को लेकर कई बार बवाल भी हो जाता था. मेरा घर उस आंटी के घर के सामने था। वैसे तो मैं भी कई बार उसे छुप छुप कर देखता था। कई बार मैंने उसे नग्न भी देखा। उसके निप्पल बड़े, लेकिन ढीले थे। जो भी हो, मैं उसे चोदना चाहता था।

एक दिन मुझे भी मौका मिला जब मैं उनके घर होली में मिठाई बांटने गया था। यह पड़ोसी आंटी की सेक्स कहानी उसी समय की है। मैंने 2-3 बार घंटी बजाई। लेकिन जब काफी देर तक कोई नहीं आया तो मैं अंदर गया। मैंने देखा वो कुर्सी पर बैठी थी और अपना पेटीकोट उठाकर अपनी चूत के बाल साफ कर रही थी.

उसे देखते ही मैं एक ओर हट गया और छिपकर देखने लगा। उस वक्त वो शायद घर पर अकेली थी इसलिए वो अपनी चूत को इस तरह दिखा रही थी. शायद उसका बेटा, बेटी और पति कहीं होली खेलने गए होंगे। मैं उसे देख रहा था लेकिन तभी मेरा पैर किसी चीज से टकराया और उसकी नजर मुझ पर पड़ी।

इससे मैं डर गया और बाहर आ गया। उसने जल्दी से अपना पेटीकोट नीचे किया और वो मेरे पास आकर बोली-अचानक आप अंदर क्यों आ गए? घंटी बजनी चाहिए थी न? मैंने कहा- आंटी मैंने कई बार घंटी बजाई, लेकिन जब कोई नहीं आया तो मैं अंदर चला गया. फिर जब मैंने तुम्हें यह सब करते देखा तो मैं वहीं रुक गया।

यह कहकर मैं चुप हो गया। उसने कहा- घंटी नहीं बजी, बिजली गुल होने से ऐसा हुआ होगा। और तुमने मुझे देखकर रुक क्यों गए , क्या तुम आवाज नहीं कर सकते थे? मैंने हामी भर दी और कहा- मैं तो देखने लगा था! आंटी नीचे मुंह करके शरमा गईं, फिर बोलीं- अच्छा… तुम क्यों आए?

मैंने कहा- मेरी मां ने तुम्हें मिठाई देने भेजा था आंटी बोलीं- आओ, किचन के अंदर आ जाओ. मैंने हलवा भी बनाया है, वह भी तुम ले जाना। मैं अंदर गया। अंदर जाते वक्त मेरा पैर वहीं फिसल गया और मैं सीधा आंटी के ऊपर गिर गया.

घबराहट में मेरा एक हाथ आंटी के ब्लाउज पर लग गया और मैंने खुद को गिरने से बचाने के लिए ब्लाउज को खींच लिया। उसका ब्लाउज फटता चला गया और उसके स्तन नंगे हो गए। मेरा दूसरा हाथ आंटी की कमर पर जम गया था. मुझे भी गहरी चोट लगी थी। मैं जमीन पर गिर पड़ा।

पहले तो आंटी चौंक गईं कि क्या हुआ फिर उन्होंने देखा कि मैं गिर गया हूं तो ‘अरे अरे क्या हुआ…’ कहकर मुझे उठाने लगीं। मेरी जांघ के जोड़ के पास चोट लग गई थी और मैं दर्द सहन नहीं कर पा रहा था। मैं अपने लंड पर हाथ रखकर दर्द से कराह रहा था.

मेरी आंखों में आंसू आ गए। मेरी आंखों में आंसू देखकर बोलीं- दिखाओ कहां चोट लगी! इतना कहकर वो अपना हाथ मेरी हाफ पैंट में डालने लगी और उनका हाथ सीधा मेरे लंड पर चला गया. चोट तो वहीं थी, तो जैसे ही आंटी का हाथ लगा, मैं फिर से आहें भरने लगा।

लंड दबाते हुए बोली- लगता है, यहाँ जोर से लगा गया है. पहले तुम कमरे में जाओ। मैं आंटी की मदद से कमरे में आ गया। उसने मुझे पलंग पर बिठाया और मूव लाकर कहा- चलो खोलो, मैं लगाती हूँ। जब मैंने पैंट नहीं खोली तो आंटी ने अपना हाथ मेरी जांघ के अंदर डालना शुरू कर दिया.

फिर बोलीं-ऐसी पैंट खराब हो जाएगी, उतारनी पड़ेगी। मैंने कहा कि मैंने अंदर कुछ नहीं पहना है। उसने कहा- कोई बात नहीं, बस मूव लगाना है। आंटी ने मेरी हाफ पैंट खींची और उतारने लगीं. तभी मेरा लंड खड़ा हो गया और आंटी को सैल्यूट करने लगा.

आंटी ने जब मेरा छह इंच मोटा लंड देखा तो उनके अंदर हवस की आग जलने लगी. वो जांघ में घुमाते हुए लंड को छूने लगी. आंटी हंस पड़ीं और बोलीं- ये तुम्हारे चाचा से भी लंबे और मोटे हैं। मैं भी उसे देखने लगा। उसकी आँखों में कामवासना का नशा झलक रहा था।

मैं कुछ समझ ही नहीं पाया कि अगले ही पल आंटी ने जल्दी से अपना हाथ बढ़ाया और वो मेरे लंड को पकड़ने लगीं. फिर मैं सीधा लेटा हुआ था, आंटी मुझ पर झुकी हुई थी। उसने मेरे खड़े लंड को पकड़ा और अपने मुँह में लेने लगी. मैं भी अपना दर्द भूल गया और आंटी की तरफ देखने लगा।

आंटी सब कुछ भूल गईं और मेरे लंड को चूसने लगीं. मुझे लंड चुसवाने में मज़ा आने लगा, साथ ही मैंने अपने हाथ बढ़ा कर उसके निप्पलों को मसलना शुरू कर दिया. अपना फटा हुआ ब्लाउज उतारते हुए अपनी निप्पल निकाली और अपने निप्पलों से खेलने लगी.

कुछ ही देर में मैं चोटी पर आ गया और मैंने कहा- आंटी मेरा लावा निकलने ही वाला है. मेरी बातों को अनसुना करके वो चूसने का आनंद लेती रही। मैं झड़ने लगा और उसने मेरा सारा माल निगल लिया। हम दोनों के बीच मस्ती शुरू हो गई। कुछ ही देर में मेरा लंड फिर से सख्त हो गया.

अब मैंने आंटी को वहीं लिटा दिया और उनके निप्पलों को सहलाने लगा, धीरे से नीचे जाकर उनका पेटीकोट उतार दिया. अंदर कोई पैंटी नहीं थी, तो मुझे सीधे उसकी चिकनी चूत की झलक मिल गई। मैंने अपनी दो उँगलियाँ चूत के अन्दर डाल दी और जोर से आंटी की चूत को मसलने लगा.

उसकी चूत से रस निकलने लगा. मैंने उसके पेटीकोट से उसकी चूत को पोंछा और उसकी चूत पर अपने होंठ रख दिए. मैं चूत चूसने लगा. आंटी की सिसकियां जोर-जोर से निकलने लगीं और वो मेरे बालों को पकड़कर मेरा सिर अपनी चूत पर दबाने लगीं.

चूत के बाद मैंने आंटी के होठों को चूमा और उनकी चूत का रस चखा. वो बोली- आपको मेरी चूत का स्वाद कैसा लगा? मैंने कहा- बहुत बढ़िया… आंवले के अचार जैसा खट्टा स्वाद था. वो हँसी और बोली – सच कहा आपने… बहुत कड़वा लगा।

मैंने आंटी की चूची दबाते हुए कहा- तुमने तो मेरे लिंग का रस भी चूस लिया था. बताओ इसका स्वाद कैसा लगा? आंटी बोलीं- अरे वो तो मेरा फेवरेट जूस है. मैंने कहा- अच्छा, अब तक आपने कितने तरह के जूस के टेस्ट लिए हैं? आंटी हंस पड़ीं और बोलीं- तुम तो बड़े सयाने हो गए हो। चलो कोई नहीं… मैं बताती हूँ।

अब तक मैं तुमको मिलाकर 16 पुरुषों का रस पी चुका हूँ, उनमें से तुम श्रेष्ठ थे। मैंने मासूमियत से कहा- आज पहली बार आंवले का अचार चखा है. आंटी ने मुझे बड़े प्यार से किस किया और बोलीं- ये मेरा सौभाग्य है कि मुझे तुम्हारा लंड खोलने का मौका मिल रहा है. चलो, देर मत करो, मेरी चूत को फाड़ डालो।

मैंने आंटी के बूब्स को सहलाते हुए उनके दोनों पैर अपने कंधों पर रख लिए. लंड को उसकी चूत पर रख कर अंदर तक मसला, फिर सुपारी अंदर घुस गया. वह कराहने लगी और बोली- आह… मर गई यार… तुम्हारा बहुत मोटे हो, इसे फौरन बाहर निकालो!

मैंने कहा- अब आंटी ये जूस छोड़ कर ही निकलेंगी. मैंने उसके होठों को चूमा और एक जोरदार झटके से पूरा लंड उसकी चूत के अंदर धकेल दिया। वह तुरंत कराहने लगी और मुझे हटाने की कोशिश करने लगी। एक और धक्का देकर मैंने अपना लंड आंटी की चूत के अंदर धकेल दिया और उनके गर्भाशय तक लड़ गया.

आंटी जोर-जोर से छटपटाई उन्होंने अपने होठों को मेरे होठों की पकड़ से छुड़ा लिया. अब वह जोर-जोर से सिसकियां लेने लगी। देखते ही देखते आंटी को सेक्स में मजा आने लगा। मुझे भी आंटी की चूत चोदने में जबरदस्त मजा आने लगा.

करीब 20 मिनट के ढाकपेल चुदाई के दौरान आंटी एक बार झड़ गयी थीं। फिर लगातार झटके देकर मैंने भी कहा- अब मेरा भी निकलने वाला है, जल्दी बताओ, कहां निकालूं? उसने कहा- अंदर निकालो। मैंने जोर से झटका दिया और अपना सामान उसकी चूत में गिरा दिया।

मैं बहुत थक गया था, इसलिए मैं गिर गया और उसके ऊपर लेट गया। आंटी मुझे बाहों में भर कर प्यार करती रहीं। फिर करीब दस मिनट तक ऐसे ही लेटे रहने के बाद मैं उठा, फिर वो बोली- तुम्हारे अंकल ने आज तक ऐसी चुदाई नहीं की, जैसे आज तुमने मुझे चरम आनंद दिया है.

में मुस्कुरा रहा था। मैंने कहा- आंटी एक बार और चुदाई कर लो. आंटी बोली- हां, मेरा भी मन है, लेकिन पहले कुछ खा लो… बहुत भूख लगी है। मैंने कहा- ठीक है, आपने हलवा बनाया था, वही ले आओ। वह नंगी उठी और गांड हिलाती हुई किचन में चली गई और एक प्लेट में हलवा ले आई।

हम दोनों ने हलवा खाया और उसके बाद आंटी ने अलमारी से एक सिगरेट का डिब्बा निकाल कर सुलगाया और पीने लगीं. उसे धूम्रपान करते देख मुझे थोड़ी हैरानी हुई। मैंने कहा- आंटी आप हमेशा सिगरेट पीती हैं? आंटी मेरी तरफ देखकर मुस्कुराईं और बोलीं- तुम भी ट्राई करो!

मेरा मन भी हो रहा था; मैंने उसके हाथ से सिगरेट ली और अपने होठों से लगाकर एक कश लिया। जब मैंने पहली बार सिगरेट सुलगाई तो मुझे एक झटका सा लगा। आंटी ने मेरी पीठ पर हाथ रखा और बोलीं- धीरे-धीरे पी लो! कुछ देर बाद मैंने फिर से आंटी को गोद में लिया और उनके ऊपर चढ़ गया।

हम दोनों फिर से सेक्स करने लगे। इस बार मैंने आंटी की चूत को आधे घंटे तक बजाया और उनके अंदर झड़ गया. वह भी मुझसे बहुत खुश थी। फिर उसने कहा- अब तुम जाओ, फिर बाद में हम दोनों टाइम निकाल कर अच्छे से चुदाई करेंगे। अब मेरे बच्चों के आने का समय है।

उसके बाद जब भी फुर्सत और मौका मिलता मैं आंटी की चूत चोद लेता. एक दिन मैंने आंटी की गांड भी मारी और बाद में उनकी बेटी की भी चुदाई की, जो मैं आपको अगली सेक्स स्टोरी में बताऊंगा। 

आपको पड़ोसन आंटी की सेक्स कहानी कैसी लगी? अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds