कामुक मामी के साथ चुदाई की मस्ती – मामी चुदाई XXX कहानी

कामुक मामी के साथ चुदाई की मस्ती – मामी चुदाई XXX कहानी

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “कामुक मामी के साथ चुदाई की मस्ती – मामी चुदाई XXX कहानी”। यह कहानी रुपेश की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

हेलो दोस्तों, यह मेरी मामी चुदाई XXX कहानी है और मैं इस सच्ची कहानी को सबसे पहले आपके साथ शेयर करना चाहता हूँ। मेरा नाम रुपेश है और मैं एक मेडिकल स्टूडेंट हूं। मैं दिखने में ठीक हूं.

मेरा रंग सांवला है, लेकिन मुझमें गजब का आकर्षण है. मैंने कभी अपना लंड को नहीं मापा, लेकिन यह बहुत अच्छा है।

मेरी मामी एक अद्भुत महिला हैं, उनका नाम अनुराधा है। उसके काफी Big Boobs हैं. वह थोड़ी मोटी और बड़ी गांड वाली जबरदस्त महिला है। मामी एक बच्चे की मां हैं.

हमारी कहानी 2 साल पहले शुरू हुई थी. आज भी जब भी मौका मिलता है, मैं उसे चोदने चला जाता हूँ। चूँकि मामा का बिज़नेस है इसलिए उन्हें अक्सर रात को बाहर रहना पड़ता है। (मामी चुदाई XXX कहानी)

मैं पिछले साल गर्मी की छुट्टियों में उनके घर गया था. मामा ने मुझे स्टेशन से रिसीव किया और हम घर आ गये।

मामी मुझे देख कर बहुत खुश हुईं. मैं भी अपनी मामी को देख कर हैरान हो गया. मामी एकदम सेक्स बम लग रही थीं.

मैंने आज से पहले कभी अपनी मामी को उस नियत से नहीं देखा था, लेकिन आज मेरी नियत ख़राब हो गयी. फिर भी मैंने कंट्रोल किया.

फिर मेरी मामी बोलीं- चलो, तुम जल्दी से फ्रेश हो जाओ, तब तक मैं खाना बना देती हूँ.

उनके बारे में सोचते हुए मैं फ्रेश होने चला गया और जल्द ही खाना खाने नीचे चला आया. हम सब एक साथ खाना खाने लगे.

कुछ देर बाद सूचना मिली कि मामा को कुछ ही देर में दिल्ली जाना है. रात को खाना खाने के बाद मैं आराम करने चला गया, मामा भी दिल्ली चले गये।

मामा के जाने के कुछ देर बाद मेरी मामी ने मुझे नीचे बुलाया और कहा- मेरा अकेले मन नहीं लग रहा.. आओ टीवी देखते हैं।

मामी ने उस वक्त नाइटी पहनी हुई थी. इससे उसके चूचे साफ़ दिख रहे थे.

मामी की नाइटी बहुत ढीली फिटिंग वाली थी और उसका गला काफी गहरा था, जिससे उनके चूचों की दूधिया घाटी मुझे गर्म कर रही थी. (मामी चुदाई XXX कहानी)

उस समय टीवी पर अच्छे प्रोग्राम नहीं आ रहे थे. इसलिए मैंने टीवी बंद कर दिया.

मामी किचन में गई थीं, उन्हें वहां कुछ काम था. मैंने टीवी बंद कर दिया और किचन की तरफ जाने लगा, तभी किचन से आ रही मेरी मामी अचानक मुझसे टकरा गईं.

जब मैं गिरने वाला था तो मामी ने मजाक में मेरी गांड पर जोर से मारा और हंसने लगीं.

मामी बोलीं- तुम बहुत नाजुक हो यार! मामी के मुँह से ‘यार’ शब्द सुनकर मैं थोड़ा चौंक गया।

फिर मामी ने मुझसे दोबारा कहा- चलो छत पर चलते हैं, मेरा यहाँ मन नहीं लग रहा. ये कहते हुए मामी की आंखें वासना से भरी हुई लग रही थी.

मैंने देखा कि इस समय बाहर बहुत तेज़ हवा चल रही थी। तो मैंने कहा- इतनी रात हो गयी है और छत पर लाइट भी नहीं है.

मुझे उनकी नियत पर शक होने लगा. उसकी आँखों में हवस का नशा साफ़ दिख रहा था. उसने अपना हाथ मेरे कंधे पर रखा तो मैंने भी बिना देर किये उसकी कमर पर हाथ रख दिया.

मामी जी मुस्कुराते हुए बोलीं- यही तो मैं चाहती थी, चलो छत पर चलते हैं, वहीं बैठ कर बातें करेंगे. अब मामी एकदम से मुझसे चिपक गईं. मैं समझ गया कि मामी जी आज मूड में हैं.

हम दोनों एक दूसरे को पकड़कर छत पर पहुँच गये। वहां बहुत अंधेरा था और मीलों तक कोई दिखाई नहीं दे रहा था.

कुछ देर बाद मुझे अपनी मामी का पूरा भार अपने शरीर पर महसूस हुआ. वो मुझसे चिपकी हुई थी. मैं आप लोगों को बता नहीं सकता कि मुझे कैसा महसूस हो रहा था. मेरा लंड 90 डिग्री पर खड़ा था. (मामी चुदाई XXX कहानी)

मेरा खड़ा लंड मामी की Moti Gand पर टच हो रहा था.

मैंने डरते हुए धीरे से अपना हाथ मामी के बूब पर रख दिया और हल्के से उनका एक बूब दबा दिया।

मामी कुछ नहीं बोलीं.

मैं हंसने लगा और बोला- मामी, आपका ये गुब्बारा बहुत मस्त है.

वो हंसने लगी और बोली- तो तुमने क्यों छोड़ दिया.. क्या तुम आगे कुछ कर सकते हो?

यह बात सुनकर मैं एकदम दंग रह गया और खुशी से पागल भी हो गया. मैंने बिना देर किये उसके मम्मे दबाने शुरू कर दिये।

वो पूरी तरह से सिसकारियां ले रही थी और उसके मुंह से कामुकता भरी आवाजें निकल रही थी.

जल्द ही वह अपना शरीर मेरे शरीर से रगड़ने लगी, जिससे मैं नियंत्रण से बाहर हो गया। मैंने मामी की नाइटी को जोर से खींचा तो वो साइड से फट गई.

मामी बोलीं- आराम से … मैं कहीं भागने वाली नहीं हूं. चलो नीचे चलते हैं, वहां आराम से करेंगे.

हम नीचे आए और मामी सोफे पर बैठ गयी. मैं उसके बगल में बैठ गया. अब मैं एक हाथ से उसका एक बूब दबा रहा था और दूसरे हाथ से उसकी चूत रगड़ रहा था.

मैंने अपनी दो उंगलियाँ उसकी Tight Chut में डाल दीं और उसे अपनी गोद में लिटा लिया। अब मैं उसके गाल, होंठ और गर्दन पर चूम रहा था.

मैंने मामी से पूछा- मजा आ रहा है?

वो बिना कुछ कहे मेरे बालों पर हाथ फिराते हुए मेरा साथ देने लगी.

मैं अपनी मामी से पूछ रहा था कि क्या मेरी उंगली से लंड और अन्दर जा सकता है?

वो जवाब देने की बजाय बस नशे में सिसकियाँ ले रही थी. उसके मुँह से सेक्सी कराहने की आवाजें आ रही थीं.

वो कह रही थी- ओह्ह.. तुम नहीं जानते.. औरत में बहुत गर्मी होती है.. ये बात तुम्हें तब तक समझ नहीं आएगी जब तक तुम मेरे अंदर नहीं डालोगे। (मामी चुदाई XXX कहानी)

मैंने अपनी एक उंगली जोर से उसकी चूत में डाली तो वो एकदम से हिल गई. फिर मैंने अपनी पैंट खोली और अपना लंड बाहर निकाला और उसके पेट के पास रख दिया.

मैंने कहा- ले लो.

वो बोली- मैं इसका क्या करूँ?
ये कह कर मामी हंसने लगीं.

मैंने कहा- अब मुझे तुम्हें बताना पड़ेगा कि इसका क्या करना है?
उसने मेरे लंड को पकड़ लिया और उसे आगे-पीछे करने लगी और हस्तमैथुन करने लगी।

तब मामी बहुत जोर से बोलीं- तुमने मुझमे बहुत उँगलियाँ की और तुम मेरा कुछ नहीं कर सके, अब मेरा कमाल देखो।

ये कहते हुए मामी मेरे लंड पर लगभग टूट ही पड़ीं. रंडी बहुत जोर जोर से लंड हिला रही थी. मैं भी तेजी से अपनी उंगली अन्दर तक डालने लगा।

कुछ मिनट बाद उसका वीर्य और मेरा वीर्य निकल गया. मामी ने कपड़े से वीर्य पोंछ दिया और मेरी तरफ प्यार से देखने लगीं. मैंने उसके रसीले होठों को चूम लिया।

फिर मामी उठी और फ्रिज के पास चली गयी. मैं भी उसके साथ गया, उसे पीछे से चूमता रहा और बाहर से उसकी गांड पर अपने लंड से मारता रहा. (मामी चुदाई XXX कहानी)

ठंडा पानी पीने के बाद हम दोनों फिर से सोफे पर बैठने लगे.

मैंने मामी से अपना लंड चूसने को कहा तो वो बोलीं- नहीं, मुझे उबकाई आ जाती है.

लेकिन मेरे बहुत कहने के बाद वो लंड चूसने को राजी हो गयी. सबसे पहले मैंने अपना लंड उसके स्तनों के बीच डाला और 5 मिनट तक उसके स्तनों को चोदते हुए हस्तमैथुन किया।

मेरा लंड उसके होठों तक पहुँच रहा था। मामी को लंड की खुशबू अच्छी लग रही थी.

फिर मैंने उसके एक बूब के निप्पल को अपनी उंगलियों से पकड़ा और जोर से भींच दिया. मामी की चीख निकल गई और उनका मुँह खुल गया.

मैंने अपना लंड उसके खुले मुँह में डाल दिया, उसका मुँह पकड़ लिया और उसे पेलना शुरू कर दिया।

न चाहते हुए भी मामी मेरा लंड चूसने लगीं. वो लंड चूसने का मजा लेने लगी. कुछ मिनट बाद मेरा वीर्य उसके मुँह में गिर गया.

वह कुल्ला करने चली गयी. दो मिनट बाद मामी वापस आईं, तब तक मेरा लंड फिर से तैयार हो चुका था.

अब मैंने बिना देर किए मामी को लेटाया और उनकी चूत पर अपना मुँह रख दिया. मामी की चूत से बहुत मस्त खुशबू आ रही थी.

मैं अपनी जीभ से जोर जोर से चूत की पूरी फांक को चाटने लगा. वो अपने हाथों से मेरे बालों को सहला रही थी और मेरे सिर को अपनी चूत पर दबा रही थी. (मामी चुदाई XXX कहानी)

उसके मुँह से आवाज निकल रही थी- आअह उउइइ… क्या कमाल की चूत चाटते हो तुम… अब मुझे जीभ से नहीं, अपने लंड से चोदो मेरी जान.

ये सुनकर मैंने तुरंत अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया. मामी के मुँह से एक बार हल्की सी आवाज निकली और मेरा 6 इंच का लंड उनकी चूत में गहराई तक चला गया.

मैं मामी की Chut Chudai करने लगा. मामी की आह आह की आवाज गूंजने लगी.

धीरे धीरे मेरे लंड की स्पीड बढ़ती गयी. मैं सेक्स करते समय मामी के मम्मों को दबाता रहा. मामी की कामुक आहें और कराहें काफी तेज हो गई थीं. ऐसा लग रहा था मानो मामी झड़ने वाली हैं.

बस 5-6 मिनट में ही मेरा वीर्य गिर गया. मामी ने मुझे अपने सीने से लगा लिया.

हम दोनों 10 मिनट तक ऐसे ही एक दूसरे से लिपटे हुए सोये रहे. फिर हम दोनों बाथरूम में फ्रेश हुए और एक साथ बिस्तर पर नंगे ही लेट गये.

उस रात हम दोनों ने दो बार और सेक्स किया. अब जब भी मुझे खाली समय मिलता है तो मैं अपनी मामी के घर मौज-मस्ती करने चला जाता हूँ।

आपको मेरी मामी चुदाई XXX कहानी कैसी लगी, मुझे कमेंट करके जरूर बताएं।

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds