मामी को सरसो के खेत में चोदा और मामी को लंड का मजा दिया Part-1

मामी को सरसो के खेत में चोदा और मामी को लंड का मजा दिया Part-1

मेरा नाम अमन हे आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मैंने “मामी को सरसो के खेत में चोदा और मामी को लंड का मजा दिया”

मेरी उम्र 22 साल है। मेरा लंड 7 इंच का है जो किसी भी भाभी, आंटी, चाची, मौसी, कुंवारी लड़की की चूत फाड़ सकता है.

अगर कोई भी चूत एक बार मेरे लंड से चुद जाए तो फिर वो चूत मेरा लंड खाए बिना नहीं रह पाती.

अब आप सभी चूतों और लंड वालों को बोर न करते हुए मैं सीधे अपनी पारिवारिक सेक्स कहानी पर आता हूँ।

ये कहानी दो साल पहले की है. उस समय मैं कॉलेज में था. मेरा ध्यान सिर्फ पढ़ाई पर था इसलिए मैंने किसी भी चूत पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया.

उन दिनों सर्दी का मौसम चल रहा था. मैं घर पर बोर हो रहा था तो मैंने मामाजी के यहां जाने का प्लान बनाया. मेरे मामा बैंगलोर में रहते हैं. मैं दो दिन बाद अपने मामा के यहाँ पहुँच गया।

घर पहुंचते ही मामा-मामी ने मेरा हाल-चाल पूछा और फिर हमने साथ में खाना खाया. मेरे चार मामा हैं. उस दिन मैं अपने दूसरे मामा के घर रुका. मामा जी के घर में मामा, मामी और उनके दो बच्चे हैं।

बाकी मामा दूसरे गांव में रहते हैं. मेरी मामी की उम्र करीब 36 साल है. मामी ज्यादा खूबसूरत तो नहीं हैं पर मामी एकदम अमरूद की तरह गदरायी हुई है.

मामी का साइज 34, 30, 36 है. मामी के चूचे बड़े हैं. मामी की गांड भी बहुत मोटी है. मैंने मामी पर कोई खास ध्यान नहीं दिया.

मेरा इरादा मामी की चूत चोदने का नहीं था. मैं मामाजी के यहाँ अच्छे से रह रहा था। लेकिन कहते हैं न कि अगर किसी चीज को हासिल करना हो तो वह चीज हासिल ही होती है।

एक दिन की बात है, दोनों बच्चे स्कूल गये थे और मामा खेत पर गये थे। मामाजी के यहां कोई बाथरूम नहीं बना है. घर के बाहर चारों ओर तिरपाल लगाकर बाथरूम बनाया गया है।

मामीजी बाहर के बाथरूम में नहा रही थीं। आशिका मामी नहाने का साबुन भूल गई थी इसलिए मामी ने मुझसे नहाने का साबुन लाने को कहा. मैं नहाने का साबुन लेकर मामी के पास गया.

जब मैंने मामी को देखा तो मैं एकदम चौंक गया. मामी ऊपर से पूरी नंगी थीं. मामी के दोनों चुचे लटक रहे थे. मामी की दोनों चुचियाँ बड़ी बड़ी थी.

मामी ने शरीर को पानी से भिगो लिया था. मामी का पूरा शरीर गीला था. इसलिए मामी का पेटीकोट भी पूरा गीला हो गया था.

यह दृश्य देख कर मेरे तनबदन में आग लग गयी. मेरा लंड सीधा खड़ा हो गया. कुछ देर तक मैं मामी को ऐसे ही देखता रहा. तभी मामी बोलीं- क्या हुआ?

तब मुझे होश आया, मैंने कहा- कुछ नहीं! और मैंने मामी को साबुन दिया. थोड़ी देर में मेरे लंड से पानी निकल गया.

अब मेरा लंड मामी की चूत चोदने के लिए बेताब होने लगा. लेकिन मेरे मन में मामीजी के प्रति बहुत सम्मान था। मैंने पहले कभी मामीजी को चोदने के बारे में नहीं सोचा था।

इसलिए मैंने मामीजी को चोदने का इरादा छोड़ दिया. अगले दिन मामी ने अमन से कहा- आज तुम्हारे मामा खेत पर नहीं हैं, इसलिए अगर तुम फ्री हो तो मेरे साथ खेत पर चलो।

भैंस को भी अपने साथ ले जाओ. आज भैंस हरी करनी है. मैंने मामी से पूछा- मामी, इसे हरा-भरा करना कैसा होता है? मामी बोलीं- बुद्दू, तुम्हें इतना भी नहीं पता क्या?

मैंने कहा- नहीं मामी, मुझे नहीं पता. तो मामी ने कहा- खेत में जाकर देख लो. मैंने कहा- ठीक है. और मैं मामी के साथ खेत पर घूमने जाने को तैयार हो गया.

हम भैंस लेकर खेत में गये. मामाजी के खेत में गेहूं और सब्जियां थीं. वहां पहले से ही एक मचान बंधा हुआ था. हमने भैंस को बाड़े के पास बांध दिया और बाड़े को खुला छोड़ दिया.

अब मामी और मैं पास पास बैठ गये. मामी बोलीं- अब देखते हैं हरी कैसे करता है. मैंने कहा- ठीक है मामी, देखते हैं.

अब भैंसे ने पीछे से भैंस को सूंघना शुरू कर दिया और धीरे-धीरे भैंसे का लंड अंदर बाहर होने लगा. अब भैंसा भैंस के ऊपर चढ़ गया और भैंस को चोदने लगा.

मामी और मैं बैठे ये सब देख रहे थे. ये सब देख कर मेरा लंड तूफ़ान मचाने लगा. मेरा लंड सामने दूसरी भैंस को देख रहा था. मैंने लंड को बहुत समझाया कि ये भैंस चूत नहीं देगी लेकिन लंड नहीं माना.

अब मुझे मजबूरन मामी से चूत मांगनी पड़ी. इसी बीच अचानक भैंस रस्सी तोड़कर भाग गई। फिर मामी और मैं भैंस को पकड़ने के लिए दौड़े. मामी आगे आगे और मैं पीछे!

तभी अचानक मामी खेत की मेड़ पर फिसल गईं और मैं भी अचानक फिसल गया और मामी के ऊपर गिर गया.

मैं तो पहले से ही मामी को चोदने के लिए उत्सुक था. कुछ देर तक हम ऐसे ही पड़े रहे. तभी मेरे होंठ सीधे मामी के होंठों से चिपक गए और मैं मामी को चूमने लगा.

कुछ देर के लिए मामी भी नशे में हो गई थीं. फिर कुछ देर बाद मामी को होश आया और वो मुझे हटाते हुए उठ गईं.

मामी ने मुझे बहुत डांटा और मैंने मामी से माफ़ी मांगी. लेकिन मेरा लंड अभी भी फैला हुआ खड़ा था और चूत सामने खड़ी थी. तभी मामी बोलीं- चलो भैंस पकड़ कर लाते हैं.

आप यहाँ सस्ते दामों पर कॉल गर्ल्स बुक कर सकते है Visit Us:-

फिर हम भैंस को पकड़कर लाए और दोबारा खूंटे से बांध दिया. अब भैंसा फिर से भैंस को सूंघने लगा, लेकिन भैंस उसे कोई भाव नहीं दे रही थी।

उधर मैं भी अपनी मामी को मनाने की कोशिश कर रहा था, लेकिन मामी नहीं मान रही थीं.

तभी भैंसे ने एक जोरदार धक्का मारा और पूरा लंड भैंस की चूत में पेल दिया. अब भैंस चुपचाप चुदवा रही थी.

अब मुझसे सब्र नहीं हो रहा था, मैं मामी को ललचाई नजरों से देख रहा था। शायद मामी भी मेरी भावना को जानती थीं. मामी चुपचाप खड़ी होकर भैंस और भैंसे की चुदाई देख रही थी.

और मैं मामी को देख रहा था. अब मैंने सोच लिया था कि अगर मुझे मामी जी की चूत लेनी है तो यही सही मौका है. लोहा गर्म है, हथौड़ा मार देते है.

मैंने हिम्मत करके मामी जी को पीछे से पकड़ लिया और अपना लंड मामी की गांड में सटा दिया. मामीजी के दोनों स्तन पकड़ कर जोर से मसल दिये।

मामी जी मुझे डांटने लगीं और मुझे दूर हटाने की कोशिश करने लगीं- मैं तुम्हारी मामी हूं और हमारे बीच ऐसा नहीं हो सकता.

मैंने मामी जी से कहा- मामी जी, सबसे पहले आप एक चूत हैं और मैं एक लंड हूँ. इसलिए यहां सबसे पहले हम दोनों का रिश्ता चूत और लंड का है.

मामी को मेरा इरादा साफ़ समझ आ गया था. मामी कहने लगीं- अगर किसी को पता चल गया तो मेरी बदनामी होगी.

मैंने कहा- मामी, किसी को पता नहीं चलेगा. यहां केवल आप और मैं हैं। जो भी होगा वो सिर्फ आपको और मुझे ही पता होगा.

अब मामी धीरे-धीरे शांत हो रही थीं. मामी बोलीं- ठीक है, जो करना है करो, लेकिन किसी को कुछ पता नहीं चलना चाहिए. मैंने कहा- मामी, ठीक है, किसी को कुछ पता नहीं चलेगा.

दोस्तों मुझे तो जैसे जन्नत मिलने वाली थी. मुझे बहुत ख़ुशी महसूस हो रही थी. तभी मामी बोलीं- थोड़ी देर रुको, भैंस को हरी होने दो। थोड़ी देर बाद भैंसा भैंस को चोद चुका था.

मामी बोलीं- अब तो देख ही लिया भैंस कैसी हरी होती है. मैंने कहा- हां मामी, मैंने देख लिया है, अब आपको देखना है. अब मैंने मामी जी से कहा- मामी जी, अब मुझसे सब्र नहीं हो रहा है. तुम जल्दी करो

तभी मैंने मामीजी को पकड़ लिया और अपना हाथ मामीजी के पेटीकोट में डाल दिया। और मेरा हाथ सीधा मामी जी की चूत पर चला गया। मामीजी चौंक गईं और मामीजी ने मेरा हाथ हटा दिया.

अब मुझसे सब्र नहीं हो रहा था. मेरा लंड मेरे पजामे के अन्दर फनफना रहा था. तभी मामी बोलीं- यहाँ कोई देख लेगा, इसलिए यहाँ कुछ नहीं कर सकते!

तो मैंने कहा- तो फिर आप ही बताओ कि कहां करना है? मामी बोलीं- चलो सरसों के खेत में चलते हैं. वहां हम दोनों को कोई देखेगा भी नहीं. मैंने कहा ठीक है मामी जी.

अब मामी जी अपनी गांड मटकाते हुए आगे-आगे चल रही थीं और मैं उनके पीछे-पीछे चल रहा था। उस दिन मामी जी ने हरे रंग की साड़ी पहनी हुई थी. हरी साड़ी में मामी जी गजब लग रही थीं.

अब हम सरसों के खेत में घुस गये. उस समय सरसों के फूल आये हुए थे। अब मुझसे सब्र नहीं हो रहा था. मैंने तुरंत मामी जी को पकड़ लिया और खेत में गिरा दिया और मामी जी को बेतहाशा चूमने लगा.

मामी जी कुछ बोलने ही वाली थीं लेकिन मैंने मामी जी के होंठों को बुरी तरह भींच लिया था इसलिए मामी जी केवल आ उ आ उ ही कर रही थीं।

मामी जी के होंठ पंखुड़ियों की तरह रसीले थे। मैं लगातार मामीजी के रसीले होंठों को चूस रहा था। काफी देर तक हम दोनों एक दूसरे के होंठो को चूसते रहे।

फिर मामी बोलीं- जो भी करना है जल्दी करो, ज्यादा समय मत लगाओ. मैंने कहा- अब अगर चुदना है तो मामी जी, अच्छे से चुदो. मामी बोलीं- कोई आ जायेगा?

मैंने कहा- यहां कोई नहीं आएगा. अब मैं मामी जी की गर्दन पर चूमने लगा। मुझे गर्दन पर चूमने में बहुत मजा आ रहा था. मामी जी अपना मुँह इधर उधर करने लगीं.

थोड़ी देर बाद मैं मामी जी के चुचो पर टूट पड़ा। अब मैं मामी जी के रसीले सुडौल स्तनों पर चूमने लगा। मामी जी के चूचे ब्लाउज के ऊपर से इधर-उधर हिल रहे थे।

अब मेरे दोनों हाथ मामी जी के चुचो पर पहुँच गये। मैंने मामी जी के स्तनों को पकड़ लिया और जोर से मसल दिया। मामी जी एकदम से चीखने लगीं.

मामी जी मेरे हाथों को चुचियों से हटाने लगीं लेकिन मैं लगातार मामी जी की चुचियों को मसल रहा था.

मामी के चुचे एकदम मस्त थे. उनमें बहुत रस था. मैं अपनी मदमस्त मामी की जवानी का मजा ले रहा था. मैं लगातार मामी जी के मम्मे मसल रहा था। मैंने दोनों चुचो को खूब अच्छे से मसला.

अब मैं थोड़ा नीचे सरका और मामी जी के सेक्सी मलाईदार पेट को चूमने लगा। मेरी मामी का पेट बहुत गोरा और चिकना था. मुझे मामी जी के पेट को चूमने में बहुत मज़ा आ रहा था।

मामी अब जोर जोर से सांसें ले रही थी, वो अब उह आह आह उह ओह कर रही थी. पेट को चूमने के बाद अब मैं वापस मामी जी के ऊपर चढ़ गया और उनके स्तनों को चूमते हुए सीधे मामी जी के रसीले होंठों को चूसने लगा।

मामी जी को अब नशा होने लगा था. अब मामी जी ने मुझे प्यार से अपनी बांहों में भर लिया.

इस कहानी का दूसरा भाग:- मामी को सरसो के खेत में चोदा और मामी को लंड का मजा दिया Part-2

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds