मेरी बीवी की सामूहिक चुदाई Part- 2 | Gangbang sex story

मेरी बीवी की सामूहिक चुदाई Part- 2 | Gangbang sex story

आशा करता हु आपको Part 1 पसंद आया होगा. आपके मुझे  इमेल्स आये जिससे मुझे इस स्टोरी का पार्ट 2 लिखने में पूरा जोश और प्रेरणा मिली. तो कहानी शुरू करते है.

कहानी का पहला भाग – मेरे बॉस और दोस्तों ने मेरी बीवी को मेरे सामने चोदा Part -1

जैसा की आपने अंतिम लाइन में पढ़ा था की इशारों को समझते है.

मेरे ऑफिस के सभी दोस्त प्लान के अकॉर्डिंग काम करते है. वो मेरी वाइफ अज़रा को पूरी नंगी हालत में जहा उसकी चुत और गांड में वार्निश में लिप्त हालत में धीरे से गेट खोल कर बाहर लाते है.

मेरी वाइफ बिना किसी विरोध के उन सब का साथ देते हुए बाथरूम से बाहर आती है. इसरार सर मेरी नंगी वाइफ की तरफ इशारा करते हुए मेरे दोस्त को कहते है-इसरार सर: मुझे अभी इससे और होली खेलनी है लेकिन बाथरूम में नहीं बाहर. ये अभी पूरी नंगी है. (Gangbang sex story)

इसको बाहर ले चलो. सब के सामने इसकी चुदाई मचाएंगे आज.मेरी वाइफ ये सुन कर घबरा गयी और कहने लगी-

अज़रा: कम से कम साड़ी पहना दो मुझे और अब ये सब ख़तम कर दो सर प्लीज.

बॉस को थोड़ा सा रेहम आया उस टाइम और वो कहते-

इसरार सर: साड़ी पहनाओ इसको जल्दी और ले चलो बाहर कॉलोनी में.अरुण बॉस का हुकुम मिलते ही अलमारी खोल कर साड़ी ब्लाउज ब्रा ले आते है नयी.

लेकिन फिर इसरार सर कहते है-इसरार सर: मैंने तुझे साड़ी लाने को कहा था. ये सब ताम  झाम  लाने को नहीं.और सब कुछ टेबल पर रख कर मेरी पत्नी को सिर्फ साड़ी पहनाई जाती है. (Gangbang sex story)

मेरी पत्नी अज़रा चुद कर बेहाल होती है और कुछ बोल ही नहीं पा रही थी. वो ये सब कुछ होने के बाद भी खड़ी खड़ी  साड़ी को पहनने लगी.ये क्या? मेरी वाइफ के नंगे बूब्स साड़ी में से साफ़-साफ़ नज़र आते है.

यहाँ तक की उसके बूब्स के वो काले निप्पल्स भी साड़ी से साफ़-साफ़ दिखाई पड़ते है.

फिर बॉस कहते है: ले चलो अब भाभी को नीचे कॉलोनी में होली खेलेंगे.और फिर सब साथ में हाथ पकड़ कर अज़रा को कॉलोनी में नीचे ले-जाते है जहा और लड़के शराब पी रहे थे और बॉस के इशारे से वह एक बार फिर रंग लगाने का कार्यक्रम शुरू करते है. (Gangbang sex story)

ये सब एक पार्क में होता है जहा काम से काम 50-55 लोग होते है. उनमे से 40 के आस-पास मेल और 10-15 बच्चे और लेडीज दिखाई पड़ती है.फिर शुरू होता है होली खेलने का ये मंज़र जहा मौजूद कॉलोनी के ऑलमोस्ट सभी लोग बुड्ढे जवान होते है.

फिर ऑफिस के दोस्त  आपस में इशारा करते हुए शुरू करते है

अज़रा को रंगने का कार्यक्रम.होली खेलते-खेलते रंग लगाने के बहाने अरुण कुछ ही देर में सब के सामने साड़ी के ऊपर से ही धीरे से अपना एक हाथ अंदर डायरेक्ट डालता है.

फिर बूब्स को अपना टारगेट मानते हुए रंग लगाना शुरू किया जाता है. (Gangbang sex story)

और ये सब देख के सब लड़कों के लंड टाइट हो जाते है.सब लोग अज़रा को घेर के एक सर्किल बना के खड़े हो जाते है और कॉलोनी के लोग आस-पास आ कर अपने मोबाइल से शूट करने लगते है.

एक साथ 5-6 लोगो के अटैक को देख कर मेरी वाइफ कुछ समझ नहीं पाती. उनमे से दो लोग अज़रा के दोनों हाथो को अपनी-अपनी साइड (अपोजिट डायरेक्शन) में कस कर पकड़ लेते है.

और मेरी वाइफ अज़रा के बड़े-बड़े 36 साइज बूब्स अब कुछ ही देर में साड़ी के ऊपर से सब के सामने बाहर आते हुए दिखाई देने लगते है.

फिर इसरार सर मौके का फ़ायदा उठाते हुए तुरंत ही अज़रा के शरीर पर अटकी हुई एक-मात्रा साड़ी को खोलने के लिए अपना पेर साड़ी के ऊपर रख देते है. (Gangbang sex story)

और बाकी के लोग अज़रा के बूब्स को पूरी ताक़त से ज़ोर-ज़ोर से दबाने और निचोड़ने लगते है.वाइफ की आह-आह की आवाज़ लोगों की तरफ जाती है और कुछ ही देर में साड़ी खुद ही खुल जाती है.

अज़रा कुछ ही देर में अपनी बालों वाली चुत के साथ पूरी तरह से नंगी रहती है और एक-दम चुप-चाप शॉक में खड़ी  रहती है.अज़रा को नंगा देख कर लोग और ज़्यादा उत्तेजित  हो जाते है और अपना-अपना लंड बाहर निकाल लेते है.

(Gangbang sex story)

कई लोग पास आकर चुत में हाथ डालते है तो कुछ चुत की झांटो को अपनी मुट्ठी से खींचने का प्रयास करते है.

इसरार सर किसी को फ़ोन करके एक दाढ़ी बनाने वाला इरेज़र लाते है और सब के सामने नंगी चुत से ज़ोर-ज़ोर से झांट के बालों  को निकालते है. बालों के साथ-साथ चुत में लगा वार्निश भी बाहर रिमूव होता है सब के सामने.

अज़रा की चुत पूरी तरह से ओपन और खूबसूरत दिखाई देती है. बूब्स पर मानो किसी के हाथ के निशाँ तो किसी के काटने के निशाँ से पूरे दूध एक-दम कड़क और हरे और लाल हो जाते है.

जवान तो जवान बुड्ढे लोगों का भी लंड सलामी देता है. और मेरी वाइफ को पूरी नंगी हालत में नीचे ही सब के सामने पूरा नंगा लिटाया जाता है. (Gangbang sex story)

कॉलोनी के 5-6 आदमी और मेरे ऑफिस के लोग करीब कुल मिला कर 12 लोग वाइफ को हर डायरेक्शन में चोदते   है. वो अपना माल या तो वाइफ के मुँह में या तो उसकी चुत में ही छोड़ देते है.

इसरार सर के इशारे से अज़रा की एक ही साथ 3 जगह से चुदाई होनी शुरू हो जाती है. गांड में बड़ा लंड चुत में बिना कंडोम पहना लंड और कॉलोनी के बुड्ढे का  लंड अज़रा के मु में होता है .

फच-फच और गुह-गुह की आवाज़े आनी  शुरू होती है और ये मंज़र करीब 3-4 घंटे चलता है.अज़रा इस सब से बेहोश से हो जाती है. (Gangbang sex story)

फिर उसको मेरे ऑफिस के दोस्त नंगी हालत में ही घर लाते है नहलाते है और एक-एक बार फिर अपना माल उसकी चुत और गांड में छोड़ देते है.फिर अज़रा को कपडे पहनाये जाते है.

ये सब वाक्य मेरे ही दोस्त अनुज ने बाद में बताया. अज़रा को मैंने होली खिलाई और उसकी चुत और गांड के दोनों होल बहुत चौड़े हो गए थे.और तब से मेरी वाइफ अज़रा और चुड़क्कड़ बन गयी.

लेकिन कुछ टाइम बाद मेरा ट्रांसफर भोपाल हो गया और हम दोनों भोपाल ही आ गए.आपको ये कहानी कैसी लगी और सबसे बढ़िया कोनसा पार्ट लगा मुझे ज़रूर बताना. और मेरी वाइफ के लिए कुछ स्पेशल कमैंट्स का मुझे हमेशा इंतज़ार रहेगा. कृपया मुझे मेल कीजिये [email protected]

(Gangbang sex story)

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds