रेलवे स्टेशन पर मिले पुराने माशूक की गांड का गुलदस्ता बनाया

रेलवे स्टेशन पर मिले पुराने माशूक की गांड का गुलदस्ता बनाया

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं गे सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “रेलवे स्टेशन पर मिले पुराने माशूक की गांड का गुलदस्ता बनाया”। यह कहानी मोहित की है, वह आपको अपनी कहानी बताएंगे, मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

बंदर चाहे कितना भी बूढ़ा हो जाए गुलाटी मारना कभी नहीं भूलता। बिल्कुल यही बात गांड चोदने के शौकीन लोगों के साथ भी होती है.

दोस्तो, मैं आपका पुराना दोस्त मोहित गांडू एक बार फिर अपनी गे सेक्स कहानी लेकर हाजिर हूं.

एक कहावत है कि बंदर चाहे कितना भी बूढ़ा हो जाए, गुलाटी मारना नहीं भूलता।
बिल्कुल यही बात गांड चोदने के शौकीन लोगों के साथ भी होती है. जब भी वे किसी प्यारे लड़के को अपने सामने देखते हैं तो उनके रोंगटे खड़े हो जाते हैं।

एक दिन मैं अपनी पत्नी को छोड़ने स्टेशन गया.

जब मैं उसे ट्रेन में बैठा कर वापस आया तो प्लेटफार्म पर ही मुझे हर्षित (जिसकी मैंने पहले भी गांड मारी थी) दिख गया.
मैं उसके पास गया. वह बेंच पर बैठा था और जब उसने मुझे देखा तो वह पूरी तरह चौंक गया।

मैंने पूछा- हर्षित. ..यहाँ कैसे आये?
उन्होंने कहा- मैं इंदौर से यहां आया हूं, यहां से पुणे के लिए सीधी ट्रेन है। मैंने रिजर्वेशन करा लिया था, ट्रेन लेट है इसलिए बैठा हूं. तुम यहाँ कैसे?

मैं- मेरी पोस्टिंग यहीं है, मैं यहीं जॉब करता हूँ. आप पुणे क्यों जा रहे हैं?
हर्षित- मैंने भी M.Com किया है। फिर मैंने टेस्ट दिया और सेलेक्ट हो गया. अब ज्वाइन करने जा रहा हूं.

मैं- बधाई हो… ट्रेन कितनी लेट है?
हर्षित- करीब 6 घंटे. (माशूक की गांड का गुलदस्ता)

मैं: तो तुम यहाँ क्या कर रहे हो, मेरा पास में ही घर है। एक सरकारी फ़्लैट है, चलो वहाँ चलते हैं।
हर्षित- अरे मैं यहीं ठीक हूँ, क्या पता कितनी दूर हो?

मैं- अरे यार, पास में ही है, जाकर देख लो. नखरे मत कर यार, कब तक बैठे रहोगे?
वो मान गया और हम दोनों फ्लैट पर पहुंच गये.
स्टेशन से मेरे फ्लैट तक लगभग दस मिनट की पैदल दूरी थी।

मेरी पत्नी ने खाना बनाना रखा था. हम दोनों ने साथ में खाना खाया.

हाँ, मैं आपको बताना भूल गया, लगभग चार साल पहले मैं विभागीय प्रशिक्षण के लिए इंदौर गया था, जहाँ मेरी मुलाकात हर्षित से हुई।
तब वह B.Com के छात्र थे। उस समय वह 20-22 साल का रहा होगा, अब 25-26 का होगा।

हर्षित पंजाबी था, क्लीन शेव्ड, गोरा, भूरा और मस्त… अब वह पहले से ज्यादा हैंडसम था।
मैं उस पर मरता था, दो-तीन बार उससे मिला और मजे भी किये। मैं उनसे तीन-चार साल बड़ा था.

हम दोनों लेट गये. उसने अपनी पैंट और शर्ट उतार दी थी.
मैंने उससे लोअर पहनने को कहा तो उसने मुस्कुरा कर मना कर दिया.

हम दोनों लेटे हुए थे.
मैंने अपना हाथ उसके अंडरवियर के ऊपर से उसके लिंग पर रखा तो उसने मुस्कुरा कर मेरा हाथ हटा दिया.

मैंने उसे चूमा और कहा- क्या बात है, नाराज हो?
उसने कुछ नहीं कहा, बस मेरी तरफ पीठ कर ली. अब उसके नितम्ब मुझे चिढ़ा रहे थे।

मैंने उसका अंडरवियर नीचे खींचा तो वो बोला- आप नहीं मानोगे.
इस पर मैंने कहा- यार, अगर तुम्हारा मूड नहीं है तो कोई बात नहीं.

मैंने उसका अंडरवियर नीचे छोड़ दिया और उसके नितम्बों को सहलाने लगा।
अब उसके नितम्ब पहले से भी बड़े हो गये थे।

मैंने पूछा- तुम्हारा दोस्त कहाँ है?
उन्होंने कहा- उन्होंने शादी कर ली और गांव में शिफ्ट हो गए.

मैं: तो अब तुम काम मिलते होंगे?
वो- हां कभी-कभी.

मैं: तो काम कैसे चलता है?
हर्षित मुस्कुराये. (माशूक की गांड का गुलदस्ता)

मैं उसके नितम्बों को सहलाते हुए उसकी गांड में उंगली करने लगा और बोला- तो बहुत दिनों से कुछ मिला है क्या?
शायद मेरी बात सुनकर उसकी गांड हिलने लगी.

जब मैंने ये देखा तो मैंने अपनी उंगली पर थूका और फिर से उसकी गांड पर रख दिया.
थोड़ा अन्दर जाने के बाद वह धीरे-धीरे कसमसाने लगा।

कुछ देर बाद गांड ढीली हो गयी.
मैंने लंड पर थूक लगाया और उसकी गांड पर रख दिया.

जब गांड का मुँह लंड को फिट करने के लिए खुलने लगा तो मैंने हल्का सा धक्का लगाया.
मेरा लंड अन्दर चला गया था. मैं रुक गया और उसे चूमने लगा.

उससे पूछा- डाल दूँ क्या?
वह हंसने लगा- डाल तो दिया अब क्या पूछ रहे हो?

अगले धक्के में मैंने अपना पूरा लंड अन्दर डाल दिया और चिपक गया. मैंने उसे उल्टा लेटने का इशारा किया और उसके ऊपर बैठ गया.
अब मैंने अपना लंड उसकी गांड में डाल दिया और उसके होंठों, गालों और गर्दन को चूमने लगा.

वो हंस पडा और दांत भींचने लगा, धीरे धीरे उसकी गांड भी हिलने लगी.
मैंने उससे पूछा- क्या तुम्हें यह महसूस नहीं हो रहा? हम बहुत दिनों बाद मिले हैं, आप जैसा अद्भुत प्रेमी पाना बहुत भाग्यशाली है।
उसने अपनी गांड हिलाकर हां में जवाब दिया.

अब मैंने शुरुआत कर दी है.
धक्कम पेल धक्कम पेल… अंदर बाहर अंदर बाहर। (माशूक की गांड का गुलदस्ता)

फिर मैं थोड़ी देर के लिए रुक गया और वो पीछे मुड़कर देखने लगा.

मैंने कहा- मैं क्या रोकूँ?
वो बोला- क्या हुआ, गांड फट गई क्या? मैं मर रहा हूँ और तेरी गांड फट रही है, क्या बात है?

मैंने कहा- यार… बहुत दिनों बाद तुम मिली हो, ये मेरे लिए सपने जैसा है. कभी नहीं सोचा था कि मैं तुमसे दोबारा कभी मिलूंगा. आज का दिन मुझे जीवन भर याद रहेगा.
उसने कहा- आगे बढ़ते रहो.. मजा आ रहा है।

मैं उसकी जाँघों पर अपने घुटने मोड़कर बैठा था और वो नीचे मुँह करके लेटा हुआ था। मेरा लंड उसकी गांड में भीग गया था.
मैं बैठ कर उसके नितंबों की मालिश करने लगा. उसने अपनी टाँगें चौड़ी कर दीं। (माशूक की गांड का गुलदस्ता)

अब वो ढीली हो गयी थी.
मैं फिर से धक्के लगाने लगा.

फिर उसके ऊपर ही लेटा रहा.
उसको चूमने लगा.

नोट: अगर आप सिंगल हैं और लड़की के साथ अपनी हवस पूरी करना चाहते हैं, तो चिंता न करें, Dwarka Escorts आपका इंतजार कर रही हैं।

उसने कहा- क्या तुम्हारा स्खलन हो गया है? आज बहुत समय लगा, सारी कसर निकाल ली और मुझे ऐसा बना दिया। तुम मुझे वैसे ही चोद रहे थे जैसे कोई नई लड़की पटाने के बाद चुदती है ताकि वो स्खलित न हो जाए।
मैं हँसा और उसका चुम्बन ले लिया।

उन्होंने कहा- लड़के मुझे बेरहमी से रगड़ते हैं. मैंने खुद को कई लंडों से रगड़वाया है. अनुभव है, लेकिन आप अलग हैं। आपने मुझे प्यार से मार डाला…इसके लिए धन्यवाद।’ इसलिए मैं तैयार रहता हूं.’ खैर, अब मेरी कोई नहीं मारता, यार, सब कहीं काम करने गए हैं, आज बरसों बाद तुम मिले हो। मैं शर्मिंदा हुआ- यार, तुम मेरी मार लो.

वह ज़ोर से हँसा- अब तो मैं और किसी की मरूंगा। बुरा मत मानना, अब तुम मेरे माशूक नहीं हो. पहले थे…पर अब मोटे हो गये हो. पहले भी तुम मुझसे ज्यादा ताकतवर थे. तुम अब भी खूबसूरत हो, लेकिन उम्र में मुझसे बड़े हो. मैं किसी और माशूक की मारूंगा. वैसे भी, आप जानते हैं कि मैं एक लोंडियाबाज हूँ। अब मुझे चूत का ज्यादा पसंद है.

मैं: क्या मैं लड़की से मिलवाऊं?
वो हँसा- मैं सैट कर लूंगा, तुम रहने दो।

वह अब भी बहुत प्यारा था और लड़कियों को लुभाने में माहिर था। वह सही था।

उसने बताया- मैं शादीशुदा हूं, ज्वाइनिंग के बाद पत्नी को ले जाऊंगा.
मैंने कहा- यार, तेरी बीवी तेरे जैसी पटाखा नहीं होगी.

वो हंसने लगा- जब देखोगे तो बता देना, लेकिन ये बात मेरी बीवी को मत बताना, पहले भी बहुत लोग कह चुके हैं.
कुछ देर आराम करने के बाद हम दोनों स्टेशन पहुंचे. (माशूक की गांड का गुलदस्ता)

हम स्टेशन पहुंचे तो ट्रेन आ गई. एक डिब्बे के बाहर मेरा एक सीनियर खड़ा था, जो टीटीई थे।

उसने मेरी तरफ देख कर कहा- कहाँ?
मैंने कहा- सर, ये मेरा दोस्त है, इसे पुणे जाना है. ट्रेन में स्लीपर का टिकट है तो क्या आप बैठा सकते हैं.

उसने बैठा लिया।
मैं एक्स्ट्रा पैसे देने लगा तो हर्षित बोला- दे दूंगा.
सर बोले- गांड में डाल पैसे, मैं तुम्हारे इस हीरो दोस्त की नहीं ले जाऊंगा.
मैं उनके पैर छूने के लिए नीचे झुका और उनके घुटनों को छू लिया। (माशूक की गांड का गुलदस्ता)

उसने हंसते हुए कहा- मैं उसे लंच भी खिलाऊंगा कुछ और? लौंडिया दिलवाऊ?
मैंने कहा- दादा, लड़के की शादी हो गयी है.

वो हंसे- अच्छा, बीवी के मारे इधर उधर लाइन मारने में गांड फट रही है, तेरी शादी कब हुई?
हर्षित- छह महीने पहले.

सर: अभी नई है.
हम सब हँसे. ट्रेन चल पड़ी.

हर्षित चला गया.
मुझे हर्षित बहुत पसंद आया. (माशूक की गांड का गुलदस्ता)

मैं आपको अपनी गांड चुदाई की ये कहानियां एक एक करके सुनाता रहूंगा. आप मुझे पसंद कर रहे हैं, यह बात आप मुझे मेरी समलैंगिक Xxx कहानी पर अपने ईमेल भेजकर साबित कर रहे हैं.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप wildfantasystory की “Hindi Gay Sex Stories” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds